चाकुलिया : जामडोली मुख्य सड़क के निर्माण कार्य पर ग्रामीणों ने लगाई रोक

NewsCode Jharkhand | 20 November, 2017 12:30 PM
newscode-image

चाकुलिया। प्रखंड के जामडोली मुख्य सड़क के निर्माण कार्य पर ग्रामीणों ने रोक लगा दी है।

ग्रामीणों का कहना है कि निर्माण में जो सामग्री का उपयोग किया जा रहा है, वह घटिया किस्‍म का है।

इसलिए जब तक सामग्री की जांच नहीं होगी, तब तक काम नहीं होगा।

इतना ही नहीं, ग्रामीणों का यह भी कहना है कि आखिर कितने की लागत से सड़क का निर्माण हो रहा है।

यह जानकारी सूचना पट्ट में नहीं दिया गया है। जबकि कानूनन दृष्टिकोण से सूचना पट्ट में अभिकर्ता का नाम, लंबाई और योजना का नाम के साथ साथ राशि भी अंकित होना चाहिए, ताकि लोग भी यह समझ सकें कि  कितने लाख की लागत से सड़क का निर्माण हो रहा है।

वहीं ग्रामीणों ने पूरे मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग की है।

ताकि दोषियों पर कार्रवाई हो सके, यह सड़क PWD द्वारा बनवायी जा रही है।

रांची : पुलिस लाठीचार्ज व गिरफ्तारी के खिलाफ पारा शिक्षकों की हड़ताल शुरू

NewsCode Jharkhand | 16 November, 2018 2:55 PM
newscode-image

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस के मौके पर रांची के मोरहाबादी में पारा शिक्षकों पर पुलिस लाठीचार्ज और गिरफ्तारी के खिलाफ पारा शिक्षकों ने शुक्रवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी है।

एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा ने 15 नवंबर को धरना-प्रदर्शन में शामिल होने वाले पारा शिक्षकों व शिक्षिकाओं को कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए हौसलाआफजाई करते हुए गिरफ्तार पारा शिक्षकों का जमानत कराने का निर्णय लिया है।

संघ की ओर से पारा शिक्षकों और पत्रकारों पर की गयी बर्बरतापूर्ण कार्रवाई की निन्दा की गयी है। संघ के नेताओं ने इसे हिटलरशाही रवैया बताते हुए अनिश्चितकालीन हड़ताल की शुरुआत करते हुए जिले के सभी विद्यालयों में पठन-पाठन ठप्प कराने के लिए जिले में अपनी एकजुटता का प्रदर्शन करने का आह्वान किया है।

जिलों में पारा शिक्षकों से यह विशेष रूप से ध्यान रखने की अपील की गयी है कि वे अपने-अपने क्षेत्रों में कोई भी स्कूल ना रहे, यह सुनिश्चित करने का प्रयास करें। साथ ही साथ गिरफ्तार किये गये साथियों की रिहाई और बर्खास्त पारा शिक्षकों के लिए संघर्ष में सभी से सहयोग की अपील की गयी है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

धनबाद : झोपड़ीनुमा कई दुकानों में लगी आग

NewsCode Jharkhand | 19 November, 2018 1:39 PM
newscode-image

धनबाद। धनबाद जिले के कुमारधुबि बाजार में रविवार देर रात झोपड़ीनुमा दुकानों में आग लग गई। इस अगलगी में कई दुकानें जल कर खाक हो गई। घटना की सूचना मिलने पर स्थानीय लोग आग पर काबू पाने में जुट गये।

वहीं आग लगने के कारणों का कुछ भी पता नहीं चला है। घटना कुमारधुबि ओपी क्षेत्र की है। मौके पर पहुंची पुलिस ने घटना स्थल का जायजा लिया। फिलहाल पुलिस कुछ भी बताने से इंकार कर रही है।

आशंका जताई जा रही है कि यह आग शार्ट सर्किट से लगी है. इस घटना में लगभग लाखों रुपए की समान जलकर नष्ट हो गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

अध्यक्ष विहीन है JPSC, तीन माह पहले ही आयोग ने सरकार को दी थी अध्यक्ष पद खाली होने की सूचना

Om Prakash | 19 November, 2018 1:37 PM
newscode-image

रांची : झारखंड लोक सेवा आयोग (जेपीएससी) के अध्यक्ष के विद्यासागर का कार्यकाल 13 नवंबर को समाप्त हो गया. के विद्यासागर के बाद वर्तमान में जेपीएससी अध्यक्ष पद रिक्त है. इसी दिशा में पहल करते हुए कार्मिक विभाग मुख्यमंत्री के पास जेपीएससी के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति का प्रस्ताव भेज चुका है. मुख्यमंत्री सचिवालय द्वारा तीन नामों पर स्वीकृति होने के बाद इसे अंतिम रूप से निर्णय लेने के लिए राज्यपाल को भेजा जायेगा.

विगत 13 नवंबर को के विद्यासागर का कार्यकाल खत्म होने के बाद जेपीएससी अध्यक्ष के रूप में किसी ने योग्यदान नहीं दिया है. हालांकि, आयोग ने तीन माह पूर्व ही सरकार को अध्यक्ष पद के खाली होने की जानकारी दे दी थी. सूचना के बाद भी सरकार की ओर से इस दिशा में पहल नहीं की गयी. वहीं, किसी को अध्यक्ष पद का प्रभार भी नहीं सौंपा गया. नियमत: अध्यक्ष के हटने पर आयोग के ही वरीय सदस्य को अध्यक्ष का प्रभार दिया जाता है, लेकिन सरकार की तरफ से इस दिशा में पहल नहीं की गयी है. आयोग के वरीय सदस्य के रूप में डॉ एके चट्टोराज एवं डॉ सुखी उरांव कार्य कर रहे हैं. चार सदस्यों में से दो सदस्य ही कार्य रहे हैं, दो सदस्य के पद रिक्त हैं. वहीं, आयोग के सचिव जगजीत सिंह की चुनाव प्रक्रिया में शामिल होने  के लिए तेलंगाना में पदस्थापना कर दी गयी है, जो संभवत: 13 दिसंबर तक तेलंगाना में चुनाव डयूटी में रहेंगे.

 

के विद्यासागर के अध्यक्ष बनने के बाद यह उम्मीद की जा रही थी कि उनके कार्यकाल में ही छठी जेपीएससी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा संपन्न होगी, लेकिन उनका कार्यकाल खत्म होने के बाद ही छठी जेपीएससी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा जनवरी में होनी है. सबसे कमाल की बात रही कि तमाम विवाद के बाद के विद्यासागर द्वारा छठी जेपीएससी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा की तिथियों की घोषण की गयी. अब देखना है कि नये जेपीएससी अध्यक्ष छठी जेपीएससी सिविल सेवा की मुख्य परीक्षा के सफल आयोजन में कितने सफल होते हैं, साथ ही आयोग की कई परीक्षा को सुचारू रूप से कैसे आयोजन करते हैं.

 

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

मुख्य सचिव सुधीर त्रिपाठी को फिर एक्सटेंशन, मार्च तक बने...

more-story-image

गुमला : अलग-अलग घटनाओं में तीन की मौत

X

अपना जिला चुने