बुढ़मू : पारिवारिक विवाद में जहर खाकर युवक की आत्महत्या

NewsCode Jharkhand | 3 October, 2017 5:13 PM
newscode-image

ठाकुरगांव/बुढ़मू (रांची)। 30  वर्षीय युवक सूरज कुमार ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली। वह ठाकुरगांव स्थित ससुराल में रहता था। साला से पैसे को लेकर विवाद हुआ था, जिसके बाद जहर खाकर उसने आत्महत्या कर ली। युवक को परिजन रिम्स ले गये, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

बोकारो : भीषण डकैती मामले का खुलासा, जेवरात के साथ दो अपराधी गिरफ्तार

NewsCode Jharkhand | 12 November, 2018 7:46 PM
newscode-image

बोकारो। बीते 26 सितंबर को चास थाना क्षेत्र में ठेकेदार रामसेवक के घर हुई दिनदहाड़े 25 लाख की डकैती मामले का खुलासा हो गया है। रविवार को गिरफ्तार विभाष पासवान और पिंकू पांडेय की स्वीकारोक्ति बयान पर इस कांड में शामिल लूटे गए जेवरात के साथ अन्य दो अपराधियों को गिरफ्तार किया गया है। इसकी जानकारी एसपी कार्तिक एस ने प्रेस वार्ता कर दी।

गिरफ्तार अपराधियों ने सेक्टर 12 में अधिवक्ता के घर और कॉपरेटिव कॉलोनी में चिकित्सक के घर डकैती का प्रयास करने के भी मामले में अपनी संलिप्तता स्वीकारी है।

एसपी ने बताया कि गिरफ्तार दोनों अपराधियों ने दोनों घर से लूटे गए मोबाइल फोन का आईईएमआई कोड बदलने के आरोप में दो दुकानदारों और एक ऑल्टो कार के मालिक को गिरफ्तार किया गया है।

कार्तिक एस ने बातया कि रविवार को गिरफ्तार किए गए अपराधियों के बयान पर ठेकेदार के घर रेकी करने वाले अख्तर हुसैन और एक अन्य साथी मोहम्मद जाहिद उर्फ मंटू को डकैती में लूटे गए तीन जोड़ी पायल और चार मोबाइल के साथ चास स्थित सिटी मॉल के पास से गिरफ्तार किया गया है।

पुलिस के अनुसार लूटे गए मोबाइल का आईईएमआई कोड को बदलने वाले दुकानदार सिद्धेश्वर माहतो और सैयद हुसैन अंसारी को भी लैपटॉप, मोबाइल समेत अन्य सामानों के साथ गिरफ्तार किया गया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : लोक आस्था का महापर्व छठ उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ संपन्न

NewsCode Jharkhand | 14 November, 2018 1:02 PM
newscode-image

रांची। लोक आस्था का चार दिवसीय महापर्व छठ उदीयमान सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के साथ राज्यभर में संपन्न हो गया। राजधानी रांची के स्वर्णरेखा, जुमार नदी के अलावा हटनिया तालाब, बड़ा तालाब सहित अन्य जलाशयों में श्रद्धालुओं ने बुधवार को सवेरे अर्घ्य अर्पित किया।

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जमशेदपुर के सिदगोड़ा स्थित सूर्य मंदिर जाकर अर्घ्य अर्पित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने झारखंड सहित देशवासियों की समृद्धि और खुशहाली की कामना की।

उधर हजारीबाग में ख्याति प्राप्त झील के साथ अन्य जलाशयों में छठ महापर्व को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ रही। इधर गुमला के छठ तालाब, बांध तालाब सहित अन्य जलाशयों में भगवान भाष्कर को अर्घ्य अर्पित करने के लिए छठव्रतियों की भीड़ उमड़ी। विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने कोयल नदी जाकर अर्घ्य अर्पित किया।

इस मौके पर दिनेश उरांव ने कहा कि कोयल नदी घाट पर अगले वर्ष तक सूर्य मंदिर निर्माण का कार्य पूरा हो जाएगा। इस बीच साहिबगंज जिले के गंगा तट पर उदीयमान सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के साथ ही छठ महापर्व संपन्न हो गया।

इससे पहले मंगलवार शाम को  राज्यभर में छठव्रतियों ने  अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया। प्रकृति पर्व छठ के अवसर पर व्रत करने वाले उपासक और श्रद्धालु नदी और तालाबों की किनारे आज दोपहर बाद पहुचे और विधि विधान से पूजा अर्चना की। इस पर्व के मद्देनजर व्यापक रूप से सफाई की गई थी और रास्तों में भी विद्युत सज्जा की गयी थी।

सुरक्षा के मद्देनजर पुलिसकर्मियों को तैनाती की गई थी और श्रद्धालुओं को आने-जाने में असुविधा न हो इसके लिए शहर में बड़े वाहनों के प्रवेश में रोक लगाई थी। इसके साथ ही इनके मार्ग में बदलाव किया गया था।

