कोडरमा : मंडल कारा में लगा जेल अदालत, मामलों पर हुई सुनवाई

NewsCode Jharkhand | 19 February, 2018 11:53 AM
newscode-image

कोडरमा। झारखण्ड राज्य विधिक सेवा प्राधिकार रांची के निर्देश के आलोक में जिला विधिक सेवा प्राधिकार कोडरमा के तत्वावधान में रविवार को मंडल कारा कोडरमा में जेल अदालत का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जिला विधिक सेवा प्राधिकार कोडरमा के सचिव सूर्य मणि त्रिपाठी एवं राजीव कुमार सिंह न्यायिक दण्डाधिकारी प्रथम श्रेणी उपस्थित हुए।

कोडरमा : लोक अदालत न्‍याय पाने का सुलभ और सस्‍ता साधन – प्रदीप कुमार श्रीवास्तव  

मौके पर पैनल अधिवक्ता शिवनंदन शर्मा, संतोष कुमार सिंह एवं जेल कर्मी राजेश प्रसाद, राजीव रंजन एवं पीएलवी तंजीर आलम सहित अन्य कई लोग मौजूद थे। हलांकि जेल अदालत में किसी भी बंदी द्वारा दोष स्वीकार नहीं करने के कारण किसी भी मामले का निष्पादन नहीं किया जा सका।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : कोर्ट ने की पारा शिक्षकों की जमानत याचिका खारिज

NewsCode Jharkhand | 22 November, 2018 7:45 PM
newscode-image

रांची। झारखंड स्थापना दिवस पर रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित मुख्य राजकीय समारोह में हंगामा करने वाले 37 पारा शिक्षकों की जमानत याचिका को गुरुवार को निचली अदालत ने खारिज कर दी।

रांची के न्यायिक दंडाधिकारी कुमार विपुल की अदालत ने 33 महिला पारा शिक्षिकाओं समेत 37 पारा शिक्षकों की ओर से दाखिल जमानत पर सुनवाई के बाद उनकी अर्जी को नामंजूर कर दिया।

राजकीय समारोह में हंगामा करने के दौरान 275 पारा शिक्षकों को गिरफ्तार करने के बाद दूसरे दिन जेल भेज दिया गया था।पुलिस ने हंगामा कर रहे  275 पारा शिक्षकों  के खिलाफ धारा 144 (नाजायज मजमा लगाना), 323 (मारपीट करना), 341 (कानून हाथ में लेना), 337, 338 (संपत्ति को क्षति पहुंचाना), 307 (हत्या की कोशिश करना) और 353 (सरकारी काम में बाधा पहुंचाना) का आरोप लगाया गया है।

इस संबंध में मौके पर मौजूद दंडाधिकारी की ओर से स्थानीय लालपुर थाना में 15 नवंबर को कांड संख्या 432/18 के तहत मामला दर्ज किया गया है।

गौरतलब है कि सेवा स्थायीकरण समेत अन्य मांगों को लेकर राज्यभर के विभिन्न जिलों से आये हजारों पारा शिक्षकों ने राज्य स्थापना दिवस पर रांची में आयोजित मुख्य समारोह के दौरान मुख्यमंत्री को काले झंडे दिखाने की कोशिश की थी।

इसके बाद पुलिस द्वारा लाठीचार्ज किया गया और समारोह स्थल से पारा शिक्षकों को दूर खदेड़ कर दिया गया, लेकिन बार-बार पारा शिक्षकों के प्रदर्शन के कारण रांची समेत विभिन्न जिलों से आये 275पारा शिक्षकों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था।

इसके बाद से पूरे राज्यभर में पारा शिक्षक आंदोलनरत है और वे अपने परिवार के साथ संबंधित थाना क्षेत्रों में गिरफ्तारी भी दे रहे है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने किया कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का शुभारंभ

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:38 PM
newscode-image

रांची। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने आज मोरहाबादी स्थित पार्क प्लाजा के दूसरे तल्ले में कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने आशा जतायी कि यह सर्विसेज आम जनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

कंफर्ट लाइव सर्विसेज में फ्लैट खरीद- बिक्री, स्वास्थ्य बीमा, अवधि बीमा, म्युचुअल फंड, एसआईपी एवं वाहनों की बीमा आदि की सुविधा लोगों को प्राप्त हो सकेगी।

शुभारंभ के मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, चंद्रशेखर महतो, संचालक राजेश कुमार, रंजना चौधरी, गीता महतो, कल्पना मुखिया, संतोष  मुखिया, अमित साव एवं अजय श्रीवास्तव सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

भोगनाडीह : झामुमो ने संथाल को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:36 PM
newscode-image

भोगनाडीह  में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल हुए

भोगनाडीह। राज्य को संथाल परगना ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा से तीन तीन मुख्यमंत्री दिये,  लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री बनाया वो गरीब आदिवासी, वंचित दलित की अनदेखी कर अर्थपेटी और मतपेटी भरने का कार्य किया।

साथ ही संथाल परगना को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया। सबसे ज्यादा आदिवासियों की जमीन लूटने का काम सोरेन परिवार ने किया है। आज सीएनटी-एस पीटी एक्ट के उल्लंघन कर विभिन्न शहरों में आदिवासियों की जमीन ले ली।

जबकि संथाल परगना समेत राज्य भर में यह कह कर गुमराह किया गया कि अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी तो आदिवासी की जमीन लूट लेगी। क्या 4 साल सरकार द्वारा किसी आदिवासी की जमीन लूटी गई नहीं। उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

बरहेट का प्रतिनिधित्व करने वाला कभी विधानसभा में सवाल नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरहेट का विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले ने कभी भी विधानसभा में क्षेत्र की समस्याओं को लेकर प्रश्न नहीं रखा, क्योंकि उसे पता ही नहीं है कि क्षेत्र की समस्या क्या है ऐसे में विकास के कार्य कैसे सम्पन्न होंगे।

लोगों को यह सोचना चाहिए और स्थानीय उम्मीदवार को प्राथमिकता देनी चाहिए। चाहे वोकिसी पार्टी का हो।

कार्यकर्ता पार्टी का प्राण, पार्टी के लिए राष्ट्र पहले

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के प्राण हैं। यह एक ऐसी पार्टी है जहां वंशवाद और परिवार नहीं। एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और मजदूर मुख्यमंत्री बन सकता है। मैं भी बूथ स्तर का कार्यकर्ता था।

पार्टी के लिए समर्पण भाव से कार्य करते हुए 1995 में विधायक बना और अब मुख्यमंत्री हूं। आप भी ईमानदारी से कार्य करें। सरकार की योजनाओं को जन जन पहुंचाये। पार्टी के वविभिन्न मोर्चा के लोग इस कार्य में लगे। क्योंकि पार्टी के लिए राष्ट्र पहले है।

इस राष्ट्र को और मजबूत करने के लिए वैश्विक पटल पर अपनी पहचान बना चुके प्रधानमंत्री  के हाथों को मजबूत करें। इस अवसर पर अनंत ओझा,  धर्मपाल सिंह, हेमलाल मुर्मू समेत अन्य मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : अखिल झारखंड छात्र संघ ने चुनाव को लेकर...

more-story-image

धनबाद : बीजेपी सरकार बनने के बाद कृषि विकास दर...

X

अपना जिला चुने