हजारीबाग : दलाल के घर में ही चल रहा था डीटीओ ऑफिस, कागजात बरामद

Rohit Verma | 10 August, 2018 4:38 PM
newscode-image

हजारीबाग। शहर के लोहसिंघना थाना क्षेत्र में एसडीओ आदित्य रंजन ने, डीटीओ ऑफिस के दलाल राजू के घर पर छापा मारा। राजू के घर से भारी मात्रा में डीटीओ ऑफिस के कागजात और ड्राइविंग लाइसेंस और सीडीआर बरामद किए गए हैं। आपको बता दें कि हजारीबाग का डीटीओ कार्यालय, दलाली को लेकर पहले से ही सुर्खियों में बना रहा है। हाल के दिनों में कई बार यहां छापेमारी भी हो चुकी है परंतु यहां के  दलाल अभी भी अपने घर में ही डीटीओ ऑफिस का चला रहे हैं। बताया जा रहा है कि इस कार्यालय के गोरखधंधे में राजू के साथ चकली नामक व्यक्ति भी शामिल है जिसकी तलाश जोर-शोर से की जा रही है। अब देखना गौरतलब होगा कि आने वाले समय में इस तरह की कार्रवाई से हजारीबाग परिवहन कार्यालय पर क्या प्रभाव पड़ता है और जनता को कितनी राहत मिलती है?

कटकमसांडी : शाहपुर मध्य विद्यालय में किया गया पौधरोपण

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

तिसरी : डायन बिसाही का आरोप लगा मां-बेटी को बुरी तरह पीटा

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 7:54 AM
newscode-image

तिसरी (गिरिडीह) । तिसरी थाना क्षेत्र के भठ्ठीकुंड बलियारी गांव में मंगलवार की देर रात को डायन बिसाही मामले को लेकर गांव के ही कथित लोगों ने मंझली मरांडी व उनकी पुत्री मुन्नी बास्के तथा मुनिका बास्के की लाठी, डंडे और पत्थर से जमकर पिटाई कर दी। जिसके कारण मंझली व उनकी दोनों बेटियां गंभीर रूप से घायल हो गयी।

बताया जाता है कि दो दिनों पहले गांव के एक व्यक्ति के पुत्र की सांप काटने से मौत हो गई थी। इसके बाद गांव के सुनील टुडू व श्यामेल बास्के मंझली पर डायन का आरोप लगाकर उसे पड़ताडित कर रहे थे। मंगलवार रात को सुनील व श्यामेल ने गांव के कथित लोगों के साथ मिलकर मंझली व उनकी दोनों बेटियों को जान मारने की नीयत से लाठी, डंडे और पत्थर से पिटाई कर दी।

जमशेदपुर : पत्‍थर से कूचकर युवक की हत्‍या, हत्यारा फरार

सूचना मिलते ही तिसरी पुलिस आनन-फानन में भठ्ठीकुंड गांव पहुंची और मंझली व उनकी बेटी मुन्नी की जान बचाने का काम किया। पुलिस ने मंझली और उनकी बेटी मुन्नी बास्के को तिसरी अस्पताल लेकर आई जहां पर दोनों मां बेटी का प्राथमिक इलाज करने के बाद गिरिडीह रेफर कर दिया गया है। वहीं मुनिका बास्के लापता है। पुलिस मुनिका को ढूंढने में लग गई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 4:17 PM
newscode-image

बोकारो। झारखंड सरकार के मंत्री अमर बाउरी ने स्‍वाधीनता दिवस के मौके पर बोकारो में तिरंगा फहराया लेकिन उन्‍होंने इस दौरान पैरों में चप्‍पलें पहन रखी थी। मान्‍य परंपरा के अनुसार जूते और चप्‍पलें पहन कर तिरंगा फहराना मर्यादा के प्रतिकूल है और राष्‍ट्र ध्‍वज का अपमान है। राज्‍य सरकार के मंत्रियों से कम से कम, राष्‍ट्र ध्‍वज के सम्‍मान में इस प्रकार की लापरवाही की उम्‍मीद नहीं की जा सकती।

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

वहीं दूसरी ओर स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर गिरिडीह जिले के बीजेपी सांसद रविन्द्र कुमार पांडेय ने भी बोकारो में चप्पल पहनकर ही राष्ट्रीय ध्वज फहराया।

