ताज महल पर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को लगाई फटकार, कहा- देखभाल नहीं कर सकते तो ढहा दो

NewsCode | 11 July, 2018 4:04 PM
newscode-image

नई दिल्ली। दुनिया के सात अजूबों में शामिल आगरा के ताजमहल को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को जमकर फटकार लगाई है। बुधवार को सुप्रीम कोर्ट ने संरक्षण और रखरखाव पर सरकारी उदासीनता पर कहा कि अगर इसे संभाल नहीं सकते हैं तो ढहा दीजिए।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एफ़िल टॉवर को देखने 80 मिलियन लोग आते है, जबकि ताजमहल के लिए मिलियन। आप लोग ताजमहल को लेकर गंभीर नहीं है और न ही आपको इसकी परवाह है। हमारा ताज ज्यादा खूबसूरत है और आप टूरिस्ट को लेकर गंभीर नहीं है। ये देश का नुकसान है, ताजमहल को लेकर घोर उदासीनता है।

अदालत ने सरकार को फटकार लगाते हुए कहा कि केवल एक स्मारक देश की समस्या का समाधान कर सकता था। क्या आपको अपनी उदासीनता के चलते देश को कितना नुकसान हुआ है इसका अहसास है?

उल्लेखनीय है कि इससे दो दिन पहले उच्चतम न्यायालय ने ताजमहल में नमाज पढ़ने पर रोक लगा दी थी। शीर्ष अदालत ने कहा था कि ताजमहल दुनिया के सातवें अजूबों में से एक है। इसलिए यह ध्यान रखना होगा कि ताजमहल के परिसर में नमाज पढ़ने की इजाजत नहीं दी जा सकती है। कोर्ट ने यह भी कहा कि यहां कई और जगहें हैं जहां नमाज पढ़ी जा सकती है फिर ताजमहल परिसर ही क्यों?

न्यायमूर्ति एमबी लोकुर और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने कहा कि ताजमहल के संरक्षण के बारे में संसद की स्थायी समिति की रिपोर्ट के बावजूद सरकार ने कोई ठोस कदम नहीं उठाए हैं। केंद्र ने पीठ को बताया कि आईआईटी-कानपुर ताजमहल और उसके आसपास वायु प्रदूषण के स्तर का आकलन कर रहा है और चार महीने में अपनी रिपोर्ट देगा।

इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने ताजमहल की सुरक्षा को लेकर किए जा रहे उपायों का जिक्र करते हुए केंद्र सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार को सुस्त बताया। गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से ताज की चमक फीकी पड़ती जा रही है जिसको लेकर सुप्रीम कोर्ट लगातार सख्ती दिखा रहा है।

तलाक के बाद बीवी ने घर नहीं छोड़ा तो बंद कमरे में एक महीने रखा भूखा-प्यासा, इलाज के दौरान हुई मौत

अभी कुछ दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि ताज महल सात अजूबों में शामिल है, यहां नमाज नहीं पढ़ सकते हैं। नमाज किसी और जगह भी पढ़ सकते हैं। हालांकि, स्थानीय नमाजी अभी भी नमाज पढ़ सकते हैं। जिसके बाद बाहरी लोगों के नमाज पढ़ने पर पाबंदी हो गई थी।

केंद्र सरकार ने काटी कन्नी, कहा- सुप्रीम कोर्ट तय करे समलैंगिकता अपराध है या नहीं

LIVE: पीएम मोदी का कांग्रेस पर तंज, कहा- मेरी शुभकामनाएं 2024 में आप फिर से अविश्वास प्रस्ताव लाएं

NewsCode | 20 July, 2018 9:39 PM
newscode-image

संसद के मॉनसून सत्र का तीसरा दिन है और आज लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग कराई जाएगी. बुधवार को टीडीपी सांसद की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मंजूर किया था, जिसके बाद उस पर चर्चा के लिए शुक्रवार का दिन तय हुआ था.

संसद के मॉनसून सत्र का तीसरा दिन है और आज लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग कराई जाएगी. बुधवार को टीडीपी सांसद की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मंजूर किया था, जिसके बाद उस पर चर्चा के लिए शुक्रवार का दिन तय हुआ था.

अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने भी भाषण दिया. राहुल गांधी अपना भाषण खत्‍म करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास गए और उनके गले लगकर हाथ मिलाया.

LIVE UPDATES:

पीएम मोदी ने बोलना शुरू किया-

प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान लोकसभा में जमकर हंगामा,  विपक्षी नेताओं लगा रहे वी वांट जस्टिस के नारे

-जब हम डिजिटल लेनदेन की बात करने लगे तो सदन में बैठे लोग बताने लगे कि हमारे देश में लोग अनपढ़ हैं.

