रांची : मूलभूत सुविधाओं से वंचित है अस्‍पताल, मनमाने ढंग से आते है डॉक्‍टर

NewsCode Jharkhand | 30 August, 2018 4:11 PM
newscode-image

निरीक्षण के दौरान हुआ खुलासा

रांची। छात्र संघ के सदस्यों ने ब्राम्बे हॉस्पिटल का निरीक्षण किया। इस दौरान पाया गया कि मरीजों के लिए अस्पताल में समुचित व्यवस्था नहीं है। अस्‍पताल में ना तो बेड है ना ही मूलभूत सुविधाएं। जबकि पूरे राज्य से रोजाना सैकड़ों मरीज इलाज के लिए आते है।

आलम ये है कि समय पर डॉक्‍टर तक नहीं पहुंचते। मनमानी तरीके से खुद समय निर्धारित कर आते है। दोपहर 2 बजते ही चले भी जाते है। जबकि अस्पताल एनएच-75 के पास अवस्थित है। जहां रोजाना कुछ ना कुछ घटना होती रहती है।

अस्पताल में अधिकतर मरीज चर्म एवं कुष्ठ रोग के आते है, परंतु इसके लिए कोई डॉक्‍टर पदस्थापित नहीं है। यहां तक कि अलग-अलग बीमारी में एक ही तरह का दवा लिख दिया जाता है।

इसका खुलासा छात्र संघ के 15 सदस्यों द्वारा डॉक्‍टर से इलाज कराने पर हुआ। अस्पताल के कर्मचारियों द्वारा डॉक्टर से दिखाने के लिए पर्ची कुष्ठ अनुसंधान एवं प्रशिक्षण संस्थान ब्राम्बे रांची का काटकर दिया जाता है लेकिन पूछने पर समान्य अस्पताल बताया गया।

अध्यक्ष एस अली ने बताया कि अस्पताल में डाक्टरों द्वारा मनमानी और तानाशाही की जा रही है। यही नहीं अस्पताल में वित्त अनियमितता, कर्मचारी बहाली में गड़बड़ी सहित अन्य कई मामले है जिसकी जांच होने पर भारी गड़बड़ी का खुलासा होगा।

उन्होंने स्वस्थ्य मंत्री, स्वास्थ्य सचिव और रांची सिविल सर्जन से अस्पताल में सभी प्रकार की व्यवस्था के साथ चर्म रोग के डॉक्‍टर बहाल करने की मांग की है।  मांगों पर समुचित कार्रवाई नहीं होने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : रिम्स में पोस्टमार्टम के लिए लाया गया शव, कौवे को बनाया निवाला

NewsCode Jharkhand | 27 November, 2018 1:44 PM
newscode-image

रांची। राजधानी रांची के लोअर बाजार थाना क्षेत्र स्थित चडरी तालाब से मंगलवार सुबह एक व्यक्ति का शव बरामद किया गया। पुलिस ने शव पड़े रहने की सूचना मिलने पर उसे अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए रिम्स भेज दिया, लेकिन रिम्स में खुले में घंटों शव पड़ा रहा है और वह कौवे का निवाला बन गया।

रिम्स में खुले में पड़े शव को कौवे नोच-नोंच कर खाने लगे और जब इस पर लोगों की नजर पड़ी, तो रिम्स प्रशासन सक्रिय हुआ। रिम्स अधीक्षक ने बताया कि वे मामले की छानबीन कर रहे है और यदि इसमें सच्चाई हुई, तो जिम्मेवार दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने किया कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का शुभारंभ

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:38 PM
newscode-image

रांची। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने आज मोरहाबादी स्थित पार्क प्लाजा के दूसरे तल्ले में कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने आशा जतायी कि यह सर्विसेज आम जनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

कंफर्ट लाइव सर्विसेज में फ्लैट खरीद- बिक्री, स्वास्थ्य बीमा, अवधि बीमा, म्युचुअल फंड, एसआईपी एवं वाहनों की बीमा आदि की सुविधा लोगों को प्राप्त हो सकेगी।

शुभारंभ के मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, चंद्रशेखर महतो, संचालक राजेश कुमार, रंजना चौधरी, गीता महतो, कल्पना मुखिया, संतोष  मुखिया, अमित साव एवं अजय श्रीवास्तव सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

भोगनाडीह : झामुमो ने संथाल को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:36 PM
newscode-image

भोगनाडीह  में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल हुए

भोगनाडीह। राज्य को संथाल परगना ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा से तीन तीन मुख्यमंत्री दिये,  लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री बनाया वो गरीब आदिवासी, वंचित दलित की अनदेखी कर अर्थपेटी और मतपेटी भरने का कार्य किया।

साथ ही संथाल परगना को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया। सबसे ज्यादा आदिवासियों की जमीन लूटने का काम सोरेन परिवार ने किया है। आज सीएनटी-एस पीटी एक्ट के उल्लंघन कर विभिन्न शहरों में आदिवासियों की जमीन ले ली।

जबकि संथाल परगना समेत राज्य भर में यह कह कर गुमराह किया गया कि अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी तो आदिवासी की जमीन लूट लेगी। क्या 4 साल सरकार द्वारा किसी आदिवासी की जमीन लूटी गई नहीं। उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

बरहेट का प्रतिनिधित्व करने वाला कभी विधानसभा में सवाल नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरहेट का विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले ने कभी भी विधानसभा में क्षेत्र की समस्याओं को लेकर प्रश्न नहीं रखा, क्योंकि उसे पता ही नहीं है कि क्षेत्र की समस्या क्या है ऐसे में विकास के कार्य कैसे सम्पन्न होंगे।

लोगों को यह सोचना चाहिए और स्थानीय उम्मीदवार को प्राथमिकता देनी चाहिए। चाहे वोकिसी पार्टी का हो।

कार्यकर्ता पार्टी का प्राण, पार्टी के लिए राष्ट्र पहले

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के प्राण हैं। यह एक ऐसी पार्टी है जहां वंशवाद और परिवार नहीं। एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और मजदूर मुख्यमंत्री बन सकता है। मैं भी बूथ स्तर का कार्यकर्ता था।

पार्टी के लिए समर्पण भाव से कार्य करते हुए 1995 में विधायक बना और अब मुख्यमंत्री हूं। आप भी ईमानदारी से कार्य करें। सरकार की योजनाओं को जन जन पहुंचाये। पार्टी के वविभिन्न मोर्चा के लोग इस कार्य में लगे। क्योंकि पार्टी के लिए राष्ट्र पहले है।

इस राष्ट्र को और मजबूत करने के लिए वैश्विक पटल पर अपनी पहचान बना चुके प्रधानमंत्री  के हाथों को मजबूत करें। इस अवसर पर अनंत ओझा,  धर्मपाल सिंह, हेमलाल मुर्मू समेत अन्य मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : अखिल झारखंड छात्र संघ ने चुनाव को लेकर...

more-story-image

धनबाद : बीजेपी सरकार बनने के बाद कृषि विकास दर...

X

अपना जिला चुने