देवघर : खतरे में है डढ़वा नदी, बालू माफियाओं ने किया बर्बाद

NewsCode Jharkhand | 9 October, 2018 3:39 PM
newscode-image

देवघर की लाइफ लाइन मानी जानेवाली नदी सूखी पड़ी है

देवघर। भोले बाबा की नगरी देवघर में सभी त्योहार बड़े ही धूमधाम से मनाए जाते हैं। छठ पर्व भी इस जगह पूरी श्रद्धा-भक्ति के साथ मनाया जाता है। इस त्‍योहर पर सबसे ज्‍यादा भीड़ देवघर की लाइफ लाइन डढ़वा नदी के घाट पर उमड़ती थी।

अब इस नदी पर खतरा मंडरा रहा है क्‍योंकि नदी सूख गई है। नदी में पानी नहीं होने से छठ वहां नहीं होता। बालू माफियाओं ने बालू निकालकर नदी को बर्बाद कर दिया है। बालू निकाले जाने से नदी में मिट्टी और पत्‍थर जमा हो गया है। अब यह नदी पूरी तरह से बंजर हो गई है। नदी में पानी नहीं के बराबर है।

नदी की दुर्दशा देखकर यहां के छठ पूजा समिति ने नाराजगी जताते हुए नगर निगम से इसकी पुनरुद्धार की अपील की है। नगर निगम पुररुद्धार करने में आनाकानी करेगा तो समिति आंदोलन छेड़ेगी।

देवघर : जरूरतमंदों के लिए युवाओं ने मांगे वस्‍त्र

छठ पूजा सिमि‍ति के शैलेन्‍द्र कुमार ने बताया कि यह नदी देवघर की शान हुआ करती थी। शहर के नजदीक होने और स्वच्छ जल के कारण छठ पूजा इसी नदी के तट पर मनाया जाता था। बालू माफियाओं ने इस नदी केा बर्बाद करके रख दिया।

नदी में पानी नहीं हेाने से अब श्रद्धालु यहां नहीं आते। सरकार ने भी नदी केा बचाने में लापरवाही रवैया अपनाई है। देवघर से कुछ दूर इस नदी पर छोटा बांध बना दिया है। इसके वजह से भी पानी का बहाव बाधित हुआ है।

उन्‍होंने बताया कि हमलोगों को यह चिंता है कि छठ पूजा कहां करेंगे? घाट का निरीक्षण करने के दौरान नदी की दुर्दशा देखकर समिति ने तय किया कि नगर निगम को आवेदन देकर इसे बचाने की गुहार लगाई जाएगी। नगर निगम पहल नहीं करेगा तो आंदोलन छेड़ दिया जाएगा।

वहीं स्‍थानीय लेागों ने इस नदी की विकट स्थिति के लिए जिला प्रशासन को जिम्‍मेवार ठहराया है। उनलोगों ने बताया कि लापरवाही बरतने से ही बालू माफियाओं ने नदी से बालू निकालकर इसे बेकार कर दिया।

नगर निगम के जोनल चेयरमैन वशिष्ठ नारायण सुमन की मानें तो वाकई स्थिति गंभीर है। उन्‍होंने इस मामले को नगर निगम बोर्ड की बैठक में उठाने की बात कही। उन्‍होंने बताया कि विभागीय अनदेखी की वजह से नदी की दुर्दशा हुई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

जब कुदरत के कहर से टकराया सुशांत-सारा का प्यार, देखें ‘केदारनाथ’ का टीजर

NewsCode | 30 October, 2018 2:00 PM
newscode-image

मुंबई। अभिनेता सैफ अली खान की बेटी सारा अली खान बहुत जल्द बॉलीवुड में कदम रखने जा रही हैं। ‘केदारनाथ’ सारा अली खान की पहली फिल्म होगी। वह इस मूवी में सुशांत सिंह राजपूत के साथ दिखेंगी। फिल्म केदारनाथ का टीजर रिलीज हो गया है। यह एक रोमांटिक टीजर दिख रहा है जिसमें केदारनाथ की त्रासदी के बीच एक प्रेम कहानी को दिखाया गया है। इस रोमांटिक टीजर में दोनों की जोड़ी बेहद खूबसूरत लग रही है। फिल्म में सुशांत ने मंसूर और सारा ने मुक्कू का रोल निभाया है।

केदारनाथ 7 दिसंबर को रिलीज होने जा रही है। दरअसल, इस फिल्म की रिलीज डेट को लेकर लगातार बने हुए कन्फ्यूजन के चलते हालांकि यह साफ नहीं हो पा रहा था कि सिनेमाघरों में रिलीज होने वाली सारा की पहली फिल्म केदारनाथ होगी या सिंबा। लेकिन अब सब कुछ साफ हो गया है। केदारनाथ ही वह फिल्म होगी जिससे सारा डेब्यू करेंगी।

