धनबाद : व्‍यवसायि‍यों ने किया मौन धारण, झूठा मुकदमा रद्द करने की मांग

NewsCode Jharkhand | 8 May, 2018 7:17 PM
newscode-image

धनबाद। व्‍यवसायि‍यों ने बारह साल की नाबालिग बच्ची के साथ हुई छेड़खानी मामले में दोषी अधिवक्ता के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की है। वहीं साजिश के तहत चैम्बर प्रतिनिधियों और व्‍यवसायि‍यों पर दर्ज झूठा मुकदमा रद्द करने की मांगों के साथ फेडरेशन ऑफ़ धनबाद जिला चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्रीज और सामाजिक सुरक्षा समिति के आह्वाहन पर बैंक मोड़ बिरसा चौक के समीप मौन धरना दिया।

धरना कार्यक्रम में झारखण्ड फेडरेशन के जोनल उपाध्यक्ष झुनझुनवाला विशेष तौर से उपस्थित थे। ढाई घंटे की आहुत धरने में जिले के सभी चैम्बर इकाइयों के प्रतिनिधि सभी व्‍यवसायी, सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधि मौजूद थे।

निर्धारित अवधि के साथ सुबह साढ़े दस बजे धरना कार्यक्रम शुरू हुआ जिसका समापन ढाई घण्टे बाद हुआ। धरना के सम्बन्ध में राजीव शर्मा ने कहा कि चैम्बर प्रतिनिधियों का एक मात्र उद्देश्य है कि पीड़िता को इंसाफ मिले। आज एक साजिश के तहत अधिवक्ता पक्ष की ओर से चेम्बर प्रतिनिधियों और व्‍यवसायि‍यों पर दर्ज किया गया झूठा मुकदमा रद्द होना चाहिए। इस मांग को लेकर चैम्बर स्थानीय प्रशासन तथा मुख्यमंत्री तक अपनी बात पहुंचा चुका हूं।

धनबाद : अनशन पर बैठे ईस्ट सेंट्रल रेलवे कर्मचारी, नई पेंशन स्‍कीम मंजूर नहीं

हमें प्रशासन और वर्तमान सरकार पर पूरा भरोसा है। चैम्बर न्यायपालिका का सम्मान करती है। पूरी आशा और उम्मीद है कि इंसाफ मिलेगा। चैंबर को कही भी इस मामले में अपत्ति नहीं है। अधिवक्तागण हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज की कमिटी से जांच की मांग कर रहे है जबकि चैम्बर सुप्रीम कोर्ट के जज से न्यायिक जांच करा लेने के पक्ष में है।

बैंक मोड़ चैम्बर अध्यक्ष सुरेंद्र अरोड़ा ने कहा कि पहली बार हुआ है जब चैम्बर अधिवक्ता आमने-सामने है। यह मांग किसी जात-पात को लेकर नहीं है, यह एक सामान्य मसला है। जहां दोनों पक्षों को न्यायपालिका पर पूर्ण आस्था होनी चाहिए।

धरना में अजय नारायण लाल, शोहराब खान, चेतन गोयनका, रोहित, संजय अग्रवाल, प्रदीप सिंह, राजेश गुप्ता, पवन सोनी, सुशील सांवड़िया, प्रदीप अग्रवाल, भीखू राम अग्रवाल, रोहित सरावगी, मनोज ठाकुर, किरण रिटोलिया, मधु अग्रवाल, मीना रिटोलिया आदि लोग उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : आंगनबाड़ी सेविका संघ ने 11 सूत्री मांगों को लेकर राजभवन के समक्ष दिया धरना

NewsCode Jharkhand | 29 October, 2018 5:59 PM
newscode-image

रांची। आंगनबाड़ी सेविका संघ अपने 11 सूत्री मांगों को लेकर राजभवन आंगनबाड़ी सेविका संघ 11 सूत्री मांगों को लेकर राजभवन का घेराव करने पहुंचा।

सरकार के वादे के खिलाफ विरोध में पूर्व समझौता को लागू करने की मांग को लेकर आंगनबाड़ी कर्मचारियों का आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन राजभवन के समक्ष देखने को मिला।

