चतरा : विश्व विख्यात गायक कैलाश खेर ने कहा कर्मों से होता है जीव का धर्म निर्धारण

Aman Rana | 8 August, 2018 3:40 PM
newscode-image

मां भद्रकाली मंदिर में की पूजा अर्चना

चतरा। मनुष्य जीवन का कोई धर्म नहीं होता। जीव का जीवनशैली उसके धर्म का निर्धारण करता है। मनुष्य को निस्वार्थ भाव से अपने कर्तव्यों का पालन करते रहना चाहिए। परमात्मा जब चाहे जैसे चाहे उसका निर्धारण कर लेता है। उक्त बातें पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से ईटखोरी पहुंचे प्रसिद्ध गायक कैलाश खेर ने कही।

कैलाश खेर ने कहा कि हिंदू, जैन व बौद्ध यह कोई धर्म नहीं बल्कि जीवन शैली है। कैलाश खेर मां भद्रकाली की खुबियों का बखान करते हुए कहा कि आपके और आपके पूर्वजों के अच्छे कर्तव्यों का परिणाम है कि मां की हाजिरी लगाने का मौका मिलता है।

उन्होंने भद्रकाली मंदिर में अवस्थित म्यूजियम की भी तारीफ की। कहा कि म्यूजियम में रखे विभिन्न जीवन शैलियों के पुरातत्व अवशेष लोगों को जीवन का पाठ पढ़ाती है। अवलोकन करने के बाद उन्होंने मां भद्रकाली के चरणों में माथा टेका और विधि विधान से पूजा अर्चना की।

रांची : कैलाश खेर झारखंड के लिए लिखेंगे गाना

विश्व विख्यात गायक ने मौके पर मौजूद अधिकारियों को फटकार लगाते हुए खुद में तमीज रखने की बात कही। दरअसल जिस समय कैलाश खेर मीडिया से मुखातिब हो रहे थे उस दौरान उनके पीछे खड़े चंद अधिकारी अन्य कार्यों में व्यस्त थे।

पूजा अर्चना के बाद प्रसिद्ध गायक ने पर्यटन सचिव डॉ. मनीष रंजन के साथ मौके पर मौजूद अधिकारियों के साथ बैठक की।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बड़कागाँव : बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना का लाभ लेने को ले डाक घरों में उमड़ी भीड़

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 2:17 PM
newscode-image

बड़कागांव में अफवाहों का बाजार गर्म

दनादन करा रहे हैं स्पीड पोस्ट

बड़कागाँव। विकसित देश की श्रेणी में लाने को लेकर तमाम तरह की योजनाएं देश में लागू की जा रही है। साथ ही साथ आम लोगों को जागरुक करने को लेकर तरह-तरह के कार्य किए जा रहे हैं। बावजूद देश के असंख्य लोग आज भी अफवाहों के शिकार हैं।

जिसका ज्वलंत उदाहरण बड़कागांव के पोस्ट ऑफिस में लगी भीड़ है। ग्रामीणों की भीड़ इतनी है कि पोस्ट ऑफिस परिसर के साथ-साथ मुख्य सड़क भी जाम का शिकार हो गया है। जहां केंद्र सरकार के बाल एवम कल्याण विभाग के  नाम स्पीड पोस्ट कराने की होड़ मची हुई है।

ग्रामीणों का कहना है कि केंद्र सरकार द्वारा बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के अंतर्गत दो लाख की धनराशि बैंक खातों के माध्यम से मिलने का प्रावधान किया गया है। जिसको लेकर व्हाट्सएप्प एवं अन्य सोशल मीडिया के माध्यम से फैलाया गया है जो पूरा झूठ है।

साथ ही साथ अफवाह फैलाने में कारगर साबित हुआ है । जिसको लेकर प्रखंड प्रशासन, पुलिस के साथ-साथ डाक विभाग के पदाधिकारी व कर्मचारियों को भी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।  इस संबंध में लाख समझाने के बावजूद भी ग्रामीण समझने को तैयार नहीं है।

सभी लोग दनादन स्पीड पोस्ट करवा रहे हैं।  इधर बड़कागांव पोस्ट ऑफिस हेड सह उप डाकपाल शालिग्राम सिंह ने बताया कि 1 वर्ष के लिए मंगाये गये स्पीड पोस्ट के बारकोड उक्त अफवाह के बाद मात्र 2 दिन में ही समाप्त हो गया और पुनः हमें भारी संख्या में बारकोड मंगाना पड़ा।

जबकि इस संबंध में हमें किसी तरह की कोई विभागीय  जानकारी नहीं है। जिसको लेकर ग्रामीणों को बताया जा रहा है। बावजूद कोई भी ग्रामीण समझने को तैयार नहीं है। ग्रामीणों की बढ़ती भीड़ को लेकर बार-बार बड़कागाँव पुलिस प्रशासन की सहायता ली जा रही है।

रांची : भारत का एक मात्र पहाड़ी मंदिर जहां राष्ट्रीय पर्व पर फहराया जाता है तिरंगा

