विश्व बालश्रम निषेध दिवस : झारखंड में अभी भी 4 लाख से अधिक हैं बाल श्रमिक

NewsCode Jharkhand | 12 June, 2018 12:22 PM
newscode-image

खोती बचपन के साथ-साथ नारकीय जीवन जीने को विवश

रांची। विश्व बाल श्रम निषेध दिवस प्रत्येक साल 12 जून को मनाया जाता है। भारत में बाल श्रम की समस्या दशकों से प्रचलित है। भारत सरकार ने बाल श्रम की समस्या को समाप्त क़दम उठाए हैं। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 23, बड़े व खतरनाक उद्योगों में बच्चों के रोजगार पर प्रतिबंध लगाता है।

भारत की केंद्र सरकार ने 1986 में बाल श्रम निषेध और नियमन अधिनियम पारित कर दिया। इस अधिनियम के अनुसार बाल श्रम तकनीकी सलाहकार समिति नियुक्त की गई। इस समिति की सिफारिश के अनुसार, खतरनाक उद्योगों में बच्चों की नियुक्ति निषेध है। 1987 में, राष्ट्रीय बाल श्रम नीति बनाई गई थी।

विश्व बालश्रम निषेध दिवस : झारखंड में अभी भी 4 लाख से अधिक हैं बाल श्रमिक

झारखंड में करीब 4 लाख से अधिक बाल श्रमिक

सरकारी आंकड़ों के अनुसार झारखंड में करीब 4 लाख, भारत में करीब 2 करोड़ और अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन के अनुसार लगभग 5 करोड़ बच्चे बाल श्रमिक हैं। इन बाल श्रमिकों में से 19 फीसदी के लगभग घरेलू नौकर हैं, ग्रामीण और असंगठित क्षेत्रों में तथा कृषि क्षेत्र से लगभग 80 फीसदी जुड़े हुए हैं।

ठेकेदारों के हाथ बेच दिये जाते हैं ये बच्चे

शेष अन्य क्षेत्रों में, बच्चों के अभिभावक ही बहुत थोड़े पैसों में उनको ऐसे ठेकेदारों के हाथ बेच देते हैं जो अपनी व्यवस्था के अनुसार उनको होटलों, कोठियों तथा अन्य कारखानों आदि में काम पर लगा देते हैं। उनके नियोक्ता बच्चों को थोड़ा सा खाना देकर मनमाना काम कराते हैं। 18 घंटे या उससे भी अधिक काम करना, आधे पेट भोजन और मनमाफ़िक काम न होने पर पिटाई यही उनका जीवन बन जाता है।

विश्व बालश्रम निषेध दिवस : झारखंड में अभी भी 4 लाख से अधिक हैं बाल श्रमिक

कई घातक कार्य करते हैं ये बच्चे

केवल घर का काम नहीं इन बाल श्रमिकों को पटाखे बनाना, कालीन बुनना, वेल्डिंग करना, ताले बनाना, पीतल उद्योग में काम करना, कांच उद्योग, हीरा उद्योग, माचिस, बीड़ी बनाना, खेतों में काम करना, कोयले की खानों में, पत्थर खदानों में, सीमेंट उद्योगों, दवा उद्योगों में तथा होटलों व ढाबों में जूठे बर्तन धोने आदि सभी काम मालिक की मर्जी के अनुसार करने होते हैं।

ये बच्चे नहीं जीते हैं अपने बचपन

इन समस्त कार्यों के अतिरिक्त कूड़ा बीनना, पॉलिथीन की गंदी थैलियां चुनना, आदि अनेक कार्य हैं जहां ये बच्चे अपने बचपन को नहीं जीते, नरक भुगतते हैं परिवार का पेट पालते हैं। इनके बचपन के लिए न मां की लोरियां हैं न पिता का दुलार, न खिलौने हैं, न स्कूल न बालदिवस। इनकी दुनिया सीमित है तो बस काम काम और काम, धीरे धीरे बीड़ी के अधजले टुकड़े उठाकर धुआं उडाना, यौन शोषण को खेल मानना इनकी नियति बन जाती है।

रांची : झारखंड में विधानसभावार कांग्रेस ने प्रभारियों की सूची जारी की

विश्व बालश्रम निषेध दिवस : झारखंड में अभी भी 4 लाख से अधिक हैं बाल श्रमिक

ये कहता है भारतीय संविधान

संवैधानिक व्यवस्था के अनुरूप भारत का संविधान मौलिक अधिकारों और राज्य के नीति-निर्देशक सिद्धांत की विभिन्न धाराओं के माध्यम से कहता है-

