जमशेदपुर : जयराम यूथ स्पोर्टिंग क्लब के पंडाल में दिखेगी अफ्रीकन जनजातीय संस्कृृ‍ति की झलक

NewsCode Jharkhand | 10 October, 2018 6:32 PM
newscode-image

जमशेदपुर । मिनी भारत के नाम से जाना जाने वाला लौहनगरी जमशेदपुर में दुर्गोत्सव मनाने को लेकर तैयारियां अंतिम चरण पर है। पश्चिम बंगाल से सटेे होने की वजह से यहां बड़े पैमाने पर दुर्गा पूजा का आयोजन होता रहा है।

इस बार भी शहर में 400 से अधिक छोटे-बड़े पूजा पंडालों में शक्ति की आराध्य देवी माँ दुर्गा की आराधना को लेकर पूजा कमिटियां और कारीगर जी- जान से लगे हुए हैंं।

जमशेदपुर : घोटालेबाज मुखियाओं ने कराई जिले की किरकिरी

इन्ही में से एक जयराम स्पोर्टिंग क्लब द्वारा आयोजित सार्वजनिक दुर्गा पूजा पंडाल है, जहां श्रद्धालुओं की सर्वाधिक भीड़ माँ के दर्शन और पूजा पंडाल की मनोरम छटा का आनंद उठाने आते हैंं।
जमशेदपुर केे उपनगर से पहचान बना चुका आदित्यपुर का जयराम यूथ स्पोर्टिंग क्लब द्वारा बनायेे गयेे थे।

पंडाल को अंतिम रूप देने में रात-दिन जुटे हुए हैं कारीगर

दुर्गा पूजा पंडाल प्रत्येक वर्ष विविधताओं और समसामयिक विषयों पर आधारित होता है। इस वर्ष भी कुछ ऐसा ही पंडाल का निर्माण किया जा रहा है, जिसे अंतिम रूप देने में बंगाल के दक्ष कारीगर रात-दिन एक किये हुए हैंं।

बनाए जा रहे पंडाल को देखकर ऐसा आभास हो रहा है मानो अफ्रीका के जनजातीय कबीलाई इलाके केे खंडहरनुमा इमारतों को घने जंगल झाड़ियों के बीच हूू-ब-हूू उतार दिया गया हो।

दो- तीन माह पूर्व ही यहां उगा दी गई हैंं झाड़ियां 

त्रिपुरा से लाये गए बाँस का इस्तेमाल पंडाल निर्माण में किया जा रहा है। दो- तीन माह पूर्व से ही यहां झाड़ियां उगाई गई हैंं, ताकि समूचा क्षेत्र वनों से आच्छादित होने का अहसास दिलाये।

तेरह हजार दो सौ वर्ग फीट के क्षेत्रफल में बन रहे आदिवासी-जनजातीय सभ्यता और संस्कृति पर आधारित यहां का पूजा पंडाल को पश्चिम बंगाल के मैचेदा से आये 80 कारीगरों द्वारा गत तीन महीनों से बनाया जा रहा है।

मुख्य पंडाल के ऊपरी भाग में तीन विशालकाय कबीलों के मुखौटेे लगायेे गयेे हैंं, तो पंडाल के चारों ओर आदिवासी सभ्यता को परिलक्षित करतेे कॉटेज बनाये गए हैंं। तीन माह पूर्व यहां झाड़ियां उगाई गई थींं जो अब बड़ी होकर घने जंगल मेंं परिवर्तित हो चुकी हैंं।

पंडाल के भीतरी भाग को बाँस, बेंत और उससे बनी फूल और कलाकृतियों को कारीगरों ने खूबसूरती से सजाया-संवारा है।

 जनजातीय सभ्यता -संस्कृति  की  दिखेगी झलक

झाड़ियों के बीच से होकर पंडाल के भीतर स्थापित मां दुर्गा के दर्शन के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं को इस बार घने वनों व जनजातीय सभ्यता -संस्कृति  का अहसास दिलायेगा।

पंडाल के भीतरी भाग में इस बार यहां माँ दुर्गा की दो प्रतिमाएं स्थापित होंगी, जिसमें छोटी प्रतिमा की पूजा होगी, तो बड़ी प्रतिमा ट्राइबल कल्‍चर के परिवेश में रंगी होगी, जो श्रद्धालुओं के लिए विशेष आकर्षण का केन्द्र होगा।

