दिल्ली में आज डीटीसी की सबसे बड़ी हड़ताल, 3500 बसों की रफ़्तार थमी

NewsCode | 29 October, 2018 11:32 AM
newscode-image

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में बसों से सफर करने वाले लोगों की आज यानी सोमवार को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। आज दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) कर्मचारियों की यूनियनें हड़ताल कर रही हैं, जिसके चलते करीब 3500 बसों का चक्का जाम है। इस वजह से सार्वजनिक परिवहन बसों पर निर्भर रहने वाले यात्रियों को कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है।

डीटीसी कर्मचारी यूनियन का दावा है कि ये हड़ताल बीते 30 साल में सबसे बड़ी हड़ताल होगी। दावा ये भी है कि बीते कई दिनों से चल रही DTC कर्मचारियों की ये हड़ताल सोमवार को सबसे विराट रूप लेने जा रही है। बता दें कि डीटीसी के ठेका कर्मचारी डीटीसी संविदा श्रमिक संघ के बैनर तले 22 अक्टूबर से हड़ताल पर हैं।

डीटीसी कर्मचारियों कि मांग है कि सभी अनुबंधित कर्मचारियों को नियमित किया जाए व समान काम के लिए समान वेतन दिया जाए। उनकी मांगों में उस भत्ते को भी बहाल करना शामिल है जिसे एक अदालत के आदेश के बाद DTC ने कम कर दिया था।

सरकार ने बनाया मूर्ख

दरअसल, प्रदर्शन में बैठे कर्मचारियों का कहना है कि केजरीवाल सरकार ने चुनाव के पहले वादा किया था कि अगर उनकी सरकार बनती है तो 12 हजार कर्मचारियों को पक्का कर दिया जाएगा। फिलहाल 12 हजार कर्मचारी DTC में कॉन्ट्रेक्ट पर काम करते हैं। कर्मचारियों का कहना है कि सरकार ने हमें मूर्ख बनाया है।

ये हैं मांगें:

1. वेतन कटौती का सर्कुलर तुरंत वापस लिया जाए।

2. समान काम समान वेतन लागू किया जाए।

3. DTC में बसों के बेड़े को बढ़ाया जाए, जन परिवहन का निजीकरण बंद हो।

कर्मचारियों के कानूनी अधिकारों का डीटीसी प्रबंधन और दिल्ली सरकार द्वारा लगातार हनन किया जा रहा है। कर्मचारियों की मांगों की अनदेखी करते हुए और दिल्ली उच्च न्यायालय के निर्णय का गलत तरीके से हवाला देते हुए डीटीसी प्रबंधन ने पिछले 21 अगस्त को वेतन कटौती का सर्कुलर जारी किया था।

5 लाख लोग रोजाना सफर करते हैं

दिल्ली की DTC बसों की अगर बात की जाए तो इन बसों में लगभग 5 लाख लोग रोजाना सफर करते हैं। अब अगर डीटीसी बसों की रफ्तार थम गई तो दिल्ली में काफी परेशानी देखने को मिल सकती है।


राम मंदिर पर सियासी गहमागहमी तेज, आज से सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई

दिवाली के समय गैंस चेंबर में तब्दील हो जाएगी Delhi, नवंबर के ये 10 दिन खतरनाक

रांची : राजकीय कार्यक्रम में हंगामा करने पर 216 पारा शिक्षक बर्खास्त

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:20 PM
newscode-image

600 अन्य की बर्खास्तगी को लेकर कार्रवाई, गिरफ्तार कर पारा शिक्षकों को कैंप जेल में रखा गया

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस के दिन पूरे राज्य भर से राजधानी रांची में आए पारा शिक्षकों ने सरकारी कार्यक्रम को बाधा पहुंचाने की कोशिश की। साथ ही विधि व्यवस्था को अपने हाथ में लेकर पत्थरबाजी भी की।

विधि व्यवस्था में लगे  पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों, वरीय पुलिस अधीक्षक, सिटी पुलिस अधीक्षक  एवम् ड्यूटी पर तैनात पदाधिकारियों पर  पारा शिक्षकों  ने  हमला किया जिससे कई पुलिसकर्मी और  पदाधिकारी गंभीर रूप से जख्मी हुए।

पारा शिक्षकों द्वारा सरकारी कार्यक्रम में व्यवधान डालने, विधि व्यवस्था को तोड़ने एवम् सरकारी लोगो पर हमला करने की घटना को बेहद अशोभनीय एवम् गंभीर रूप से लेते हुए  वीडियो रिकॉर्डिंग एवम् कार्यक्रम स्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरा से  लिए फुटेज एवम् अन्य प्रमाणों के आधार पर  16 प्रखंड के कुल 216 पर शिक्षकों को बर्खास्त किया गया।

साथ ही लगभग 600 पारा शिक्षकों को जिला प्रशासन द्वारा बनाई गई खेलगांव एवम् रेड क्रॉस अस्थायी जेल में गिरफ़्तार कर रखा गया है। जिन पर सीसीटीवी कैमरा एवम्  वीडियो रिकॉर्डिंग से मिले प्रमाण के आधार पर बर्खास्त करने की कारवाई चल रही है।

