सरिया : पर्यटन स्थल राजदाह धाम में सार्वजनिक शौचालय निर्माण कार्य का शिलान्यास

NewsCode Jharkhand | 10 April, 2018 4:37 PM
newscode-image

सरिया (गिरिडीह)सरिया के चर्चित पर्यटन स्थल राजदाह धाम में मंगलवार को सार्वजनिक शौचालय निर्माण कार्य का शिलान्यास स्थानीय जिला सदस्य सह आजसू नेता अनूप कुमार पांडेय ने शिलापट्ट का अनावरण कर किया। यहाँ जिला परिषद मद से 11 लाख 13 हजार 978 रुपये की लागत से चार सीटेड सार्वजनिक शौचालय का निर्माण कराया जाएगा।

जिप सदस्य अनूप कुमार पांडेय ने कहा कि राजदाह धाम सरिया व आसपास के लिए एकलौता पर्यटन स्थल है जहां सैकड़ों की संख्या में लोग रोज पूजा अर्चना व स्थल पर बिखरे प्राकृतिक छटा का आनन्द लेने लोग पहुंचते हैं मगर यहां सार्वजनिक शौचालय नहीं रहने के कारण लोगों को खासकर महिलाओं को काफी समस्याएं होती थी। जिसके मद्देनजर इन्होंने यहां सार्वजनिक शौचालय निर्माण की अनुशंसा करते हुए जल्द से जल्द निर्माण करवाने की मांग विभाग से किया था। जिसपर पहल करते जिला परिषद मद से चार सीटेड सार्वजनिक शौचालय का निर्माण होने जा रहा है।

गिरिडीह : इंडसइंड बैंक की नई शाखा का उपायुक्‍त ने किया उद्घाटन

उन्होंने कहा कि वे क्षेत्र की समस्याओं के निराकरण को प्रयासरत हैं। हर सम्भव निराकरण करने व करवाने की कोशिश करेंगे। जिससे क्षेत्र की जनता ने जिन उम्मीदों के साथ उन्हें चुना था उनके उन उम्मीदों पर खरा उतर सकें। मौके पर पूर्व मुखिया चुन्नी रजवार, उप मुखिया मनु मोदी, धर्मवीर वर्मा, आजसू प्रखंड अध्यक्ष वीरेंद्र यादव, रोहित मण्डल,संजय राणा, डिम्पल राणा, योगेंद्र पासवान,अनिल पासवान, नवीन सिन्हा, दिलीप रवानी, अर्जुन यादव, अनिल शर्मा, मंटू कुमार, सुरेश यादव अरुण पाण्डेय समेत सैकड़ों आजसू कार्यकर्ता उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

loading…


गिरिडीह : या अली या हुसैन के नारों से गूंज उठा इलाका, मुहर्रम पर याद किये गए नवासा-ए-रसूल इमाम हुसैन

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 7:41 PM
newscode-image

गिरिडीह। इस्लामिक नए साल की दस तारीख को नवासा-ए-रसूल इमाम हुसैन अपने 72 साथियों और परिवार के साथ मजहब-ए-इस्लाम को बचाने, हक और इंसाफ कोे जिंदा रखने के लिए शहीद हो गए थे।

इमाम हुसैन के शहादत की याद में गिरिडीह में भी मोहर्रम मनाया गया। इस दौरान या अली या हुसैन के नारों से पूरा इलाका गूंज उठा। जिले भर में मुहर्रम पर ताजिया निकाला गया गया और जगह जगह घूम कर गमजदगी का एहतराम किया गया।

गिरिडीह : या अली या हुसैन के नारों से गूंज उठा इलाका, मुहर्रम पर याद किये गए नवासा-ए-रसूल इमाम हुसैन

मौके पर जुलूस  की शक्ल में अखाड़ा खेल का प्रदर्शन भी किया गया। शहरी क्षेत्र के बरवाडीह, भण्डारीडीह, पचम्बा आदि क्षेत्रों में सुबह से लेकर शाम तक कई तरह की गतिविधियां संचालित की गई।

इस क्रम में सभी इमामबाड़ों में नजरोनियाज व दुआ की गई। साथ ही कर्बला में फातिहा  की गई।मुहर्रम को लेकर जिले भर में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था । जगह जगह मजिस्ट्रेट के साथ सुरक्षा बल तैनात किए गए थे।

गिरिडीह : पूर्व चीफ जस्टिस के घर से चुराए गए जेवरात व रूपये बरामद, छह गिरफ्तार

जुलूस  की वजह से यातायात बाधित न हो इसका भी ध्यान रखा गया था। बताया गया कि हजरत इमाम हुसैन को उस वक्त के मुस्लिम शासक यजीद के सैनिकों ने इराक के कर्बला में घेरकर शहीद कर दिया था।

लिहाजा, 10 मोहर्रम को पैगंबर-ए-इस्लाम के नवासे हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद ताजा हो जाती है। दरअसल, कर्बला की जंग में हजरत इमाम हुसैन की शहादत हर धर्म के लोगों के लिए मिसाल है। यह जंग बताती है कि जुल्म के आगे कभी नहीं झुकना चाहिए, चाहे इसके लिए सिर ही क्यों न कट जाए, लेकिन सच्चाई के लिए बड़े से बड़े जालिम शासक के सामने भी खड़ा हो जाना चाहिए।

