सबरीमाला विवाद पर बोले शाह- केरल में आपातकाल जैसी स्थिति, मंदिर को बर्बाद करने की कोशिश

NewsCode | 28 October, 2018 1:25 PM
newscode-image

नई दिल्ली। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने सभी उम्र की महिलाओं को सबरीमाला मंदिर में प्रवेश देने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश को लागू करने के माकपा नीत केरल सरकार को चेतावनी दी कि वह सबरीमाला मुद्दे के साथ खिलवाड़ न करें। साथ ही उन्हें चेताया कि अगर वह आस्था के मुद्दे को छेड़ने की कोशिश करेंगे तो फिर भाजपा केरल सरकार को उखाड़ फेंकने में संकोच नहीं करेगी। शाह ने सुप्रीम कोर्ट के आदेश की भी आलोचना करते हुए कहा कि अदालत को ऐसे फैसले नहीं देने चाहिए जो लोगों की धार्मिक आस्था के खिलाफ हों और जिन्हें लागू न किया जा सके।

अमित शाह ने केरल सरकार के फैसले का विरोध करने वाले श्रद्धालुओं को शनिवार को अपना पूर्ण समर्थन देते हुए आरोप लगाया कि वामपंथी सरकार प्रदर्शनों को ताकत के बल पर दबाना चाहती है। न्यूज एजेंसी भाषा के अनुसार, जिला भाजपा दफ्तर का यहां उद्घाटन करने के बाद शाह ने कहा कि प्रदेश सरकार श्रद्धालुओं के प्रदर्शन को चुनौती देने के लिये पुलिस बल का इस्तेमाल कर रही है।

सबरीमाला मंदिर को बर्बाद करने की कोशिश : अमित शाह

अमित शाह ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और संघ परिवार के कार्यकर्ताओं समेत प्रदेश भर में सभी वर्ग की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे 2000 से ज्यादा श्रद्धालुओं की गिरफ्तारी की भी आलोचना की। उन्होंने कहा कि अगर विरोध प्रदर्शनों को दबाया जाना जारी रहा तो मुख्यमंत्री पिनराई विजयन को भारी कीमत चुकानी होगी। विजयन को चेतावनी देते हुए उन्होंने कहा कि उनकी सरकार का विरोध प्रदर्शन को दबाना, आग से खेलने जैसा है।

अमित शाह ने कहा, “सुप्रीम कोर्ट के फैसले के क्रियान्वयन के नाम पर मुख्यमंत्री को बर्बरता बंद करनी चाहिए। यहां तक कि प्रदेश में महिलाएं भी उच्चतम न्यायालय के आदेश के क्रियान्वयन के खिलाफ हैं।”

भाजपा अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि वामपंथी सरकार सबरीमाला मंदिर को बर्बाद करने की कोशिश कर रही है और उनकी पार्टी माकपा के नेतृत्व वाली सरकार को हिंदू धर्म को दांव पर नहीं लगाने देगी। उन्होंने कहा, ”कम्युनिस्ट सरकार मंदिरों के खिलाफ साजिश रच रही है। उन्होंने केरल में आपातकाल जैसी स्थिति बना दी है।”

केरल के मुख्यमंत्री ने किया पलटवार

वहीं, केरल के मुख्यमंत्री विजयन ने तिरुवनंतपुरम में शनिवार को ही अमित शाह के बयान पर पलटवार करते हुए कहा कि यह सुप्रीम कोर्ट, संविधान और देश की न्यायिक प्रणाली पर हमला है। शाह का कहना है कि कोर्ट को केवल वही आदेश देना चाहिए जो लागू हो सके। इससे लगता है कि संविधान में दिए गए मौलिक अधिकारों को लागू नहीं किया जाना चहिए।


SC का फैसला – दिवाली पर सिर्फ 2 घंटे के लिए जलाएं पटाखे

SC का ऐतिहासिक फैसला, सबरीमला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को मंजूरी

