यूपीः कुख्यात माफिया सरगना मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या

NewsCode | 9 July, 2018 11:59 AM
newscode-image

नई दिल्ली।पूर्वांचल के कुख्यात डॉन प्रेम प्रकाश उर्फ मुन्ना बजरंगी की बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई। उत्तर प्रदेश के माफिया सरगना मुख्तार अंसारी के खासम-खास माने जाने वाले मुन्ना बजरंगी रंगदारी के मामले में पेशी के लिए झांसी से बागपत लाया गया था,जहाँ जेल में उसकी हत्या की गई। जेल में हुई हत्या से जेल और पुलिस प्रशासन में भी हड़कंप मच गया है। पुलिस पूरे मामले की जांच में जुट गई है। घटना की सूचना मिलते ही जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक जेल पहुंचे और घटना का जायजा लिया।

सुनील राठी पर शक

इस बीच लखनऊ में राज्य के पुलिस उपमहानिरीक्षक (कानून एवं व्यवस्था) प्रवीन कुमार ने बताया कि शुरुआती जांच हत्या में कुख्यात अपराधी सुनील राठी का नाम सामने आ रहा है। सुनील राठी यूपी के साथ उत्तराखंड में सक्रिय है। सुनील की मां राजबाला छपरौली से बसपा से चुनाव लड़ चुकी है।

वहीं, इस सनसनीखेज घटना के बाद यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जेलर को निलंबित कर दिया है और न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। सीएम ने कहा, जेल परिसर के अंदर होने वाली ऐसी घटना एक गंभीर बात है। जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जांच के बाद सख्त कार्रवाई की जाएगी।

हत्या के बाद हथियार डाला गटर में

सूत्रों के मुताबिक, सुबह करीब छह बजे आधा दर्जन गोलियां चलने की आवाज आई। कुछ देर बाद बजरंगी की हत्या का शोर जेल में गूंज उठा। हत्या से जेल प्रशासन में हड़कम मचने के साथ लखनऊ तक का प्रशासन हिल गया। जानकारी मिलते ही डीएम ऋषिरेंद्र, एसपी जयप्रकाश भारी पुलिस बल के साथ जेल पहुंचे। वहीं अधिवक्ताओं ने भी जेल को घेरे रखा। अधिवक्ता के मुताबिक, मुन्ना बजरंगी के सिर में 10 गोलियां मारी गई हैं। इतना ही नहीं, माफिया की हत्या के बाद हथियार को गटर में डाल दिया गया।

दो साल पूर्व बड़ौत के पूर्व विधायक लोकेश दीक्षित में पूर्वांचल के कुख्यात मुन्ना बजरंगी पर रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज कराया था। सोमवार को बागपत कोर्ट में पेशी के लिए रविवार रात ही बजरंगी को सुरक्षा के बीच झांसी से बागपत जेल भेजा गया था।

पत्नी ने जताई थी हत्या की आशंका

गौरतलब है कि पिछले दिनों मुन्ना बजंरगी की पत्नी ने अपने पति की हत्या कराने जांन की आशंका जताते हुए उनकी सुरक्षा बढ़ाने की मांग की थी। पिछले दिनों लखनऊ में हुए एक गैंगवार में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी के साले पुष्पजीत सिंह की हत्या कर दी गई। गत शुक्रवार को मुन्ना पुलिस अभिरक्षा के बीच साले की तेरहवीं में भाग लेने के लिए विकासनगर कॉलोनी आया था।

अधिवक्ता के मुताबिक, मुन्ना की पत्नी सीमा ने कुछ दिन पहले ही लखनऊ कोर्ट में पति की बागपत में हत्या होने की आशंका जताते हुए पेशी पर नहीं भेजे जाने की मांग की थी। आरोप है कि हत्या करने के लिए ही बागपत बुलाया गया था। आरोप यह भी है कि बागपत सीजेएम ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग नहीं कराई। वकीलों के अनुसार, बजरंगी की तबीयत भी खराब थी, इसलिए मुन्ना बजरंगी को एम्बुलेंस में लाया गया था। मुन्ना बजरंगी की हत्या में गैंगस्टर सुनील राठी और उसके शूटर पर शक जताया जा रहा है। सुनील राठी भी बागपत जेल में बंद है।

