CM योगी के हाथों यूपी बोर्ड टॉपर को मिला 1 लाख का चेक बाउंस, सरकार की हुई किरकिरी

NewsCode | 10 June, 2018 5:58 PM
newscode-image

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश बोर्ड की दसवीं कक्षा के एक टॉपर छात्र को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिला इनाम का चेक बाउंस होने से हड़कंप मच गया। जिसके बाद शिक्षा विभाग ने छात्र को दूसरा चेक दिया है। दरअसल, बाराबंकी के यंग स्ट्रीम इंटर कॉलेज में पढ़ने वाले आलोक मिश्रा ने दसवीं में 93.5 फीसदी अंक हासिल करके जिले में टॉप किया था। वहीं पूरे प्रदेश में वह सातवें नंबर पर थे।

टॉप करने पर उन्हें 29 मई को लखनऊ बुलाया गया था जहां मुख्यमंत्री योगी ने उन्हें एक लाख रुपये का चेक दिया। इस चेक पर बाराबंकी के डिस्ट्रिक्ट इंस्पेक्टर ऑफ स्कूल, राजकुमार यादव के हस्ताक्षर थे। आलोक के पिता ने लखनऊ के हजरतगंज में स्थित देना बैंक में 5 जून 2018 को चेक जमा किया था। जब पैसा आलोक के खाते में नहीं आया तब उन्होंने बैंक से संपर्क किया, तो पता चला कि चेक बाउंस हो गया है।

आलोक ने बताया, ‘मुख्यमंत्री से चेक मिलने पर मैं वाकई बहुत खुश था, चेक जमा करने के दो दिन बाद पता चला कि चेक बाउंस हो गया है। हमें थोड़ी निराशा हुई।’ बैंक ने चेक बाउंस होने की वजह चेक पर हुए हस्ताक्षर में मिसमैच बताया है।

छात्र का चेक बाउंस होने के मामले को दबाने में जुटे शिक्षा विभाग ने शनिवार को इस पर सफाई देने के लिए पत्रकारों को अपने कार्यालय बुलाया। डीआईओएस राज कुमार यादव ने बताया, ‘चेक बाउंस होने की वजह हस्ताक्षर में मिसमैच बताया गया है, लेकिन दूसरा कोई छात्र ऐसी समस्या लेकर नहीं आया है।’

सबके सामने ही मेधावी छात्र आलोक को एक लाख रुपये का नया चेक सौंप दिया। इस मौके पर डीआईओएस ने दावा किया कि अन्य मेधावी छात्रों के चेक का भुगतान हो गया है। बाराबंकी के डीएम, उदय भानू त्रिपाठी ने कहा कि, ‘यह बहुत गंभीर मामला है, अगर गलती पाई जाती है तो कार्रवाई होगी।’

ज्ञात हो कि यूपी बोर्ड की परीक्षा में हाईस्कूल व इंटरमीडिएट में प्रदेश व जिला स्तर के टॉपर छात्रों को सीएम योगी ने लखनऊ में चेक दिए थे। इसमें प्रदेश स्तर पर स्थान बनाने वाले जिले के 14 मेधावियों को एक-एक लाख रुपये और जिला स्तर के दस मेधावियों को 21-21 हजार रुपये का चेक दिया गया था।

बंगले में तोड़फोड़ पर अखिलेश ने तोड़ी चुप्पी, कहा- सरकार को भिजवा दूंगा टोंटी

देवघर : कई पारा शिक्षकों को पुलिस ने जसीडीह स्टेशन से लिया हिरासत में

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 5:14 PM
newscode-image

देवघर। राजधानी रांची जा रहे कई पारा शिक्षकों को पुलिस ने जसीडीह स्टेशन से हिरासत में लिया। सभी शिक्षकों को जसीडीह थाना ले गया है। दरअसल पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा की ओर से पारा शिक्षक 15 नवंबर को स्थापना दिवस के अवसर पर अपनी मांग के समर्थन में कार्यक्रम स्थल पर सरकार के विरुद्ध नारेबाजी करते हुए विरोध-प्रदर्शन करने वाले थे।

पारा शिक्षक संघ की ओर से काला झंडा दिखाने का भी निर्णय लिया गया था। पारा शिक्षकों की मुख्य मांगों में समान काम के लिए समान वेतन और छत्तीसगढ़ के दर्ज पर पारा शिक्षकों को स्थायीकरण शामिल है।

गिरफ्तार किये गये पारा शिक्षकों में देवघर प्रखंड, मोहनपुर, सरैयाहाट, सारठ तथा  देवीपुर प्रखंड शामिल है। पुलिस ने रांची जा रहे दुमका-रांची एक्सप्रेस, पटना-हटिया पाटलीपुत्रा एक्सप्रेस ट्रेन से गिरफ्तार किया है।

पारा शिक्षक संघ के प्रखंड अध्यक्ष पुलिस हिरासत में

मधुपुर पुलिस ने प्रखंड पारा शिक्षक संघ के अध्यक्ष गौतम कुमार सिंह को हिरासत में ले लिया गया है। बताया जाता है कि पारा शिक्षकगण संघ के नेताओं के नेतृत्व में झारखंड स्थापना दिवस के अवसर पर रांची के मोहराबादी मैदान में 15 नवंबर को मुख्यमंत्री का विरोध करने का निर्णय लिया गया था।

