रांची : चैंबर चुनाव को लेकर प्रत्याशियों ने चलाया जनसंपर्क अभियान

NewsCode Jharkhand | 24 August, 2017 8:08 PM
newscode-image

रांची। रांची में चैंबर चुनाव 2017-18 को लेकर दोनों गुटों के प्रत्याशियों द्वारा अपने-अपने तरीके से जनसंपर्क अभियान चलाया जा रहा है। टीम रंजीत ने गुरुवार को सुबह 10 बजे से पदयात्रा कर जनसंपर्क अभियान चलाया। रातू रोड, पंडरा और पहाड़ी मंदिर के कई गलियों में टीम ने व्यापारियों व उद्यमियों से अपने पक्ष में मतदान करने की अपील की।

व्यापारियों, व्यवसायियों व उद्यमियों ने भी भरोसा दिलाया की उनका समर्थन साथ है। इस अभियान में तुषार विजयवर्गीय, सोनू मिश्रा, मुकेश साथ-साथ रहे। चैंबर के अध्यक्ष विनय अग्रवाल, पूर्व अध्यक्ष पवन शर्मा भी मौजूद थे।

रंजीत टीम के आनन्द गोयल, आनंद कुमार पसारी, अश्विन राजगढिया, दीपक कुमार मारु, दीनदयाल बर्णवाल, कुणाल आजमानी, मुकेश कुमार अग्रवाल, नवजोत अलघ (रुबल), पंकज कुमार चौधरी, पंकज कुमार पोद्दार, परेश गट्टानी, प्रवीण जैन(छाबड़ा), प्रवीण लोहिया, राहुल मारु, राम बांगर, रंजीत कुमार गाड़ोदिया, शैलेश अग्रवाल, श्रवण कुमार जालान, सोनी मेहता, विकाश विजयवर्गीय एवं विमल कुमार फोगला मौजूद थे।

छत्तीसगढ़: नक्सली हमले में पत्रकार समेत 3 की मौत, शहीद पुलिसकर्मी को याद कर रो पड़े एसपी

NewsCode | 30 October, 2018 8:28 PM
newscode-image

नई दिल्ली। छत्तीसगढ़ में अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले नक्सलियों ने एकबार कायराना हरकत की है। प्रदेश के दंतेवाड़ा के अरनपुर थाना क्षेत्र में नक्सलियों द्वारा घात लगाकर किए गए हमले में दूरदर्शन पत्रकार की मौत हो गई,जबकि दो जवान भी शहीद हो गए। अभी कुछ दिन पहले ही राज्य के बीजापुर में भी नक्सलियों ने हमले में चार जवान शहीद हो गए थे।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, यह हमला दूरदर्शन की टीम पर किया गया है, जिसमें डीडी के कैमरामैन अच्युतानंद साही की मौत हो गई। दूरदर्शन की टीम किसी चुनावी कवरेज के लिए जा रही थे, इसी दौरान नक्सलियों ने घात लगाकर टीम पर हमला कर दिया। इस हमले में दो पुलिसकर्मी भी शहीद हो गए हैं। वहीं, दो पुलिसकर्मियों गंभीर रूप से घायल बताए जा रहे हैं। इस हमले के दौरान सुरक्षा बलों और नक्सलियों में मुठभेड़ भी हुई। यह हमला दंतेवाड़ा जिले के अरनपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले नीलावाया के जंगलों में हुई।

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने डीडी के कैमरामैन की मौत पर शोक जताया है। उन्होंने कहा, ‘इस समय वह मृतक के परिवार के साथ खड़े हैं। हम उनके परिवार की देखभाल करेंगे। मैं ऐसे सभी मीडियाकर्मियों को सलाम करता हूं जो इस तरह के खतरनाक इलाकों में कवरेज के लिए जाते हैं।’

वहीं दंतेवाड़ा के डीआईजी पी सुंदरराज ने कहा, ‘नक्सलियों ने अरणपुर में आज हमारे गश्ती दल पर हमला किया था। इस हमले में हमारे दो जवान शहीद गए हैं और दो अन्य घायल हैं। जबकि हमले में दूरदर्शन के एक कैमरामैन भी घायल हो गए, जिनकी बाद में मौत हो गई।’

