WhatsApp का नया फीचर, अब सिर्फ 5 ग्रुप में ही फॉरवर्ड कर सकेंगे मैसेज

NewsCode | 20 July, 2018 12:28 PM
newscode-image

नई दिल्ली। इंस्टेंट मेसेजिंग एप्लीकेशन व्हाट्सएप अपने प्लैटफॉर्म पर एक नए फीचर की टेस्टिंग कर रहा है ताकि स्पैम और फर्जी खबरों पर लगाम लगाई जा सके। अब व्हाट्सएप पर साझा किए जाने वाले सभी मैसेज, वीडियोज़ और फोटोज़ को फॉरवर्ड करने के लिए एक सीमा निर्धारित करेगा। भारत में व्हाट्सएप एक बार में 5 चैट्स के लिए लिमिट टेस्ट करेगा और इसके बाद क्विक फॉरवर्ड बटन के जरिए इन्हें हटाया जा सकेगा। यह बटन मीडिया मैसेज के पास बना होगा।

सिर्फ 5 ग्रुप में मैसेज या वीडियो कर सकेंगे फॉरवर्ड

इसका मतलब है कि अगर एक मैसेज को पांच बार एक ही अकाउंट से कोई मैसेज फॉरवर्ड किया गया है, और इसके बाद लिमिट क्रॉस होने पर व्हाट्सएप पर उस मेसेज को फॉरवर्ड करने का ऑप्शन को डिसेबल हो जाएगा। गौरतलब है कि व्हाट्सएप पर लगातार फैलाए जा रहे अफवाह और मॉब लिंचिंग की घटनाओं को रोकने के लिए कंपनी इस फीचर की टेस्टिंग कर रही है।

नए अपडेट के बाद व्हाट्सएप पर मैसेज को तुरंत फॉरवर्ड भी नहीं किया जा सकेगा। इसके लिए एक समय सीमा तय की जा रही है। साथ ही भारतीय यूजर्स जहां एक बार में सिर्फ 5 ग्रुप में ही किसी मैसेज को फॉरवर्ड कर सकेंगे, वहीं अन्य देशों के यूजर्स एक बार में 20 अलग-अलग ग्रुप में किसी मैसेज या वीडियो का फॉरवर्ड कर सकेंगे। बता दें कि भारत में व्हाट्सएप पर दुनिया के किसी भी देश के मुकाबले सबसे ज्यादा वीडियो और मैसेज फॉरवर्ड किए जाते हैं।

सरकार ने दी चेतावनी – कंपनी उठाए कोई ठोस कदम

वहीं, केंद्र सरकार सरकार ने व्हाट्सएप को आज एक और नोटिस भेजकर फर्जी मैसेज के प्रसार को रोकने के लिए प्रभावी समाधान करने को कहा है। सरकार ने कंपनी को चेतावनी दी है कि अफवाहों के प्रसार में माध्यम बनने वाले भी दोषी माने जाएंगे और मूक दर्शक बने रहने पर उन्हें भी कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा।

सरकार ने देश में फर्जी और भ्रामक मैसेज फैलने के कारण मॉब लिंचिंग के कई मामले सामने आने के बाद व्हाट्सएप पर कड़ा रुख अख्तियार किया है। सरकार इससे पहले भी व्हाट्सएप को इस तरह की खबरों और मैसेज पर रोक लगाने के लिए चेतावनी दे चुकी है।

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने जारी बयान में कहा, ‘‘ कुछ लोग जब अफवाहें या फर्जी खबरें फैलाते हैं तो इस तरह के दुष्प्रचार में माध्यम बनने वाले जिम्मेदारी और जवाबदेही से नहीं बच सकते हैं। यदि वे मूकदर्शक बने रहते हैं तो उन्हें भी इन मैसेजों का वाहक माना जाएगा और फिर उन्हें आगे की कानूनी कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा।’’

आपको बता दें कि भारत में करीब 250 मिलियन से ज्यादा लोग वॉट्सऐप का इस्तेमाल करते हैं और वॉट्सऐप का यहां सबसे बड़ा बाजार है। पिछले कुछ महीनों में वॉट्सऐप पर वायरल हुए विडियो और मेसेज के जरिए मॉब लिंचिंग और हिंसा की कई खबरें सामने आ चुकी हैं। व्हाट्सएप ग्रुप्स के जरिए नफरत भरा कॉन्टेन्ट और अफवाहें फैलाने के चलते देश के कई हिस्सों में लोगों को घेरकर मारने की घटनाएं सामने आई हैं।

फेक न्यूज से निपटने के लिए WhatsApp ने शुरू किया ऐड कैंपन, बताई ये 10 तरकीबें

फेक न्यूज़ पर लगेगी लगाम? Whatsapp लाया ये नया फीचर

व्हाट्सएप एंड्रॉयड यूजर्स के लिए खुशखबरी, जल्द ही भेज पाएंगे स्टीकर्स

व्हाट्सएप ग्रुप में फोटो डालने को लेकर हुए विवाद में गयी ग्रुप एडमिन की जान

लेखक की संवेदना और विभाजन का दर्द बयां करती है नवाजुद्दीन सिद्दीकी की ‘मंटो’, देखें ट्रेलर

NewsCode | 15 August, 2018 2:49 PM
newscode-image

नई दिल्ली। 72वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर नवाजुद्दीन सिद्दीकी की बहुप्रतीक्षित फिल्म ‘मंटो (Manto)’ का ट्रेलर रिलीज कर दिया गया है। फिल्म की कहानी भारत-पाकिस्तान विभाजन और विवादित लेखक सआदत हसन मंटो के जीवन पर आधारित है। अभिनेत्री-फिल्मकार नंदिता दास द्वारा निर्देशित मंटो का ट्रेलर काफी दिलचस्प है।

