नारायणपुर : सरकार की उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचा रही बीजेपी

NewsCode Jharkhand | 22 May, 2018 1:05 PM
newscode-image

लोक संवाद यात्रा में पहुंचे कई गांव

नारायणपुर (जामताड़ा)। बीजेपी की लोक संवाद यात्रा दूसरे दिन प्रखंड के इरिकिया से प्रारंभ हुई और कनाडी, मलवा, पिटारी, चैनपुर, चंपापुर, तालबेड़िया आदि गांव में पहुंची।

तालबेड़िया में सामूहिक भोजन के बाद जंगलपुर, छाताबाद, सोनाबाद, चीतामी, दूधपनिया और करमोई में रात्रि विश्राम हुआ।

लोक संवाद यात्रा को संबोधित करते हुए तरुण गुप्ता ने कहा कि गांव-गांव केंद्र सरकार और राज्य सरकार की उपलब्धियों को जन-जन तक पहुंचाने का कार्य किया जा रहा है।

लोगों को बताया गया कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, सौभाग्य योजना के तहत सरकार गांव में बिजली, गैस और आवास देने का कार्य जोरों से कर रही है। सभी लोग इसका लाभ उठाएं।

टुंडी : पीएम के कार्यक्रम की तैयारी जोरों पर, बिना पास के सभास्थल में प्रवेश वर्जित

गांव में पेंशन, लाल कार्ड और राशन वितरण में गड़बड़ी की शिकायत लोगों ने की। यात्रा के दौरान इरकिया, कानाडीह, तालबेड़िया आदिवासी गांवों के लोगों की समस्याएं सुनी गई। निवारण का भरोसा दिया गया।

मौके पर रमेश ओझा, काली चरण दास, संजय मंडल, विनोद रजवार, तरुण मंडल, लालमोहन महतो, सुखदेव भंडारी, सुधीर मंडल, राम प्रसाद राय आदि उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

VIDEO: अमित शाह के रस्सी खींचते ही नीचे गिरा तिरंगा, कांग्रेस ने कसा तंज

NewsCode | 15 August, 2018 3:44 PM
newscode-image

नई दिल्ली। पूरा देश आज 72वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है आजादी के जश्न में डूबा हुआ है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुबह लालकिले पर तिरंगा फहराया और राष्ट्र को संबोधित किया। भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह ने भी पार्टी कार्यालय में तिरंगा फहराया, लेकिन इसी क्रम में कुछ ऐसा हुआ जो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। दरअसल, जब शाह तिरंगा फहराने के लिए रस्सी खींच रहे थे, तो उन्होंने उलटी रस्सी खींच दी जिससे तिरंगा नीचे गिर गया। कांग्रेस ने इसका एक वीडियो जारी कर उनपर निशाना साधा है।

भारत के साथ ये तीन देश भी आज मना रहे हैं आजादी का जश्न

कांग्रेस ने अमित शाह का वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा कि जो देश का झंडा नहीं संभाल सकते, वो देश क्या संभालेंगे? 50 साल से ज्यादा देश के तिरंगे का तिरस्कार करने वालों ने अगर ये नहीं किया होता तो शायद आज तिरंगे का ऐसा अपमान न होता। दूसरों को देशभक्ति का सर्टिफिकेट देने वालों को राष्ट्रगान का तौर-तरीका तक पता नहीं।

वहीं, आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने भी इस मामले में प्रतिक्रिया दी और अमित शाह पर तंज कसा। केजरीवाल ने ट्विटर पर लिखा, “प्रकृति का खेल भी अजब है। कोई कितना भी शक्तिशाली क्यों ना हो जाए, प्रकृति के सामने सब छोटे हैं। बताइए, तिरंगे ने अमित शाह के हाथों लहराने से मना कर दिया। इस तिरंगे के ज़रिए भारत माता कुछ कह रही है – कि वो दुःखी है।”

आपको बता दें कि स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर कई पार्टी के प्रमुख, नेता, केंद्रीय मंत्री अपने आवास, पार्टी कार्यालय पर तिरंगा फहराते हैं। गृहमंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने भी सुबह अपने आवास पर तिरंगा फहराया था।

71 साल पहले ऐसे मना था पहला स्‍वतंत्रता दिवस, देखें 15 अगस्‍त 1947 की दुर्लभ तस्‍वीरें

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी पार्टी मुख्यालय पर तिरंगा फहराया। इस दौरान उन्होंने सफेद टोपी, कुर्ता पायजामा पहना हुआ था। इस दौरान यूपीए की चेयरपर्सन सोनिया गांधी समेत अन्य पार्टी नेता मौजूद रहे।

72वें स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम सन्देश

AAP से आशुतोष ने दिया इस्तीफा, केजरीवाल ने किया इंकार, कहा- ‘ना, इस जनम में तो नहीं’

स्वतंत्रता दिवस : राष्ट्र के नाम संदेश में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गांधी जी को किया याद

शहीद जवान अौरंगजेब और मेजर आदित्य समेत इन जांबाजों को वीरता पुरस्कार

मुख्य चुनाव आयुक्त का बयान- ‘एक देश एक चुनाव’ संभव नहीं, इन चुनौतियों का दिया हवाला

