गाड़ियों में सफर करने पर आती हैं उल्टियाँ…तो आजमाएं ये 7 घरेलू नुस्खे

NewsCode | 11 December, 2017 1:59 PM
newscode-image

घूमना-फिरना कौन नहीं चाहता है! लेकिन कई लोग ऐसे होते हैं जो यात्रा करने से सिर्फ इसलिए डरते हैं क्योंकि उन्हें गाड़ी में सफर करते हुए उल्टियां आती हैं।  इसे मोशन-सिकनेस या ट्रैवल-सिकनेस भी कहते हैं।

ऑटो, बस या फिर किसी भी चारपहिया वाहन में यात्रा करते वक्त अगर आप भी उल्टी आने के डर से परेशान रहते हैं या फिर आपको उल्टियां आ ही जाती हैं, तो आज हम आपको 7 ऐसे घरेलू नुस्खों के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपको इस समस्या से पूर्णतः निजात दिला सकते हैं। इससे आप बेफिक्र होकर अपनी मनचाही जगहों पर अपने पसंद के वाहन से यात्रा कर सकते हैं।

आजमाएं ये 7 नुस्खे

1. सौंफ हमेशा रखें साथ – यात्रा पर जाते वक्त घर से सौंफ खाकर बाहर निकलें। इसके अलावा थोड़ी सौंफ अपने साथ भी रखें। जब भी आपको उल्टी महसूस हो आप थोड़ा सा सौंफ मुंह में डाल लें। इससे उल्टी से आराम मिलेगा।

2. ऐप्पल साइडर विनेगर से करें गरारे – घर से बाहर निकलने से पहले एप्पल साइडर विनेगर को एक कप पानी में मिलाकर गरारे करें। इससे जी मिचलाने की समस्या से निजात मिलती है।

3 . पुदीने और अदरक की चाय है कारगर – पुदीने और अदरक को चबाकर भी उल्टियों की समस्या से निजात पाया जा सकता है। इसके अलावा आप पुदीने या फिर अदरक की चाय बनाकर भी पी सकते हैं। इससे भी आपको रास्ते में उल्टियां नहीं आएंगी।

4. नींबू पानी – घर से निकलने से पहले नींबू पानी पी लें। इसके अलावा यात्रा के दौरान नींबू अपने साथ ही रखें। जब भी उल्टी जैसा महसूस हो तो तुरंत नींबू चाट लें। नींबू को पानी में मिलाकर पीने से भी लाभ मिलता है।

5. काली मिर्च और नींबू का मिश्रण – घर से निकलने से पहले आप एक कप गरम पानी में आधा नींबू निचोड़कर उसमें चुटकी भर काली मिर्च का पाउडर मिला लें। इस मिश्रण को पीकर ही घर से बाहर निकलें।

6. जीरा वाटर – जीरे को पीसकर पाउडर बना लें। अब इस पाउडर की एक चौथाई चम्मच मात्रा एक कप पानी में मिलाएं और यात्रा पर जाने से पहले पिएं। इससे रास्ते में उल्टी नहीं आएगी।

7. पिपरमिंट – मिंट भी आपके मोशन सिकनेस को कम कर सकता है। मिंट के तेल की कुछ बूंदे किसी रुमाल पर छिड़के और सफर के दौरान उसे सूंघते रहे। इससे आराम होगा। मिंट की चाय पीने से भी राहत मिलेगी।

पढ़ें : दांतों को चमकाने के लिए आजमाएं ये सस्ता और घरेलू उपाय

सरायकेला : खतरनाक कीटों का हमला, दहशत में लोग

NewsCode Jharkhand | 12 November, 2018 3:28 PM
newscode-image

सरायकेला। सरायकेला/खरसावां जिले के आदित्यपुर नगर निगम क्षेत्र के वार्ड संख्या 34 में इन दिनों खतरनाक कीटों का हमला हुआ है। जहां लगभग 25 घरों के लोग पिछले एक सप्ताह से इन कीटों के हमले का शिकार हो रहे हैं।

