सोमनाथ मंदिर विवाद: कांग्रेस ने कहा- राहुल हिंदू ही नहीं, जनेऊधारी हिंदू हैं

NewsCode | 30 November, 2017 9:00 AM
newscode-image

 गांधीनगर| कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को सोमनाथ मंदिर के दर्शन किए। राहुल के इस मंदिर दौरे से एक बड़ा विवाद पैदा हो गया। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने उनकी आस्था को लेकर सवाल उठाए, जबकि कांग्रेस ने भाजपा पर ओछी राजनीति करने का आरोप लगाया। कांग्रेस ने कहा कि राहुल गांधी हिंदू भक्त हैं।

यह विवाद राहुल गांधी के मीडिया समन्वयक मनोज त्यागी के गैर हिंदुओं के लिए बने रजिस्टर में हस्ताक्षर करने से पैदा हुआ। इसके बारे में कांग्रेस ने कहा है कि इस रजिस्टर में बाद में राहुल गांधी व अहमद पटेल का नाम जोड़ा गया।

इस दौरे के कुछ समय बाद सोशल मीडिया पर मनोज त्यागी के हस्ताक्षर वाला रजिस्टर घूमने लगा, जिसमें राहुल गांधी व अहमद पटेल का नाम बाई तरफ था।

इस कहानी के साथ भाजपा सामने आई कि राहुल गांधी ने खुद को एक गैर-हिंदू घोषित कर दिया है।

सौराष्ट्र क्षेत्र के भाजपा प्रवक्ता राजू ध्रुव ने कहा, “कांग्रेस ने हमेशा राहुल गांधी को एक हिंदू के तौर पर दिखाने की कोशिश की, लेकिन तथ्य यह है कि वह हिंदू नहीं हैं। राहुल गांधी ने अक्टूबर से 20 से ज्यादा हिंदू देवी-देवताओं के मंदिरों का दौरा किया है। कांग्रेस झूठ बोल रही है। दाखिल की गई प्रविष्टि दिखाती है कि वह हिंदू नहीं हैं।”

सोमनाथ मंदिर विवाद: कांग्रेस ने कहा- राहुल हिंदू ही नहीं, जनेऊधारी हिंदू हैं

मनोज त्यागी ने बाद में एक बयान जारी कर कहा कि उन्होंने मंदिर में मीडियाकर्मियों को अंदर ले जाने के लिए गांधी का नाम दर्ज किया था। यह राहुल गांधी या अहमद पटेल की तरफ से नहीं था। इसे बाद में जोड़ दिया गया होगा।

कांग्रेस ने जल्दबाजी में एक संवाददाता सम्मेलन बुलाया। इसमें कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि गुजरात विधानसभा चुनाव के नतीजों को लेकर भाजपा डर गई है और ओछी राजनीति पर उतर आई है।

सुरजेवाला ने कहा, “सोमनाथ मंदिर में सिर्फ एक आगंतुक पुस्तिका है, जिस पर कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने हस्ताक्षर किए थे। दूसरा कोई भी चित्र जिसे प्रसारित किया जा रहा है वह नकली है।”

सुरजेवाला ने कहा, “मंदिर समिति ने जब उन्हें आगंतुक पुस्तिका दी तो राहुल ने उसमें अपने नाम (राहुल गांधी) व पता (12, तुगलक लेन, नई दिल्ली) के साथ एक संदेश, ‘एक बहुत ही प्रेरणादायी स्थल’ लिखा।”

उन्होंने कहा, “दूसरा रजिस्टर मीडियाकर्मियों के द्वारा ट्वीट किया गया। राहुल गांधी ने न तो उस रजिस्टर में लिखा और न ही वह रजिस्टर उन्हें दिया गया था।”

दूसरे रजिस्टर पर एआईसीसी के मीडिया समन्वयक मनोज त्यागी का हस्ताक्षर है, जिस पर मंदिर के कुछ अधिकारियों ने हस्ताक्षर करने को कहा था, ताकि राहुल गांधी के साथ गए मीडियाकर्मी मंदिर में दाखिल हो सकें।

सुरजेवाला ने कहा, “राहुल के मंदिर से जाने के बाद कुछ मीडिया मित्रों का दुरुपयोग करके एक अन्य फर्जी प्रविष्टि को सार्वजनिक कर दिया गया। क्या भाजपा इतनी कायर हो गई है कि वह बाहर आने व बोलने से डर रही है।”

सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि राहुल गांधी व अहमद पटेल का नाम चोरी से गैर हिंदुओं के लिए बने रजिस्टर में बाई तरफ किसी ने दाखिल कर दिया। इसमें हेरफेर की गई है।