बागपत जेल में तैनात संतरी के मुताबिक, वह सुबह 6 बजे जेल पास गस्त कर रहे थे, तभी लगातार कई गोली चलने की आवाज आई। कुछ देर बाद जानकारी मिली कि मुन्ना बजरंगी की हत्या हो गई। शव अभी जेल में ही है। अधिकारियों के आने के बाद ही शव निकाला जाएगा।

मुख्तार अंसारी का माना जाता था खास

पूर्वांचल में अपनी साख बढ़ाने के लिए मुन्ना बजरंगी 90 के दशक में पूर्वांचल के बाहुबली माफिया और राजनेता मुख्तार अंसारी के गैंग में शामिल हो गया था। यह गैंग मऊ से संचालित हो रहा था, लेकिन इसका असर पूरे पूर्वांचल पर था।

कौन था मुन्ना बजरंगी?

मुन्ना बजरंगी का असली नाम प्रेम प्रकाश सिंह है, उसका जन्म 1967 में उत्तर प्रदेश के जौनपुर जिले के पूरेदयाल गांव में हुआ था। उसके पिता पारसनाथ सिंह उसे पढ़ा लिखाकर बड़ा आदमी बनाने का सपना संजोए थे, लेकिन प्रेम प्रकाश उर्फ मुन्ना बजरंगी ने उनके अरमानों को कुचल दिया। जानकारी के मुताबिक, उसने पांचवीं कक्षा के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी, किशोर अवस्था तक आते आते उसे कई ऐसे शौक लग गए जो उसे जुर्म की दुनिया में ले जाने के लिए काफी थे।

हथियार रखने का शौकीन था मुन्ना

मुन्ना को हथियार रखने का बड़ा शौक था। बताया जाता है कि वह फिल्मों की तरह एक बड़ा गैंगेस्टर बनना चाहता था। इसी के चलते 17 साल की नाबालिग उम्र में ही उसके खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया था। जौनपुर के सुरेही थाना में उसके खिलाफ मारपीट और अवैध असलहा रखने का मामला दर्ज किया गया था। इसके बाद मुन्ना ने कभी पलटकर नहीं देखा और जुर्म के दलदल में धंसता चला गया।

योगी के विधायक का विवादित बयान, बोले- भगवान राम भी नहीं रोक सकते रेप की घटनाएं

अखिलेश का मोदी सरकार पर हमला, कहा- चुनाव देख सुर बदलती है भाजपा

उन्नाव में महिला को जंगल में घसीटकर रेप की कोशिश, वायरल हुआ वीडियो

लातेहार : नक्सलियों ने मचाया उत्पात, दो ट्रकों को किया आग के हवाले

NewsCode Jharkhand | 20 November, 2018 2:32 PM
newscode-image

लातेहार। झारखंड के लातेहार जिले में नक्सलियों ने सोमवार रात को जमकर उत्पात मचाया। नक्सलियों ने लातेहार और चतरा सीमा पर स्थित बालूमाथ थाना क्षेत्र के बुकरू रेलवे साइडिंग के निकट खड़े दो ट्रकों को आग के हवाले कर दिया।

नक्सली संगठन जेजेएमपी की ओर से मौके पर एक पर्चा फेंक कर घटना की जिम्मेवारी ली है। आगजनी की घटना में दोनों ट्रक पूरी तरह से जल गये। मंगलवार को सुबह घटना की सूचना मिलने पर मौके पर पहुंची मामले की छानबीन में जुट गयी है।

बताया जा रहा है कि नक्सलियों ने रंगदारी नहीं देने के कारण इस घटना को अंजाम दिया। फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन की छानबीन में जुटी है।

गौरतलब है कि इससे पहले भी रंगदारी को लेकर उग्रवादियों ने कई ट्रकों में आग लगाई थी। बालूमाथ का इलाका इन दिनों कोयला हब के रूप में बढ़ता जा रहा है।इसमें उग्रवादी अपनी रंगदारी फिक्स कराने के लिए इन घटनाओं को अंजाम देकर दहशत फैला रहे हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची: रेलवे अधिकारियों के साथ सीएम ने की बैठक में दिया निर्देश, योजनाओं को जल्द पूरा करें