  • 14 साल के कम उम्र का कोई भी बच्चा किसी फैक्टरी या खदान में काम करने के लिए नियुक्त नहीं किया जायेगा और न ही किसी अन्य खतरनाक नियोजन में नियुक्त किया जायेगा (धारा 24)।
  • राज्य अपनी नीतियां इस तरह निर्धारित करेंगे कि श्रमिकों, पुरुषों और महिलाओं का स्वास्थ्य तथा उनकी क्षमता सुरक्षित रह सके और बच्चों की कम उम्र का शोषण न हो तथा वे अपनी उम्र व शक्ति के प्रतिकूल काम में आर्थिक आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए प्रवेश करें (धारा 39-ई)।
  • संविधान लागू होने के 10 साल के भीतर राज्य 14 वर्ष तक की उम्र के सभी बच्चों को मुफ़्त और अनिवार्य शिक्षा देने का प्रयास करेंगे (धारा 45)।
  • बच्चों को स्वस्थ तरीके से स्वतंत्र व सम्मानजनक स्थिति में विकास के अवसर तथा सुविधाएं दी जायेंगी और बचपन व जवानी को नैतिक व भौतिक दुरुपयोग से बचाया जायेगा (धारा 39-एफ)।
  • बाल श्रम एक ऐसा विषय है, जिस पर संघीय व राज्य सरकारें, दोनों कानून बना सकती हैं। दोनों स्तरों पर कई कानून बनाये भी गये हैं।
  • अन्य प्रयास जो इस संदर्भ में समय समय पर हुए हैं उनमें
    • बाल श्रम (निषेध व नियमन) कानून 1986- यह कानून 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को किसी भी अवैध पेशों और 57 प्रक्रियाओं में, जिन्हें बच्चों के जीवन और स्वास्थ्य के लिए अहितकर माना गया है, नियोजन को निषिद्ध बनाता है। इन पेशों और प्रक्रियाओं का उल्लेख कानून की अनुसूची में है।
    • फैक्टरी कानून 1948- यह कानून 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के नियोजन को निषिद्ध करता है। 15 से 18 वर्ष तक के किशोर किसी फैक्टरी में तभी नियुक्त किये जा सकते हैं, जब उनके पास किसी अधिकृत चिकित्सक का फिटनेस प्रमाण पत्र हो। इस कानून में 14 से 18 वर्ष तक के बच्चों के लिए हर दिन साढ़े चार घंटे की कार्यावधि तय की गयी है और रात में उनके काम करने पर प्रतिबंध लगाया गया है।
    • भारत में बाल श्रम के खिलाफ कार्रवाई में महत्वपूर्ण न्यायिक हस्तक्षेप 1986 में उच्चतम न्यायालय के उस फैसले से आया, जिसमें संघीय और राज्य सरकारों को खतरनाक प्रक्रियाओं और पेशों में काम करने वाले बच्चों की पहचान करने, उन्हें काम से हटाने और उन्हें गुणवत्तायुक्त शिक्षा प्रदान करने का निर्देश दिया गया था। न्यायालय ने यह आदेश भी दिया था कि एक बाल श्रम पुनर्वास सह कल्याण कोष की स्थापना की जाये, जिसमें बाल श्रम कानून का उल्लंघन करनेवाले नियोक्ताओं के अंशदान का उपयोग हो।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

चक्रधरपुर : नहीं रहे पूर्व रात्रि प्रहरी जीत बहादुर थापा

NewsCode Jharkhand | 12 October, 2018 4:06 PM
newscode-image

श्रद्धांजलि

चक्रधरपुर । गुदरी बाजार में रात्रि प्रहरी के रूप में कार्य कर चुके जीत बहादुर थापा का व्यक्तित्‍‍‍व अपने जीवन काल से ही संघर्षशील रहा। इन्‍‍‍‍‍‍‍‍होंने  जवानी वा बुढ़ापा गुदरी बाजार में  ही गुजार दी।

पूरी तरह से चरमरा गई थी आर्थिक स्थिति

करीब 30 साल की सेवा इन्‍होंने यहां दी। एक दुर्घटना में पीठ की कमर की हड्डी टूट गई। उसके बाद वो बाजार छोड़ चले गये। इस घटना ने इनकी आर्थिक स्थिति पूरी तरीके से चरमरा गई। इनकी सुध लेने वाला कोई नहीं था। लोगों से पैसे मांग कर अपना गुजर- बसर कर रहे थे।

2 अक्टूबर 2017 को गांधी जयंती के दिन मैं इनके पास पहुंचा, तो पता लगा सरकार से इनको कोई सुविधा नहीं मिल रही । तब हम लोगों ने वादा किया कि जब तक सरकार आपको आपका हक नहीं दे देती, तब तक  संगठन आप को सहायता प्रदान करेगी।

निरंतर प्रयास से  इनको सरकारी मदद दिलायी गई।  जब तक सरकारी मदद नहीं मिली, तब तक आर्थिक सहयोग भी करते रहे।

