IPL2018 : 7 साल बाद गौतम गंभीर कि घर वापसी, दिल्ली डेयरडेविल्स के होंगे कप्तान

NewsCode | 7 March, 2018 1:24 PM
newscode-image

नई दिल्ली| भारत के दिग्गज क्रिकेट खिलाड़ी गौतम गंभीर सात साल बाद इंडियन प्रीमियर लीग (आईपएल) में दिल्ली डेयरडेविल्स की कप्तानी करते नजर आएंगे।

वह इससे पहले 2010 में दिल्ली के कप्तान रह चुके हैं। राजधानी दिल्ली में बुधवार को आयोजित संवाददाता सम्मेलन में इसकी घोषणा की गई।

गौतम गंभीर इससे पहले 2008, 2009 और 2010 में टीम के साथ खिलाड़ी के तौर पर जुड़े थे। 2008 में वह सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी बने। उन्होंने 534 रन बनाए थे।

इस साल जनवरी में आईपीएल में खिलाड़ियों की नीलामी में दिल्ली की टीम ने गंभीर को 2.8 करोड़ रुपये में खरीदा था।

मोहम्मद शमी की पत्नी ने लगाए मारपीट और एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स के आरोप, क्रिकेटर ने दी सफाई

कोलकाता नाइटराइडर्स ने 2012 और 2014 में गंभीर की कप्तानी में आईपीएल का खिताब भी जीता था।

लिंगराज मंदिर में शूटिंग करने के चलते रवीना टंडन पर FIR, एक्‍ट्रेस ने दिया ये जवाब

आईएएनएस

रांची : दो फुटबॉल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस प्रारंभ किया जाएगा- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2018 11:54 AM
newscode-image

अंतरराष्ट्रीय स्तर की प्रतिस्पर्धाओं में पदक विजेता खिलाड़ियों को नौकरी में 2 प्रतिशत का आरक्षण

रांची। झारखंड के मुख्यमंत्री  रघुवर दास ने कहा कि राज्य में फुटबॉल खेल को बढ़ावा देने के लिए दो फुटबॉल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनाया जाएगा। झारखंड खेल प्राधिकरण के द्वारा बिरसा मुंडा फुटबॉल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, रांची एवं सिदो-कान्हू फुटबॉल सेंटर ऑफ एक्सीलेंस देवघर में प्रारंभ किया जाएगा।

राज्य सरकार ने वर्ष 2017 में ही झारखंड के सभी प्रखंडों में कमल क्लब का गठन किया है। कमल क्लब के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्र की खेल प्रतिभा को राज्य स्तर पर निखारने का काम किया जा रहा है। झारखंड में फुटबॉल खेल को आगे ले जाना राज्य सरकार की प्राथमिकता है।

पंचायत, प्रखंड एवं जिला स्तर के मेधावी फुटबॉल खिलाड़ियों को ड्रेस, जूता, खेल कीट एवं फुटबॉल राज्य सरकार निशुल्क उपलब्ध कराएगी। खिलाड़ियों को प्रशिक्षण देने के लिए सरकार एक्सपर्ट कोच की भी व्यवस्था करेगी।

जनजातीय समाज के फुटबॉल खेलने वाले बच्चों को निशुल्क ड्रेस एवं खेल उपकरण दिया जाएगा।  मुख्यमंत्री सोमवार को रांची कॉलेज मैदान में मुख्यमंत्री आमंत्रण फुटबॉल टूर्नामेंट 2018 के समापन को संबोधित कर हरे थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के वैसे खिलाड़ी जो अंतरराष्ट्रीय स्तर के प्रतिस्पर्धाओं में मेडल अथवा पुरस्कार जीत कर आएंगे उन्हें राज्य स्तरीय सरकारी नौकरी में 2 प्रतिशत का आरक्षण राज्य सरकार देगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड की बेटियों ने खेल के विभिन्न क्षेत्रों में बहुत ही अच्छा कार्य किया है. बेटियां निरंतर अच्छा खेलकर सुर्खियां बटोर रही हैं. राज्य सरकार ने यह निर्णय लिया है कि सभी प्रखंड एवं जिला स्तरों में लड़कियों का भी फुटबॉल टीम का गठन किया जाए।  लड़कियों की टीम को भी खेल से संबंधित सारी सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी. झारखंड की नारी शक्ति में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। इनकी प्रतिभा को राज्य स्तर पर पहचान देने का कार्य सरकार करेगी।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि फुटबॉल के क्षेत्र में भी अंतरराष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी झारखंड से निकलें और राज्य एवं देश का प्रतिनिधित्व करें यह सरकार की सोच है. लक्ष्य को हमेशा आगे रखने की जरूरत है।