रांची में हटनिया तालाब, बड़ा तालाब, कांके डैम, धुर्वा डैम, स्वर्ण रेखा नदी तट के अलावे बड़ी संख्या में अन्य तालाबों के किनारे लोगों ने भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया। बुंडू स्थित सूर्य मंदिर तालाब में भी दूर-दूर से आये लोगों ने भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया। जमशेदपुर के सिदगोड़ा स्थित सूर्य मंदिर में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने छठव्रतियों ने भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया। यहां दो कृत्रिम तालाबों का निर्माण किया गया है।

मुख्यमंत्री ने छठ घाट से अस्ताचलगामी भास्कर को प्रणाम करते हुए झारखण्ड सहित समस्त देशवासियों की समृद्धि और खुशहाली के लिए प्रार्थना की। स्वच्छता, संयम, सादगी, नियम, नेम और निष्ठा के प्रति समर्पित सभी छठव्रतियों की श्रद्धा में अपनी गहरी आस्था प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि छठी मईया सबकी मनोकामना पूरी करें।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

रांची: कांठीटांड़-कांके-विकास तक रिंग रोड 10 साल बाद बन कर हुआ तैयार

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2018 1:45 PM
newscode-image

10 साल बाद छह लेन वाले रिंग रोड फेज-7 का काम पूरा

रांची । करीब 10 साल के इंतजार के बाद रांची रिंग रोड सेक्शन सेवन बन कर तैयार हो गया है। छह लेन वाली 23.575 किमी लंबी इस सड़क पर गाड़ियां भी दौड़ने लगी हैं। यह रिंग रोड रांची-डालटनगंज मुख्य मार्ग (एनएच 75) पर कांठीटांड़ से शुरू होकर कांके रोड होते हुए रांची-रामगढ़ मुख्य मार्ग (एनएच 33)  पर विकास (नेवड़ी) से मिलता है। यानी दो महत्वपूर्ण राष्ट्रीय उच्च पथ एनएच 75 व एनएच 33 को यह जोड़ रहा है।

इस सड़क के बन जाने से बड़ी संख्या में गाड़ियां रांची शहर रातू रोड-बरियातू रोड में प्रवेश नहीं करेंगी, बल्कि रिंग रोड के सहारे निकल जायेंगी। इसका औपचारिक उदघाटन जल्द होगा. इस सड़क का निर्माण आइएलएफएस व पथ निर्माण विभाग की ज्वायंट वेंचर कंपनी झारखंड त्वरित पथ विकास कंपनी लिमिटेड (जेएआरडीसीएल) ने कराया है।

रिंग रोड के सेक्शन थ्री, फोर, फाइव व सिक्स का निर्माण भी इसी कंपनी  के माध्यम से कराया गया है।  रिंग रोड सेक्शन -7 (एक नजर में)  सड़क की लंबाई 23.575 किमी कहां से कहां तक कांठीटांड़ से नेवड़ी सड़क की चौड़ाई  छह लेन (30.5 मीटर) निर्माण पर खर्च 452 करोड़ (लगभग) काम करानेवाली कंपनी आइएलएफएस बड़े पुलों की संख्या 3 छोटे पुलों की संख्या 6 फ्लाइओवर की संख्या 01 अंडर पास की संख्या 7 रेलवे ओवर ब्रिज 01 कलवर्ट की संख्या 53 बस पड़ाव की संख्या 16 इस रोड के बन जाने से खास कर बड़े वाहनों व लंबी दूरी वाली गाड़ियां शहर में नहीं घुसेंगी।

बड़ी गाड़ियां शहर में घुस कर लंबे समय तक जाम में फंसी रहती हैं और ईंधन भी अत्यधिक बर्बाद होता है। अब ऐसा नहीं होगा. शहर की मुख्य सड़कों  पर से थोड़ा ट्रैफिक कम होगा। रिंग रोड के माध्यम से 23.5 किमी की दूरी तय करने में अधिकतम 20 मिनट का ही समय लगेगा, जबकि शहर के अंदर घुस कर इतनी दूरी तय करने में एक घंटे का समय लग रहा था. वहीं बड़े वाहनों के साथ नो इंट्री की भी बाध्यता नहीं रहेगी. वे 24 घंटे चल सकेंगे।

रिंग रोड सेक्शन सेवन का शिलान्यास वर्ष 2008 में हुआ था। इसके बाद इसका निर्माण कार्य शुरू हुआ। जिस कंपनी को काम मिला था, उसने इसे पूरा नहीं कराया। काम आधा-अधूरा रह गया था। ऐसे में सरकार ने उसका एग्रीमेंट रद्द कर दिया था। इस दौरान लंबे समय तक काम बंद रहा। बाद में इसका काम जेएआरडीसीएल को दिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

बोकारो : सॉर्ट सर्किट से लगी आग, घर जलकर खाक

more-story-image

रांची : स्थापना दिवस- नव चयनित शिक्षक ड्रेस कोड में...

X

अपना जिला चुने