चतरा : पीएलवी जिला विधिक सेवा प्राधिकार का महत्वपूर्ण अंग- रीता मिश्रा

NewsCode Jharkhand | 1 June, 2018 8:44 PM
newscode-image

चतरा। स्थानीय न्यायालय परिसर में स्थित कांफ्रेंस हॉल में नवचयनित पारा लीगल वालेंटियर का पांच दिवसीय प्रशिक्षण शुक्रवार को संपन्न हो गया। समापन कार्यक्रम के बतौर मुख्य अतिथि प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह जिला विधिक सेवा प्राधिकार के अध्यक्ष रीता मिश्रा ने अपने संबोधन में कहा कि पारा लीगल वालेंटियर जिला विधिक सेवा प्राधिकार का महत्वपूर्ण बल है।

उन्होंने कहा कि पीएलवी समाज के अंतिम व्यक्ति तक सरकारी योजनाओं को पहुंचाने का कार्य करता है। उन्होंने सभी पीएलवी को इमानदारी पूर्वक अपने-अपने कार्य व दायित्व का निर्वाह करने का आव्हान किया। प्रशिक्षण समापन के पश्चात सभी पीएलवी को प्रमाण पत्र दिया गया।

चतरा : गोमिया, सिल्ली में महागठबंधन की जीत, निकाली विजय जुलूस

प्रशिक्षण में पीएलवी को अपने-अपने क्षेत्र में सरकार के सभी कल्याणकारी योजनओं के बारे में ग्रामीणों को पूर्ण रूप से जानकारी देने, साथ ही नलसा, सीनियर सिटीजन, तेजाब से पीड़ित परिवारों को न्याय दिलाने, प्राकृतिक प्रकोप या अप्राकृतिक प्रकोप के बाद मुवावजे दिलाने, मानसिक रूप से बीमार व्यक्तियों को मदद पहुंचाने, सिविल लॉ, क्रिमिनल लॉ, नालसा के स्कीम, मजदूर ला, पोस्को एक्ट, परिवारिक ला, संविधान में महिलाओं को मिलने वाले अधिकार, मोटर वाहन दुर्घटना एक्ट सहित अन्य जानकारियां विस्तार से दी गई।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

तीन तलाक देने पर मिलेगी सजा, मोदी सरकार ने पारित किया अध्यादेश

NewsCode | 19 September, 2018 1:06 PM
newscode-image

नई दिल्ली। पिछले दो सत्रों से राज्यसभा में पास नहीं हो पाने के बाद केंद्र की नरेंद्र मोदी कैबिनेट ने बुधवार को तीन तलाक से संबंधित अध्यादेश को पारित कर दिया है। मालूम हो कि यह अध्यादेश 6 महीने तक लागू रहेगा, जिसके बाद सरकार को दोबारा इसे बिल के तौर पर पास करवाने के लिए संसद में पेश करना होगा। तीन तलाक के मुद्दे पर मोदी सरकार काफी आक्रामक रही है। इसके लिए सरकार की ओर से  ट्रिपल तलाक बिल भी पेश किया गया था।

लोकसभा में ये बिल पहले ही पास हो चुका है। तीन तलाक बिल इससे पहले बजट सत्र और मॉनसून सत्र में पेश किया गया था, लेकिन राज्यसभा में पास नहीं हो सका था। हालांकि, कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों के विरोध के बाद इस बिल में संशोधन किया गया था। संशोधन के बावजूद भी ट्रिपल तलाक बिल राज्यसभा में पास नहीं हो पाया था।

कांग्रेस ने किया सरकार पर वार

जैसे ही तीन तलाक बिल पर अध्यादेश पारित होने की बात सामने आई, कांग्रेस की ओर से प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार मुस्लिम महिलाओं को हक दिलवाने के पक्ष में नहीं है, हम चाहते हैं कि मुस्लिम महिलाओं को इंसाफ मिले। भारतीय जनता पार्टी इस पर राजनीति कर रही है।

भारतीय जनता पार्टी की तरफ से लगातार कांग्रेस पर तीन तलाक बिल को अटकाने का आरोप लगाया जा रहा है। इसको लेकर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कांग्रेस पर निशाना साध चुके हैं। बता दें कि नए बिल में तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) के मामले को गैर जमानती अपराध तो माना गया है, लेकिन संशोधन के हिसाब से अब मजिस्ट्रेट को जमानत देने का अधिकार होगा।

संशोधित तीन तलाक बिल में क्या है खास

– ट्रायल से पहले पीड़िता का पक्ष सुनकर मजिस्ट्रेट दे सकता है आरोपी को जमानत।

– पीड़िता, परिजन और खून के रिश्तेदार ही एफआईआर दर्ज करा सकते हैं।

– मजिस्ट्रेट को पति-पत्नी के बीच समझौता कराकर शादी बरकरार रखने का अधिकार होगा।

– एक बार में तीन तलाक बिल की पीड़ित महिला मुआवजे की हकदार।


3 तलाक बिल पर ओवैसी का PM मोदी से सवाल- क्या अखलाक-पहलू की पत्नी को मिलेगा न्याय?