वहींं बीडीओ अलका कुमारी ने बताया कि ग्रामीण अफवाह के शिकार हैंं। अफवाह से बचें। किसी तरह की ऐसी योजना नहीं है, जिसके माध्यम से बेटी बचाओ- बेटी पढ़ाओ का फॉर्म भरवाकर सीधे तौर पर पर बैंक खाते में दो लाख की राशि दी जाएगी ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

जमशेदपुर : पक्षी प्रेमियों ने दिखायी संवेदना, सैकड़ों पक्षियों को पिंजरे से किया आजाद

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 2:46 PM
newscode-image

बेजुबानों को भी होती हैै आजादी प्यारी

जमशेदपुर। आजादी किसे प्यारी नहीं होती… चाहे इंसान हो या जानवर, हर कोई आजाद रहना चाहता है। आज एक ओर जहां पूरा देश  आजादी के जश्न मे डूबा हुआ है, वहीं जमशेदपुर के कुछ पक्षी प्रेमियों ने सौ से भी अधिक विदेशी पक्षियों को पिंजरा से आजाद किया और एक संदेश देने का प्रयास किया कि बेजुबानों को भी आजादी प्यारी होती है।

जमशेदपुर : बहुजन क्रांति मोर्चा ने संविधान जलाने वालाेें पर कार्रवाई को लेकर किया विशाल प्रदर्शन

टाटा जू ने भी लंगूरों को खुले बाड़े में रखने का लिया निर्णय

वहीं इस कड़ी में टाटा जू ने भी एक कदम बढ़ा दिया है और आज से जू के लंगूरों को छोटे बाड़े से निकालकर बड़े और खुले बाड़े में आजाद रखने का निर्णय लिया गया। वहीं लंगूर खुले बाड़े में काफी खुश नजर आए। खुले बाड़े में छोड़े जाने के बाद सभी लंगूर इधर उधर धमा- चौकड़ी करते हुए काफी खुश दिखे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

देवघर : आयुषी ने बहायी देश-प्रेम की गंगा, संस्‍कृत में गाया “ऐ मेरे वतन के लोगों”   

NewsCode Jharkhand | 15 August, 2018 2:25 PM
newscode-image

देवघर। एक ओर जहां युवाओं का रुझान पश्चिमी रहन-सहन, खान-पान और व्यवहार की ओर केंद्रित होता जा रहा है तो वहीं दूसरी ओर देश प्रेम की भावना से ओत-प्रोत, कुछ ऐसे भी बच्‍चे-बच्चियां हैं जिनके भीतर अपने देश की सभ्यता, संस्कृति और मातृभाषा की जननी संस्कृत के प्रति अगाध श्रद्धा और समर्पण देखने को मिलती है। देवघर की आयुषी अनन्‍या भी ऐसे ही लोगों में से एक है। आयुषी डीएवी स्कूल में 9वीं क्लास की छात्रा है।

देवघर : आयुषी ने बहायी देश-प्रेम की गंगा, संस्‍कृत में गाया "ऐ मेरे वतन के लोगों" 

संस्कृत को लोकप्रिय बनाने का प्रयास

विलक्षण प्रतिभा की धनी ये बालिका, बॉलीवुड हो या फिर कोई पाश्‍चात्‍य गीत, सभी का न सिर्फ संस्कृत में अनुवाद करती है बल्कि उसे सस्‍वर खुद गाती भी है। आयुषी ने स्‍वतंत्रता दिवस के मौके पर लता मांगेशकर के गए गीत ‘ऐ मेरे वतन के लोगों’ का संस्कृत में अनुवाद किया और खुद ही गाया भी। आयुषी को इस बात का गर्व है कि वह अपनी मातृभाषा की जननि संस्कृत को, गीतों के माध्‍यम से और भी ज्यादा लोकप्रिय बनाने की न सिर्फ एक छोटी से कोशिश कर रही है बल्कि संस्कृत से दूर हो रहे युवाओं को भी अपनी सभ्यता, संस्‍कृति और भाषा की ओर  वापस लौटने के लिए प्रेरित कर रही है।

स्कूल कैंप से मिली संस्‍कृत भाषा में गाने की प्रेरणा

आयुषी को संस्कृत भाषा में गीत गाने की प्रेरणा उसके स्कूल कैंप के दौरान मिली। जहां आयोजित की गई प्रतियोगिता को संस्कृत भाषा में ही पूरा करना था। जब इस प्रतियोगिता में आयुषी ने खुद को संस्कृत के करीब पाया तो फिर उसने पीछे मुड़कर नहीं देखा। फिर एक के बाद एक हिंदी गानों को संस्कृत में अनुवाद करना शुरू कर दिया। आयुषी ने कई कठिन गीतों का सरल संस्कृत में अनुवाद कर उसे अपनी स्‍वर में गाया भी है।

रांची : नन्‍हे देशभक्‍तों ने देश के लिए बलिदान देने का लिया संकल्‍प

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

रांची : नन्‍हे देशभक्‍तों ने देश के लिए बलिदान देने...

more-story-image

चंदनकियारी : हर्षोल्लास के साथ मनाया गया स्वतंत्रता दिवस