देखें केदारनाथ का टीज़र

फिल्म का नया पोस्टर हाल ही में रिलीज किया गया है। इस पोस्टर में सारा और सुशांत सिंह राजपूत पहली बार साथ में नजर आए हैं। पोस्टर में सुशांत सारा को अपनी पीठ पर लाद कर पहाड़ चढ़ते नजर आ रहे हैं। इस फिल्म को अभिषेक कपूर ने डायरेक्ट किया है।

पांच साल पहले शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक केदारनाथ धाम में पहाड़ को चीर के एक सैलाब केदारनाथ मंदिर की तरफ़ आया था और सबकुछ तबाह कर गया, लेकिन कुदरत के इस कहर ने मंदिर को कोई नुकसान नहीं पहुंचाया। फिल्म में गौरी कुंड से केदारनाथ मंदिर तक की उसी 14 किलोमीटर के रास्ते की कहानी है।

सारा की दूसरी फिल्म सिंबा की बात करें तो इसमें वह रणवीर सिंह के साथ नजर आएंगी। सिंबा मशहूर तमिल फिल्म टेंपर का आधिकारिक हिंदी रीमेक है जिसका निर्देशन रोहित शेट्टी कर रहे हैं।


‘केदार नाथ’ सारा के फिल्मी करियर के आगाज का सही मंच

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने किया कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का शुभारंभ

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:38 PM
newscode-image

रांची। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने आज मोरहाबादी स्थित पार्क प्लाजा के दूसरे तल्ले में कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने आशा जतायी कि यह सर्विसेज आम जनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

कंफर्ट लाइव सर्विसेज में फ्लैट खरीद- बिक्री, स्वास्थ्य बीमा, अवधि बीमा, म्युचुअल फंड, एसआईपी एवं वाहनों की बीमा आदि की सुविधा लोगों को प्राप्त हो सकेगी।

शुभारंभ के मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, चंद्रशेखर महतो, संचालक राजेश कुमार, रंजना चौधरी, गीता महतो, कल्पना मुखिया, संतोष  मुखिया, अमित साव एवं अजय श्रीवास्तव सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

भोगनाडीह : झामुमो ने संथाल को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:36 PM
newscode-image

भोगनाडीह  में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल हुए

भोगनाडीह। राज्य को संथाल परगना ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा से तीन तीन मुख्यमंत्री दिये,  लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री बनाया वो गरीब आदिवासी, वंचित दलित की अनदेखी कर अर्थपेटी और मतपेटी भरने का कार्य किया।

साथ ही संथाल परगना को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया। सबसे ज्यादा आदिवासियों की जमीन लूटने का काम सोरेन परिवार ने किया है। आज सीएनटी-एस पीटी एक्ट के उल्लंघन कर विभिन्न शहरों में आदिवासियों की जमीन ले ली।

जबकि संथाल परगना समेत राज्य भर में यह कह कर गुमराह किया गया कि अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी तो आदिवासी की जमीन लूट लेगी। क्या 4 साल सरकार द्वारा किसी आदिवासी की जमीन लूटी गई नहीं। उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

बरहेट का प्रतिनिधित्व करने वाला कभी विधानसभा में सवाल नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरहेट का विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले ने कभी भी विधानसभा में क्षेत्र की समस्याओं को लेकर प्रश्न नहीं रखा, क्योंकि उसे पता ही नहीं है कि क्षेत्र की समस्या क्या है ऐसे में विकास के कार्य कैसे सम्पन्न होंगे।

लोगों को यह सोचना चाहिए और स्थानीय उम्मीदवार को प्राथमिकता देनी चाहिए। चाहे वोकिसी पार्टी का हो।

कार्यकर्ता पार्टी का प्राण, पार्टी के लिए राष्ट्र पहले

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के प्राण हैं। यह एक ऐसी पार्टी है जहां वंशवाद और परिवार नहीं। एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और मजदूर मुख्यमंत्री बन सकता है। मैं भी बूथ स्तर का कार्यकर्ता था।

पार्टी के लिए समर्पण भाव से कार्य करते हुए 1995 में विधायक बना और अब मुख्यमंत्री हूं। आप भी ईमानदारी से कार्य करें। सरकार की योजनाओं को जन जन पहुंचाये। पार्टी के वविभिन्न मोर्चा के लोग इस कार्य में लगे। क्योंकि पार्टी के लिए राष्ट्र पहले है।

इस राष्ट्र को और मजबूत करने के लिए वैश्विक पटल पर अपनी पहचान बना चुके प्रधानमंत्री  के हाथों को मजबूत करें। इस अवसर पर अनंत ओझा,  धर्मपाल सिंह, हेमलाल मुर्मू समेत अन्य मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : अखिल झारखंड छात्र संघ ने चुनाव को लेकर...

more-story-image

धनबाद : बीजेपी सरकार बनने के बाद कृषि विकास दर...

X

अपना जिला चुने