वहीं इन कीटों का हमला इतना जहरीला है कि लोगों का शरीर खुजली से भर गया है। खासकर बच्चों का बुरा हाल है। बच्चों के अभिभावक उन्हें घरों से निकलने नहीं दे रहे। इधर स्थानीय लोग अस्थायी तौर पर सर्फ पानी का छिड़काव करा रहे हैं, लेकिन लगातार इन कीटों का हमला जारी है।

लोगों को समझ में नहीं आ रहा है कि इन कीटों के हमले से कैसे बचा जाए। इधर इस वार्ड के छठ व्रतियों का भी बुरा हाल है। इन्हें अपने बच्चों की चिंता सताए जा रही है।

आलम ये है कि ये खतरनाक कीड़े घरों और बिस्तरों पर भी पहुंच जा रहे हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी मिलते ही स्वास्थ्यकर्मी वार्ड का निरिक्षण करने पहुंचे और इन कीड़ों के हमले से प्रभावित लोगों का हाल जाना।

स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि ये कीट काफी खतरनाक होते हैं, और इसके लिए जिम्मेवार मूनगे यानि सहजन के पेड़ होते हैं। वैसे स्वास्थ्य विभाग की ओर से लोगों को अपने घरों से इसके पेड़ काटने का निर्देश जारी किया गया है, साथ ही वरीय अधिकारियों को सूचना देने की बातें भी कहीं गई है।

अचानक से इन कीटों के हमलों ने स्वास्थ्य विभाग की भी नींद हराम कर दी है। एक तरफ प्रशासनिक महकमा छठ पर्व को शांति पूर्वक संपन्न कराने में जुटा हुआ है, दूसरी तरफ वार्ड 34 के लोग दहशत के साए में छठ मनाने को विवश हैं।

जल्द ही इन कीटों के आतंक का स्थायी समाधान नहीं निकाला गया, तो पूरे वार्ड में इन कीटों का आतंक फैल जाएगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची: भापुसे के 17 अधिकारियों का तबादला,कई जिलों के एसपी बदले

NewsCode Jharkhand | 21 November, 2018 2:20 PM
newscode-image

रांची। झारखंड सरकार ने भारतीय पुलिस सेवा (भापुसे) के 17 अधिकारियों का स्थानांतरण और पदस्थापन किया है। इसके साथ ही कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों का तबादला हो गया है। इस संबंध में गृह कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा मंगलवार देर शाम अधिसूचना जारी कर दी गयी।

गृह विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार डीआईजी उ.छो. क्षेत्र हजारीबाग पंकज कंबोज को डीआईजी एसीबी का भी अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। जबकि पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा के एसपी क्रांति कुमार गदिदेसी को एसपी विशेष शाखा बनाया गया है। विशेष शाखा के एसपी शैलेंद्र कुमार सिन्हा को जामताड़ा का एसपी बनाया गया है,वहीं रांची के यातायात पुलिस अधीक्षक संजय रंजन सिंह को समादेष्टा जैप-2 के पद पर पदस्थापित किया गया है, वहीं धनबाद के एसएसपी चोथे मनोज रतन को एसपी सीआईडी, सीआईडी के एसपी वाईएस रमेश को एसपी दुमका, विशेष शाखा के एसपी आलोक को खूंटी का एसपी, खूंटी के एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा को गुमला का एसपी, राज्यपाल के परिसहाय चंदन कुमार झा को चाईबासा का एसपी, जामताड़ा की एसपी जया राय को सीआईडी का एसपी, दुमका के एसपी किशोर कौशल को धनबाद का एसएसपी, एसटीएफ के एसपी अंजनी कुमार झा को विशेष शाखा का एसपी, गुमला के एसपी अंशुमन कुमार को राज्यपाल का परिसहाय, रांची के सिटी एसपी अमन कुमार को ग्रामीण एसपी धनबाद, जैप-5 की समादेष्टा सुजाता कुमारी वीणापानी को रांची का सिटी एसपी, धनबाद के ग्रामीण एसपी आशुतोष शेखर को रांची का ग्रामणी एसपी और रांची के ग्रामीण एसपी अजीत पीटर डुंगडुंग को रांची यातायात का एसपी बनाया गया है।

