देवघर : शव को रोड पर रखकर प्रदर्शन, केस दर्ज करने के आश्‍वासन पर हटाया जाम  

NewsCode Jharkhand | 10 August, 2018 7:27 PM
newscode-image

देवघर। दो दिन पहले देवघर के गोपाल रमानी की बिहार के बौशी स्टेशन के पास मौत हो गयी थी। शुक्रवार को गोपाल रमानी का शव देवघर पहुंचते ही, आक्रोशित परिजनों ने शव को बीच सड़क पर रखकर, बजला कॉलेज-करनिबाग रोड को जाम कर दिया। वे नगर थाना देवघर में मामला दर्ज करने की मांग कर रहे थे। भागलपुर जीआरपी थाना प्रभारी ने दूरभाष पर उन्‍हें जानकारी दी थी कि बौशी में एक चाय दुकान में चाय पीने के दौरान गोपाल रमानी की तबियत खराब हो गयी और उसकी मृत्‍यु हो गयी। वहीं परिजनों द्वारा बताया गया कि जसीडीह थाना क्षेत्र के सरसा कुशमाहा गांव में कुछ लोगों से उसका जमीनी विवाद चल रहा था। आसंका जतायी जा रही है कि जहर देकर उसकी हत्या की गई है। देवघर नगर थाना में मामला दर्ज करने का अस्वासन मिलने के बाद जाम हटा लिया गया।

हजारीबाग : दलाल के घर में ही चल रहा था डीटीओ ऑफिस, कागजात बरामद

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

रांची : प्रेस क्लब में मंत्री सीपी सिंह के बयान की भर्त्सना, काला बिल्ला लगाएंगे पत्रकार

NewsCode Jharkhand | 11 October, 2018 9:47 PM
newscode-image

रांची। रांची प्रेस क्लब में पत्रकारों की हुई आपात बैठक में झारखण्ड के नगर विकास मंत्री सीपी सिंह द्वारा पत्रकार बिरादरी के खिलाफ सार्वजनिक रूप से अपमानजनक टिप्पणी की कड़ी शब्दों में भर्त्सना की गई। बैठक में सर्वसम्मति से कई प्रस्ताव पारित कर मंत्री सीपी सिंह के खिलाफ विरोध करने का निर्णय लिया गया।

रांची : प्रेस क्लब में मंत्री सीपी सिंह के बयान की भर्त्सना, काला बिल्ला लगाएंगे पत्रकार

बैठक में पारित प्रस्ताव में कहा गया कि रांची प्रेस क्लब के सदस्य सीपी सिंह की बदसलूकी के खिलाफ 12 एवं 13 अक्टूबर को काला बिल्ला लगायेंगे और अपनी तस्वीर सोशल मीडिया पर पोस्ट करेंगे। प्रेस क्लब का प्रतिनिधिमंडल इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री, विधानसभा अध्यक्ष, भाजपा के शीर्ष नेताओं से मिलकर विरोध जताएगा। साथ ही प्रधानमंत्री, प्रेस कॉउसिल ऑफ इंडिया तथा संबंधित संस्थाओं को विरोध पत्र भेजा जायेगा। मंत्री सीपी सिंह को पत्र लिखकर प्रस्ताव दिया जायेगा कि क्लब को उनकी ओर से दी गयी तीन लाख की राशि रांची प्रेस क्लब वापस करने को तैयार है।

क्लब के अध्यक्ष राजेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में हुई बैठक में मुख्य रूप से सुरेंद्र सोरेन, शंभु नाथ चौधरी, प्रदीप सिंह, जयशंकर, संजय रंजन, सोहन सिंह, पिन्टू दूबे, मधुरशील, जावेद अख्तर, रफी सामी, कमल कुमार, सुशील कुमार सिंह, अशोक यादव, रविंद्र पाण्डेय, धमेंद्र कुमार पाल, मनोज कुमार शर्मा, लोकेश वैध, सुजीत कुमार, अभिशेक पाठक, सुजीत कुमार, विशाल कुमार, राघव कुमार सिंह, एवं अक्षय तिवारी सहित अन्‍य पत्रकार उपस्थित थे।

रांची : झारखंड कैबिनेट ने 10 प्रस्तावों पर लगाई मुहर, खुलेंगे दस नए कृषि विज्ञान केन्द्र