उन्होंने कहा कि यह एक नकली रजिस्टर है। इन नामों को बाद में जोड़ा गया।

राहुल गांधी की पवित्र धागा पहने तस्वीर को दिखाते हुए सुरजेवाला ने कहा कि राहुल एक जनेऊधारी हिंदू हैं। चाहे उनके नामकरण का समय रहा हो या उनकी बहन की शादी का समय, या फिर उनके पिता के अंतिम संस्कार का समय, उन्हें हमेशा पवित्र जनेऊ के साथ देखा गया है।

सुरजेवाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से आग्रह किया कि इतना नीचे नहीं गिरें कि 130 करोड़ हिंदू आप से घृणा करने लगें।

उन्होंने कहा कि आपकी साजिश से सच्चाई नहीं बदलेगी।

कांग्रेस के एक अन्य प्रवक्ता दीपेंद्र हुड्डा ने कहा, “भाजपा का इरादा आज बेनकाब हो गया..गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपानी ने भी यह मान लिया है कि चुनाव में उनकी पार्टी की स्थिति ठीक नहीं है। जब भी वे ऐसी स्थिति में होते हैं, इस तरह की हरकते करते हैं।”

हुड्डा ने कहा, “यह घटना भाजपा के बौद्धिक दिवालिएपन का संकेत है।”

कांग्रेस की यह प्रतिक्रिया भाजपा द्वारा मुद्दे को उठाए जाने के बाद आई है। भाजपा ने राहुल गांधी के धर्म को लेकर सवाल किया था।

भाजपा प्रवक्ता जी.वी.एल. नरसिम्हा राव ने एक ट्वीट में कहा, “राहुल गांधी एक गैर-हिंदू व शिव भक्त हैं? बहुत अच्छा। इसमें कोई आश्चर्य नहीं जब उन्होंने पूर्व में कहा था कि महिलाओं को चिढ़ाने के लिए मंदिर जाते हैं।”

न्यूयॉर्क टाइम्स के 1998 के एक लेख में राहुल गांधी व प्रियंका के रोमन कैथोलिक होने की बात का हवाला देते हुए राव ने कहा, “इससे कभी इनकार नहीं किया गया। क्या राहुल गांधी ने इसके बाद हिंदुत्व स्वीकार किया। कृपया स्पष्टीकरण दें।”

आईएएनएस

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की याद में योगी सरकार इन 4 शहरों में बनाएगी स्मारक

NewsCode | 18 August, 2018 6:03 PM
newscode-image

लखनऊ। दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर योगी सरकार उत्तर प्रदेश के शहरों में 4 बड़े स्मारक बनाने की तैयारी में है। यूपी सरकार जल्द ही कैबिनेट की बैठक में प्रस्ताव लाकर इन स्मारकों को बनाने पर फैसला लेगी।

इन 4 शहरों में बनेगा अटल बिहारी वाजपेयी का स्मारक

1. योगी सरकार एक स्मारक का निर्माण आगरा स्थित अटल के पैतृक गांव बटेश्वर में कराएगी,

2. वहीं दूसरा बलरामपुर में कराया जाएगा। बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी ने 1957 में बलरामपुर से पहला लोकसभा चुनाव जीता था।

3. तीसरा स्मारक कानपुर में बनाने की योजना है क्योंकि यहां स्थित डीएवी कॉलेज से अटल बिहारी वाजपेयी ने उच्च शिक्षा ग्रहण की थी।

4. चौथा स्मारक लखनऊ में बनाने की योजना है। दरअसल, लखनऊ सीट से वह पांच बार लोकसभा सदस्य रहे।

इससे पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कहा था कि उत्तर प्रदेश वाजपेयी की कर्मभूमि रहा है। इस सूबे के हर क्षेत्र से उन्हें गहरा लगाव था। इसीलिये जनभावनाओं का सम्मान करते हुए वाजपेयी की अस्थियां प्रदेश के सभी जिलों की मुख्य नदियों में प्रवाहित की जाएंगी, ताकि राज्य की जनता को भी उनकी अन्तिम यात्रा से जुड़ने का अवसर मिल सके।

गौरतलब है कि शुक्रवार शाम दिल्ली के राष्ट्रीय स्मृति स्थल पर राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम संस्कार किया गया। गम और आंसुओं के बीच उनकी बेटी नमिता ने कांपते हाथों से वाजपेयी की चिता को मुखाग्नि दी।


हज से पहले मक्का पर इकट्ठे हुए लाखों मुसलमान, श्रद्धालुओं को मिलेगी ‘स्लीपिंग पॉड’ की सुविधा

INDvsENG: इंग्लैंड ने जीता टॉस, भारत पहले करेगा बल्लेबाजी, ऋषभ पंत खेलेंगे अपना डेब्यू टेस्ट मैच