रो पड़े एसपी

दंतेवाड़ा के पुलिस अधीक्षक अभिषेक पल्लव इस घटना की जानकारी देते हुए भावुक हो गए। एसपी अभिषेक पल्लव ने कहा कि उनके जवान ने बहादुरी से नक्सलियों का सामना किया, अगर ऐसा ना होता तो दो और मीडियाकर्मियों को नुकसान पहुंच सकता था। अपने जवान के कारनामे को बताते हुए एसपी रो पड़े। उन्होंने कहा कि नक्सली नहीं चाहते हैं कि इस इलाके में विकास हो।

बता दें कि राज्य में 90 विधानसभा सीटों पर दो चरणों में मतदान होना है। पहले चरण में 18 सीटों पर 12 नवंबर को वोटिंग होगी जबकि दूसरे चरण में 78 सीटों पर वोटिंग 20 नवंबर को होगी।


छग: सुकमा में सुरक्षाबलों ने 14 नक्सली किए ढेर, 200 के छिपे होने की आशंका

छग: भिलाई स्टील प्लांट में गैस पाइपलाइन फटने से लगी भीषण आग, 13 की मौत

J&K: LoC पर इंडियन आर्मी की बड़ी कार्रवाई, पाक सेना के कई ठिकाने ध्वस्त

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

पलामू : अर्घ्य देने के लिए नहाने के क्रम में पानी में डूबने से अधेड़ की मौत

NewsCode Jharkhand | 14 November, 2018 8:24 PM
newscode-image

पलामू। लेस्लीगंज तालाब में छठ पर्व पर अर्ध्य देने के लिए नहाने के दौरान डूबने से अधेड़ की मौत हो गयी। तीन से चार घंटे की मशक्कत के बाद तालाब से शव बाहर निकाला जा सका। शव की पहचान लेस्लीगंज निवासी कुंज बिहारी भुइयां (58वर्ष) के रूप में हुई है।

कुंज बिहारी भुइयां की पत्नी छठ व्रत की थी। सुबह करीब पांच बजे उदीयमान सूर्य के अर्ध्य लेने के लिए कुंज बिहारी तालाब में नहा रहा था। तालाब में इस पार से उस पार जाने के क्रम में कुंजबिहारी पानी की गहराई में समा गया। काफी देर तक जब उसका कुछ अता-पता नहीं चला तो उसकी खोजबीन शुरू की गयी। पूर्वाहन में उसका शव तालाब से बरामद किया जा सका।

कल तक छठ व्रत पर खुशी-खुशी भगवान सूर्य को अर्ध्य देने की तैयार में जुटा कुंजबिहारी के परिवार के सदस्यों को उसकी मौत की सूचना जैसे ही मिली, उनके बीच चीख-पुकार मच गयी। पत्नी और बच्चे दहाड़ मारकर रोने लगे।

सूचना मिलने पर लेस्लीगंज बीडीओ विजय प्रकाश मरांडी और थाना प्रभारी वीरेन मिंज मौके पर पहुंचे। बाद में गोताखोरों को बुलाकर तालाब में छानबीन की गयी। शव मिलने के बाद पुलिस ने उसे कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम सदर अस्पताल में कराया। कुंजबिहारी भुईयां के तीन लड़के व दो लड़कियां हैं, सभी शादीशुदा हैं।

मौके पर भाजपा नेता अमित उपाध्याय, लेस्लीगंज मुखिया धर्मेंद्र सोनी, कोट पंचायत मुखिया संतोष मिश्रा, तारकेश्वर पासवान सहित कई लोगों ने शव को निकलवाने में पहल की।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

