डुमरी : भागवत कथा से होता है मन शुद्ध, मिलती है मनुष्य को शांति – रामशरण बाबा

NewsCode Jharkhand | 20 April, 2018 10:02 PM
newscode-image

डुमरी (गिरिडीह)। भागवत कथा से मन का शुद्धिकरण होता है। इससे संशय दूर होता है और शान्ति एवं मुक्ति मिलती है। उक्त बातें डुमरी प्रखंड अन्तर्गत भरखर गांव में चल रहे नवनिर्मित हनुमान मंदिर में एक तीन दिवसीय श्री श्री हनुमान मंदिर प्राण प्रतिष्ठा सह महायज्ञ में प्रवचन के दौरान श्री श्री 108 श्री गोस्वामी रामशरण गिरिबाबा आचार्य रजरप्पा लुगू पोना धाम ने कही ।

उन्होंने कहा कि कथा की सार्थकता तब ही सिद्ध होती है जब इसे हम जीवन में व्यवहार में धारण कर निरंतर हरि स्मरण करते हुए अपने जीवन को आनंदमय, मंगलमय बनाकर आत्म कल्याण करें। अन्यथा यह कथा केवल “मनोरंजन “, कानों के रस तक ही सीमित रह जायेगी।

भागवत कथा श्रवण से जन्म-जन्मान्तर के विकार नष्ट होकर प्राणी मात्र का लौकिक एवं आध्यात्मिक विकास होता है। जहां अन्य युगों में धर्म लाभ एवं मोक्ष प्राप्ति के लिए कड़े प्रयास करने पड़ते हैं, कलियुग में कथा सुनने मात्र से व्यक्ति भवसागर से पार हो जाता है।

डुमरी : भागवत कथा से होता है मन शुद्ध, मिलती है मनुष्य को शांति -रामशरण बाबा

सोया हुआ ज्ञान वैराग्य कथा श्रवण से जागृत हो जाता है। कथा कल्प वृक्ष के समान है ,जिससे सभी इच्छाओं की पूर्ती की जा सकती है।प्रवचन शुरू होने से पूर्व यज्ञ समिति के अध्यक्ष ब्रम्हदेव सिंह एवं भाजपा नेता कामाख्या गिरि ने गोस्वामी रामशरण का माला पहना कर स्वागत करते हुए मंच पर व्यास के गद्दी पर आसन ग्रहण कराते हुए रामचरित्र मानस एवं भागवत गीता का मंगल आरती उतारी गई।

बेंगाबाद : हर गांव को धुआं मुक्त कराना सरकार का उद्देश्य – जेपी वर्मा

यज्ञ में प्रवचन सुनने के लिए अपार भीड़ उमड़ रही है। वहीँ यज्ञ के दौरान यज्ञ स्थल में सुबह से आस पास के युवक-युवती, महिला-पुरूष का जन सैलाब यज्ञ स्थल के परिक्रमा करने के लिए उमड़ रहा है।

यज्ञ कर्ता के रूप में कामाख्या गिरी, ब्रह्मदेव सिंह, रामसेवक सिंह, सेवा रजक, बासुदेव सिंह, अरविंद गिरि, विनोद रजक, त्रिभुवन सिंह, अजय सिंह, मोहन रजक, भुवनेश्वर रजक, भुवनेश्वर रजक, गंगाधर महतो आदि लोग उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : मलूटी मंदिर पर लिखी गयी पुस्तक “BEYOND COMPARISION मलूटी” का हुआ विमोचन

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 5:19 PM
newscode-image

रांची। झारखंड के 18 वे स्थापना दिवस के अवसर पर राजस्व निबंधन भूमि सुधार पर्यटन कला संस्कृति खेल कूद एवं युवा कार्य विभाग के मंत्री अमर कुमार बाउरी ने मलूटी मंदिर पर लिखी गयी एक पुस्तक “BEYOND COMPARISION मलूटी” का विमोचन किया।

इस मौके पर उन्होंने कहा कि मलूटी झारखंड की ऐतिहासिक धरोहर में से एक है। मुख्यमंत्री रघुवर दास के दिशा निर्देश पर वर्ष 2015 से यहां के मंदिरों का जीर्णोद्धार किया जा रहा है और इस ऐतिहासिक धरोहर की बचने की पहल की जा रही है।

उन्होंने बताया कि पूर्व में मलूटी पर कई पुस्तकें लिखी गयी है लेकिन उन पुस्तकों में गहन शोध नही किया गया। उन्होंने बताया कि मलूटी में 108 टेराकोटा की मंदिर है। लेकिन वक़्त के साथ और देख रेख के आभाव में इसका अस्तित्व मिटता जा रहा था। लेकिन अब यहां के मंदिरों को आकार मिलना शुरू हो गया है। उन्होंने इस पुस्तक के लिए लेखक सोमनाथ आर्य को धन्यवाद दिया।

पुस्तक विमोचन के मौके पर BEYOND COMPARISION मलूटी के लेखक सोमनाथ आर्य ने बताया कि उनका मलूटी मंदिर के तरफ स्कूल के दिनों से ही विशेष रुझान रहा है और जब मौका मिला तो इस पर पुस्तक लिखने का सौभाग्य मिला है।

उन्होंने बताया कि पुस्तक लिखने से पहले इस पर विशेष शोध किया गया। आईआईटी मुम्बई के सिद्धांत एनआईएफटी चिन्नई के डिज़ाइनर राकेश रंजन और प्रकाशक लक्ष्मी शास्त्री, शोधकर्ता प्रतीक प्रकाश के सहयोग से इस पुस्तक को तैयार किया गया है।