नहीं रहे नोबेल विजेता पूर्व संयुक्त राष्ट्र महासचिव कोफी अन्नान

LIVE: केरल के 11 जिलों में रेड अलर्ट- भारी बारिश का अनुमान, बेहाल प्रदेश की मदद को आगे आए अन्‍य राज्‍य

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

देवघर : श्रावणी मेला में 1125 सफाईकर्मियों की प्रतिनियुक्ति

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 11:55 PM
newscode-image

देवघरराजकीय श्रावणी मेला 2018 कई मायनों में खास है। इस बार श्रावणी मेला को स्वच्छ मेला के रूप में मनाया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा स्वच्छता अभियान को लेकर इस वर्ष मेले में शौचालय, मूत्रालय व सफाई व्यवस्थाएं दुगुनी होने के साथ-साथ पूरी तरह से दुरूस्त है।

सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में स्वच्छता का खासा ख्याल रखा जा रहा है। श्रद्धालुओं की सुविधा को देखते हुए सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में 1125 सफाईकर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। इसके अलावे 1403 कूडे़दान एवं लगभग 2000 (स्थायी, अस्थायी, बायोटॉयलेट व चलन्त शौचालय) व 330 मूत्रालय की व्यवस्था सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में लगाये गये हैं।

देवघर : चौथी सोमवारी को लेकर एसपी ने की मीटिंग, दिये निर्देश

स्वच्छ व ओडीएफ मेला हेतु जिला प्रशासन स्वच्छ भारत मिशन के उ६ेश्यों के पूर्ति हेतु स्वच्छता, साफ-सफाई और खुले में शौच की प्रथा समाप्त करने को संकल्पित है।

देवघर : बाबा मंदिर प्रांगण में एक मंदिर ऐसा भी जहां जाना वर्जित है, जाने क्‍या है राज

श्रावणी मेला के अवसर पर यहाँ आए श्रद्धालुओं को जिला प्रशासन की ओर से हर संभव सुविधा मुहैया करायी जा रही है। नगर निगम के सफाई कर्मियों के द्वारा पूरे मेला क्षेत्र में चौबिसों घंटे साफ-सफाई कर कूड़ा-कचरों का निष्पादन किया जा रहा है। आज सुबह भी सफाई कर्मियों को हाथ में झाड़ू लिए सड़कों का सफाई करते व ट्रैक्टर के माध्यम से कूड़ा उठाते देखा गया।

देवघर : बाबा नगरी के पेड़े की सौंधी महक का जादू विदेशों तक

नगर निगम के सफाई कर्मियों द्वारा मेला क्षेत्र की  साफ-सफाई कर जगह-जगह पर ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव भी किया जा रहा है एवं रात्रि के समय मॉस्क्यूटो फॉगिंग की जा रही है। ताकि मेला क्षेत्र में आये श्रद्धालुओं को बाबा नगरी में एक साफ-सूथरा और स्वच्छ माहौल मिले।

देवघर : बाबा मंदिर में अटल बिहारी वाजपेयी के लिए हुई विशेष अनुष्‍ठान

इसके तहत् श्रद्धालुओं से जब हमारे टीम पीआरडी के सदस्य द्वारा पूछा गया तो नालन्दा बिहार से आये सत्यनारायण बम ने बताया कि पिछले आठ सालों से बाबाधाम आ रहा हूँ मगर इस बार सफाई व शौचालय की व्यवस्था देखकर झारखण्ड सरकार को धन्यवाद करने का मन कर रहा है। इस बार की व्यवस्था वाकई अच्छी है।

देवघर : आयुषी ने बहायी देश-प्रेम की गंगा, संस्‍कृत में गाया “ऐ मेरे वतन के लोगों”   

सिमडेगा : टांगी से काट कर महिला की निर्मम हत्या, हत्‍या का आरोपी गिरफ्तार

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 10:06 PM
newscode-image

सिमडेगा। कुरडेग थाना क्षेत्र के गाड़ियाजोर पंचायत के ढोंढ़ीडीपा टोली निवासी एक महिला की टांगी से काट कर  हत्या कर दी गई। आरोपी भी महिला के ही गांव का निवासी है। घटना के पीछे आपसी विवाद बताया जा रहा है।  हत्या के आरोपी निरन्तर तिर्की को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। घटना की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी अशर्फी पासवान घटनास्थल पहुँच कर शव को कब्जे में ले लिया और अंत्यपरीक्षण के लिए सदर अस्पताल  भेज दिया।

सिमडेगा : मिशनरी संस्थाओं को निशाना बनाने का आरोप, सीबीआई जांच की मांग

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

गावां : धूल फांक रही है तीन करोड़ की बिल्डिंग,...

more-story-image

सरायकेला : डंपर की चपेट में आकर जैप के जवान...