फिल्म की कहानी पाकिस्तानी लेखक मंटो के इर्द-गिर्द घूमती है। ट्रेलर में नवाजुद्दीन इस किरदार को बड़े पर्दे पर जीवंत करते दिखाई दे रहे हैं। साल 1948 के दशक पर आधारित लौहार की इस कहानी में ‘मंटो’ काफी दमदार डायलॉग बोले हैं। पाकिस्तान की पृष्टभूमि पर आधारित इस फिल्म के ट्रेलर में मंटो कहते हैं, “जब गुलाम थे तो आजादी का ख्वाब देखते थे और अब आजाद हैं तो कौन-सा ख्वाब देखें?”

देखें, ‘मंटो’ का ट्रेलर…

विचार से बागी और स्वभाव से घुमक्कड़ लेखक सआदत हसन मंटो के जीवन पर भारतीय फिल्मकार नंदिता दास द्वारा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की अवधारणा के आधार पर बनाई गई फिल्म ‘मंटो’ ने मौजूदा हालात के हिसाब से काफी प्रासंगिक है। इसमें ऐसे ज्वलंत मुद्दे को उठाया गया है जो न सिर्फ भारत बल्कि विश्व भर में अहम है। मंटो का जन्म 11 मई, 1912 को हुआ था और वह बाद में पाकिस्तान चले गए। मंटो का निधन 42 साल की उम्र में 18 जनवरी, 1955 को हुआ।

बता दें कि यह फिल्म लेखक मंटो के 1946 से 1950 तक के जीवन पर केंद्रित है। लेखक भारत-पाक विभाजन पर लिखी गई अपनी कहानियों के लिए दुनिया भर में मशहूर हैं। रिलीज होने से पहले ही फिल्म काफी तारीफ बटोर चुकी है और इसमें नवाजुद्दीन सिद्दीकी के अलावा ऋषि कपूर, परेश रावल और गीतकार जावेद अख्तर जैसे दिग्गज कलाकार नजर आएंगे। मंटो 21 सितंबर को सिनेमाघरों में रिलीज होगी।

दीपिका-रणवीर की शादी हुई फिक्स, तारीख, जगह और गेस्ट के बारे में जानें

शादी में ‘कुत्ता’ बन जलील हुए वरुण धवन, तो फूट-फूटकर रोने लगी अनुष्का शर्मा

500 रूपये थी नवाजुद्दीन की पहली कमाई, फैज़ल खान बनने के बाद बदल गयी किस्मत

भारत के साथ ये तीन देश भी आज मना रहे हैं आजादी का जश्न

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

बाघमारा : प्रखंड प्रमुख ने किया ध्‍वजारोहण

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 2:49 PM
newscode-image

बाघमारा (धनबाद)। स्वतंत्रता दिवस के मौके पर बाघमारा प्रखण्ड मुख्यालय में ब्‍लॉक प्रमुख मीनाक्षी रानी गुड़िया ने ध्वजारोहण किया। इस अवसर पर प्रखंड के गणमान्‍य लोग उपस्थित थे।

बाघमारा : प्रखंड प्रमुख ने किया ध्वyजारोहण

धनबाद : सांसद आदर्श ग्राम योजना को लेकर जिला समन्वय समिति ने की बैठक

इसके अलावा बाघमारा थाना, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, प्रखण्ड संसाधन केंद्र, झारखंड बालिका आवासीय विद्यालय, बरोरा थाना समेत विभिन्न शिक्षण संस्थानों एवं सभी पंचायत सचिवालयों में भी झंडोतोलन किया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

जमशेदपुर : पक्षी प्रेमियों ने दिखायी संवेदना, सैकड़ों पक्षियों को पिंजरे से किया आजाद

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 2:46 PM
newscode-image

बेजुबानों को भी होती हैै आजादी प्यारी

जमशेदपुर। आजादी किसे प्यारी नहीं होती… चाहे इंसान हो या जानवर, हर कोई आजाद रहना चाहता है। आज एक ओर जहां पूरा देश  आजादी के जश्न मे डूबा हुआ है, वहीं जमशेदपुर के कुछ पक्षी प्रेमियों ने सौ से भी अधिक विदेशी पक्षियों को पिंजरा से आजाद किया और एक संदेश देने का प्रयास किया कि बेजुबानों को भी आजादी प्यारी होती है।

जमशेदपुर : बहुजन क्रांति मोर्चा ने संविधान जलाने वालाेें पर कार्रवाई को लेकर किया विशाल प्रदर्शन

टाटा जू ने भी लंगूरों को खुले बाड़े में रखने का लिया निर्णय

वहीं इस कड़ी में टाटा जू ने भी एक कदम बढ़ा दिया है और आज से जू के लंगूरों को छोटे बाड़े से निकालकर बड़े और खुले बाड़े में आजाद रखने का निर्णय लिया गया। वहीं लंगूर खुले बाड़े में काफी खुश नजर आए। खुले बाड़े में छोड़े जाने के बाद सभी लंगूर इधर उधर धमा- चौकड़ी करते हुए काफी खुश दिखे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

देवघर : आयुषी ने बहायी देश-प्रेम की गंगा, संस्‍कृत में...

more-story-image

रांची : नन्‍हे देशभक्‍तों ने देश के लिए बलिदान देने...