कई लोगों के फोन में अपने आप सेव हुआ आधार का हेल्पलाइन नंबर, UIDAI ने बताया फर्जी

NewsCode | 3 August, 2018 5:37 PM
newscode-image

नई दिल्ली। भारत के कई स्मार्टफोन्स यूजर्स को शुक्रवार सुबह अपने फोन बुक में आधार जारी करने वाली अथॉरिटी यूआईडीएआई का टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर नजर आने लगा। कई लोगों ने सोशल मीडिया पर आधार अथॉरिटी को टैग करके इसके बारे में सवाल किये। इस पर अथॉरिटी ने कहा कि यह नंबर (1800-300-1947) गलत और आउटडेटेड है। स्मार्टफोन्स में इसे सेव कराने के लिए उसने किसी फोन निर्माता या मोबाइल ऑपरेटर कंपनी की सेवा नहीं ली। UIDAI का कहना है कि पिछले दो साल से उनका टोल फ्री नंबर 1947 है।

फ्रांसीसी सुरक्षा विशेषज्ञ इलियट एल्डर्सन ने ट्विटर पर यूआईडीएआई से पूछा, ‘कई लोग, जो अलग-अलग सर्विस प्रोवाइडर का इस्तेमाल कर रहे हैं, जिनके पास आधार कार्ड हैं और जिनके पास नहीं है, आधार एप इंस्टॉल होने और न होने वाले…सभी ने ध्यान दिया है कि आपका फोन नंबर डिफ़ॉल्ट रूप से उनकी संपर्क सूची में पूर्वनिर्धारित है, उनकी जानकारी के बिना। क्या आप समझा सकते हैं क्यों? ”

आधार का नंबर अचानक सेव होने की दिक्कत सभी स्मार्टफोन्स के साथ नहीं है। माना जा रहा है कि जिन स्मार्टफोन्स में यह हेल्पलाइन नंबर नजर आ रहा है, उनमें से ज्यादातर ऐसे हैं, जिनकी फोन बुक गूगल से सिंक है। वहीं, कुछ यूजर्स का यह भी कहना है कि जिस तरह मोबाइल सर्विस प्रोवाइडर्स से मिली नई सिम फोन में इंस्टॉल करते वक्त कुछ नंबर प्री-लोडेड होते हैं, आधार का हेल्पलाइन नंबर भी उसी तरह फोन बुक में सेव हुआ है।

इसके अलावा विशेषज्ञों की राय है कि अगर मोबाइल में सरकारी ऐप जैसे भीम, mAadhaar, पेटीएम जैसी किसी ऐप्स का इस्तेमाल करते हैं तो हो सकता है कि ये नंबर वहां से आया हो। इसके अलावा सिम खरीदते समय आधार नंबर दिया होगा तो वहां से भी यह नंबर आ सकता है।

फोन में किसी ऐसी सर्विस का इस्तेमाल किया हो, जिससे आधार लिंक हो। जैसे बैंक अकाउंट से आधार लिंक है और मोबाइल बैंकिंग की है तो हो सकता है कि वहां से यह नंबर आया हो।
हो सकता है कि किसी विदेशी कंपनी ने लोगों को ट्रैक करने और उनकी प्रोफाइलिंग करने के लिए यह नंबर डाल दिया हो।

जोखिम क्या है ?

विशेषज्ञ बताते हैं कि लोगों की मोबाइल फोन बुक तक अगर कोई पहुंच सकता है तो इससे लोगों की प्रोफाइलिंग की जा सकती है और उन्हें ट्रैक किया जा सकता है। सिर्फ नंबर सेव होने से ही कोई भी कंपनी या सरकार लोगों की लोकेशन, उनकी एक्टिविटी, पसंद-नापसंद, सामाजिक स्तर, विचारधारा, सेक्शुअल ओरिएंटेशन, बीमारी, दोस्त-दुश्मन, जाति, धर्म जैसी व्यक्तिगत और संवेदनशील जानकारियां हासिल कर सकती है।

दो तरह के होते हैं डेटा

डेटा दो तरह के होते हैं। पहला- व्यक्तिगत डेटा, जिसमें लोगों की सामान्य जानकारी जैसे उनकी लोकेशन, उनकी एक्टिविटी शामिल है। दूसरा- सेंसेटिव डेटा, जिसमें उन्हें क्या बीमारी है, उनका डीएनए क्या है, उनकी जाति क्या है? जैसी जानकारी शामिल होती है। इससे प्राइवेसी को खतरा हो सकता है।