साथ ही 16 नवंबर से घेरा डालो डेरा डालो कार्यक्रम रांची में था। इसी को देखते हुए वरीय अधिकारियों के निर्देश पर विभिन्न प्रखंडों व जिला संघ के पदाधिकारियों को हिरासत में लेने के लिए पुलिस उनकी तलाश कर रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : राजकीय कार्यक्रम में हंगामा करने पर 216 पारा शिक्षक बर्खास्त

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:20 PM
newscode-image

600 अन्य की बर्खास्तगी को लेकर कार्रवाई, गिरफ्तार कर पारा शिक्षकों को कैंप जेल में रखा गया

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस के दिन पूरे राज्य भर से राजधानी रांची में आए पारा शिक्षकों ने सरकारी कार्यक्रम को बाधा पहुंचाने की कोशिश की। साथ ही विधि व्यवस्था को अपने हाथ में लेकर पत्थरबाजी भी की।

विधि व्यवस्था में लगे  पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों, वरीय पुलिस अधीक्षक, सिटी पुलिस अधीक्षक  एवम् ड्यूटी पर तैनात पदाधिकारियों पर  पारा शिक्षकों  ने  हमला किया जिससे कई पुलिसकर्मी और  पदाधिकारी गंभीर रूप से जख्मी हुए।

पारा शिक्षकों द्वारा सरकारी कार्यक्रम में व्यवधान डालने, विधि व्यवस्था को तोड़ने एवम् सरकारी लोगो पर हमला करने की घटना को बेहद अशोभनीय एवम् गंभीर रूप से लेते हुए  वीडियो रिकॉर्डिंग एवम् कार्यक्रम स्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरा से  लिए फुटेज एवम् अन्य प्रमाणों के आधार पर  16 प्रखंड के कुल 216 पर शिक्षकों को बर्खास्त किया गया।

साथ ही लगभग 600 पारा शिक्षकों को जिला प्रशासन द्वारा बनाई गई खेलगांव एवम् रेड क्रॉस अस्थायी जेल में गिरफ़्तार कर रखा गया है। जिन पर सीसीटीवी कैमरा एवम्  वीडियो रिकॉर्डिंग से मिले प्रमाण के आधार पर बर्खास्त करने की कारवाई चल रही है।

अन्य जिलों के जिलाधिकारियों को भी यहां शामिल पारा शिक्षकों की सूची भेजी जा रही है जिसके आधार पर  चिन्हित कर अनुशासनात्मक कारवाई की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है।  स्थापना दिवस एक राजकीय दिवस है जी सम्पूर्ण राजवसियो के लिए सम्मान एवम् गौरव  का दिन है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

रांची : झारखंड स्थापना दिवस- संपूर्ण झारखंड खुले में शौच मुक्त घोषित, करीब 2100 को मिला नियुक्ति पत्र

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:02 PM
newscode-image

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस मना रहा है। राज्य स्थापना दिवस के मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में मुख्यमंत्री ने संपूर्ण झारखंड को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की। समारोह में राज्य के तीन जिलों देवघर, हजारीबाग और लोहरदगा को पूर्ण विद्युतीकृत किये जाने की घोषणा की गयी।

इस मौके पर अरबों रुपये की योजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन के साथ ही परिसंपत्तियों का वितरण भी किया गया। समारोह में करीब 2100 लोगों को नियुक्ति पत्र का भी वितरण किया गया।

झारखंड स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य की जनता को कई सौगात दी। रांची में आयोजित मुख्य समारोह में उन्होंने राज्य को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की।  उन्होंने कहा कि स्वच्छता को लेकर लोगों की आदतों में भी अब बदलाव आया है।

मुख्यमंत्री ने हर घर तक बिजली पहुंचाने के अपने वायदों को पूरा करते हुए राज्य के तीन जिलों देवघर, लोहरदगा और हजारीबाग को पूर्ण रूप से विद्युतीकृत होने का भी ऐलान किया। इस दौरान श्री दास ने कहा कि वर्तमान सरकार  पूरी तरह से पारदर्शी तरीके से काम कर रही  है और अब तक इस पर एक भी भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे है।

इस दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि देश के विकास में झारखंड का अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि जनता को चुनी हुई सरकार से आकांक्षाएं होती है , जिसे पूरा करने में सरकार लगी है।

समारोह के दौरान अरबों रुपये की परिसंपत्तियों का वितरण किया गया और कई नई परियोजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन भी हुआ। करीब 2100 लोगों के बीच नियुक्ति पत्र का वितरण और झारखंड और देश के विकास में अपनी भूमिका निभाने वाले लोगों को सम्मानित भी किया गया। जिला मुख्यालयों में भी परिसंपत्तियों का वितरण हुआ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

विधानसभावार बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में लोगों को जोड़ने...

more-story-image

रांची : आम आदमी पार्टी ने निकाली झारखंड नवनिर्माण संकल्प...

X

अपना जिला चुने