उन्होंने स्थानीय जानकार गोपाल दास मुखर्जी को भी धन्यवाद दिया। उन्होंने बताया कि मौजूदा सरकार ने मलूटी को नया रूप दिया है। अब यह मंदिर देश दुनिया के साथ विश्व मानचित्र पर भी अपना विशेष पहचान बनाएगा।

कार्यक्रम में पर्यटन मंत्री अमर कुमार बाउरी, मंत्री के आप्त सचिव सुशान्तो मुखर्जी, मंत्री के ओएसडी अवध कुमार, लेखक सोमनाथ आर्या, प्रकाशक लक्ष्मी शास्त्री सहित अन्य अतिथि उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : राजकीय कार्यक्रम में हंगामा करने पर 216 पारा शिक्षक बर्खास्त

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:20 PM
newscode-image

600 अन्य की बर्खास्तगी को लेकर कार्रवाई, गिरफ्तार कर पारा शिक्षकों को कैंप जेल में रखा गया

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस के दिन पूरे राज्य भर से राजधानी रांची में आए पारा शिक्षकों ने सरकारी कार्यक्रम को बाधा पहुंचाने की कोशिश की। साथ ही विधि व्यवस्था को अपने हाथ में लेकर पत्थरबाजी भी की।

विधि व्यवस्था में लगे  पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों, वरीय पुलिस अधीक्षक, सिटी पुलिस अधीक्षक  एवम् ड्यूटी पर तैनात पदाधिकारियों पर  पारा शिक्षकों  ने  हमला किया जिससे कई पुलिसकर्मी और  पदाधिकारी गंभीर रूप से जख्मी हुए।

पारा शिक्षकों द्वारा सरकारी कार्यक्रम में व्यवधान डालने, विधि व्यवस्था को तोड़ने एवम् सरकारी लोगो पर हमला करने की घटना को बेहद अशोभनीय एवम् गंभीर रूप से लेते हुए  वीडियो रिकॉर्डिंग एवम् कार्यक्रम स्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरा से  लिए फुटेज एवम् अन्य प्रमाणों के आधार पर  16 प्रखंड के कुल 216 पर शिक्षकों को बर्खास्त किया गया।

साथ ही लगभग 600 पारा शिक्षकों को जिला प्रशासन द्वारा बनाई गई खेलगांव एवम् रेड क्रॉस अस्थायी जेल में गिरफ़्तार कर रखा गया है। जिन पर सीसीटीवी कैमरा एवम्  वीडियो रिकॉर्डिंग से मिले प्रमाण के आधार पर बर्खास्त करने की कारवाई चल रही है।

अन्य जिलों के जिलाधिकारियों को भी यहां शामिल पारा शिक्षकों की सूची भेजी जा रही है जिसके आधार पर  चिन्हित कर अनुशासनात्मक कारवाई की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है।  स्थापना दिवस एक राजकीय दिवस है जी सम्पूर्ण राजवसियो के लिए सम्मान एवम् गौरव  का दिन है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

रांची : झारखंड स्थापना दिवस- संपूर्ण झारखंड खुले में शौच मुक्त घोषित, करीब 2100 को मिला नियुक्ति पत्र

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:02 PM
newscode-image

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस मना रहा है। राज्य स्थापना दिवस के मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में मुख्यमंत्री ने संपूर्ण झारखंड को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की। समारोह में राज्य के तीन जिलों देवघर, हजारीबाग और लोहरदगा को पूर्ण विद्युतीकृत किये जाने की घोषणा की गयी।

इस मौके पर अरबों रुपये की योजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन के साथ ही परिसंपत्तियों का वितरण भी किया गया। समारोह में करीब 2100 लोगों को नियुक्ति पत्र का भी वितरण किया गया।

झारखंड स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य की जनता को कई सौगात दी। रांची में आयोजित मुख्य समारोह में उन्होंने राज्य को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की।  उन्होंने कहा कि स्वच्छता को लेकर लोगों की आदतों में भी अब बदलाव आया है।

मुख्यमंत्री ने हर घर तक बिजली पहुंचाने के अपने वायदों को पूरा करते हुए राज्य के तीन जिलों देवघर, लोहरदगा और हजारीबाग को पूर्ण रूप से विद्युतीकृत होने का भी ऐलान किया। इस दौरान श्री दास ने कहा कि वर्तमान सरकार  पूरी तरह से पारदर्शी तरीके से काम कर रही  है और अब तक इस पर एक भी भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे है।

इस दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि देश के विकास में झारखंड का अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि जनता को चुनी हुई सरकार से आकांक्षाएं होती है , जिसे पूरा करने में सरकार लगी है।

समारोह के दौरान अरबों रुपये की परिसंपत्तियों का वितरण किया गया और कई नई परियोजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन भी हुआ। करीब 2100 लोगों के बीच नियुक्ति पत्र का वितरण और झारखंड और देश के विकास में अपनी भूमिका निभाने वाले लोगों को सम्मानित भी किया गया। जिला मुख्यालयों में भी परिसंपत्तियों का वितरण हुआ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

विधानसभावार बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में लोगों को जोड़ने...

more-story-image

रांची : आम आदमी पार्टी ने निकाली झारखंड नवनिर्माण संकल्प...

X

अपना जिला चुने