हम संतुष्ट हैंं कि हमने आखिरी समय में  इनकी आंखों में संतुष्टि का भाव देखा और हम लोगों ने इनसे कहा भी था कि आप जीवित रहेंं, हम आपसे वादा करते हैं कि आपको एक अपना घर सरकार से मुहैया कराने की कोशिश करेंगे।

आज से एक सप्‍ताह पहले इनका देहांत हो गया। आज उनकी सुध लेने के लिए इनके निवास पहुंचा तो वहां के आस -पड़ोस के लोगों ने बताया कि पिछले गुरुवार को उनका देहांत हो गया।अफसोस है कि जीत बहादुर थापा हमारे बीच नहीं रहे।

रामगोपाल जेना

चक्रधरपुर

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

कैसा रहेगा आज आपका दिन ? जानें आज दिनांक 16-10-2018 का अपना राशिफल

NewsCode | 16 October, 2018 9:46 AM
newscode-image

सुप्रभात मित्रों! परिवार में प्यार से लेकर तक़रार, व्यापार में मुनाफा से लेकर उधार, सेहत में बुखार से लेकर सुधार, करियर, रोजगार, कार इत्यादि के लिए कैसा रहेगा आज आपका दिन। पढ़ें अपना राशिफल :

मेष/Aries (मार्च 21-अप्रैल 20) – आज मानसिक रूप से अशांत रह सकते हैं, हर कार्य को ध्यानपूर्वक करना होगा, कार्यक्षेत्र में परेशानी हो सकती है, दोपहर बाद राह चलने में सावधानी रखें।

वृष/Taurus (अप्रैल 21–मई 21) – साहस के साथ काम करेंगे, कार्य-व्यवसाय में तरक्की की संभावना है, प्रोपर्टी के क्षेत्र में निवेश कर सकते हैं, पारिवारिक सुख का आनंद मिलेगा।

मिथुन/Gemini (मई 22–21 जून) – मानसिक रूप से दबाव में रहेंगे, कार्य-व्यवसाय में लाभ होगा, अचानक नुकसान हो सकते हैं, पत्नी के सेहत का ख्याल रखें।

कर्क/Cancer (जून 22–जुलाई 23) – स्थिर मानसिकता से काम करेंगे, युवाओं के विवाह की बात हो सकती है, प्रेम करने वाले भी विवाह कर सकते हैं, विदेश यात्रा का लाभ मिलेगा।

सिंह/Leo (जुलाई 24–अगस्त 23) – घर-वाहन के खरीद पर ध्यान केन्द्रित हो सकता है, साझेदारी वाले व्यवसाय के लिए समय अनुकूल है, कर्मचारियों के ऊपर दबाव बनाना उचित नहीं होगा , खर्च की अधिकता होगी।

कन्या/Virgo (अगस्त 24–सितंबर 23) – हिम्मत के साथ काम करने का लाभ मिलेगा, छोटे कर्मचारियों का सहयोग मिलेगा, कार्य विस्तार के लिए किसी से मुलाकात हो सकती है, प्रेम करने वाले के लिए भी समय अनुकूल है।

तुला/Libra (सितंबर 24–अक्टूबर 23) – धन की चिन्ता होगी, पारिवारिक समस्या से मन परेशान हो सकता है , कार्य व्यवसाय में तरक्की के लिए दूसरे पर आश्रित हो सकते हैं, दाम्पत्य सुख भी सामान्य है।

वृश्चिक/Scorpio (अक्टूबर 24–नवंबर 22) – विचार स्वस्थ होंगे, साहस के साथ काम को आगे बढ़ाने का प्रयास करेंगे, प्रापर्टी के क्षेत्र में किसी प्रकार निवेश नुकसान दे सकता है, मां के सेहत का ध्यान रखना होगा।

धनु/Sagittarius (नवंबर 23–दिसंबर 21) – मन और वाणी दोनों पर नियंत्रण जरूरी है, मानसिक रूप से पीड़ित हो सकते हैं ,आमदनी के साथ-साथ खर्च की अधिकता है, अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना जरूरी है।

मकर/Capricorn (दिसंबर 22–जनवरी 20) – प्रभावपूर्ण वाणी बोलेंगे, आप अनुभवी हैं ऐसा प्रदर्शित करेंगे, धन लाभ की संभावना है, धन संचित करने का भी विचार करेंगे।

कुंभ/Aquarius  (जनवरी 20–फरवरी 19) – कार्य व्यवसाय के ऊपर ध्यान केन्द्रित रहेगा, सांसारिक सुखों को भोगने का समय है, कार्य व्यवसाय की तरक्की से प्रसन्नता होगी, निवेश का लाभ मिलेगा।

मीन/Pisces (फरवरी 20–मार्च 20) – धार्मिक कार्यों में रूचि लेंगे, कार्य व्यवसाय सामान्य है , नुकसान न हो इसका ध्यान रखना होगा, विवाह की बात टूट सकती है।