झारखंड खेल प्रतिभा का धनी राज्य रहा है। हॉकी, तीरंदाजी, क्रिकेट इत्यादि खेलों में झारखंड के कई खिलाड़ियों ने प्रसिद्धि प्राप्त की है और देश और दुनिया में झारखंड का नाम रोशन किया है। राज्य सरकार की यह सोच है कि फुटबॉल के क्षेत्र में भी ऐसे ही प्रसिद्ध खिलाड़ी उभर कर सामने आए और राज्य का मान बढ़ाएं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : लोक आस्था का महापर्व छठ उदीयमान सूर्य को अर्घ्य देने के साथ संपन्न

NewsCode Jharkhand | 14 November, 2018 1:02 PM
newscode-image

रांची। लोक आस्था का चार दिवसीय महापर्व छठ उदीयमान सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के साथ राज्यभर में संपन्न हो गया। राजधानी रांची के स्वर्णरेखा, जुमार नदी के अलावा हटनिया तालाब, बड़ा तालाब सहित अन्य जलाशयों में श्रद्धालुओं ने बुधवार को सवेरे अर्घ्य अर्पित किया।

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जमशेदपुर के सिदगोड़ा स्थित सूर्य मंदिर जाकर अर्घ्य अर्पित किया। इस दौरान मुख्यमंत्री ने झारखंड सहित देशवासियों की समृद्धि और खुशहाली की कामना की।

उधर हजारीबाग में ख्याति प्राप्त झील के साथ अन्य जलाशयों में छठ महापर्व को लेकर श्रद्धालुओं की भीड़ रही। इधर गुमला के छठ तालाब, बांध तालाब सहित अन्य जलाशयों में भगवान भाष्कर को अर्घ्य अर्पित करने के लिए छठव्रतियों की भीड़ उमड़ी। विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने कोयल नदी जाकर अर्घ्य अर्पित किया।

इस मौके पर दिनेश उरांव ने कहा कि कोयल नदी घाट पर अगले वर्ष तक सूर्य मंदिर निर्माण का कार्य पूरा हो जाएगा। इस बीच साहिबगंज जिले के गंगा तट पर उदीयमान सूर्य को अर्घ्य अर्पित करने के साथ ही छठ महापर्व संपन्न हो गया।

इससे पहले मंगलवार शाम को  राज्यभर में छठव्रतियों ने  अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया। प्रकृति पर्व छठ के अवसर पर व्रत करने वाले उपासक और श्रद्धालु नदी और तालाबों की किनारे आज दोपहर बाद पहुचे और विधि विधान से पूजा अर्चना की। इस पर्व के मद्देनजर व्यापक रूप से सफाई की गई थी और रास्तों में भी विद्युत सज्जा की गयी थी।

सुरक्षा के मद्देनजर पुलिसकर्मियों को तैनाती की गई थी और श्रद्धालुओं को आने-जाने में असुविधा न हो इसके लिए शहर में बड़े वाहनों के प्रवेश में रोक लगाई थी। इसके साथ ही इनके मार्ग में बदलाव किया गया था।

रांची में हटनिया तालाब, बड़ा तालाब, कांके डैम, धुर्वा डैम, स्वर्ण रेखा नदी तट के अलावे बड़ी संख्या में अन्य तालाबों के किनारे लोगों ने भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया। बुंडू स्थित सूर्य मंदिर तालाब में भी दूर-दूर से आये लोगों ने भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया। जमशेदपुर के सिदगोड़ा स्थित सूर्य मंदिर में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने छठव्रतियों ने भगवान सूर्य को अर्घ्य दिया। यहां दो कृत्रिम तालाबों का निर्माण किया गया है।