अन्य जिलों के जिलाधिकारियों को भी यहां शामिल पारा शिक्षकों की सूची भेजी जा रही है जिसके आधार पर  चिन्हित कर अनुशासनात्मक कारवाई की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है।  स्थापना दिवस एक राजकीय दिवस है जी सम्पूर्ण राजवसियो के लिए सम्मान एवम् गौरव  का दिन है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : झारखंड स्थापना दिवस- संपूर्ण झारखंड खुले में शौच मुक्त घोषित, करीब 2100 को मिला नियुक्ति पत्र

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:02 PM
newscode-image

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस मना रहा है। राज्य स्थापना दिवस के मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में मुख्यमंत्री ने संपूर्ण झारखंड को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की। समारोह में राज्य के तीन जिलों देवघर, हजारीबाग और लोहरदगा को पूर्ण विद्युतीकृत किये जाने की घोषणा की गयी।

इस मौके पर अरबों रुपये की योजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन के साथ ही परिसंपत्तियों का वितरण भी किया गया। समारोह में करीब 2100 लोगों को नियुक्ति पत्र का भी वितरण किया गया।

झारखंड स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य की जनता को कई सौगात दी। रांची में आयोजित मुख्य समारोह में उन्होंने राज्य को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की।  उन्होंने कहा कि स्वच्छता को लेकर लोगों की आदतों में भी अब बदलाव आया है।

मुख्यमंत्री ने हर घर तक बिजली पहुंचाने के अपने वायदों को पूरा करते हुए राज्य के तीन जिलों देवघर, लोहरदगा और हजारीबाग को पूर्ण रूप से विद्युतीकृत होने का भी ऐलान किया। इस दौरान श्री दास ने कहा कि वर्तमान सरकार  पूरी तरह से पारदर्शी तरीके से काम कर रही  है और अब तक इस पर एक भी भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे है।

इस दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि देश के विकास में झारखंड का अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि जनता को चुनी हुई सरकार से आकांक्षाएं होती है , जिसे पूरा करने में सरकार लगी है।

समारोह के दौरान अरबों रुपये की परिसंपत्तियों का वितरण किया गया और कई नई परियोजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन भी हुआ। करीब 2100 लोगों के बीच नियुक्ति पत्र का वितरण और झारखंड और देश के विकास में अपनी भूमिका निभाने वाले लोगों को सम्मानित भी किया गया। जिला मुख्यालयों में भी परिसंपत्तियों का वितरण हुआ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

विधानसभावार बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में लोगों को जोड़ने की जरुरत- डॉ अजय

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 6:56 PM
newscode-image

रांची। झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी प्रोजेक्ट शक्ति की बैठक आज कांग्रेस मुख्यालय, कांग्रेस भवन, रांची में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ अजय कुमार की अध्यक्षता में संपन्न हुई।

बैठक में प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डॉ अजय ने कहा कि जनसंपर्क कर प्रोजेक्ट शक्ति में नये लोगों को जोड़े और कांग्रेस पार्टी के  साथ-साथ कार्यकर्ता अपने आप को भी  शक्ति देने का काम करें। इस बैठक में  प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार ने राज्य के सभी जिलाध्यक्ष एवं विधानसभा प्रभारी, वरीय जिला उपाध्यक्ष के साथ-साथ प्रोजेक्ट शक्ति के जोनल को-ऑर्डिनेटर, जिला को-ऑर्डिनेटर अपने अपने विधानसभा में जाकर बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में व्यक्तियों को जोड़े।

डॉ अजय ने कहा कि हमारी संगठन लगातार बूथवार मजबूती की ओर बढ़ रहा है। कांग्रेस पार्टी लोगों की जनसस्याओं को लेकर पंचायत स्तर से लेकर जिलास्तर एवं प्रदेश स्तर तक लगातार अभियान चला रही है। पार्टी जनमानस का ज्वलंत मुद्दा एवं लोगों की दुख-सुख की सहभागिता में अपना बहूमूल्य योगदान दे रही है।

बैठक मं प्रोजेक्ट शक्ति के को-ऑर्डिनेटर पप्पू अजहर ने कहा कि  कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी जी ने प्रोजेक्ट शक्ति का निर्माण कार्यकर्ताओं को शक्ति देने के लिए किया है। इससे बूथ स्तर के भी कार्यकर्ता प्रोजेक्ट शक्ति से जुड़कर अपने आप को शक्ति देने का काम करेंगे।

इस अवसर पर मुख्य रूप प्रदेश कांग्रेस कमिटी के जोनल को-ऑर्डिनेटर सुलतान अहमद, रमा खलखो एवं भीम कुमार संगठन मोर्चा विभाग के प्रभारी रवीन्द्र सिंह, प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद, शमशेर आलम, उपस्थित हुए।

बैठक का संचालन प्रदेश कांग्रेस प्रोजेक्ट शक्ति के को-ऑर्डिनेटर पप्पू अजहर ने किया।में मुख्य रूप से ज्योति मथारू, ईश्वर आनंद, सुदीप तिग्गा, गजेन्द्र सिंह, जिलाध्यक्ष-मंजूर अंसारी, ब्रजेन्द्र सिंह, अरविंद तुफानी, जशरंजन पाठक, मुक्ता मंडल, मनोज सहाय पिंकू, छोटे राय सिंकू, रामकृष्ण चौधरी, रौशन बरवा, साजिद अहमद आदि प्रमुख उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : आम आदमी पार्टी ने निकाली झारखंड नवनिर्माण संकल्प...

more-story-image

रांची : पुलिस मुख्यालय में लगी भीषण आग, मची अफरा-तफरी

X

अपना जिला चुने