नवरात्रि में व्रत रखने वालों के लिए इन बातों पर ध्यान देना जरूरी

नवरात्र में भूलकर भी न करें ये काम, इन लोगों को नहीं रखना चाहिए उपवास

कैसा रहेगा आज आपका दिन ? जानें आज दिनांक 14-10-2018 का अपना राशिफल

NewsCode | 14 October, 2018 9:01 AM
newscode-image

सुप्रभात मित्रों! परिवार में प्यार से लेकर तक़रार, व्यापार में मुनाफा से लेकर उधार, सेहत में बुखार से लेकर सुधार, करियर, रोजगार, कार इत्यादि के लिए कैसा रहेगा आज आपका दिन। पढ़ें अपना राशिफल :

मेष/Aries (मार्च 21-अप्रैल 20) – चोट-चपेट से बचना चाहिए, सेहत का भी ध्यान रखें, पारिवारिक समस्याओं के ऊपर ध्यान देना होगा, माता के सेहत का ध्यान रखें।

वृष/Taurus (अप्रैल 21–मई 21) – मानसिक रूप से भावुक रहेंगे, लंबी यात्रा के योग हो सकते हैं, कार्य व्यवसाय उत्तम है, परिवार के साथ समय गुजारना पसंद करेंगे।

मिथुन/Gemini (मई 22–21 जून) – दृढ़तापूर्वक कार्य करने का लाभ मिलेगा, पार्टनर के साथ मिलकर व्यापार बढ़ाने का प्रयास करेंगे, युवाओं के विवाह की बात होगी, नये कार्य की योजना भी बना सकते हैं।

कर्क/Cancer (जून 22–जुलाई 23) – क्रोध करने से बचें, कार्य व्यवसाय उत्तम है, साझेदारी में काम प्रारंभ न करें, दाम्पत्य जीवन में दबाव महसूस करेंगे।

सिंह/Leo (जुलाई 24–अगस्त 23) – परिवार की चिंता होगी, प्रोपर्टी से संबंधित खरीद-बिक्री सावधानी से करें, युवा अपने दोस्तों पर विशेष भरोसा करेंगे, विशिष्ट व्यक्तियों का सहयोग मिलेगा।

कन्या/Virgo (अगस्त 24–सितंबर 23) – सामर्थ्य का विकास होगा, अपने मन के अनुकूल घर लेने में सफल हो सकते हैं, पारिवारिक सदस्यों का सहयोग मिलेगा, कार्य व्यवसाय उत्तम है।

तुला/Libra (सितंबर 24–अक्टूबर 23) – धन निवेश की चिंता होगी, आगे नयी नौकरी की तलाश होगी, शारीरिक रूप से थकान महसूस करेंगे, कार्य व्यवसाय की चिंता होगी।

वृश्चिक/Scorpio (अक्टूबर 24–नवंबर 22) – कार्य क्षेत्र में निवेश की योजना होगी, निवेश पर ध्यान भी रखना होगा, कर्मचारियों का सहयोग नहीं मिलेगा, भाई के साथ मनमुटाव हो सकता है।

धनु/Sagittarius (नवंबर 23–दिसंबर 21) – मानसिक रूप से चिंताग्रस्त हो सकते हैं, वाणी पर नियंत्रण जरूरी है, जीवनसाथी का सहयोग मिलेगा, ईश्वर भक्ति में मन लगेगा।

मकर/Capricorn (दिसंबर 22–जनवरी 20) – गुस्सा करने से बचें, कार्य व्यसाय पर ध्यान देना होगा, अचानक कार्य क्षेत्र में दबाव महसूस करेंगे, अति आत्मविश्वास में न रहें।

कुंभ/Aquarius  (जनवरी 20–फरवरी 19) – कार्य व्यवसाय उत्तम है, अपेक्षा के अनुकूल लाभ की संभावना है, अनुभवी लोगों का सहयोग मिलेगा, प्रेम संबध प्रगाढ़ होंगे।

मीन/Pisces (फरवरी 20–मार्च 20) – धार्मिक कार्य करने वाले के लिए समय अनुकूल है, घर खरीदने का सपना पूरा हो सकता है, कार्य व्यवसाय सामान्य है, दाम्पत्य सुख उत्तम है।


नवरात्रि में व्रत रखने वालों के लिए इन बातों पर ध्यान देना जरूरी

नवरात्र में भूलकर भी न करें ये काम, इन लोगों को नहीं रखना चाहिए उपवास

More Story

more-story-image

कैसा रहेगा आज आपका दिन ? जानें आज दिनांक 13-10-2018...

more-story-image

रांची : व्‍यवसायी नरेंद्र सिंह होरा हत्याकांड का हुआ खुलासा