चाईबासा : जिला विधिक सेवा प्राधिकार की बैठक में मुआवजा अधिनियम पर हुई चर्चा

NewsCode Jharkhand | 25 August, 2018 2:44 PM
newscode-image

चाईबासाजिला विधिक सेवा प्राधिकार, पश्चिमी सिंहभूम, चाईबासा, के तत्वावधान में प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकार के प्रकोष्ठ में मीटिंग हुई।

इस अवसर पर प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश मनोरंजन कवि, उपायुक्त सह उपाध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिका अरवा राजकमल, आरक्षी अधीक्षक सह सदस्य  कांति कुमार गडदेसी, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकार श्री कृष्ण कांत मिश्रा, जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष मदन मोहन दरीपा, सरकारी अधिवक्ता निरंजन प्रसाद साव, लोक अभियोजक बलिराम सिंह, अधिवक्ता डेनिस बांनरा,  समाजसेवी विकास दोदराजका आदि उपस्थित हुए।

चक्रधरपुर : केरा गांव में मिला डेंगू का मरीज, चाईबासा सदर अस्पताल रेफर

बैठक में  पीड़ित मुआवजा अधिनियम के अंतर्गत कुल 10 आवेदन प्रस्तुत किए गए जिनमें नौ  मामलों में न्यायालय द्वारा अंतिम फैसला किया जा चुका है एवं एक मामला विचाराधीन है। सभी मामलों पर विचार के पश्चात कुल 33 लाख रुपयेे झारखंड पीड़ित मुआवजा अधिनियम के अंतर्गत देने का फैसला किया गया।

इसके साथ ही पीड़ित के पुनर्वास हेतु कस्तूरबा विद्यालय में नामांकन कराने का आदेश दिया गया। इसके अतिरिक्त मोटर दुर्घटना दावा वाद से संबंधित 4 मामलों में न्याय शुल्क के रूप में कुल 27, 900 रुपया पारित करने का निर्णय लिया गया।

25 अगस्त को व्यवहार न्यायालय परिसर में मासिक लोक अदालत का एवं 8 सितंबर 2018 को राष्ट्रीय लोक अदालत का किया जाएगा। इसकी जानकारी प्राधिकार के सचिव कृष्ण कांत मिश्रा ने दी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

तीन तलाक देने पर मिलेगी सजा, मोदी सरकार ने पारित किया अध्यादेश

NewsCode | 19 September, 2018 1:06 PM
newscode-image

नई दिल्ली। पिछले दो सत्रों से राज्यसभा में पास नहीं हो पाने के बाद केंद्र की नरेंद्र मोदी कैबिनेट ने बुधवार को तीन तलाक से संबंधित अध्यादेश को पारित कर दिया है। मालूम हो कि यह अध्यादेश 6 महीने तक लागू रहेगा, जिसके बाद सरकार को दोबारा इसे बिल के तौर पर पास करवाने के लिए संसद में पेश करना होगा। तीन तलाक के मुद्दे पर मोदी सरकार काफी आक्रामक रही है। इसके लिए सरकार की ओर से  ट्रिपल तलाक बिल भी पेश किया गया था।

लोकसभा में ये बिल पहले ही पास हो चुका है। तीन तलाक बिल इससे पहले बजट सत्र और मॉनसून सत्र में पेश किया गया था, लेकिन राज्यसभा में पास नहीं हो सका था। हालांकि, कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों के विरोध के बाद इस बिल में संशोधन किया गया था। संशोधन के बावजूद भी ट्रिपल तलाक बिल राज्यसभा में पास नहीं हो पाया था।

कांग्रेस ने किया सरकार पर वार

जैसे ही तीन तलाक बिल पर अध्यादेश पारित होने की बात सामने आई, कांग्रेस की ओर से प्रतिक्रिया आनी शुरू हो गई। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार मुस्लिम महिलाओं को हक दिलवाने के पक्ष में नहीं है, हम चाहते हैं कि मुस्लिम महिलाओं को इंसाफ मिले। भारतीय जनता पार्टी इस पर राजनीति कर रही है।

भारतीय जनता पार्टी की तरफ से लगातार कांग्रेस पर तीन तलाक बिल को अटकाने का आरोप लगाया जा रहा है। इसको लेकर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी कांग्रेस पर निशाना साध चुके हैं। बता दें कि नए बिल में तीन तलाक (तलाक-ए-बिद्दत) के मामले को गैर जमानती अपराध तो माना गया है, लेकिन संशोधन के हिसाब से अब मजिस्ट्रेट को जमानत देने का अधिकार होगा।

संशोधित तीन तलाक बिल में क्या है खास

– ट्रायल से पहले पीड़िता का पक्ष सुनकर मजिस्ट्रेट दे सकता है आरोपी को जमानत।

– पीड़िता, परिजन और खून के रिश्तेदार ही एफआईआर दर्ज करा सकते हैं।

– मजिस्ट्रेट को पति-पत्नी के बीच समझौता कराकर शादी बरकरार रखने का अधिकार होगा।

– एक बार में तीन तलाक बिल की पीड़ित महिला मुआवजे की हकदार।


3 तलाक बिल पर ओवैसी का PM मोदी से सवाल- क्या अखलाक-पहलू की पत्नी को मिलेगा न्याय?

