अजब-गजब : यहाँ एक मुस्लिम महिला ने बंदर के नाम कर दी अपनी सारी संपत्ति

NewsCode | 20 May, 2018 1:40 PM
newscode-image

उत्तर प्रदेश के रायबरेली जिले में जानवरों के प्रति अपनापन और प्यार-लगाव की एक अनोखी कहानी सामने आई है। इस कहानी के केंद्र में सबसे बड़ा किरदार चुनमुन नाम का एक बंदर है। आप यह जानकर हैरान हो जाएंगे कि चुनमुन की वजह से एक महिला के हिस्से में इतनी खुशियां आ गईं कि उसने सारी संपत्ति अपने पालतू बंदर के नाम कर दी है।

चुनमुन की पिछले साल जब मौत हो गई, तो महिला ने अपने घर में उसका मंदिर बनवा दिया। बीते मंगलवार को मंदिर में राम-लक्ष्मण और सीता के साथ बंदर की मूर्ति की प्राण-प्रतिष्ठा की गई। इस मौके पर भंडारा भी कराया गया। महिला ने अपने घर का नाम भी बंदर के नाम पर ही रखा है।

दरअसल, रायबरेली के शक्तिनगर निवासी कवयित्री साबिस्ता को यह बंदर करीब 13 साल पहले मिला था। सबिस्ता मानती हैं कि चुनमुन के आने के बाद उनकी किस्मत ने करवट ली और उनकी जिंदगी बदल गयी। आपको बता दें कि सबिस्ता मुस्लिम हैं, इसके बावजूद उन्होंने अपने घर में मंदिर बनवाया। उन्होंने 1998 में ब्रजेश श्रीवास्तव से प्रेम विवाह किया था दोनों की कोई संतान नहीं है।

ये है दुनिया की सबसे बूढ़ी महिला, यमराज भी भूला इनके घर का रास्ता

बकौल साबिस्ता, “जब हमने ब्रजेश से लव मैरिज की, तो समाज में जीना दूभर हो गया था। कामकाज ठप्प होने से हमारे ऊपर कर्ज भी बढ़ता चला गया। मन की शांति के लिए हम हिंदू धर्मग्रंथों को पढ़ने लगे, साधु-संतों की शरण में जाने लगे। इसी बीच एक जनवरी, 2005 को चुनमुन हमारे घर का नन्हा मेहमान बना।”

उन्होंने कहा, “जब हमने एक मदारी से चुनमुन को लिया, तब उसकी उम्र सिर्फ तीन महीने थी। चुनमुन हमारे लिए भाग्यशाली साबित हुआ। न सिर्फ हमारा सारा कर्ज उतर गया, बल्कि धन-दौलत सबकुछ हासिल हुआ।”

अजब-गजब: वफादार कहे जाने वाले कुत्ते ने खेल-खेल में मालिक को मारी दी गोली

साबिस्ता ने बंदर की अच्छी तरह से परवरिश की। घर के तीन कमरे उसके लिए विशेषतौर पर रखे गए थे। चुनमुन के कमरे में एयरकंडीशनर और हीटर भी लगा हुआ था। 2010 में शहर के पास ही छजलापुर निवासी अशोक यादव के यहां पल रही बंदरिया से उसका विवाह भी कराया गया। सबिस्ता के मुताबिक, उनकी कोई संतान नहीं थी, इसलिए उन्होंने चुनमुन को ही अपना बेटा मान लिया। चुनमुन के नाम से एक संस्था बनाई और सारी संपत्ति उसके नाम कर दी।

अजब-गजब: यूट्यूब से पैसे कमाने के लिए पति के साथ मिलकर महिला करती थी ये घिनौना काम

अजब-गजब : बोर्ड परीक्षा में 4 विषयों में फेल हुआ बेटा फिर भी परिवार ने मनाया जश्न

 

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की याद में योगी सरकार इन 4 शहरों में बनाएगी स्मारक

NewsCode | 18 August, 2018 6:03 PM
newscode-image

लखनऊ। दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर योगी सरकार उत्तर प्रदेश के शहरों में 4 बड़े स्मारक बनाने की तैयारी में है। यूपी सरकार जल्द ही कैबिनेट की बैठक में प्रस्ताव लाकर इन स्मारकों को बनाने पर फैसला लेगी।