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

बिहार में 25 अक्टूबर से पॉलीथीन बैन, प्रयोग करने पर 1 लाख तक लगेगा जुर्माना

NewsCode | 23 October, 2018 1:14 PM
newscode-image

पटना। बिहार में प्लास्टिक कैरी बैग के प्रयोग को प्रतिबंधित करने के लिए अधिसूचना जारी कर दी गई है। 25 अक्टूबर से हर प्रकार के कैरी बैग के प्रयोग पर प्रतिबंध रहेगा। पटना हाई कोर्ट के आदेश पर बिहार सरकार ने ये फैसला लिया है।

आपको बता दें कि पहले पटना हाई कोर्ट के निर्देश पर प्रतिबंध 24 सितंबर से लगने वाला था लेकिन सरकार ने तैयारियों के लिए एक महीने का समय लिया था। पर्यावरण और वन मंत्रालय ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी है। अधिसूचना के मुताबिक, पॉलीथीन के उत्पादन या बार-बार प्रयोग पर पांच साल की जेल और 1 लाख रुपए जुर्माने का प्रावधान है। हालांकि सरकार ने अबतक के स्टॉक को खपाने के लिए 60 दिनों की मोहलत भी दी है। इसके बाद 15 दिसंबर से पॉलीथीन के प्रयोग पर दंड की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी।

बैन में सिर्फ प्लास्टिक कैरी बैग को प्रतिबंधित किया गया है जबकि बायो वेस्ट के संग्रहण और भंडारण के लिए प्रयोग होने वाले 50 माइक्रोन से अधिक के कैरी बैग पर प्रतिबंध लागू नहीं होगा। साथ ही सभी प्रकार के खाद्य और अन्य पदार्थ की पैकेजिंग, दूध और पौधे उगाने के प्रयोग में आने वाले बैग भी इस बैन से मुक्त रहेंगे।

इससे पहले राज्य सरकार ने कोर्ट का भरोसा दिलाया था कि जरूरी नियमावली बनाने के बाद पूर्ण प्रतिबंध के लिए अधिसूचना जारी कर दी जाएगी। इसके अलावा बिहार सरकार ने कोर्ट में यह भी बताया कि 25 अक्टूबर से शहरों में पॉलिथीन के पूर्ण प्रतिबंध के बाद 25 नवंबर को राज्य के ग्रामीण इलाकों में भी इस पर पूर्ण प्रतिबंध लग जाएगा। यानी शहरों के एक महीना बाद गांवों में पॉलिथीन का इस्तेमाल नहीं किया जा सकेगा।

पहले 24 सितंबर से बिहार में पॉलीथीन पर पूर्ण प्रतिबंध का डेडलाईन पटना हाईकोर्ट की तरफ से दिया गया था लेकिन उस समय राज्य सरकार ने कहा था कि अभी इसके लिए पूरी तरह से तैयार नहीं है। इसलिए अब खुद राज्य सरकार ने बिहार के शहरी क्षेत्रों को पॉलिथीन रहित करने के लिए 25 अक्टूबर की तारीख तय की है।


रांची : पॉलीथीन के खिलाफ निगम की कार्रवाई, कई शॉपिंग मॉल में लगाया जुर्माना

जमशेदपुर : अवैध रूप से चल रहे पॉलीथीन फैक्ट्री में छापा, मशीन को किया सील

Paytm के मालिक को ब्लैकमेल कर मांगे 20 करोड़, महिला सेक्रेटरी समेत तीन गिरफ्तार

NewsCode | 23 October, 2018 12:13 PM
newscode-image

नई दिल्ली। मशहूर मोबाइल वॉलेट कंपनी पेटीएम (Paytm) के कुछ खास कर्मचारियों द्वारा कंपनी के सीईओ विजय शेखर का पर्सनल डाटा चुराकर 20 करोड़ रुपए उगाही करने का मामला सामने आया है। मामले में नोएडा की थाना सेक्टर-20 पुलिस ने कंपनी की महिला वाइस प्रेसिडेंट, उसके पति और एक कर्मचारी को गिरफ्तार किया है।

नोएडा के एसएसपी अजय पाल शर्मा के मुताबिक विजय शर्मा ने उनसे शिकायत की थी कि कोई उन्हें ब्लैकमेल कर रहा है। विजय शर्मा ने बताया कि 20 सितंबर को जब वे जापान में थे, उसी समय उनके पास थाइलैंड के एक नंबर से ब्लैकमेलर का फोन आया। उसने दावा किया कि विजय शर्मा के निजी डाटा उसके पास हैं। इसके एवज में ब्लैकमेलर ने 20 करोड़ की मांग की। साथ ही उसने कहा कि अगर उसे पैसे नहीं दिए गए तो वे पर्सनल डाटा सार्वजनिक कर देगा, जिससे विजय शेखर की छवि खराब हो जाएगी।