राज्यसभा में पेश नहीं हो सका 3 तलाक बिल, शीत सत्र तक टला

मोदी सरकार ने 3 तलाक बिल में किया संशोधन, जानें क्या हुआ बदलाव

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

राफेल सौदे पर फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति का सनसनीखेज खुलासा, कहा- मोदी सरकार ने दिया था रिलायंस का नाम

NewsCode | 21 September, 2018 11:08 PM
newscode-image

नई दिल्ली। देश में राफेल डील पर छिड़ी सियासी समर के बीच एक नया मोड़ आ गया है। भारत और फ्रांस सरकार के बीच हुए डील में अनिल अंबानी की कंपनी को भागीदार बनाने पर कांग्रेस लगातार सवाल उठाती रही है, और अब एक नए खुलासे ने विवाद को फिर से हवा दे दी है। फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद ने कहा है कि राफेल सौदे के लिए भारत सरकार ने अनिल अंबानी की रिलायंस का नाम प्रस्तावित किया था और दैसॉ एविएशन कंपनी के पास दूसरा विकल्प नहीं था। फ्रांस की एक पत्रिका में छपे इंटरव्यू के मुताबिक ओलांद ने कहा कि भारत सरकार की तरफ से ही रिलायंस का नाम दिया गया था। इसे चुनने में दैसॉ एविएशन की भूमिका नहीं है।

गौरतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अनिल अंबानी को राफेल डील में शामिल किए जाने पर लगातार केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लगातार सवाल पूछते रहे हैं। एक फ्रेंच वेबसाइट ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के हवाले से लिखा है कि भारत सरकार की तरफ से ही रिलायंस का नाम दिया गया था। इसे चुनने में दसॉ की भूमिका नहीं है। पूरा विवाद फ्रेंच न्यूज वेबसाइट मीडियापार्ट में शुक्रवार को छपे लेख के बाद आया। फ्रेंच भाषा में छपे इस लेख में राफेल डील को लेकर नए खुलासा किया गया।

बढ़ते विवाद पर रक्षा मंत्रालय ने भी ट्वीट करते हुए सफाई दी है। उसकी ओर से कहा गया है कि व्यवसायिक मामले में भारत सरकार की कोई भूमिका नहीं है। पार्टनर चुनने में न भारत सरकार की कोई भूमिका है और न फ्रेंच सरकार की।

केजरीवाल ने पूछा – अनिल अंबानी से प्रधानमंत्री जी का क्या रिश्ता?

रक्षा मंत्रालय की सफाई पर दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी संयोजक अरविंद केजरीवाल ने सवाल दागते हुए लिखा है कि प्रधान मंत्री जी सच बोलिए। देश सच जानना चाहता है। पूरा सच। रोज़ भारत सरकार के बयान झूठे साबित हो रहे हैं। लोगों को अब यक़ीन होने लगा है कि कुछ बहुत ही बड़ी गड़बड़ हुई है, वरना भारत सरकार रोज़ एक के बाद एक झूठ क्यों बोलेगी?

एक अन्य ट्वीट में केजरीवाल ने कहा है कि राफेल डील के अहम तथ्यों को छुपाकर मोदी सरकार राष्ट्रीय सुरक्षा को खतरे में नहीं डाल रही ? फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति के खुलासे से मोदी सरकार के सारे कथन विरोधाभासी साबित होते हैं। क्या देश को और भी गुमराह किया जा सकता है ?

PM ने धोखा दिया- राहुल

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस खुलासे के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला करते हुए ट्वीट किया, ‘प्रधानमंत्री ने बंद दरवाजे के पीछे निजी तौर राफेल डील पर बात की और इसमें बदलाव कराया। फ्रांस्वा ओलांद को धन्यवाद, हम अब जानते हैं कि उन्होंने दिवालिया हो चुके अनिल अंबानी के लिए बिलियन डॉलर्स की डील कराई। प्रधानमंत्री ने देश को धोखा दिया है। उन्होंने हमारे सैनिकों की शहादत का अपमान किया है।’

दूसरी ओर, कांग्रेस नेता मनीष तिवारी ने इस लेख को रीट्वीट करते हुए ओलांद से डील की कीमत बताने का आग्रह करते हुए कहा, ‘आप यह भी बताएं कि राफेल की 2012 में 590 करोड़ रुपए की कीमत 2015 में 1690 करोड़ कैसे हो गई। करीब-करीब 1100 करोड़ की वृद्धि। मैं जानता हूं कि यूरो की वजह से यह कैलकुलेशन की दिक्कत नहीं है।’

