76 के हुए बिग बी, एक नज़र अमिताभ के फिल्मी करियर पर

NewsCode | 11 October, 2018 9:19 AM
newscode-image

हिंदी फिल्म जगत के ‘शहंशाह’ अमिताभ बच्चन का आज जन्मदिन है। फिल्म ‘सात हिंदुस्तानी’ के साथ अपनी  अभिनय पारी का श्रीगणेश करने वाले बिग बी आज जीवन के 76 वर्ष पूरे कर रहे हैं। न्यूज़कोड की ओर से अमिताभ बच्चन को जन्मदिन की बधाई और उन्हें स्वस्थ एवं दीर्घ जीवन की शुभकामनाएँ।

आइये अमिताभ बच्चन के करियर पर डालते हैं एक नज़र

1. सात हिंदुस्तानी (1969)

बिग बी हुए 75 के, एक नज़र फिल्मी करियर पर

पहली फिल्म। जो ज्यादा चली नहीं। इसके बाद अमिताभ की 6 और फिल्में भी नहीं चलीं। लेकिन एक बात पता चल गई कि ये लड़का टिकाऊ है।

2. ज़ंजीर  (1973)

अमिताभ की पहली सुपरहिट फिल्म। बॉलीवुड में स्थापित हुए और ‘एंग्री यंग मैन’ की छवि लोगों के जेहन में उतर गयी।

3. शोले (1975)

हिंदी सिनेमा इतिहास की शायद सबसे ज्यादा पसंद की गई फिल्म। लोगों ने इतनी बार देखी कि एक-एक सीन और डायलॉग लोगों को याद है।

4. डॉन (1978)

बिग बी का डबल रोल। जबरदस्त सस्पेंस थ्रिलर। सुपरहिट परफॉरमेंस।

5. लावारिस (1981)

 

मेरे अंगने में तुम्हारा क्या काम है – औरत के गेटअप में अमिताभ। गाने को आवाज भी उन्होंने ही दी है।

6. शराबी (1984)

अमीर बाप की शराबी और बिगड़ी औलाद। लेकिन दिल का बड़ा अच्छा। अमिताभ का अभिनय शानदार है।

7. कभी खुशी कभी गम (2001)

सदी के साथ अमिताभ भी बदले। दो आधुनिक ख्याल बेटों के अहंकारी बाप का किरदार निभाया। फिल्म सुपरहिट।

8. पा (2009)

फिल्म में अमिताभ ने 12 साल के बालक का किरदार निभाया जो “प्रोगेरिआ” जैसी बीमारी से जूझ रहा है। यह फिल्म अमित जी के करियर की सबसे मुश्किल फिल्मों में से एक। फिल्म के लिए बेस्ट अभिनेता का फिल्मफेयर अवार्ड भी मिला।

9. पिंक (2016)

स्त्रीप्रधान और महिला जज्बातों पर बनी फिल्म। वकील के किरदार में अमिताभ। फिल्म को काफी प्रशंसा मिली।

10. कौन बनेगा करोड़पति (टीवी गेम शो)

भारतीय टीवी इतिहास का सबसे ज्ञानपरक और रोचक शो। टीआरपी में भी हिट। अमिताभ कई सीजनों को होस्ट कर चुके हैं।


कौन बनेगा करोड़पति-10 के एक एपिसोड के लिए इतने करोड़ लेंगे अमिताभ

‘खइके पान बनारस वाला’ के बारे में ये बात शायद ही आपको मालूम हो, खुद अमिताभ ने खोला राज

‘ठग्स…’ में अंग्रेजों से लोहा लेंगे देसी ठग अमिताभ और ‘फिरंगी’ आमिर, देखें एक्शन से भरपूर ट्रेलर

झारखंड की फिल्म नीति देश के प्रगतिशील फिल्म नीतियों में से एक- सुनील वर्णवाल

NewsCode Jharkhand | 26 November, 2018 5:48 PM
newscode-image

गोवा/रांची। मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सह सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के सचिव सुनील कुमार वर्णवाल ने कहा कि झारखंड की फिल्म नीति देश के प्रगतिशील फिल्म नीतियों में से एक है। उन्होंने कहा कि झारखंड 2015 में फिल्म नीति के अनावरण के बाद देश भर के कई राज्यों से फिल्म निर्माताओं ने झारखंड आकर फिल्म बनाने पर जोर दिया है। यहां क्षेत्रीय भाषाओं में भी कई फिल्म बनी है।

वे पणजी, गोवा में भारत के 49वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म समारोह में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर रहे थे। झारखंड को इस वर्ष आईएसएफआई में फोकस राज्य के रूप में चुना गया है। यह पहली बार है कि आईएसएफआई में किसी राज्य को फोकस राज्य के रूप में चुनने की प्रक्रिया शुरू की है।

सुनील वर्णवाल ने कहा कि झारखंड पूरे भारत में अपनी खनिज संपदा के लिए प्रसिद्ध है। उन्होंने कहा कि झारखंड राज्य से देश की खनिज संपदा का 40प्रतिशत प्राप्त होता है। झारखंड जैसे पहाड़ी स्थल, झरने, जल, बांध, वन्यजीव की समृद्ध क्षमता और कहीं नहीं है।