कहीं समारोह तक ही सीमित न रह जाये स्थापना दिवस- योगेन्द्र प्रताप

NewsCode Jharkhand | 14 November, 2018 8:05 PM
newscode-image

रांची। झाविमो के केन्द्रीय प्रवक्ता योगेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि भगवान बिरसा की धरती माने जाने वाला झारखंड आज अपनी 18वीं सालगिरह मना रहा है। कह सकते हैं कि आज हमारा झारखंड बालिग हो गया। झाविमो की ओर से सर्वप्रथम भगवान बिरसा को नमन।

हर साल सरकार स्थापना दिवस तो धूमधाम से मनाती है परंतु अफसोस यह आयोजन महज एक समारोह तक ही सीमित होकर रह जाता है। सरकार जो संकल्प लेती है, जिन योजनाओं की घोषनाएं या शिलान्यास करती है वह धरातल पर कितनी उतर पाती हैं, पूर्व की घोषनाओं का कितना लाभ जनमानस को मिला है, सरकार को कभी उसकी भी समीक्षा कर लेनी चाहिए।

2014 के बाद के भाजपा सरकार द्वारा 2015 से लेकर 2017 यानि तीन स्थापना दिवस के मौके पर की गयी घोषनाओं पर गौर डाला जाय तो उनमें से अधिकांशतः घोषनाएं हवा-हवाई ही साबित हुई है, कुछ धरातल पर उतरी भी तो बाद में उसका हश्र भी बुरा ही हुआ।

मुख्यमंत्री तो घोषणा इतनी कर चुके हैं कि अगर आधी भी सरजमीं पर उतर गई होती तो अब तक झारखंड समृद्ध हो गया होता। 2015 के समारोह में सीएम ने कहा था कि जनता राम-सीता है और वे हनुमान हैं। वे जनता के सेवक हैं तथा जनता और उनके बीच दूरी नहीं होगी।

अब जो सरकार अपने ही गृहनगर के दूसरे पायदान का दर्जा रखने वाले एक मंत्री से चार वर्षो में दूरी नहीं पाट सके, जनता की दूरी भला क्या पाटेंगे। पिछले तीन स्थापना दिवस के दौरान और भी कई बातें हुई।

झारखंड को निवेशकों की पहली पसंद बनाने, औद्योगिक घरानों के लिए एक लाख हेक्टेयर भूमि चिन्ह्ति करने की बात हुई। सरकार को श्वेत पत्र जारी कर बतानी चाहिए कि किन निवेशकों ने राज्य में कितने का निवेश किया है और किस उद्योग को कितनी जमीन आवंटित की गई तथा इससे जनता को क्या लाभ हो रहा है।

एयरपोर्ट से बिरसा चौक तक स्मार्ट सड़क, केन्द्र से 10000 करोड़ की सड़क निर्माण, जोहार योजना, मुख्यमंत्री विद्या लक्ष्मी योजना, जनता के लिए लांच किये 15 मोबाईल एप, कृषि रथ, बेरोजगारी व पलायन रोकने के लिए कौशल विकास योजना, 25 डाइविंग ट्रेनिंग सेंटर, 2017 गरीब कल्याण वर्ष, 37 नदियां जलमार्ग में विकसित की योजना, 108 एंबुलेंस, मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा योजना, हरमू फ्लाईओवर आदि तमाम योजनाओं का आज क्या हश्र है।

मुख्यमंत्री स्वास्थ्य बीमा में 50 हजार से लेकर दो लाख तक निःशुल्क इलाज की बात है परंतु यहां रिम्स में महज 50 रूपये के लिए मौत हो रही है। एंबुलेंस के बिना मरीज मर रहे हैं। किसान आत्महत्या कर रहे हैं।

तमाम योजनाएं महज कागजी हैं परंतु सरकार केवल अपनी पीठ खुद थपथपाने की आदी हो चुकी है। झाविमो का मानना है कि राज्य अलग होने की सार्थकता तभी होगी जब राज्य की जनता वास्तव में खुशहाल होगी न कि केवल घोषनाओं से।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

रांची : युवा झारखंड प्रगति के पथ पर तेजी से...

more-story-image

रांची : नेहरू जयंती पर एचईसी कर्मियों ने उन्हें श्रद्धा...

X

अपना जिला चुने