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 4:17 PM
newscode-image

बोकारो। झारखंड सरकार के मंत्री अमर बाउरी ने स्‍वाधीनता दिवस के मौके पर बोकारो में तिरंगा फहराया लेकिन उन्‍होंने इस दौरान पैरों में चप्‍पलें पहन रखी थी। मान्‍य परंपरा के अनुसार जूते और चप्‍पलें पहन कर तिरंगा फहराना मर्यादा के प्रतिकूल है और राष्‍ट्र ध्‍वज का अपमान है। राज्‍य सरकार के मंत्रियों से कम से कम, राष्‍ट्र ध्‍वज के सम्‍मान में इस प्रकार की लापरवाही की उम्‍मीद नहीं की जा सकती।

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

वहीं दूसरी ओर स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गिरिडीह जिले के बीजेपी सांसद रविन्द्र कुमार पांडेय ने भी बोकारो में चप्पल पहनकर ही राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

तिरंगे के सम्‍मान की अनदेखी की रही-सही कमी बोकारो में कांग्रेस पार्टी के नेता डॉ पी नैय्यर ने पूरी कर दी। बीजेपी के मंत्री और सांसद ने तो चप्‍पलें पहन कर तिरंगा फहराया था लेकिन कांग्रेस के नेता डॉ पी नैय्यर ने जूते पहनकर ही तिरंगा फहराया।

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

मतलब साफ है कि तिरंगे का अपमान करने में कोई किसी से कम नहीं रहा। इन माननीयों को उस मिट्टी पर भी, थोड़ी दूर नंगे पैर चलने में कष्‍ट का अनुभव होता है जिस मिट्टी को अमर शहीदों ने अपने खून से सींचा है। जो तिरंगे को फहराने से पहले अपने पैरों से जूते-चप्‍पल नहीं उतार सकते, उनसे ये उम्‍मीद करना बेकार है कि कभी वे इस मिट्टी को अपने माथे से लगाएंगे। कहने को तो ये सभी माननीय जन प्रतिनिधि हैं लेकिन इनके कृत्‍यों से जनता क्‍या सीख लेगी ये विचारणीय है। शायद इन्‍हें ये पता नहीं है कि चाहे राष्‍ट्र ध्‍वज हो या धर्म ध्‍वज, इन्‍हें नंगे पैर फहराया जाता है। ध्‍वज के प्रति सम्‍मान प्रकट करने की ये परंपरा है।

देवघर : आयुषी ने बहायी देश-प्रेम की गंगा, संस्‍कृत में गाया “ऐ मेरे वतन के लोगों”   

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

सरायकेला : ड्यूटी से लौट रहे दो रेलकर्मी सगे भाई की करंट लगने से दर्दनाक मौत

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 4:05 PM
newscode-image

सरायकेला। सरायकेला थाना के सीनी ओपी अंतर्गत आज  ड्यूटी खत्म कर घर लौट रहे मोटरसाईकिल सवार रेलवे के दो चतुर्थवर्गीय कर्मचारियों की बिजली की नंगी तार की चपेट में आने से मौत हो गयी। मृतक 40 वर्षीय भोला महतो तथा 28 वर्षीय ईश्वर महतो दोनों ही सगे  भाई थे तथा रेलवे में चतुर्थवर्गीय कर्मचारी थे।

ड्यूटी खत्म कर लौट रहे थे

बताया जा रहा है, कि आज सुबह दोनों भाई अपनी ड्यूटी खत्म कर मोटरसाईकिल से अपने घर उलीडीह लौट रहे थे, तभी सिंदरी गांव के पास नंगी लटकी बिजली के तार के चपेट में वे दोनों आ गये। जिससे करंट लगने से दोनों की मौत हो गयी।

वहीं तत्काल दोनों  को स्थानीय लोग और पुलिस की मदद से सदर अस्पताल लाया गया। जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

उधर इस घटना की सूचना पाकर मृतक के परिजनों के अलावा रेलवे के अधिकारी व कर्मचारी तथा खरसांवा विधायक दशरथ गागराई सदर अस्पताल पहुंचे और घटना की जानकारी ली। इधर रेलवे अधिकारियों ने भरोसा दिलाया  है कि रेलवे के प्रावधानों के अनुरुप मृतक के परिजनों को सभी लाभ दिये जायेंगे।

जमशेदपुर : बेटे को छुड़ाने पहुंंची मां, सोनारी थाना में किया हंगामा

पांच हजार की तत्काल आर्थिक सहायता मिली

वहीं मृत कर्मचारियों के दाह संस्कार व अन्य कार्य के लिए रेलवे वेलफेयर एसोसिएशन ने बीस हजार रुपये तथा इंडियन रेलवे सिग्नल व टेलिकॉम विभाग की ओर से पांच हजार की तत्काल आर्थिक सहायता दी गयी है।  उधर बिजली की नंगी तार सड़क किनारे झूलने तथा इस घटना के होने से लोगों में बिजली विभाग के खिलाफ गहरा आक्रोश देखा जा रहा है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

कैमरे में कैद हुआ टाटा 45एक्स का केबिन

more-story-image

बोकारो : स्वंतत्रता दिवस पर मंत्री अमर बाउरी ने किया...