अब तक आदेश निर्गत नहीं हुआ

झारखंड सरकार के द्वारा जनवरी 2018 में हड़ताल समापन समझौता आलोक में सहमति पत्र निर्गत करते हुए आश्वस्त किया गया है कि 3 माह के अंदर सभी बिंदुओं पर आदेश निर्गत कर दिया जाएगा, किंतु महीने बीत जाने के बावजूद भी आदेश निर्गत नहीं किया गया।

निकाली गई  रैली

झारखंड में कार्यरत सेविका सहायिका एवं पोषण सखी के आक्रोश रैली राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान से प्रारंभ होकर मुख्यमंत्री सचिवालय तक जाने केे संकल्प के साथ रैली निकाली गई।

लेकिन प्रशासन द्वारा राजभवन के समक्ष रैली को रोक दिए जाने के कारण प्रदर्शनकारी आक्रोशित होकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए राजभवन के समक्ष धरने पर बैठ गए।

 कथनी और करनी में अंतर -सुंदरी तिर्की

रैली को संबोधित करते हुए मोर्चा के महामंत्री सुंदरी तिर्की ने कहा कि विभाग के अधिकारियों के कथनी और करनी में अंतर है क्योंकि जब हड़ताल के समय सम्मति पत्र निर्गत हुआ तो आदेश क्यों नहीं निकाला गया।

इसलिए पूरे राजभर के सहायिका सेविका संघ एवं पोषण सखी के द्वारा आज अपनी मुख्य मांगों को लेकर राजभवन के समक्ष पहुंची हैंं।

उन्होंने कहा कि सरकार अविलंब मांगों पर आदेश निर्गत करे नहीं तो पूरे राज्य के आंगनबाड़ी सेविका संघ एवं पोषण सखी उग्र आंदोलन करने को विवश होंगे जिसकी जिम्मेदारी सरकार की होगी।

झारखंड के कोने-कोने से सेविका सहायिका एवं पोषण सखी राजभवन के समक्ष एक दिवसीय धरने पर बैठ गई हैं।

उन्‍होंने चेतावनी देेेेते हुए मांग की कि आंगनबाड़ी सेविका सहायिका एवं पोषण सखी को सरकारी कर्मचारी घोषित किया जाए तथा सरकारी कर्मचारी को जो भी सुविधाएं मिलती है वो दी जाए नहीं, तो हम मजबूरन उग्र आंदोलन करने को विवश होंंगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची: कांठीटांड़-कांके-विकास तक रिंग रोड 10 साल बाद बन कर हुआ तैयार

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2018 1:45 PM
newscode-image

10 साल बाद छह लेन वाले रिंग रोड फेज-7 का काम पूरा

रांची । करीब 10 साल के इंतजार के बाद रांची रिंग रोड सेक्शन सेवन बन कर तैयार हो गया है। छह लेन वाली 23.575 किमी लंबी इस सड़क पर गाड़ियां भी दौड़ने लगी हैं। यह रिंग रोड रांची-डालटनगंज मुख्य मार्ग (एनएच 75) पर कांठीटांड़ से शुरू होकर कांके रोड होते हुए रांची-रामगढ़ मुख्य मार्ग (एनएच 33)  पर विकास (नेवड़ी) से मिलता है। यानी दो महत्वपूर्ण राष्ट्रीय उच्च पथ एनएच 75 व एनएच 33 को यह जोड़ रहा है।

इस सड़क के बन जाने से बड़ी संख्या में गाड़ियां रांची शहर रातू रोड-बरियातू रोड में प्रवेश नहीं करेंगी, बल्कि रिंग रोड के सहारे निकल जायेंगी। इसका औपचारिक उदघाटन जल्द होगा. इस सड़क का निर्माण आइएलएफएस व पथ निर्माण विभाग की ज्वायंट वेंचर कंपनी झारखंड त्वरित पथ विकास कंपनी लिमिटेड (जेएआरडीसीएल) ने कराया है।