सबरीमला मंदिर कोई निजी संपत्ति नहीं, अगर पुरूष जा सकते हैं तो महिलाओं को भी मिले एंट्री: SC

SC ने मोदी सरकार से कहा- बताइये, कैसे की राफेल विमान की डील

रांची : राजकीय कार्यक्रम में हंगामा करने पर 216 पारा शिक्षक बर्खास्त

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:20 PM
newscode-image

600 अन्य की बर्खास्तगी को लेकर कार्रवाई, गिरफ्तार कर पारा शिक्षकों को कैंप जेल में रखा गया

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस के दिन पूरे राज्य भर से राजधानी रांची में आए पारा शिक्षकों ने सरकारी कार्यक्रम को बाधा पहुंचाने की कोशिश की। साथ ही विधि व्यवस्था को अपने हाथ में लेकर पत्थरबाजी भी की।

विधि व्यवस्था में लगे  पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों, वरीय पुलिस अधीक्षक, सिटी पुलिस अधीक्षक  एवम् ड्यूटी पर तैनात पदाधिकारियों पर  पारा शिक्षकों  ने  हमला किया जिससे कई पुलिसकर्मी और  पदाधिकारी गंभीर रूप से जख्मी हुए।

पारा शिक्षकों द्वारा सरकारी कार्यक्रम में व्यवधान डालने, विधि व्यवस्था को तोड़ने एवम् सरकारी लोगो पर हमला करने की घटना को बेहद अशोभनीय एवम् गंभीर रूप से लेते हुए  वीडियो रिकॉर्डिंग एवम् कार्यक्रम स्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरा से  लिए फुटेज एवम् अन्य प्रमाणों के आधार पर  16 प्रखंड के कुल 216 पर शिक्षकों को बर्खास्त किया गया।

साथ ही लगभग 600 पारा शिक्षकों को जिला प्रशासन द्वारा बनाई गई खेलगांव एवम् रेड क्रॉस अस्थायी जेल में गिरफ़्तार कर रखा गया है। जिन पर सीसीटीवी कैमरा एवम्  वीडियो रिकॉर्डिंग से मिले प्रमाण के आधार पर बर्खास्त करने की कारवाई चल रही है।

अन्य जिलों के जिलाधिकारियों को भी यहां शामिल पारा शिक्षकों की सूची भेजी जा रही है जिसके आधार पर  चिन्हित कर अनुशासनात्मक कारवाई की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है।  स्थापना दिवस एक राजकीय दिवस है जी सम्पूर्ण राजवसियो के लिए सम्मान एवम् गौरव  का दिन है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : झारखंड स्थापना दिवस- संपूर्ण झारखंड खुले में शौच मुक्त घोषित, करीब 2100 को मिला नियुक्ति पत्र

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:02 PM
newscode-image

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस मना रहा है। राज्य स्थापना दिवस के मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में मुख्यमंत्री ने संपूर्ण झारखंड को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की। समारोह में राज्य के तीन जिलों देवघर, हजारीबाग और लोहरदगा को पूर्ण विद्युतीकृत किये जाने की घोषणा की गयी।

इस मौके पर अरबों रुपये की योजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन के साथ ही परिसंपत्तियों का वितरण भी किया गया। समारोह में करीब 2100 लोगों को नियुक्ति पत्र का भी वितरण किया गया।

झारखंड स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य की जनता को कई सौगात दी। रांची में आयोजित मुख्य समारोह में उन्होंने राज्य को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की।  उन्होंने कहा कि स्वच्छता को लेकर लोगों की आदतों में भी अब बदलाव आया है।

मुख्यमंत्री ने हर घर तक बिजली पहुंचाने के अपने वायदों को पूरा करते हुए राज्य के तीन जिलों देवघर, लोहरदगा और हजारीबाग को पूर्ण रूप से विद्युतीकृत होने का भी ऐलान किया। इस दौरान श्री दास ने कहा कि वर्तमान सरकार  पूरी तरह से पारदर्शी तरीके से काम कर रही  है और अब तक इस पर एक भी भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे है।