पूरे पंडाल में आदिवासी जनजातीय सभ्यता -संस्कृति की अनूठी कला देखने को मिलेगी। वहींं पंडाल और आस -पास के बड़े क्षेत्र को पुआल, थर्मोकोल, विभिन्न फल-फूल और रंगों से सजीवता लायी जा रही है, ताकि समूचा क्षेत्र वन और खंडहरों जैसा लगे।

उमड़ पड़ते हैैं श्रद्धालु

कोल्हान ही नहींं, बल्कि सूबे केे पूजा पंडालों में सबसे चर्चित आदित्यपुर के जयराम स्पोर्टिंग क्लब का दुर्गा पूजा पंडाल को देखने की इच्छा सभी श्रद्धालु का सपना होता है। पूजा के दौरान यहां पूरे नवरात्र में प्रतिदिन लाखों की संख्या में श्रद्धालु दर्शन को आते हैं।

ऐसे में विधि-व्यवस्था और श्रद्धालुओं के सहयोग करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल के अलावा पूजा कमिटी के 200 से अधिक सदस्य 24×7 तैनात रहते हैंं।

पंडाल की सजावट से अच्‍छा संदेश देना हमारा प्रयास -अरविंद सिंह

पूजा कमिटी के अध्यक्ष पूर्व विधायक अरविंद सिंह बताते हैंं कि हर बार उनकी सोच होती है कि यहां आने वाले श्रद्धालुओं को माँ के दर्शन के अलावा पंडाल की सजावट से उन्नत जनजीवन को लेकर एक संदेश जाए।

इस बार वनों की रक्षा, जनजातीय समुदाय केे रहन-सहन और पर्यावरण संरक्षण को जेहन में रखा कर पूजा और पंडाल की तैयारियां की गई है, उम्मीद है कि श्रद्धालुओं को बहुत पसंद आएगा।

बहरहाल, शक्ति की आराध्य देवी माँ दुर्गा के ऐसे तो असंख्य रूप हैंं और उन्हीं रूपों में से एक जनजातीय स्वरूपरूप में माँ के दर्शन यदि करना हो तो इस बार दुर्गोत्सव के पावन अवसर पर जमशेदपुर से बिल्कुल सटे आदित्यपुर के जयराम स्पोर्टिंग क्लब द्वारा आयोजित ट्राइबल पंडाल में माँ दुर्गा के जनजातीय स्वरूप के दर्शन को जरूर आयें, और भक्ति भाव के सागर में गोते लगाने के बाद पर्यावरण संरक्षण का संदेश ले कर जाएं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)जनजातीय

रांची : मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना पर विशेष तीर्थयात्री रेलगाड़ी से जाएंगे अजमेर

NewsCode Jharkhand | 14 November, 2018 2:28 PM
newscode-image

रांची। मुख्यमंत्री तीर्थ दर्शन योजना के तहत बीस नवंबर को हटिया रेलवे स्टेशन से दक्षिणी छोटानागपुर प्रमंडल के दो सौ बीस चयनित तीर्थयात्री विशेष रेलगाड़ी से अजमेर शरीफ की यात्रा पर जाएंगे।

मुख्यमंत्री तीर्थ योजना के तहत रांची, खूंटी, लोहरदगा, सिमडेगा और गुमला जिले के मुस्लिम धर्मावलंबी तीर्थ यात्रा पर जा रहे हैं। इस संबंध में झारखंड पर्यटन विकास निगम लिमिटेड के प्रबंध निदेशक द्वारा भेजे गये पत्र के आलोक में रांची जिले के उपायुक्त ने सभी जिले के प्रखंड विकास पदाधिकारियों को सुयोग्य, बीपीएल कार्डधारी वरिष्ठ मुस्लिम नागरिकों को चिन्हित कर उनका आवेदन भेजने का आदेश दिया है।

सरकार की महत्वकांक्षी मुख्यमंत्री तीर्थयोजना के तहत रांची जिले के 60, खुटी जिले के 40, लोहरदगा जिले  के 40, सिमडेगा जिले के 40 एवम् गुमला जिले के 40  मुस्लिम धर्मावलंबी तीर्थ दर्शन के लिए अजमेर शरीफ जाएगें।