-ऐसे लोगों को हमारे देश की जनता ने तमाचा मारा है. इनकी यही मानसिकता गलत है

-यह अच्छा मौका है कि हमें अपनी बात कहने का बात मिल ही रहा है लेकिन देश को यह चेहरा भी देखने का मौका मिला है कि कैसे नकारात्मक राजनीति ने कुछ लोगों को घेर कर रखा हुआ है और उन सब का चेहरा निखर कर बाहर आया है.

-कई लोगों के मन में यह सवाल आया कि यह प्रस्ताव आया क्यों? विपक्ष के पास बहुमत नहीं है फिर भी यह प्रस्ताव लाया गया. सरकार को गिराने के लिए इतना ही उतावलापन था तो इसे 48 घंटे और टालने की कोशिश क्यों की गई. अगर चर्चा की तैयारी ही नहीं थी तो इसे लाया ही क्यों?

पिछले दो वर्ष में पांच करोड़ लोग गरीबी से बाहर आए : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– किसानों की आय 2022 तक दोगुनी कर देंगे : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा में कहा, ”हम ‘सबका साथ, सबका विकास’ के मंत्र पर काम करते रहे.”

– अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर चर्चा : प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान लोकसभा में जमकर हंगामा

– लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं पर भरोसा ज़रूरी, सवा सौ करोड़ देशवासियों पर अविश्वास न करें : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– साथियों की परीक्षा लेने के लिए अविश्वास प्रस्ताव नहीं लाया जाना चाहिए : लोकसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– न मांझी, न रहबर, न हक में हवाएं, है कश्ती भी जर्जर, यह कैसा सफर है : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

– न संख्या है, न बहुमत, फिर भी अविश्वास प्रस्ताव लाया गया, देश देख रहा है, कैसी नकारात्मकता है : अविश्वास प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी.

– अविश्‍वास प्रस्‍ताव के बहाने अपने कुनबे को जमाने की कोशिश की गई है.

– राहुल गांधी के गले मिलने पर पीएम मोदी बोले- कुर्सी पर पहुंचने की जल्‍दबाजी है.

– पीएम मोदी ने कहा , संसद में बहुमत नहीं फिर भी अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाया गया है.

 -तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी ने कहा, “आप राम पर भी अपनी मनॉपली (एकाधिकार) करना चाहते हैं.”

-हमें रूस-अमेरिका नहीं, हिन्दू-मुस्लिम के बीच फैल रही नफरत मारेगी : नेशनल कॉन्फ्रेंस के सांसद फारुक अब्दुल्ला

– मॉब लिंचिंग सिर्फ 1984 में नहीं हुई थी, वह 2002 में भी हुई : AIMIM के सांसद असदुद्दीन ओवैसी

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

रांची : Low Rank वाले न हों हताश, Dr.S.S. Singh से लें सलाह

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 9:56 PM
newscode-image

रांची। JEE Mains में 1 लाख से ऊपर रैंक वालों के लिए Self Financed Technical Institute (SFTIS)  के लिए काउंसिल शुरू।

माननीयों की लड़ाई सदन से लेकर सड़क तक, जिम्मेदार कौन ?

Low Rank  वाले हताश न हों , जानिए करियर सलाहकार Dr.S.S. Singh से कि किन संस्थानों में एडमिशन लेना चाहिए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

गुमला : दिल्ली ले जायी जा रही छः लड़कियां रांची रेलवे स्टेशन से बरामद

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 9:56 PM
newscode-image

गुमला। दिल्ली ले जायी जा रही छः लड़कियों को पुलिस ने रांची रेलवे स्टेशन से बरामद किया है। ये सभी लड़कियां गुमला जिले के रायडीह थाना क्षेत्र की रहने वाली हैं और आनंद विहार ट्रेन से रांची स्टेशन से नई दिल्ली जाने वाली थी। रायडीह थाना प्रभारी राजेश कुमार सिंह की पहल पर, राँची रेलवे स्टेशन से गुप्त सूचना के आधार पर इन लड़कियों की बरामदगी की गई। सभी लड़कियों को cwc रांची को सौंप दिया गया है।

लोहरदगा : भूमि विवाद में वृद्ध को मारी गोली, हालत गंभीर, रिम्स रेफर 

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

दुमका : मामूली विवाद को लेकर शिक्षक ने छात्र को...

more-story-image

 पलामू : भू-माफियाओं से परेशान ग्रामीण अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर