रांची : चीन के छह दिवसीय दौरे पर चैंबर ऑफ कॉमर्स का दल रवाना

NewsCode Jharkhand | 2 May, 2018 9:19 PM
newscode-image

रांची। पूर्व नियोजित कार्यक्रम के तहत फेडरेशन ऑफ झारखण्ड चेम्बर ऑफ कॉमर्स एण्ड इन्डस्ट्रीज का एक 18 सदस्यीय दल चैंबर अध्यक्ष रंजीत गाडोदिया के नेतृत्व में गुंझाउ (चाईना) में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित सुप्रसिद्ध ‘‘कैंटोन फेयर‘‘ में सम्मिलित होने के लिए आज बिरसा मुंडा एयरपोर्ट से रवाना हुआ।

विदित हो कि चाईना का आयात और निर्यात मेला जिसे कैंटोन फेयर भी कहा जाता है। यह देश की सबसे बडी व्यापारिक प्रदर्शनी है। फेयर में उपभोक्ता वस्तुओं, कपडो, सजावट, दवा, इलेक्ट्रॉनिक्स और मशीनरी समेत डेढ लाख से अधिक विभिन्न प्रकार के उत्पादों की प्रदर्शनी होती है। इस वर्ष कैंटोन फेयर 15 अप्रैल से आरम्भ है जो पूरे मई माह तक चलेगा।

रांची : उपचुनाव को लेकर बना महागठबंधन, सिल्ली-गोमिया में विपक्ष का साझा प्रत्याशी

इस अवसर पर नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, एयरपोर्ट निदेशक अनिल विक्रम और एयरपोर्ट टर्मिनल मैनेजर मनोज सिंह ने चैंबर प्रतिनिधिमण्डल को रवाना किया। नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि राज्य में औद्योगिक निवेश को गति देने के लिए चैंबर का यह प्रयास सराहनीय है। ऐसे प्रयास सदैव होने चाहिए।

चैंबर अध्यक्ष रंजीत गाडोदिया ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा प्रदेश में औद्योगिक क्रांति के लिए आवश्यक कई पहलुओं पर कार्य किये जा रहे हैं। झारखण्ड चैंबर ने सरकार के प्रयासों को गति देने के उद्देश्य से इस विदेश यात्रा की योजना बनाई है। इस यात्रा के दौरान चाईना के इण्डियन एमबेसी एवं स्थानीय व्यापारिक /औद्योगिक संगठनों के साथ भी बैठक का आयोजन तय है।

झारखण्ड चेम्बर यह प्रयास करेगा कि गुंझाउ में आयोजित कैंटोन फेयर की तर्ज पर रांची में भी वृहद् स्तर पर अंतर्राष्ट्रीय ट्रेड फेयर का आयोजन किया जा सके।

इस अवसर पर चैंबर उपाध्यक्ष सोनी मेहता, महासचिव कुणाल अजमानी, सह सचिव प्रवीण जैन छाबडा, सदस्य पवन शर्मा, परेश गटटानी, दीपक मारू, अमित शर्मा, शंभू चूडिवाला, रोहित पोद्दार, विकास विजयवर्गीय, तुषार विजयवर्गीय, संजय अग्रवाल, विनोद जैन, पदम जैन, रेखा जैन, शीतल गाडोदिया, संतोष अग्रवाल, अनिल अग्रवाल, परिमल फोगला, रमाशंकर बगडिया, कविता शर्मा, श्रेष्ठ वशिष्ठ, उमा बगडिया, अंजना गट्टानी, रामकुमार अग्रवाल के अलावा कई सदस्य उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

देश में कारोबार करना हुआ और आसान, ईज ऑफ डूइंग बिजनस रैकिंग में 77वें नंबर पर भारत

NewsCode | 31 October, 2018 8:42 PM
newscode-image

नई दिल्ली। वर्ल्ड बैंक द्वारा जारी कारोबार सुगमता रैंकिंग (ईज ऑफ डूइंग बिजनेस इंडेक्स) में भारत ने बड़ी छलांग लगाई है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस इंडेक्स में 23 अंकों के उछाल के साथ भारत 77वें पायदान पर पहुंच गया है। विश्व बैंक की यह रैंकिंग बुधवार को जारी की गई। पिछले दो सालों में भारत की रैकिंग में कुल 53 पायदान का सुधार आया है। माना जा रहा है कि इससे भारत को अधिक विदेशी निवेश आकर्षित करने में मदद मिलेगी।

नरेंद्र मोदी सरकार के 2014 में सत्ता में आने के समय भारत की रैंकिंग 142 थी। पीएम ने आने वाले सालों में भारत को टॉप 50 देशों की खास लिस्ट में शामिल करने का लक्ष्य दिया है। रोजगार और अर्थव्यवस्था जैसे मुद्दों पर मुश्किल का सामना कर रही नरेंद्र मोदी सरकार के लिए यह रैंकिंग कुछ राहत की बात है।

अगले साल होने वाले आम चुनाव से पहले सरकार को विभिन्न मुद्दों पर विपक्षी दलों के कड़े विरोध का सामना करना पड़ रहा है। पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा, ‘ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भारत की रैंकिंग की खबर सुनकर खुश हूं। आर्थिक तरक्की के प्रति हम प्रतिबद्ध हैं।’

आपको बता दें कि वर्ल्ड बैंक हर साल आसान कारोबार वाले देशों की सूची जारी करता है इसमें कुल 190 देश होते हैं। विश्व बैंक की यह रैंकिंग 10 मानदंडों मसलन कारोबार शुरू करना, निर्माण परमिट, बिजली कनेक्शन हासिल करना, कर्ज हासिल करना, टैक्स भुगतान, सीमापार कारोबार, अनुबंध लागू करना और दिवाला मामले का निपटान पर आधारित होती है।

इन मानदंडों में हुआ सुधार

विश्व बैंक की कारोबार सुगमता पर 2019 की वार्षिक रिपोर्ट में कहा गया है कि देश में कारोबार शुरू करने और उसमें सुगमता से संबंधित दस मानदंडों में से 6 में भारत की स्थिति सुधरी है। इन मानदंडों में कारोबार शुरू करना, निर्माण परमिट, बिजली की सुविधा प्राप्त करना, कर्ज प्राप्त करना, करों का भुगतान, सीमापार व्यापार, अनुबंधों को लागू करना और दिवाला प्रक्रिया से निपटना शामिल है।

अभी और सुधार की जरूरत: जेटली

वित्त मंत्री अरुण जेटली ने रैकिंग की घोषणा के दौरान मीडिया से कहा कि जब केंद्र में मोदी सरकार बनी तो हम 142वें स्थान पर थे। पीएम ने टॉप 50 में पहुंचने का लक्ष्य रखा है। पिछले चार साल में देश की कारोबार सुगमता रैंकिंग 67 अंक बेहतर हुई। उन्होंने कहा कि ‘कारोबार की शुरुआत’ सहित कुछ इंडिकेटर में अभी सुधार की जरूरत है। वाणिज्य और उद्योग मंत्री सुरेश प्रभु ने इसे देश के लिए दिवाली का तोहफा बताया और कहा कि सरकार रैंकिंग में सुधार के लिए और प्रयास करेगी।

पहले नंबर पर कौन?

कारोबार सुगमता रैंकिंग में न्यूजीलैंड शीर्ष पर है। उसके बाद क्रमश: सिंगापुर, डेनमार्क और हांगकांग का नंबर आता है। सूची में अमेरिका 8वें, चीन 46वें और पाकिस्तान 136वें स्थान पर है। विश्व बैंक ने इस मामले में सबसे अधिक सुधार करने वाली अर्थव्यवस्थाओं में भारत को दसवें स्थान पर रखा है।


ईज ऑफ डूइंग बिजनस लिस्‍ट में टॉप पर आया आंध्र प्रदेश, झारखंड की रैंकिग में सुधार

रिजर्व बैंक और सरकार के बीच बढ़ी तनातनी, इस्तीफा दे सकते हैं गवर्नर उर्जित पटेल

जेटली छोटे व्यापारियों से व्यापार करने में आसानी का हाल पूछें : राहुल गांधी

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची: कांठीटांड़-कांके-विकास तक रिंग रोड 10 साल बाद बन कर हुआ तैयार

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2018 1:45 PM
newscode-image

10 साल बाद छह लेन वाले रिंग रोड फेज-7 का काम पूरा

रांची । करीब 10 साल के इंतजार के बाद रांची रिंग रोड सेक्शन सेवन बन कर तैयार हो गया है। छह लेन वाली 23.575 किमी लंबी इस सड़क पर गाड़ियां भी दौड़ने लगी हैं। यह रिंग रोड रांची-डालटनगंज मुख्य मार्ग (एनएच 75) पर कांठीटांड़ से शुरू होकर कांके रोड होते हुए रांची-रामगढ़ मुख्य मार्ग (एनएच 33)  पर विकास (नेवड़ी) से मिलता है। यानी दो महत्वपूर्ण राष्ट्रीय उच्च पथ एनएच 75 व एनएच 33 को यह जोड़ रहा है।

इस सड़क के बन जाने से बड़ी संख्या में गाड़ियां रांची शहर रातू रोड-बरियातू रोड में प्रवेश नहीं करेंगी, बल्कि रिंग रोड के सहारे निकल जायेंगी। इसका औपचारिक उदघाटन जल्द होगा. इस सड़क का निर्माण आइएलएफएस व पथ निर्माण विभाग की ज्वायंट वेंचर कंपनी झारखंड त्वरित पथ विकास कंपनी लिमिटेड (जेएआरडीसीएल) ने कराया है।