उपरोक्त विषय को लेकर झारखण्ड टुरिजम डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिडेट राँची के प्रबंध निदेशक द्वारा भेजे गए पत्र के आलोक में उपायुक्त रांची ने सभी प्रखण्ड विकास पदाधिकारीयों को निर्देश जारी किया है। जिसमे  सुयोग्य बीपीएल धारी वरिष्ठ मुस्लिम नागरिकों को चयनित कर विहित प्रपत्र में आवेदन समर्पित करने को कहा है।

निर्देश में ये भी कहा गया है  कि विहित प्रपत्र में आवेदन के साथ भेजे जाने वाले नागरिकों का चिकित्सा  प्रमाण पत्र भी संलग्न करना जरूरी है। विदित हो  कि सूची  के आधार पर चयनित रांची जिले के 60  वरिष्ठ मुस्लिम धर्मावलंबी  नागरिकों को 20 नवम्बर 2018 को हटिया स्टेशन से तीर्थ दर्शन के लिए रवाना किया जाएगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने किया कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का शुभारंभ

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:38 PM
newscode-image

रांची। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने आज मोरहाबादी स्थित पार्क प्लाजा के दूसरे तल्ले में कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने आशा जतायी कि यह सर्विसेज आम जनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

कंफर्ट लाइव सर्विसेज में फ्लैट खरीद- बिक्री, स्वास्थ्य बीमा, अवधि बीमा, म्युचुअल फंड, एसआईपी एवं वाहनों की बीमा आदि की सुविधा लोगों को प्राप्त हो सकेगी।

शुभारंभ के मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, चंद्रशेखर महतो, संचालक राजेश कुमार, रंजना चौधरी, गीता महतो, कल्पना मुखिया, संतोष  मुखिया, अमित साव एवं अजय श्रीवास्तव सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

भोगनाडीह : झामुमो ने संथाल को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:36 PM
newscode-image

भोगनाडीह  में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल हुए

भोगनाडीह। राज्य को संथाल परगना ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा से तीन तीन मुख्यमंत्री दिये,  लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री बनाया वो गरीब आदिवासी, वंचित दलित की अनदेखी कर अर्थपेटी और मतपेटी भरने का कार्य किया।

साथ ही संथाल परगना को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया। सबसे ज्यादा आदिवासियों की जमीन लूटने का काम सोरेन परिवार ने किया है। आज सीएनटी-एस पीटी एक्ट के उल्लंघन कर विभिन्न शहरों में आदिवासियों की जमीन ले ली।

जबकि संथाल परगना समेत राज्य भर में यह कह कर गुमराह किया गया कि अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी तो आदिवासी की जमीन लूट लेगी। क्या 4 साल सरकार द्वारा किसी आदिवासी की जमीन लूटी गई नहीं। उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

बरहेट का प्रतिनिधित्व करने वाला कभी विधानसभा में सवाल नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरहेट का विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले ने कभी भी विधानसभा में क्षेत्र की समस्याओं को लेकर प्रश्न नहीं रखा, क्योंकि उसे पता ही नहीं है कि क्षेत्र की समस्या क्या है ऐसे में विकास के कार्य कैसे सम्पन्न होंगे।

लोगों को यह सोचना चाहिए और स्थानीय उम्मीदवार को प्राथमिकता देनी चाहिए। चाहे वोकिसी पार्टी का हो।

कार्यकर्ता पार्टी का प्राण, पार्टी के लिए राष्ट्र पहले

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के प्राण हैं। यह एक ऐसी पार्टी है जहां वंशवाद और परिवार नहीं। एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और मजदूर मुख्यमंत्री बन सकता है। मैं भी बूथ स्तर का कार्यकर्ता था।

पार्टी के लिए समर्पण भाव से कार्य करते हुए 1995 में विधायक बना और अब मुख्यमंत्री हूं। आप भी ईमानदारी से कार्य करें। सरकार की योजनाओं को जन जन पहुंचाये। पार्टी के वविभिन्न मोर्चा के लोग इस कार्य में लगे। क्योंकि पार्टी के लिए राष्ट्र पहले है।

इस राष्ट्र को और मजबूत करने के लिए वैश्विक पटल पर अपनी पहचान बना चुके प्रधानमंत्री  के हाथों को मजबूत करें। इस अवसर पर अनंत ओझा,  धर्मपाल सिंह, हेमलाल मुर्मू समेत अन्य मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : अखिल झारखंड छात्र संघ ने चुनाव को लेकर...

more-story-image

धनबाद : बीजेपी सरकार बनने के बाद कृषि विकास दर...

X

अपना जिला चुने