इस दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि देश के विकास में झारखंड का अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि जनता को चुनी हुई सरकार से आकांक्षाएं होती है , जिसे पूरा करने में सरकार लगी है।

समारोह के दौरान अरबों रुपये की परिसंपत्तियों का वितरण किया गया और कई नई परियोजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन भी हुआ। करीब 2100 लोगों के बीच नियुक्ति पत्र का वितरण और झारखंड और देश के विकास में अपनी भूमिका निभाने वाले लोगों को सम्मानित भी किया गया। जिला मुख्यालयों में भी परिसंपत्तियों का वितरण हुआ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

विधानसभावार बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में लोगों को जोड़ने की जरुरत- डॉ अजय

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 6:56 PM
newscode-image

रांची। झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी प्रोजेक्ट शक्ति की बैठक आज कांग्रेस मुख्यालय, कांग्रेस भवन, रांची में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ अजय कुमार की अध्यक्षता में संपन्न हुई।

बैठक में प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डॉ अजय ने कहा कि जनसंपर्क कर प्रोजेक्ट शक्ति में नये लोगों को जोड़े और कांग्रेस पार्टी के  साथ-साथ कार्यकर्ता अपने आप को भी  शक्ति देने का काम करें। इस बैठक में  प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार ने राज्य के सभी जिलाध्यक्ष एवं विधानसभा प्रभारी, वरीय जिला उपाध्यक्ष के साथ-साथ प्रोजेक्ट शक्ति के जोनल को-ऑर्डिनेटर, जिला को-ऑर्डिनेटर अपने अपने विधानसभा में जाकर बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में व्यक्तियों को जोड़े।

डॉ अजय ने कहा कि हमारी संगठन लगातार बूथवार मजबूती की ओर बढ़ रहा है। कांग्रेस पार्टी लोगों की जनसस्याओं को लेकर पंचायत स्तर से लेकर जिलास्तर एवं प्रदेश स्तर तक लगातार अभियान चला रही है। पार्टी जनमानस का ज्वलंत मुद्दा एवं लोगों की दुख-सुख की सहभागिता में अपना बहूमूल्य योगदान दे रही है।

बैठक मं प्रोजेक्ट शक्ति के को-ऑर्डिनेटर पप्पू अजहर ने कहा कि  कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी जी ने प्रोजेक्ट शक्ति का निर्माण कार्यकर्ताओं को शक्ति देने के लिए किया है। इससे बूथ स्तर के भी कार्यकर्ता प्रोजेक्ट शक्ति से जुड़कर अपने आप को शक्ति देने का काम करेंगे।

इस अवसर पर मुख्य रूप प्रदेश कांग्रेस कमिटी के जोनल को-ऑर्डिनेटर सुलतान अहमद, रमा खलखो एवं भीम कुमार संगठन मोर्चा विभाग के प्रभारी रवीन्द्र सिंह, प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद, शमशेर आलम, उपस्थित हुए।

बैठक का संचालन प्रदेश कांग्रेस प्रोजेक्ट शक्ति के को-ऑर्डिनेटर पप्पू अजहर ने किया।में मुख्य रूप से ज्योति मथारू, ईश्वर आनंद, सुदीप तिग्गा, गजेन्द्र सिंह, जिलाध्यक्ष-मंजूर अंसारी, ब्रजेन्द्र सिंह, अरविंद तुफानी, जशरंजन पाठक, मुक्ता मंडल, मनोज सहाय पिंकू, छोटे राय सिंकू, रामकृष्ण चौधरी, रौशन बरवा, साजिद अहमद आदि प्रमुख उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : आम आदमी पार्टी ने निकाली झारखंड नवनिर्माण संकल्प...

more-story-image

रांची : पुलिस मुख्यालय में लगी भीषण आग, मची अफरा-तफरी

X

अपना जिला चुने