इन 4 शहरों में बनेगा अटल बिहारी वाजपेयी का स्मारक

1. योगी सरकार एक स्मारक का निर्माण आगरा स्थित अटल के पैतृक गांव बटेश्वर में कराएगी,

2. वहीं दूसरा बलरामपुर में कराया जाएगा। बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी ने 1957 में बलरामपुर से पहला लोकसभा चुनाव जीता था।

3. तीसरा स्मारक कानपुर में बनाने की योजना है क्योंकि यहां स्थित डीएवी कॉलेज से अटल बिहारी वाजपेयी ने उच्च शिक्षा ग्रहण की थी।

4. चौथा स्मारक लखनऊ में बनाने की योजना है। दरअसल, लखनऊ सीट से वह पांच बार लोकसभा सदस्य रहे।

इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कहा था कि उत्तर प्रदेश वाजपेयी की कर्मभूमि रहा है। इस सूबे के हर क्षेत्र से उन्हें गहरा लगाव था। इसीलिये जनभावनाओं का सम्मान करते हुए वाजपेयी की अस्थियां प्रदेश के सभी जिलों की मुख्य नदियों में प्रवाहित की जाएंगी, ताकि राज्य की जनता को भी उनकी अन्तिम यात्रा से जुड़ने का अवसर मिल सके।

गौरतलब है कि शुक्रवार शाम दिल्ली के राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। गम और आंसुओं के बीच उनकी बेटी नमिता ने कांपते हाथों से वाजपेयी की चिता को मुखाग्नि दी।


हज से पहले मक्का पर इकट्ठे हुए लाखों मुसलमान, श्रद्धालुओं को मिलेगी ‘स्लीपिंग पॉड’ की सुविधा

INDvsENG: इंग्लैंड ने जीता टॉस, भारत पहले करेगा बल्लेबाजी, ऋषभ पंत खेलेंगे अपना डेब्यू टेस्ट मैच

नहीं रहे नोबेल विजेता पूर्व संयुक्त राष्ट्र महासचिव कोफी अन्नान

LIVE: केरल के 11 जिलों में रेड अलर्ट- भारी बारिश का अनुमान, बेहाल प्रदेश की मदद को आगे आए अन्‍य राज्‍य

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

बाघमारा : जमीन विवाद को लेकर एसडीएम ने रैयतों संग की बैठक

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 8:12 PM
newscode-image

बाघमारा (धनबाद)। एनएच निर्माण में जमीन विवाद समस्या को लेकर एसडीएम अनन्य मित्तल ने रैयतों के साथ शनिवार को प्रखण्ड सभागार में बैठक की। बैठक में भटमुरना, काको, धावाचीता, कतरास समेत अन्‍य जगहों के रैयत शामिल हुए।

एसडीएम ने रैयतों को भरोसा दिलाया कि किसी के साथ नाइंसाफी नहीं होगी तथा सरकारी जमीन पर बनाए जा चुके घर के मालिक को भी मुआवजा दिया जाएगा।

बाघमारा : छात्रा से छेड़खानी और अपहरण का प्रयास, दोनों आरोपी चढ़े पुलिस के हत्थे

उन्‍होंने कहा कि एनएच निर्माण कार्य में तेजी लाने के लिये सोमवार से सरकारी जमीन पर बनाए गए घरों सहित अन्‍य निर्माणों को तोड़ने का काम शुरू हो जाएगा।

बैठक में रैयतों ने एसडीएम से सवाल किया कि बहुत से लोगों की निजी रैयती जमीन को गैरआबाद खाते का बताया जा रहा है, कई व्‍यक्तियों के जमीन का मुआवजा दूसरे लोगों को दिया गया है। इस सवाल पर एसडीएम ने लोगों से कहा कि न्यायालय जिसके पक्ष में फैसला सुनाएगा उसे मुआवजा मिलेगा। दूसरा कोई भी व्‍यक्ति मुआवजा लेगा तो उसे रुपये लौटाने पड़ेंगे।

बैठक में भूअर्जन पदाधिकारी एजाज अनवर, सीओ दीप्ति प्रियंका कुजूर, एनएच के शेलेन्द्र कुमार सहित सभी रैयत उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