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

तिरंगे के सम्‍मान की अनदेखी की रही-सही कमी बोकारो में कांग्रेस पार्टी के नेता डॉ पी नैय्यर ने पूरी कर दी। बीजेपी के मंत्री और सांसद ने तो चप्‍पलें पहन कर तिरंगा फहराया था लेकिन कांग्रेस के नेता डॉ पी नैय्यर ने जूते पहनकर ही तिरंगा फहराया।

बोकारो : तिरंगे का घोर अपमान, माननीयों ने जूते-चप्‍पल पहनकर फहराया तिरंगा

मतलब साफ है कि तिरंगे का अपमान करने में कोई किसी से कम नहीं रहा। इन माननीयों को उस मिट्टी पर भी, थोड़ी दूर नंगे पैर चलने में कष्‍ट का अनुभव होता है जिस मिट्टी को अमर शहीदों ने अपने खून से सींचा है। जो तिरंगे को फहराने से पहले अपने पैरों से जूते-चप्‍पल नहीं उतार सकते, उनसे ये उम्‍मीद करना बेकार है कि कभी वे इस मिट्टी को अपने माथे से लगाएंगे। कहने को तो ये सभी माननीय जन प्रतिनिधि हैं लेकिन इनके कृत्‍यों से जनता क्‍या सीख लेगी ये विचारणीय है। शायद इन्‍हें ये पता नहीं है कि चाहे राष्‍ट्र ध्‍वज हो या धर्म ध्‍वज, इन्‍हें नंगे पैर फहराया जाता है। ध्‍वज के प्रति सम्‍मान प्रकट करने की ये परंपरा है।

देवघर : आयुषी ने बहायी देश-प्रेम की गंगा, संस्‍कृत में गाया “ऐ मेरे वतन के लोगों”   

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

सरायकेला : ड्यूटी से लौट रहे दो रेलकर्मी सगे भाई की करंट लगने से दर्दनाक मौत

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 4:05 PM
newscode-image

सरायकेला। सरायकेला थाना के सीनी ओपी अंतर्गत आज  ड्यूटी खत्म कर घर लौट रहे मोटरसाईकिल सवार रेलवे के दो चतुर्थवर्गीय कर्मचारियों की बिजली की नंगी तार की चपेट में आने से मौत हो गयी। मृतक 40 वर्षीय भोला महतो तथा 28 वर्षीय ईश्वर महतो दोनों ही सगे  भाई थे तथा रेलवे में चतुर्थवर्गीय कर्मचारी थे।

ड्यूटी खत्म कर लौट रहे थे

बताया जा रहा है, कि आज सुबह दोनों भाई अपनी ड्यूटी खत्म कर मोटरसाईकिल से अपने घर उलीडीह लौट रहे थे, तभी सिंदरी गांव के पास नंगी लटकी बिजली के तार के चपेट में वे दोनों आ गये। जिससे करंट लगने से दोनों की मौत हो गयी।

वहीं तत्काल दोनों  को स्थानीय लोग और पुलिस की मदद से सदर अस्पताल लाया गया। जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

उधर इस घटना की सूचना पाकर मृतक के परिजनों के अलावा रेलवे के अधिकारी व कर्मचारी तथा खरसांवा विधायक दशरथ गागराई सदर अस्पताल पहुंचे और घटना की जानकारी ली। इधर रेलवे अधिकारियों ने भरोसा दिलाया  है कि रेलवे के प्रावधानों के अनुरुप मृतक के परिजनों को सभी लाभ दिये जायेंगे।

जमशेदपुर : बेटे को छुड़ाने पहुंंची मां, सोनारी थाना में किया हंगामा

पांच हजार की तत्काल आर्थिक सहायता मिली

वहीं मृत कर्मचारियों के दाह संस्कार व अन्य कार्य के लिए रेलवे वेलफेयर एसोसिएशन ने बीस हजार रुपये तथा इंडियन रेलवे सिग्नल व टेलिकॉम विभाग की ओर से पांच हजार की तत्काल आर्थिक सहायता दी गयी है।  उधर बिजली की नंगी तार सड़क किनारे झूलने तथा इस घटना के होने से लोगों में बिजली विभाग के खिलाफ गहरा आक्रोश देखा जा रहा है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

कैमरे में कैद हुआ टाटा 45एक्स का केबिन

more-story-image

VIDEO: अमित शाह के रस्सी खींचते ही नीचे गिरा तिरंगा,...