रिंग रोड के सेक्शन थ्री, फोर, फाइव व सिक्स का निर्माण भी इसी कंपनी  के माध्यम से कराया गया है।  रिंग रोड सेक्शन -7 (एक नजर में)  सड़क की लंबाई 23.575 किमी कहां से कहां तक कांठीटांड़ से नेवड़ी सड़क की चौड़ाई  छह लेन (30.5 मीटर) निर्माण पर खर्च 452 करोड़ (लगभग) काम करानेवाली कंपनी आइएलएफएस बड़े पुलों की संख्या 3 छोटे पुलों की संख्या 6 फ्लाइओवर की संख्या 01 अंडर पास की संख्या 7 रेलवे ओवर ब्रिज 01 कलवर्ट की संख्या 53 बस पड़ाव की संख्या 16 इस रोड के बन जाने से खास कर बड़े वाहनों व लंबी दूरी वाली गाड़ियां शहर में नहीं घुसेंगी।

बड़ी गाड़ियां शहर में घुस कर लंबे समय तक जाम में फंसी रहती हैं और ईंधन भी अत्यधिक बर्बाद होता है। अब ऐसा नहीं होगा. शहर की मुख्य सड़कों  पर से थोड़ा ट्रैफिक कम होगा। रिंग रोड के माध्यम से 23.5 किमी की दूरी तय करने में अधिकतम 20 मिनट का ही समय लगेगा, जबकि शहर के अंदर घुस कर इतनी दूरी तय करने में एक घंटे का समय लग रहा था. वहीं बड़े वाहनों के साथ नो इंट्री की भी बाध्यता नहीं रहेगी. वे 24 घंटे चल सकेंगे।

रिंग रोड सेक्शन सेवन का शिलान्यास वर्ष 2008 में हुआ था। इसके बाद इसका निर्माण कार्य शुरू हुआ। जिस कंपनी को काम मिला था, उसने इसे पूरा नहीं कराया। काम आधा-अधूरा रह गया था। ऐसे में सरकार ने उसका एग्रीमेंट रद्द कर दिया था। इस दौरान लंबे समय तक काम बंद रहा। बाद में इसका काम जेएआरडीसीएल को दिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

बोकारो : सॉर्ट सर्किट से लगी आग, घर जलकर खाक

NewsCode Jharkhand | 13 November, 2018 1:34 PM
newscode-image

बोकारो। बिजली के तार में हुए सॉर्ट सर्किट से आग लग गई इस आग की घटना में पूरा घर जलकर खाक हो गया। इस आग लगी से एक लाख से अधिक के नुकसान का अनुमान है। घटना के बाद ग्रामीणों के द्वार आग पर काबू पाने का प्रयास किया गया लेकिन स्थानीय जिला परिषद के प्रतिनिधि की सूचना पर पहुँची  दमकल की गाड़ी ने आग पर काबू पाया।

आज सुबह चास प्रखण्ड के सोनाबाद पंचायत स्थित गांव आमडीहा टोला बंधुडीह के फूलचंद माहतो के कच्चे मकान में सौभाग्य योजना के तहत बिजली का कनेक्सन तार में अचानक के सर्ट सर्किट में आग लग गई।

इस आगलगी की घटना के बाद घर में रखे पुआल में आग लग गई। इसके बाद आग की तेज लपटों ने पूरे घर को पूरी तरह से जलाकर खाक कर दिया। इस घटना के बाद ग्रामीणों ने आग पर काबू करने का प्रयास किया।स्थानीय लोगों की सूचना पर जिला परिषद संजय कुमार के प्रतिनिधि नरेश माहतो ने दमकल विभाग को इसकी जानकारी दी।

मौके पर पहुँची दमकल की एक गाड़ी ने आग पर काबू पाया। इस आग की घटना में घर में  रखा पुआल, कपड़े, अनाज, नकदी समेत अन्य कागजात जल कर खाक हो गया। मौके पर पहुँची पिंडराजोड़ा थाना पुलिस ने घटना स्थल का जायजा लिया।

जिला परिषद संजय कुमार ने इस घटना की जानकारी चास अंचलाधिकारी वन्दन सेजवालकर को दी और पीड़ित को अर्थित सहायता देने की बात कही।सीओ ने कर्मचारी को मौके पर पहुँच नुकसान का आकलन करने का निर्देश दिया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : स्थापना दिवस- नव चयनित शिक्षक ड्रेस कोड में...

more-story-image

रांची : स्थापना दिवस- राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू होंगी चीफ गेस्ट

X

अपना जिला चुने