दुमका : बेकाबू ट्रैक्टर ने दो लोगों को रौंदा,एक की मौत, पांच घंटे तक सड़क जाम

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 8:08 PM
newscode-image

मुआवजा के आश्वासन पर माने लोग

दुमका। जिले के रामगढ़ थाना क्षेत्र के रामगढ़-गोड्डा मुख्य मार्ग पर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र से करीब 5 सौ गज की दूरी पर एक बेकाबू ट्रैक्टर ने दो लोगों को रौंद दिया। जिसमें से गंभीर रूप से घायल थाना क्षेत्र के कुशमाहा गांव निवासी सरजन सोरेन ने इलाज के दौरान अस्पताल में ही दम तोड़ दिया।

दुमका : लूट की योजना बना रहे अंतर्राज्‍यीय गिरोह के सात अपराधी गिरफ्तार

जबकि जरमुंडी थाना क्षेत्र के नोनीहाट निवासी सुखदेव दास गंभीर जख्मी इलाजरत है। घटना के बाद ग्रामीणों की मदद से आनन-फानन में दोनों व्यक्ति को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र, रामगढ़ में भर्ती कराया गया। जहां प्राथमिक उपचार के बाद गंभीर रूप से घायल नोनीहाट के सुखदेव दास को सदर अस्पताल, दुमका रेफर कर दिया गया।

श्राद्ध में शामिल होने रामगढ़ आया था सुखदेव

सुखदेव दास अपनी सास के श्राद्ध में शामिल होने रामगढ़ आया था। सरजन सोरेन को डॉक्टर ने जीवित बताकर दुमका रेफर कर रहे थे, लेकिन उसकी सांस चलता नहीं देख परिजन समझ गए कि सरजन की मौत हो चुकी है।

रेफर करनेे को तैयार नहीं थे परिजन

प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी संजय कुमार मिश्रा परिजन को बार-बार समझा रहे थे कि युवक कोमा में है, उसे रेफर करना जरूरी है। परिजन किसी की बात सुनने को तैयार नहीं हुए। किसी तरह से सरजन को एंबुलेंस में भी चढ़ाया गया, लेकिन परिजनों ने उसे एंबुलेंस से जबरन उतार लिया।

थोड़ी देर के बाद सरजन को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। इधर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में हंगामा कर रहे परिजन तथा कुशमाहा गांव के ग्रामीणों ने मृतक के शव को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अंदर रख मुआवजे की मांग को लेकर रामगढ़-गोड्डा मुख्य मार्ग को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के सामने जाम कर दिया।

मौके पर पहुंची रामगढ़ थाना पुलिस  शव को कब्जे में लेना चाह रही थी। लेकिन ग्रामीणों ने पुलिस को शव लेने नहीं दिया। इधर दुर्घटना कर भाग रहे ट्रैक्टर को पुलिस ने जब्त कर लिया है।

ग्रामीणों ने बताया कि सरजन शनिवार को रामगढ़ बाजार से राशन का चावल लेकर वापस अपने घर जा रहा था। जबकि विपरीत दिशा से बाइक पर सवार होकर सुखदेव दास आ रहा था। सुखदेव को बचाने के प्रयास में ट्रैक्टर चालक ने उसे रौंद दिया।

5 पांच घंटे रहा रामगढ़-गोड्डा मुख्य मार्ग जाम

सड़क दुर्घटना में युवक की मौत के बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने करीब 5 घंटे तक रामगढ़-गोड्डा मार्ग को अवरुद्ध कर दिया। मौके पर हंसडीहा एवं काठीकुंड सर्किल इंस्पेक्टर सीओ रामा रविदास ने ग्रामीणों को समझाने तथा सरकारी नियमानुसार मुआवजा देने का आश्वासन देकर जाम हटवाया। गौर तलब है कि मृतक के दो छोटे छोटे बच्चे हैं। घटना के बाद से मृतक की पत्नी का रो-रो कर बुरा हाल है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

बेरमो : सांप्रदायिक सौहार्द के लिए मिशाल होगा नावाडीह-प्रमुख

more-story-image

गुमला : कुएं में डूबने से युवक की मौत, हसुआ...