मुख्यमंत्री ने छठ घाट से अस्ताचलगामी भास्कर को प्रणाम करते हुए झारखण्ड सहित समस्त देशवासियों की समृद्धि और खुशहाली के लिए प्रार्थना की। स्वच्छता, संयम, सादगी, नियम, नेम और निष्ठा के प्रति समर्पित सभी छठव्रतियों की श्रद्धा में अपनी गहरी आस्था प्रकट करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि छठी मईया सबकी मनोकामना पूरी करें।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

रांची: कांठीटांड़-कांके-विकास तक रिंग रोड 10 साल बाद बन कर हुआ तैयार

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2018 1:45 PM
newscode-image

10 साल बाद छह लेन वाले रिंग रोड फेज-7 का काम पूरा

रांची । करीब 10 साल के इंतजार के बाद रांची रिंग रोड सेक्शन सेवन बन कर तैयार हो गया है। छह लेन वाली 23.575 किमी लंबी इस सड़क पर गाड़ियां भी दौड़ने लगी हैं। यह रिंग रोड रांची-डालटनगंज मुख्य मार्ग (एनएच 75) पर कांठीटांड़ से शुरू होकर कांके रोड होते हुए रांची-रामगढ़ मुख्य मार्ग (एनएच 33)  पर विकास (नेवड़ी) से मिलता है। यानी दो महत्वपूर्ण राष्ट्रीय उच्च पथ एनएच 75 व एनएच 33 को यह जोड़ रहा है।

इस सड़क के बन जाने से बड़ी संख्या में गाड़ियां रांची शहर रातू रोड-बरियातू रोड में प्रवेश नहीं करेंगी, बल्कि रिंग रोड के सहारे निकल जायेंगी। इसका औपचारिक उदघाटन जल्द होगा. इस सड़क का निर्माण आइएलएफएस व पथ निर्माण विभाग की ज्वायंट वेंचर कंपनी झारखंड त्वरित पथ विकास कंपनी लिमिटेड (जेएआरडीसीएल) ने कराया है।

रिंग रोड के सेक्शन थ्री, फोर, फाइव व सिक्स का निर्माण भी इसी कंपनी  के माध्यम से कराया गया है।  रिंग रोड सेक्शन -7 (एक नजर में)  सड़क की लंबाई 23.575 किमी कहां से कहां तक कांठीटांड़ से नेवड़ी सड़क की चौड़ाई  छह लेन (30.5 मीटर) निर्माण पर खर्च 452 करोड़ (लगभग) काम करानेवाली कंपनी आइएलएफएस बड़े पुलों की संख्या 3 छोटे पुलों की संख्या 6 फ्लाइओवर की संख्या 01 अंडर पास की संख्या 7 रेलवे ओवर ब्रिज 01 कलवर्ट की संख्या 53 बस पड़ाव की संख्या 16 इस रोड के बन जाने से खास कर बड़े वाहनों व लंबी दूरी वाली गाड़ियां शहर में नहीं घुसेंगी।

बड़ी गाड़ियां शहर में घुस कर लंबे समय तक जाम में फंसी रहती हैं और ईंधन भी अत्यधिक बर्बाद होता है। अब ऐसा नहीं होगा. शहर की मुख्य सड़कों  पर से थोड़ा ट्रैफिक कम होगा। रिंग रोड के माध्यम से 23.5 किमी की दूरी तय करने में अधिकतम 20 मिनट का ही समय लगेगा, जबकि शहर के अंदर घुस कर इतनी दूरी तय करने में एक घंटे का समय लग रहा था. वहीं बड़े वाहनों के साथ नो इंट्री की भी बाध्यता नहीं रहेगी. वे 24 घंटे चल सकेंगे।

रिंग रोड सेक्शन सेवन का शिलान्यास वर्ष 2008 में हुआ था। इसके बाद इसका निर्माण कार्य शुरू हुआ। जिस कंपनी को काम मिला था, उसने इसे पूरा नहीं कराया। काम आधा-अधूरा रह गया था। ऐसे में सरकार ने उसका एग्रीमेंट रद्द कर दिया था। इस दौरान लंबे समय तक काम बंद रहा। बाद में इसका काम जेएआरडीसीएल को दिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

बोकारो : सॉर्ट सर्किट से लगी आग, घर जलकर खाक

more-story-image

रांची : स्थापना दिवस- नव चयनित शिक्षक ड्रेस कोड में...

X

अपना जिला चुने