जामताड़ा:  जिले के अप्रशिक्षित शिक्षकों को दिया जाएगा प्रशिक्षण, तैयारियां शुरू

NewsCode Jharkhand | 29 December, 2017 8:28 PM
newscode-image

जामताड़ा। जिले के सरकारी, सरकारी सहायता प्राप्त व निजी विद्यालयों में कार्यरत 928 अप्रशिक्षित शिक्षक-शिक्षिकाओं को ट्रेनिंग दी जायेगी। शिक्षा विभाग डिप्लोमा एंड एलीमेंट्री एजुकेशन का प्रशिक्षण देकर इन्हें ट्रेंड करेगा।  चयन प्रक्रिया पूर्ण कर ली गयी है। राज्य मुख्यालय से स्वीकृति प्राप्त होते ही प्रशिक्षण सत्र आरंभ होगा। शिक्षा विभाग ने शत-प्रतिशत शिक्षक-शिक्षिकाओं को प्रशिक्षित करने का फैसला लिया है। इस निमित प्रशिक्षण केद्र व परीक्षा केंद्र पर तैयारी शुरू कर दी गई है।

ये भी पढ़े- रांची : प्राइवेट स्कूलों की मनमानी के खिलाफ एकजुट हुये देशभर के अभिभावक संघ

दस प्रशिक्षण केंद्रों की चयन प्रक्रिया पूर्ण

अप्रशिक्षित शिक्षक-शिक्षिकाओं को प्रशिक्षण देने के लिए जिले के विभिन्न छह प्रखंडों में दस प्रशिक्षण केंद्र का चयन किया गया। प्रत्येक प्रशिक्षण केंद्रों में चार रिसोर्स पर्सन, एक मेंटल, एक पर्यवेक्षक, एक समन्वयक का चयन किया गया है। समन्वयक ही कार्यशाला संचालक की भूमिका में कार्य करेगें।

अवकाश अवधि में चलेगा प्रशिक्षण सत्र

विद्यालय में पठन-पाठन कार्य बाधित नही हो इसको देखते हुए अवकाश अवधि में प्रशिक्षण सत्र संचालित किया जाएगा। अवकाश अवधि में शिक्षक-शिक्षिका प्रशिक्षण प्राप्त करेंगे। जिले के छह प्रखंड में अब तक 928 अप्रशिक्षित शिक्षक-शिक्षिकाओं का पंजीकरण प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए हो चुका है। अप्रशिक्षित शिक्षकों की सूची राज्य मुख्यालय ने जारी कर दिया है।

दस केंद्रों का प्रस्ताव तैयार

प्रखंड संसाधन केंद्र जामताड़ा, नारायणपुर, करमाटांड, नाला, फतेहपुर, कुंडहित एवं डीएन एकेडमी जामताड़ा, आदर्श मध्य विद्यालय जामताड़ा, सावित्रीदेवी डीएवी पब्लिक स्कूल जामताड़ा, शिक्षक प्रशिक्षण संस्थान पबिया में ट्रेनिंग सेंटर बनाये गये हैं।

न्यूज़कोड के मोबाइल ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.

रांची : पारा शिक्षकों के लिये बड़ी खुशखबरी, मानदेय में होगी वृद्धि

NewsCode Jharkhand | 9 November, 2018 12:41 PM
newscode-image

40करोड़ रुपये का होगा अतिरिक्त भार

रांची। पारा शिक्षकों की मांगों पर विचार करनेवाली कमिटी की अनुसंशा पर सरकार ने उनका मानदेय बढ़ाने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। प्रोजेक्ट भवन में पारा शिक्षकों के प्रतिनिधिमंडल से वार्ता में यह जानकारी मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी ने दी।

उन्होंने कहा कि इससे सरकार पर 40 करोड़ रुपये का अतिरिक्त वित्तीय भार बढ़ेगा और 56 हजार 170 पारा शिक्षक इससे लाभान्वित होंगे। साथ ही पारा शिक्षकों के लिए कल्याण कोष का गठन एवं टेट पास प्रमाण पत्र की अवधि विस्तार 5 वर्ष से 7 वर्ष किया जाएगा।

मुख्य सचिव ने प्रतिनिधमंडल से अपील की है कि इस अनुशंसा की प्रक्रिया को लागू करने में वे सहयोग करें, ताकि यह काम निर्विघ्न हो सके।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची: कांठीटांड़-कांके-विकास तक रिंग रोड 10 साल बाद बन कर हुआ तैयार

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2018 1:45 PM
newscode-image

10 साल बाद छह लेन वाले रिंग रोड फेज-7 का काम पूरा

रांची । करीब 10 साल के इंतजार के बाद रांची रिंग रोड सेक्शन सेवन बन कर तैयार हो गया है। छह लेन वाली 23.575 किमी लंबी इस सड़क पर गाड़ियां भी दौड़ने लगी हैं। यह रिंग रोड रांची-डालटनगंज मुख्य मार्ग (एनएच 75) पर कांठीटांड़ से शुरू होकर कांके रोड होते हुए रांची-रामगढ़ मुख्य मार्ग (एनएच 33)  पर विकास (नेवड़ी) से मिलता है। यानी दो महत्वपूर्ण राष्ट्रीय उच्च पथ एनएच 75 व एनएच 33 को यह जोड़ रहा है।