सावधान ! सोशल मीडिया पर शेयर किया आधार नंबर तो पड़ेगा पछताना

आधार डेटा होगा सुरक्षित, सरकार पेश करेगी 16 अंकों की वर्चुअल आईडी

नया सिम कार्ड लेने के लिए अब आधार जरूरी नहीं, SC की फटकार के बाद सरकार ने दिया न‍िर्देश

एनआरसी लिस्ट में भारी गड़बड़ी! पूर्व राष्ट्रपति के परिवार समेत टीचर-विधायक के नाम गायब

कैमरे में कैद हुआ टाटा 45एक्स का केबिन

NewsCode | 15 August, 2018 4:01 PM
newscode-image

टाटा मोटर्स इन दिनों 45एक्स प्रीमियम हैचबैक कॉन्सेप्ट के प्रोडक्शन वर्जन पर काम पर रही है। हाल ही में इसे टेस्टिंग के दौरान देखा गया है। इस बार कार के केबिन से जुड़ी जानकारी हाथ लगी है।

Tata 45X Interior Spied

तस्वीरों पर गौर करें तो 45एक्स में डैशबोर्ड के ऊपरी हिस्से पर बड़ा टचस्क्रीन इंफोटेंमेंट सिस्टम लगा है। चर्चाएं हैं कि इस में टाटा नेक्सन से बड़ी डिस्प्ले दी जा सकती है। टाटा नेक्सन में 6.5 इंच यूनिट दी गई है, जबकि 45एक्स में 7.0 इंच यूनिट दी जा सकती है। इसके मुकाबले में मौजूद मारूति बलेनो और हुंडई एलीट आई20 में भी 7.0 इंच यूनिट दी गई है। मनोरंजन के लिए इस में टाटा नेक्सन की तरह 8-स्पीकर्स वाला हार्मन साउंड सिस्टम दिया जा सकता है।

Tata 45X

कैमरे में कैद हुई कार के केबिन को ऑल-ब्लैक ट्रीटमेंट दिया गया है। एसी वेंट और एनालॉग इंस्ट्रूमेंट क्लस्टर पर भी ब्लैक कलर का इस्तेमाल हुआ है।

Tata 45X

बाहरी हिस्से की बात करें तो इसका एक्सटीरियर लेआउट कॉन्सेप्ट से मिलता-जुलता हो सकता है। इसकी लंबाई 4 मीटर से कम हो सकती है, जबकि कॉन्सेप्ट की लंबाई 4.23 मीटर थी। इस में स्वूपिंग रूफलाइन और स्वेपिंग विंडो लाइन दी गई है। साफ-सुथरी कार वाला अहसास लाने के लिए इसके रियर डोर हैंडल को सी-पिलर पर रखा गया है। कैमरे में कैद हुई कार में डमी टेल लैंप्स दिए गए हैं, जबकि प्रोडक्शन मॉडल में एलईडी हैडलैंप्स दिए जा सकते हैं।

इंजन से जुड़ी आधिकारिक जानकारी अभी तक नहीं मिली है। कयास लगाए जा रहे हैं कि इस में टाटा नेक्सन वाले इंजन दिए जा सकते हैं। टाटा नेक्सन के पेट्रोल वेरिएंट में 1.2 लीटर का टर्बोचार्ज्ड इंजन लगा है, जो 110 पीएस की पावर और 170 एनएम का टॉर्क देता है। डीज़ल वेरिएंट में 1.5 लीटर का इंजन लगा है, इसकी पावर 110 पीएस और टॉर्क 260 एनएम है। दोनों इंजन के साथ 6-स्पीड मैनुअल और 6-स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स का विकल्प रखा गया है।

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 4:17 PM
newscode-image

बोकारो। झारखंड सरकार के मंत्री अमर बाउरी ने स्‍वाधीनता दिवस के मौके पर बोकारो में तिरंगा फहराया लेकिन उन्‍होंने इस दौरान पैरों में चप्‍पलें पहन रखी थी। मान्‍य परंपरा के अनुसार जूते और चप्‍पलें पहन कर तिरंगा फहराना मर्यादा के प्रतिकूल है और राष्‍ट्र ध्‍वज का अपमान है। राज्‍य सरकार के मंत्रियों से कम से कम, राष्‍ट्र ध्‍वज के सम्‍मान में इस प्रकार की लापरवाही की उम्‍मीद नहीं की जा सकती।