राज्य में 30 प्रतिशत भौगोलिक क्षेत्र घने जंगलों से ढका हुआ है। राज्य सरकार फिल्म नीति के माध्यम से फिल्म उद्योग के क्षेत्र में कार्य कर रहे लोगों का ध्यान आकर्षित करने और उन्हें झारखंड के खजाने को देखने और दिखाने के लिए आमंत्रित कर रही है।

वर्णवाल ने झारखंड की फिल्म नीति के बारे में कहा कि इसके अनुसार झारखंड की स्थानीय भाषा में बनाए गए फिल्मों को कुल लागत का अधिकतम 50प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा और हिंदी, बांग्ला, उड़िया और अन्य क्षेत्रीय भाषाओं में बनाए गए फिल्मों को कुल लागत का 25प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि फिल्म के कुल शूटिंग दिनों में से आधे से अधिक दिन यदि झारखंड में फिल्माये गये हो तो उसे एक करोड़ और कुल दिनों के दो तिहाई के लिए  2 करोड़ रुपए तक की अनुदान दी जाएगी।

प्रधान सचिव ने कहा कि झारखंड में आगे की फिल्मों को और प्रोत्साहन मिलेगा। उन्होंने कहा कि झारखंड में बड़ी संख्या में स्थानीय कलाकार उपलब्ध है जो मौका देने पर राष्ट्रीय स्तर तक पहुंच सकते हैं। सत्यजीत रे जैसे महान फिल्म निर्माता भी झारखंड में आकर फिल्म बना चुके हैं।

अन्य बंगाली निदेशकों ने भी राज्य की प्रकृति और सुंदरता का अपने फिल्मों में उपयोग किया है। सरकार का प्रयास है कि इस तरह की फिल्मों को फिल्म नीति द्वारा सुव्यवस्थित किया जाए, जिससे राज्य को फिल्म निर्माण के गंतव्य में बदला जा सके।  इस अवसर पर झारखण्ड सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के अन्य पदाधिकारी भी उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने किया कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का शुभारंभ

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:38 PM
newscode-image

रांची। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने आज मोरहाबादी स्थित पार्क प्लाजा के दूसरे तल्ले में कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने आशा जतायी कि यह सर्विसेज आम जनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

कंफर्ट लाइव सर्विसेज में फ्लैट खरीद- बिक्री, स्वास्थ्य बीमा, अवधि बीमा, म्युचुअल फंड, एसआईपी एवं वाहनों की बीमा आदि की सुविधा लोगों को प्राप्त हो सकेगी।

शुभारंभ के मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, चंद्रशेखर महतो, संचालक राजेश कुमार, रंजना चौधरी, गीता महतो, कल्पना मुखिया, संतोष  मुखिया, अमित साव एवं अजय श्रीवास्तव सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

भोगनाडीह : झामुमो ने संथाल को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:36 PM
newscode-image

भोगनाडीह  में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल हुए

भोगनाडीह। राज्य को संथाल परगना ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा से तीन तीन मुख्यमंत्री दिये,  लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री बनाया वो गरीब आदिवासी, वंचित दलित की अनदेखी कर अर्थपेटी और मतपेटी भरने का कार्य किया।

साथ ही संथाल परगना को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया। सबसे ज्यादा आदिवासियों की जमीन लूटने का काम सोरेन परिवार ने किया है। आज सीएनटी-एस पीटी एक्ट के उल्लंघन कर विभिन्न शहरों में आदिवासियों की जमीन ले ली।

जबकि संथाल परगना समेत राज्य भर में यह कह कर गुमराह किया गया कि अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी तो आदिवासी की जमीन लूट लेगी। क्या 4 साल सरकार द्वारा किसी आदिवासी की जमीन लूटी गई नहीं। उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

बरहेट का प्रतिनिधित्व करने वाला कभी विधानसभा में सवाल नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरहेट का विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले ने कभी भी विधानसभा में क्षेत्र की समस्याओं को लेकर प्रश्न नहीं रखा, क्योंकि उसे पता ही नहीं है कि क्षेत्र की समस्या क्या है ऐसे में विकास के कार्य कैसे सम्पन्न होंगे।

लोगों को यह सोचना चाहिए और स्थानीय उम्मीदवार को प्राथमिकता देनी चाहिए। चाहे वोकिसी पार्टी का हो।

कार्यकर्ता पार्टी का प्राण, पार्टी के लिए राष्ट्र पहले

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के प्राण हैं। यह एक ऐसी पार्टी है जहां वंशवाद और परिवार नहीं। एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और मजदूर मुख्यमंत्री बन सकता है। मैं भी बूथ स्तर का कार्यकर्ता था।

पार्टी के लिए समर्पण भाव से कार्य करते हुए 1995 में विधायक बना और अब मुख्यमंत्री हूं। आप भी ईमानदारी से कार्य करें। सरकार की योजनाओं को जन जन पहुंचाये। पार्टी के वविभिन्न मोर्चा के लोग इस कार्य में लगे। क्योंकि पार्टी के लिए राष्ट्र पहले है।

इस राष्ट्र को और मजबूत करने के लिए वैश्विक पटल पर अपनी पहचान बना चुके प्रधानमंत्री  के हाथों को मजबूत करें। इस अवसर पर अनंत ओझा,  धर्मपाल सिंह, हेमलाल मुर्मू समेत अन्य मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : अखिल झारखंड छात्र संघ ने चुनाव को लेकर...

more-story-image

धनबाद : बीजेपी सरकार बनने के बाद कृषि विकास दर...

X

अपना जिला चुने