इस सड़क के बन जाने से बड़ी संख्या में गाड़ियां रांची शहर रातू रोड-बरियातू रोड में प्रवेश नहीं करेंगी, बल्कि रिंग रोड के सहारे निकल जायेंगी। इसका औपचारिक उदघाटन जल्द होगा. इस सड़क का निर्माण आइएलएफएस व पथ निर्माण विभाग की ज्वायंट वेंचर कंपनी झारखंड त्वरित पथ विकास कंपनी लिमिटेड (जेएआरडीसीएल) ने कराया है।

रिंग रोड के सेक्शन थ्री, फोर, फाइव व सिक्स का निर्माण भी इसी कंपनी  के माध्यम से कराया गया है।  रिंग रोड सेक्शन -7 (एक नजर में)  सड़क की लंबाई 23.575 किमी कहां से कहां तक कांठीटांड़ से नेवड़ी सड़क की चौड़ाई  छह लेन (30.5 मीटर) निर्माण पर खर्च 452 करोड़ (लगभग) काम करानेवाली कंपनी आइएलएफएस बड़े पुलों की संख्या 3 छोटे पुलों की संख्या 6 फ्लाइओवर की संख्या 01 अंडर पास की संख्या 7 रेलवे ओवर ब्रिज 01 कलवर्ट की संख्या 53 बस पड़ाव की संख्या 16 इस रोड के बन जाने से खास कर बड़े वाहनों व लंबी दूरी वाली गाड़ियां शहर में नहीं घुसेंगी।

बड़ी गाड़ियां शहर में घुस कर लंबे समय तक जाम में फंसी रहती हैं और ईंधन भी अत्यधिक बर्बाद होता है। अब ऐसा नहीं होगा. शहर की मुख्य सड़कों  पर से थोड़ा ट्रैफिक कम होगा। रिंग रोड के माध्यम से 23.5 किमी की दूरी तय करने में अधिकतम 20 मिनट का ही समय लगेगा, जबकि शहर के अंदर घुस कर इतनी दूरी तय करने में एक घंटे का समय लग रहा था. वहीं बड़े वाहनों के साथ नो इंट्री की भी बाध्यता नहीं रहेगी. वे 24 घंटे चल सकेंगे।

रिंग रोड सेक्शन सेवन का शिलान्यास वर्ष 2008 में हुआ था। इसके बाद इसका निर्माण कार्य शुरू हुआ। जिस कंपनी को काम मिला था, उसने इसे पूरा नहीं कराया। काम आधा-अधूरा रह गया था। ऐसे में सरकार ने उसका एग्रीमेंट रद्द कर दिया था। इस दौरान लंबे समय तक काम बंद रहा। बाद में इसका काम जेएआरडीसीएल को दिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

बोकारो : सॉर्ट सर्किट से लगी आग, घर जलकर खाक

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2018 1:34 PM
newscode-image

बोकारो। बिजली के तार में हुए सॉर्ट सर्किट से आग लग गई इस आग की घटना में पूरा घर जलकर खाक हो गया। इस आग लगी से एक लाख से अधिक के नुकसान का अनुमान है। घटना के बाद ग्रामीणों के द्वार आग पर काबू पाने का प्रयास किया गया लेकिन स्थानीय जिला परिषद के प्रतिनिधि की सूचना पर पहुँची  दमकल की गाड़ी ने आग पर काबू पाया।

आज सुबह चास प्रखण्ड के सोनाबाद पंचायत स्थित गांव आमडीहा टोला बंधुडीह के फूलचंद माहतो के कच्चे मकान में सौभाग्य योजना के तहत बिजली का कनेक्सन तार में अचानक के सर्ट सर्किट में आग लग गई।

इस आगलगी की घटना के बाद घर में रखे पुआल में आग लग गई। इसके बाद आग की तेज लपटों ने पूरे घर को पूरी तरह से जलाकर खाक कर दिया। इस घटना के बाद ग्रामीणों ने आग पर काबू करने का प्रयास किया।स्थानीय लोगों की सूचना पर जिला परिषद संजय कुमार के प्रतिनिधि नरेश माहतो ने दमकल विभाग को इसकी जानकारी दी।

मौके पर पहुँची दमकल की एक गाड़ी ने आग पर काबू पाया। इस आग की घटना में घर में  रखा पुआल, कपड़े, अनाज, नकदी समेत अन्य कागजात जल कर खाक हो गया। मौके पर पहुँची पिंडराजोड़ा थाना पुलिस ने घटना स्थल का जायजा लिया।

जिला परिषद संजय कुमार ने इस घटना की जानकारी चास अंचलाधिकारी वन्दन सेजवालकर को दी और पीड़ित को अर्थित सहायता देने की बात कही।सीओ ने कर्मचारी को मौके पर पहुँच नुकसान का आकलन करने का निर्देश दिया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : स्थापना दिवस- नव चयनित शिक्षक ड्रेस कोड में...

more-story-image

रांची : स्थापना दिवस- राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू होंगी चीफ गेस्ट

X

अपना जिला चुने