ब्लैकमेलर ने कहा कि उसके पास ये डाटा कंपनी के ही एडमिन डिपार्टमेंट में काम करने वाले राहुल और देवेंद्र से मिली है। इन दोनों कर्मचारियों को विजय शर्मा के पर्सनल डाटा कंपनी में सेक्रेटरी सोनिया धवन से मिली है। ब्लैकमेलर ने ये भी बताया कि उगाही की रकम का 10 प्रतिशत राहुल और देवेंद्र को दिया जाएगा। विजय शेखर के मुताबिक अपने ही कर्मचारियों की इस कारगुजारी पर उन्हें पहले तो विश्वास ही नहीं हुआ। इससे वे तनाव में आ गए।

दो महीने से चल रही थी ब्लैकमेलिंग

विजय शेखर के भाई अजय शेखर शर्मा ने पुलिस को दी गई शिकायत में लिखा कि उनकी कंपनी में सोनिया धवन और देवेंद्र कुमार काम करते हैं। सोनिया के पति का नाम रूपक जैन है। वह नोएडा में ही प्रॉपर्टी डीलिंग का काम करता है। सोनिया धवन विजय शेखर की निजी सचिव के रूप में कंपनी में काम करती थीं।

सोनिया, रूपक और देवेंद्र कुमार ने ही साजिश करके विजय के निजी कम्प्यूटर से तमाम महत्वपूर्ण जानकारियां चोरी कर लीं। डेटा चोरी करने के बाद इन लोगों को कोई ऐसा आदमी चाहिए था जो इनसे पैसे निकाल सके। इसके लिए कोलकाता में रोहित चोमल को खोजा गया। उसके बाद देवेंद्र ने कोलकाता जाकर रोहित को डेटा दिया।

सच्चाई जांचने के लिए जमा किए 2 लाख रुपये

डेटा मिल जाने के बाद 10 सितंबर 2018 को रोहित चोमल ने विजय शेखर को फोन किया। एक बार फोन करने के बाद फिर उन्हें वॉट्सऐप कॉल की। पहले 10 करोड़ रुपये मांगे। रोहित ने इन पैसों को बैंक में जमा कराने के लिए आईसीआईसीआई बैंक का खाता नंबर भी दिया।

पुलिस को दी शिकायत में अजय शेखर ने बताया कि 10 अक्टूबर को पहले 67 रुपये और फिर 15 अक्टूबर को 2 लाख रुपये इस खाते में ट्रांसफर भी कर दिए गए। पैसे ट्रांसफर हो जाने के बाद रोहित ने फिर 10 करोड़ रुपये की मांग शुरू कर दी। जब रोहित ने फिर से पैसे जमा करने के लिए प्रेशर बनाना शुरू किया तो उसके बाद अजय शेखर ने पुलिस में शिकायत कर दी।

शिकायत मिलने पर नोएडा पुलिस Paytm के सेक्टर पांच स्थित ऑफिस पहुंची और तीनों आरोपियों- सेक्रेटरी सोनिया, राहुल और देवेंद्र को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के मुताबिक इस पूरी साजिश की मास्टरमाइंड सोनिया है। उसे इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस की मदद से दबोचा गया।

बता दें कि पेटीएम साल 2012 में अस्तित्व में आई। आज 7 मिलियन लोग इसका इस्तेमाल कर रहे हैं। नोटबंदी के बाद अधिकतर लोग Paytm मोबाइल ऐप के जरिये इसी ई-वॉलेट से भुगतान कर रहे थे। साल 2017 में कंपनी का करोड़ों का कारोबार रहा है।


लॉन्च हुआ पेटीएम Payments Bank, मिलेंगे ये सारे फायदे

दिल्ली से आईएसआई एजेंट गिरफ्तार, महिला कर्नल को कर रहा था ब्लैकमेल

More Story

more-story-image

सुप्रीम कोर्ट का फैसला - दिवाली पर सिर्फ 2 घंटे...

more-story-image

कैसा रहेगा आज आपका दिन ? जानें आज दिनांक 23-10-2018...