गिरिडीह : हर्षोल्लास व शांतिपूर्ण माहौल में निकला मुहर्रम का जुलूस

हुसैन हक की आवाज बुलंद करने के लिए ही शहीद हुए थे। बताया गया कि कर्बला के इतिहास को पढ़ने के बाद मालूम होता है कि यह महीना कुर्बानी, गमखारी और भाईचारगी का महीना है, क्योंकि हजरत इमाम हुसैन ने अपनी कुर्बानी देकर पूरी इंसानियत को यह पैगाम दिया है कि अपने हक को माफ करने वाले बनो और दूसरों का हक देने वाले बनो।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

रांची : मस्जिद जाफरिया में शब ए आशूरा का आयोजन – आज की रात हमें सबक लेने की जरूरत 

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 7:51 PM
newscode-image

गमगीन माहौल में शुरू हुआ मजलिस

रांची। मस्जिद जाफरिया में 10 वींं मुहर्रम को शब ए आशूरा का आयोजन किया गया। मजलिस बहुत गमगीन माहौल में शुरू हुआ। इस मजलिस को हाजी मौलाना सैयद तहजीब उल हसन रिजवी इमाम व खतीब मस्जिद जाफरिया ने संबोधित करते हुए कहा कि आज की रात हमें सबक लेने की जरूरत है।

रांची : काया सैलून ने मनाई चौथी वर्षगांठ, राजधानी में काया की है अलग पहचान

क्योंकि हजरत इमामे हुसैन ने अपने साथियों को संबोधित करते हुए कहा था के कल दस मुहर्रम शहादत पीने का दिन है।

अगर किसी को यहां से जाना है तो मैं चिराग बुझा देता हूं। वो अंधेरे में चले जाएं। मगर एक भी लोग ना गए। हजरत इमाम हुसैन ने जब पूछा कि आप लोग क्यों नहीं गए तो सहाबा ने जवाब दिया कि आक़ा का नूर छोड़कर कोई नार में जाना पसंद नहीं करता है।

यही वजह है कि यजीद के काफिले से टूट कर अजमत इमामे हुसैन को पहचान कर हूर  ने इमामे हुसैन का दामन थामा।

इमामे हुसैन ने शब ए आशूर कहा था कि यह हमारी और हमारे साथियों की जिंदगी की आखिरी रात है। हर मां अपने बच्चों को कुर्बानी के लिए तैयार कर रही थी। यह भी कर्बला के माओ का हौसला था। जिन्होंने दुनिया को पैगाम दिया कि हमें दीन ए मोहम्मदी प्यारा है, औलाद नहीं। अनवर टावर विश्वकर्मा लाईन से आलम का मातमी जुलूस निकाला गया।

 निकाला गया रोज आशूरा का मातमी जुलूस

21 सितंबर 2018 10 मुहर्रम को मस्जिद जाफरिया से रोज आशूरा का मातमी जुलूस बाद नमाज़ जुमा 1:30 बजे  निकाला गया। जिसमें खूनी  मातम भी हुआ। इस मौके पर हिंदू -मुस्लिम सभी एक साथ मातमी जुलूस का स्वागत करते दिखे।

प्रशासनिक अधिकारी व राजनेता भी पहुंचे स्वागत करने

स्वागत करने वालों में रांची के उपायुक्त  राय महिमापत रे,  एसएसपी  अनीश गुप्ता,  सिटी एसपी अमन कुमार समेत  कई  प्रशासनिक अधिकारी के साथ पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय, नगर विकास मंत्री सीपी सिंह, अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष कमाल खान, उपाध्यक्ष गुरविंदर सिंह सेठी उपस्थित थे।

खादी ग्राम बोर्ड के अध्यक्ष संजय सेठ, महावीर मंडल के पूर्व अध्यक्ष राजीव रंजन मिश्रा, जय सिंह यादव, सेंट्रल मोहर्रम कमेटी के महासचिव अकील उर रहमान,  उप सचिव आदिल राशीद,  इमाम बख्श अखाड़ा के प्रमुख खलीफा मोहम्मद सईद, धौताल अखाड़ा के प्रमुख खलीफा जमशेद अली उर्फ पप्पू गद्दी, मोहम्मद इसलाम, तिलक राज अजमानी,गुल मो गद्दी, हाजी मुख्तार समेत दर्जनों लोग भी इस अवसर पर शामिल थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

सिमडेगा : 5ए साइड हॉकी में सिमडेगा की बेटियों का कमाल, सेमीफाइनल में पहुंची टीम

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 7:51 PM
newscode-image

सिमडेगा। हॉकी झारखंड ने, हॉकी ओड़िशा को हराकर 5ए साइड हॉकी इंडिया के सेमीफाइनल में  प्रवेश पा लिया है। सिमडेगा की अलका, प्रमिला व स्मिता की गोल के बदौलत ये जीत मिली। हॉकी इंडिया द्वारा बेंगलौर में आयोजित थर्ड 5ए साइड हॉकी इंडिया सीनियर नेशनल चैंपियनशिप 2018 में झारखंड महिला हॉकी टीम ने हॉकी ओड़िशा को पेनाल्टी शूटआउट में  पराजित कर पहली बार सेमीफाइनल में प्रवेश किया।

मैदानी खेल में दोनों ही टीमें 1-1 गोल की बराबरी पर रही। पेनाल्टी शूटआउट में स्मिता मिंज, प्रमिला सोरेंग एवं अलका डुंगडुंग (तीनों सिमडेगा) ने गोल दागे। झारखंड की गोलकीपर सोनल मिंज ने पेनाल्टी शूटआउट में ओड़िसा की गोल को बचा लिया। लोगों ने टीम की जीत पर खिला‍ड़ि‍यों को बधाई दी है।

 

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

गोमिया : मुहर्रम पर साड़म में लाठी खेल प्रतियोगिता का...

more-story-image

रांची : अन्य राज्यों से झारखंड में सस्ता है डीजल...