रिंग रोड के सेक्शन थ्री, फोर, फाइव व सिक्स का निर्माण भी इसी कंपनी  के माध्यम से कराया गया है।  रिंग रोड सेक्शन -7 (एक नजर में)  सड़क की लंबाई 23.575 किमी कहां से कहां तक कांठीटांड़ से नेवड़ी सड़क की चौड़ाई  छह लेन (30.5 मीटर) निर्माण पर खर्च 452 करोड़ (लगभग) काम करानेवाली कंपनी आइएलएफएस बड़े पुलों की संख्या 3 छोटे पुलों की संख्या 6 फ्लाइओवर की संख्या 01 अंडर पास की संख्या 7 रेलवे ओवर ब्रिज 01 कलवर्ट की संख्या 53 बस पड़ाव की संख्या 16 इस रोड के बन जाने से खास कर बड़े वाहनों व लंबी दूरी वाली गाड़ियां शहर में नहीं घुसेंगी।

बड़ी गाड़ियां शहर में घुस कर लंबे समय तक जाम में फंसी रहती हैं और ईंधन भी अत्यधिक बर्बाद होता है। अब ऐसा नहीं होगा. शहर की मुख्य सड़कों  पर से थोड़ा ट्रैफिक कम होगा। रिंग रोड के माध्यम से 23.5 किमी की दूरी तय करने में अधिकतम 20 मिनट का ही समय लगेगा, जबकि शहर के अंदर घुस कर इतनी दूरी तय करने में एक घंटे का समय लग रहा था. वहीं बड़े वाहनों के साथ नो इंट्री की भी बाध्यता नहीं रहेगी. वे 24 घंटे चल सकेंगे।

रिंग रोड सेक्शन सेवन का शिलान्यास वर्ष 2008 में हुआ था। इसके बाद इसका निर्माण कार्य शुरू हुआ। जिस कंपनी को काम मिला था, उसने इसे पूरा नहीं कराया। काम आधा-अधूरा रह गया था। ऐसे में सरकार ने उसका एग्रीमेंट रद्द कर दिया था। इस दौरान लंबे समय तक काम बंद रहा। बाद में इसका काम जेएआरडीसीएल को दिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

बोकारो : सॉर्ट सर्किट से लगी आग, घर जलकर खाक

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2018 1:34 PM
newscode-image

बोकारो। बिजली के तार में हुए सॉर्ट सर्किट से आग लग गई इस आग की घटना में पूरा घर जलकर खाक हो गया। इस आग लगी से एक लाख से अधिक के नुकसान का अनुमान है। घटना के बाद ग्रामीणों के द्वार आग पर काबू पाने का प्रयास किया गया लेकिन स्थानीय जिला परिषद के प्रतिनिधि की सूचना पर पहुँची  दमकल की गाड़ी ने आग पर काबू पाया।

आज सुबह चास प्रखण्ड के सोनाबाद पंचायत स्थित गांव आमडीहा टोला बंधुडीह के फूलचंद माहतो के कच्चे मकान में सौभाग्य योजना के तहत बिजली का कनेक्सन तार में अचानक के सर्ट सर्किट में आग लग गई।

इस आगलगी की घटना के बाद घर में रखे पुआल में आग लग गई। इसके बाद आग की तेज लपटों ने पूरे घर को पूरी तरह से जलाकर खाक कर दिया। इस घटना के बाद ग्रामीणों ने आग पर काबू करने का प्रयास किया।स्थानीय लोगों की सूचना पर जिला परिषद संजय कुमार के प्रतिनिधि नरेश माहतो ने दमकल विभाग को इसकी जानकारी दी।

मौके पर पहुँची दमकल की एक गाड़ी ने आग पर काबू पाया। इस आग की घटना में घर में  रखा पुआल, कपड़े, अनाज, नकदी समेत अन्य कागजात जल कर खाक हो गया। मौके पर पहुँची पिंडराजोड़ा थाना पुलिस ने घटना स्थल का जायजा लिया।

जिला परिषद संजय कुमार ने इस घटना की जानकारी चास अंचलाधिकारी वन्दन सेजवालकर को दी और पीड़ित को अर्थित सहायता देने की बात कही।सीओ ने कर्मचारी को मौके पर पहुँच नुकसान का आकलन करने का निर्देश दिया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : स्थापना दिवस- नव चयनित शिक्षक ड्रेस कोड में...

more-story-image

रांची : स्थापना दिवस- राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू होंगी चीफ गेस्ट

X

अपना जिला चुने