वहीं फ्रेंच भाषा में लिखे लेख को पढ़ने के लिए गूगल ट्रांसलेशन का सहारा लेने के बीच नई दिल्ली में फ्रेंच अखबार ल मॉन्द के दक्षिण एशियाई पत्रकार जुलियन वोयूसो ने ट्वीट करते हुए लोगों को हिदायत दी है कि यह फ्रेंच भाषा में लिखा गया लेख है और इसे गूगल ट्रांसलेशन पर अनुवाद न किया जाए।

उन्होंने इस रिपोर्ट को ट्रांसलेट करते हुए ट्वीट किया कि फ्रांस्वा ओलांद ने भारतीय सरकार के बयान का खंडन किया है। ओलांद के मुताबिक, अनिल अंबानी (रिलायंस डिफेंस) को दसॉ ने नहीं चुना था: ‘हमारे पास विकल्प नहीं था। हमने उसी को अपना पार्टनर चुना जो हमें दिया गया।’

इससे पहले हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) के पूर्व प्रमुख टी एस राजू की ओर से राफेल डील को लेकर किए गए दावों के बाद कांग्रेस ने रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण से इस्तीफा मांगा था। पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी के मुताबिक रक्षा मंत्री ने बुधवार को जो बयान दिया वो बहुत परेशान करने वाला है।

साथ ही कांग्रेस प्रवक्ता ने सरकार से सभी फाइलों को सार्वजनिक करने की मांग की। कांग्रेस राफेल मामले की संयुक्त संसदीय समिति से जांच कराने की मांग पहले ही कर चुकी है। इस मामले में कांग्रेस CAG का दरवाजा खटखटा चुकी है और अब इसे CVC तक भी ले जाने वाली है। वहीं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस संदर्भ में ट्वीट कर निर्मला पर ‘झूठ बोलने’ का आरोप लगाया था।


राफेल, एनपीए के मुद्दे पर अरुण जेटली का पलटवार, राहुल गांधी को बताया ‘मूर्ख राजकुमार’

राहुल ने रक्षा मंत्री को बताया ‘राफेल मंत्री’, बोले- झूठ आया सामने, इस्तीफा दें

राफेल सौदे पर मोदी सरकार को घेरने में जुटी कांग्रेस, CAG में शिकायत लेकर पहुंची

कांग्रेस का दावा- अडानी ने किया 29 हजार करोड़ का कोयला घोटाला, सिंगापुर में मौजूद हैं सबूत

पीएम मोदी पर फिर हमलावर हुए राहुल गांधी, कहा- अगले कुछ हफ्तों में बड़े बम गिराने वाला है राफेल

हजारीबाग : आरंभ वैक्वेंट में शराब के नशे में चाकूबाजी, एसपी का बॉडीगार्ड निलंबित

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 10:10 PM
newscode-image

हजारीबाग। नेशनल हाईवे पर स्थित आरंभ वैंंक्वेट रिसोर्ट में गुरूवार की रात आयोजित आर्केस्ट्रा पार्टी में हंगामा हो गया। पार्टी के दौरान शराब के नशे में हुई मार-पीट और चाकूबाजी की घटना में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। मार-पीट करने का आरोप एसपी कोठी के गार्ड नितेश कुमार सिंह व होटल संचालक प्रफुल्ल सिंह व उसके भाई पर लगा है। इस बाबत फर्द बयान के आधार पर लोहसिंघना थाने में प्राथमिकी दर्ज करने की कवायद की गयी थी। फर्द बयान में होटल संचालक प्रफुल्ल सिंह ने हंटरगंज चतरा के मंटू सिंह नामक व्यक्ति द्वारा होटल आर्केस्ट्रा के लिए बुक कराने की बात कही।

हजारीबाग : आरंभ वैक्वेंट में शराब के नशे में चाकूबाजी, एसपी का बॉडीगार्ड निलंबित

इस दौरान वहां बार गर्ल से डांस भी करवाया गया। डीजे बंद कराने को लेकर अहले सुबह उसके भाई और स्वयं के साथ एसपी के बॉडीगार्ड ने मारपीट की। वही एसपी कोठी का गार्ड नितेश कुमार सिंह ने अपने फर्द बयान में होटल संचालक द्वारा पार्टी के नाम पर रात करीब साढ़े नो बजे फोन कर बुलाने की बात कहीं गई। इस दौरान पार्टी में शराब पीने को लेकर उसके साथ प्रफुल्ल सिंह, उसका भाई पुष्कल सिंह व उनके कर्मियों ने चाकू, रड व छोलनी से हमला कर दिया। हजारीबाग सदर डीएसपी मंगल सिंह जामुदा के अनुसार SP के बॉडीगार्ड नितेश सिंह को निलंबित कर दिया गया है। मामले की गहन जांच की जा रही है।

कटकमसांडी : गगनचुंबी आलम और रंग-बिरंगे ताजिया ने लोगों को किया आकर्षित

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

चाईबासा : राज्य सरकार ने हाईटेक प्रखंड कार्यालय का शुरू...

more-story-image

चांडिल : घायल को झावियुमो प्रखंड उपाध्यक्ष ने पहुँचाया अस्पताल