 

रांची: अन्तराष्ट्रीय व्यापार मेले में भगवान बिरसा मुंडा की प्रतिमा बढ़ा रही है कौतुहल

NewsCode Jharkhand | 21 November, 2018 2:07 PM
newscode-image

रांची।भगवन बिरसा मुंडा धरती आबा देश के प्रथम स्वतंत्रता सेनानियों में माने जाते हैं। झारखण्ड प्रदेश में भगवान माने जाने वाले इस महान पुरुष को भारतीय जनजातीय स्वतंत्रता सेनानी धार्मिक पुरुष और लोक नायक के रूप में मान्यता प्राप्त है।जिनका जन्म झारखण्ड के खूँटी ज़िले में 15 नवम्बर 1875 को हुआ था। 19 के दशक के शुरूआती सालो में ही अपनी युवा अवस्था 25 वर्ष में उन्होंने ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध जो आंदोलन बनाया उसको जनजातीय प्रजातियों में सबसे महत्त्वपूर्ण माना जाता है। उन्होंने अपने समूदाय के लोगो को धार्मिक क्रिया की तरह सोचने को तैयार किया और अपने अधिकारों को मांगने के लिए ब्रिटिश सरकार से लडे। भगवान् बिरसा मुंडा झारखण्ड प्रदेश में किसी भी काम के पहले याद किये जाते हैं। जिस कड़ी में 38वें भारतीय अन्तराष्ट्रीय मेले के झारखण्ड पवेलियन में उनकी विशाल प्रतिमा स्थापित की गई है। मेले में आने वाले लोग इस प्रतिमा को देख उत्सुकता से इनके विषय और कार्य की चर्चा कर रहे है। भगवान बिरसा मुंडा पर देश ही नहीं दुनिया को भी गर्व होता है। उनके जीवन पर कई साहित्य और फिल्मे भी बनाई जा चुकी हैं।

झारखण्ड पवेलियन में उद्योग विभाग के संयुक्त निदेशक श्री अलोक कुमार ने बताया कि मेले में झारखण्ड पवेलियन 22 नवम्बर को प्रगति मैदान स्थित हंसध्वनी थिएटर में झारखण्ड दिवस का आयोजन करेगा जिसमें झारखण्ड के लोक नृत्य कला एवं संस्कृति प्रदर्शित किया जायगा इस अवसर पर झारखण्ड प्रदेश के राजस्व और भूमि सुधार ए कला संस्कृति खेल और युवा मंत्री श्री अमर कुमार बाऊरी उपस्थित रहेंगे साथ ही उद्योग विभाग के अन्य पदाधिकारी भी इस अवसर पर मौजूद रहेंगे

इसके अलावा झारखण्ड पवेलियन से निकले के बाद लोग हॉल नं 7 के सामने लगे फ़ूड स्टाल में झारखण्ड के फ़ूड स्टाल में झारखण्ड के व्यंजन का भी लुफ्त उठा रहे हैं लोगों को लिट्टी चोखा मालपुआ एवं कुल्हड़ चाय काफी पसंद आ रहे हैं स्टाल के संचालक राजेश तिवारी ने बताया कि लोगों की भारी भीड़ झारखण्ड के व्यंजन को पसंद कर रहे है

 

More Story

more-story-image

रांची : पंकज तिवारी आजसू केंद्रीय समिति के सदस्य मनोनीत

more-story-image

रांची: पंचायत व नगर निकायों के रिक्त पदों के लिए...

X

अपना जिला चुने