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

वहीं दूसरी ओर स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गिरिडीह जिले के बीजेपी सांसद रविन्द्र कुमार पांडेय ने भी बोकारो में चप्पल पहनकर ही राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

तिरंगे के सम्‍मान की अनदेखी की रही-सही कमी बोकारो में कांग्रेस पार्टी के नेता डॉ पी नैय्यर ने पूरी कर दी। बीजेपी के मंत्री और सांसद ने तो चप्‍पलें पहन कर तिरंगा फहराया था लेकिन कांग्रेस के नेता डॉ पी नैय्यर ने जूते पहनकर ही तिरंगा फहराया।

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

मतलब साफ है कि तिरंगे का अपमान करने में कोई किसी से कम नहीं रहा। इन माननीयों को उस मिट्टी पर भी, थोड़ी दूर नंगे पैर चलने में कष्‍ट का अनुभव होता है जिस मिट्टी को अमर शहीदों ने अपने खून से सींचा है। जो तिरंगे को फहराने से पहले अपने पैरों से जूते-चप्‍पल नहीं उतार सकते, उनसे ये उम्‍मीद करना बेकार है कि कभी वे इस मिट्टी को अपने माथे से लगाएंगे। कहने को तो ये सभी माननीय जन प्रतिनिधि हैं लेकिन इनके कृत्‍यों से जनता क्‍या सीख लेगी ये विचारणीय है। शायद इन्‍हें ये पता नहीं है कि चाहे राष्‍ट्र ध्‍वज हो या धर्म ध्‍वज, इन्‍हें नंगे पैर फहराया जाता है। ध्‍वज के प्रति सम्‍मान प्रकट करने की ये परंपरा है।

देवघर : आयुषी ने बहायी देश-प्रेम की गंगा, संस्‍कृत में गाया “ऐ मेरे वतन के लोगों”   

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

सरायकेला : ड्यूटी से लौट रहे दो रेलकर्मी सगे भाई की करंट लगने से दर्दनाक मौत

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 4:05 PM
newscode-image

सरायकेला। सरायकेला थाना के सीनी ओपी अंतर्गत आज  ड्यूटी खत्म कर घर लौट रहे मोटरसाईकिल सवार रेलवे के दो चतुर्थवर्गीय कर्मचारियों की बिजली की नंगी तार की चपेट में आने से मौत हो गयी। मृतक 40 वर्षीय भोला महतो तथा 28 वर्षीय ईश्वर महतो दोनों ही सगे  भाई थे तथा रेलवे में चतुर्थवर्गीय कर्मचारी थे।

ड्यूटी खत्म कर लौट रहे थे

बताया जा रहा है, कि आज सुबह दोनों भाई अपनी ड्यूटी खत्म कर मोटरसाईकिल से अपने घर उलीडीह लौट रहे थे, तभी सिंदरी गांव के पास नंगी लटकी बिजली के तार के चपेट में वे दोनों आ गये। जिससे करंट लगने से दोनों की मौत हो गयी।

वहीं तत्काल दोनों  को स्थानीय लोग और पुलिस की मदद से सदर अस्पताल लाया गया। जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

उधर इस घटना की सूचना पाकर मृतक के परिजनों के अलावा रेलवे के अधिकारी व कर्मचारी तथा खरसांवा विधायक दशरथ गागराई सदर अस्पताल पहुंचे और घटना की जानकारी ली। इधर रेलवे अधिकारियों ने भरोसा दिलाया  है कि रेलवे के प्रावधानों के अनुरुप मृतक के परिजनों को सभी लाभ दिये जायेंगे।

जमशेदपुर : बेटे को छुड़ाने पहुंंची मां, सोनारी थाना में किया हंगामा

पांच हजार की तत्काल आर्थिक सहायता मिली

वहीं मृत कर्मचारियों के दाह संस्कार व अन्य कार्य के लिए रेलवे वेलफेयर एसोसिएशन ने बीस हजार रुपये तथा इंडियन रेलवे सिग्नल व टेलिकॉम विभाग की ओर से पांच हजार की तत्काल आर्थिक सहायता दी गयी है।  उधर बिजली की नंगी तार सड़क किनारे झूलने तथा इस घटना के होने से लोगों में बिजली विभाग के खिलाफ गहरा आक्रोश देखा जा रहा है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

VIDEO: अमित शाह के रस्सी खींचते ही नीचे गिरा तिरंगा,...

more-story-image

बोकारो : स्वंतत्रता दिवस पर मंत्री अमर बाउरी ने किया...