NewsCode Jharkhand | 21 November, 2018 3:46 PM
newscode-image

रांची।    झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य में चल रही रेल परियोजनाओं और रेल ओवरब्रिज के कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र के तर्ज पर राज्य सरकार और रेलवे के बीच एक कारपोरेशन का गठन किया जाए। इसके माध्यम से रेलवे से जुड़े कार्य किए जाएं। इससे कार्य में तेजी आएगी और प्रोजेक्ट समय पर पूरे हो सकेंगे।

मुख्यमंत्री ने चुटिया आरओबी, नामकुम कांड्रा आरओबी, केतारी बागान आरओबी, धनबाद स्थित गया पुल समेत सभी रेल ओवरब्रिज के कार्यों को यथाशीघ्र पूरा करने का निर्देश दिया। इसके साख-साथ रांची-नई दिल्ली राजधानी और एलटीटी सुपरफास्ट को प्रतिदिन करने, पूरी-नई दिल्ली पुरुषोत्तम एक्सप्रेस को जयपुर तक करने, रांची-लखनऊ-देहरादून के लिए ट्रेन समेत अन्य ट्रेनों के फेरे में वृद्धि करने का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड में भेजने को कहा।

बैठक में नगर विकास मंत्री सी पी सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ सुनील कुमार वर्णवाल, पथ निर्माण सचिव श्री के के सोन, परिवहन सचिव श्री प्रवीण टोप्पो, साउथ ईस्टर्न रेलवे के महाप्रबंधक श्री पूर्णेन्दु मिश्रा, एडीआरएम रांची श्री विजय कुमार, सीनियर डीसीएम अविनाश, श्री नीरज कुमार समेत रेलवे अधिकारी उपस्थित थे।

धनबाद: खादान से काले हीरे की बढ़ी चोरी, इलाके में जवानों को किया गया तैनात

NewsCode Jharkhand | 21 November, 2018 3:23 PM
newscode-image

धनबाद । अब तक तो आपने सुना होगा कि हीरे जेवरात की चोरी हो जाती है। लेकिन आपको यह सुनकर थोड़ा अटपटा लगेगा क्योकि धनबाद इलाके में खादान से अब कोयले की चोरी हो रही है।आपके सामने जो तस्वीर दिखाई पड़ रही है वह आपको चौका देगी। इस तस्वीन से आप यह तो समझ गए होंगे कि यह इलाका कोयला यानी कि काले हीरे का इलाका है। लेकिन जब आपको पता चलेगा कि रात में इस खादान में लोग कोयले की चोरी करने लगे हैं तब आप चौक जरुर जाएंगे। दरअसल अभी तक तो चोरी बड़ी गाड़ियों से की जाती रही है लेकिन अब चोर सीधे खादान से खुद ही चोरी करने लगे हैं।

चोरों का आतंक इस कदर हावी है की चोर अब चोरी करने बीसीसीएल के गहरे खदान में खुश कर चोरी की घटना अंजाम दे रहे हैं। ताजा  मामला धनबाद के भौरा ओपी क्षेत्र में पड़ने वाले बीसीसीएल की भौरा दक्षिण 37/38 खदान में चोरों के घुसाने की सुचना के बाद खदान के ऊपर सीआईएसफ और जिला पुलिस के जवान चोरो को पकड़ने के लिए पुरे खदान के चारो और पुलिस तैनात कर दिया है जिसके बाद लगभग 500 मीटर गहरे खदान के अंदर सर्च सीआईएसफ कर रही है वही कर्मियों का कहना है की आज सुबह जब ड्यूटी पर आकर खदान के अंदर पम्प चालू करने गए तो अन्दर से तीन चार टोर्च की रोशनी दिखाई दी जिसके बाद हमने इसकी सूचना अपने वरीय अधिकारी को दी।

 

 

 

More Story

more-story-image

रांची: भापुसे के 17 अधिकारियों का तबादला,कई जिलों के एसपी...

more-story-image

रांची: अन्तराष्ट्रीय व्यापार मेले में भगवान बिरसा मुंडा की प्रतिमा...

X

अपना जिला चुने