राज्यसभा में पेश नहीं हो सका 3 तलाक बिल, शीत सत्र तक टला

मोदी सरकार ने 3 तलाक बिल में किया संशोधन, जानें क्या हुआ बदलाव

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

हजारीबाग : आरंभ वैक्वेंट में शराब के नशे में चाकूबाजी, एसपी का बॉडीगार्ड निलंबित

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 10:10 PM
newscode-image

हजारीबाग। नेशनल हाईवे पर स्थित आरंभ वैंंक्वेट रिसोर्ट में गुरूवार की रात आयोजित आर्केस्ट्रा पार्टी में हंगामा हो गया। पार्टी के दौरान शराब के नशे में हुई मार-पीट और चाकूबाजी की घटना में तीन लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। मार-पीट करने का आरोप एसपी कोठी के गार्ड नितेश कुमार सिंह व होटल संचालक प्रफुल्ल सिंह व उसके भाई पर लगा है। इस बाबत फर्द बयान के आधार पर लोहसिंघना थाने में प्राथमिकी दर्ज करने की कवायद की गयी थी। फर्द बयान में होटल संचालक प्रफुल्ल सिंह ने हंटरगंज चतरा के मंटू सिंह नामक व्यक्ति द्वारा होटल आर्केस्ट्रा के लिए बुक कराने की बात कही।

हजारीबाग : आरंभ वैक्वेंट में शराब के नशे में चाकूबाजी, एसपी का बॉडीगार्ड निलंबित

इस दौरान वहां बार गर्ल से डांस भी करवाया गया। डीजे बंद कराने को लेकर अहले सुबह उसके भाई और स्वयं के साथ एसपी के बॉडीगार्ड ने मारपीट की। वही एसपी कोठी का गार्ड नितेश कुमार सिंह ने अपने फर्द बयान में होटल संचालक द्वारा पार्टी के नाम पर रात करीब साढ़े नो बजे फोन कर बुलाने की बात कहीं गई। इस दौरान पार्टी में शराब पीने को लेकर उसके साथ प्रफुल्ल सिंह, उसका भाई पुष्कल सिंह व उनके कर्मियों ने चाकू, रड व छोलनी से हमला कर दिया। हजारीबाग सदर डीएसपी मंगल सिंह जामुदा के अनुसार SP के बॉडीगार्ड नितेश सिंह को निलंबित कर दिया गया है। मामले की गहन जांच की जा रही है।

कटकमसांडी : गगनचुंबी आलम और रंग-बिरंगे ताजिया ने लोगों को किया आकर्षित

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

चाईबासा : राज्य सरकार ने हाईटेक प्रखंड कार्यालय का शुरू किया निर्माण 

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 10:07 PM
newscode-image

हाईटेक नवनिर्मित कार्यालय का उद्घाटन भाजपा सांसद और प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा ने किया।

चाईबासा। प सिंहभूम जिला के सुदूरवर्ती गांवों के विकास को गति देने के लिए राज्य सरकार  ने हाईटेक प्रखंड कार्यालय का निर्माण कराना शुरू कर दिया है। इसी के तहत आज जिले के मंझारी प्रखंड के नये और हाईटेक नवनिर्मित कार्यालय का उद्घाटन भाजपा सांसद और प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा ने किया।

चक्रधरपुर : ‘झारखंड संघर्ष यात्रा’ पर 27 को निकलेंगे हेमंत सोरेन, खरसावां में होगा भव्य स्वागत

इस मौके पर मझगांव के झामुमो विधायक निरल पूर्ति, जिला परिषद अध्यक्ष लालमुनि पूर्ति सहित विभिन्न गांवों के मुखिया, मुंडा और स्थानीय लोग मौजूद रहे, भारी बारिश के बावजूद नये और हाईटेक प्रखंड कार्यालय के उद्घाटन समारोह में लोग बेहद खुश दिखे।

मंझारी प्रखंड के नये कार्यालय में बीडीओ, सीओ, सीडीपीओ,पंचायत सेवक, प्रखंड प्रमुख सहित अन्य कर्मियों के बैठने के लिए पर्याप्त कमरे बनाए गए।

एक बड़े मीटिंग हॉल के साथ हर सुविधा इस नये कार्यालय में मौजूद है। भव्य और हाईटेक कार्यालय को देख कर विपक्षी विधायक निरल पूर्ति भी राज्य सरकार की तारीफ करने में कंजूसी नहीं की। विधायक ने कहा कि सरकार चाहे जिसकी हो वे विकास  के समर्थक हैं।

भाजपा सांसद ने कहा कि मंझारी प्रखंड का पुराना कार्यालय वर्षों से जर्जर था और अधिकारियों -कर्मियों केे लिए बैठने की पर्याप्त जगह नहीं थी, ऐसे राज्य सरकार ने सभी की परेशानियों को देखते हुए नये कार्यालय बनाने का सिलसिला शुरू किया है, जिससे एक ही छत के नीचे काम कराने में सुविधा होगी। जिप अध्यक्ष ने भी कहा कि मंझारी प्रखंड के 50 हजार ग्रामीणों को इसका सीधा लाभ मिलेगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

चांडिल : घायल को झावियुमो प्रखंड उपाध्यक्ष ने पहुँचाया अस्पताल

more-story-image

गिरिडीह : चोरों ने किराने दुकान पर किया हाथ साफ़,...