सरायकेला : पति की प्रताड़ना से तंग पत्नी ने फंदे से झूलकर की आत्महत्या

NewsCode Jharkhand | 13 June, 2018 8:02 AM

खरसावां के आरआईटी थाना क्षेत्र स्थित कुलूपटांगा बस्ती में घटी घटना

newscode-image

सरायकेला । खरसावां जिले के आर आई टी थाना क्षेत्र स्थित कुलूपटांगा बस्ती में विवाहिता ने पति की प्रताड़ना से तंग आकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। बताया जाता है  30 वर्षीय रीता देवी को उसके पति बिनोद रजक द्वारा लगातार प्रताड़ित किया जा रहा था। जबकि मंगलवार सुबह भी दोनो पति-पत्नी के बीच मारपीट हुई थी। इधर इस घटना के बाद रीता देवी ने अपने कमरे में फंदे के सहारे पंखे से लटककर आत्महत्या कर ली।

बाद में मौके पर पहुंचे इनके ससुर अशोक रजक ने दरवाजा तोड़ शव को फंदे से उतारा और स्थानीय आरआईटी पुलिस को सूचित किया। मृतका के ससुर अशोक रजक ने बताया कि उनका बेटा विनोद रजक टाटा स्टील कंपनी में ठेका कर्मी के तौर पर काम करता है और बीते 15 दिनों से काम पर नहीं जा रहा था। जबकि रोजाना शराब का सेवन कर अपनी पत्नी को मारता – पीटता था जिस से आजिज आकर पत्नी ने यह कदम उठाया है।

जमशेदपुर : बेरोजगारी से तंग आकर युवक ने की खुदकुशी, कई दिनों से था परेशान

रीता की एक 8 माह की बेटी है और ये अपने पति की दुसरी पत्नी थी। जबकि पति बिनोद रजक का पहली पत्नी से तलाक हो चुका था। वहीं आरआईटी पुलिस द्वारा शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और आगे कार्रवाई की जा रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

रांची: भापुसे के 17 अधिकारियों का तबादला,कई जिलों के एसपी बदले

NewsCode Jharkhand | 21 November, 2018 2:20 PM
newscode-image

रांची। झारखंड सरकार ने भारतीय पुलिस सेवा (भापुसे) के 17 अधिकारियों का स्थानांतरण और पदस्थापन किया है। इसके साथ ही कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों का तबादला हो गया है। इस संबंध में गृह कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा मंगलवार देर शाम अधिसूचना जारी कर दी गयी।

गृह विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार डीआईजी उ.छो. क्षेत्र हजारीबाग पंकज कंबोज को डीआईजी एसीबी का भी अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। जबकि पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा के एसपी क्रांति कुमार गदिदेसी को एसपी विशेष शाखा बनाया गया है। विशेष शाखा के एसपी शैलेंद्र कुमार सिन्हा को जामताड़ा का एसपी बनाया गया है,वहीं रांची के यातायात पुलिस अधीक्षक संजय रंजन सिंह को समादेष्टा जैप-2 के पद पर पदस्थापित किया गया है, वहीं धनबाद के एसएसपी चोथे मनोज रतन को एसपी सीआईडी, सीआईडी के एसपी वाईएस रमेश को एसपी दुमका, विशेष शाखा के एसपी आलोक को खूंटी का एसपी, खूंटी के एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा को गुमला का एसपी, राज्यपाल के परिसहाय चंदन कुमार झा को चाईबासा का एसपी, जामताड़ा की एसपी जया राय को सीआईडी का एसपी, दुमका के एसपी किशोर कौशल को धनबाद का एसएसपी, एसटीएफ के एसपी अंजनी कुमार झा को विशेष शाखा का एसपी, गुमला के एसपी अंशुमन कुमार को राज्यपाल का परिसहाय, रांची के सिटी एसपी अमन कुमार को ग्रामीण एसपी धनबाद, जैप-5 की समादेष्टा सुजाता कुमारी वीणापानी को रांची का सिटी एसपी, धनबाद के ग्रामीण एसपी आशुतोष शेखर को रांची का ग्रामणी एसपी और रांची के ग्रामीण एसपी अजीत पीटर डुंगडुंग को रांची यातायात का एसपी बनाया गया है।

 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

ऱांची: आदिवासी की  अधिकारों की रक्षा के लिए सख्त कानून बनाया जाए- बारला

NewsCode Jharkhand | 21 November, 2018 8:22 PM
newscode-image

रांची। पांचवी अनुसूची एवं आदिवासी की  अधिकारों की रक्षा के लिए सख्त कानून बनाया जाए इन सब मांगों को लेकर  राजभवन के समक्ष धरना दयामनी बारला के नेतृत्व में दिया गया दिया  ।
20 मांगों के साथ राज्यपाल महोदया को ज्ञापन सामाजिक कार्यकर्ता दयामणि बरला के नेतृत्व में दिया गया । इस मौके पर दयामणि बारला  ने कहा रघुवर सरकार संविधान का उल्लंघन करने से भी बाज नहीं आ रहे हैं भारतीय संविधान में हम आदिवासी मूल वासी ग्रामीण किसान समुदाय को पांचवी अनुसूची क्षेत्र में गांव के सीमा के भीतर गांव के बाद जंगल जार बालू की तीव्रता एक-एक इंच जमीन पर ग्रामीणों को मालिकाना हक दिया है ।
यहां के  माइनर मिनिरल्स माइनर फॉरेस्ट प्रोडक्ट पर भी ग्रामसभा का अधिकार है ।इसी पांचवी अनुसूची में पेशा कानून 1996 वन अधिकार कानून 2006 का प्रावधान है ।यही मानकी मुंडा पड़हा व्यवस्था मांझी – परगना खुटकटी अधिकार भी है।
लेकिन राज्य सरकार इंसानों को अनदेखा करके आदिवासी समाज को प्रताड़ित करने का काम कर रही  है। राज्य सरकार अभी तक कुल 4 मोमेंटम झारखंड का आयोजन कर हजारों कारपोरेट कंपनियों तथा पूंजी पतियों के साथ झारखंड के आदिवासी निवासी किसानों के जल जंगल जमीन को उनके हाथ देने का समझौता कर लिया है ।जो पूरी तरह से पांचवी अनुसूची तथा पेसा कानून के प्रावधानों पर ग्रामीणों के अधिकारों पर हमला ही माना जाएगा । वर्तमान में चल रहे रिवीजन सर्वे  जिसके पूर्ण होते ही जिसके आधार पर नया खतियान बनेगा । इसके साथ ही 1932 का खतियान स्वतः निरस्त हो जाएगा। जिससे यहां का आदिवासी मूल राशि किसानों सभी समुदाय के परंपरागत अधिकार समाप्त हो जाएंगे

रांची। गुरुनानक देव जी समाज के पथ प्रदर्शक एवं सच्चे आध्यात्मिक गुरु- द्रौपदी मुरमु

Rakesh Kumar | 21 November, 2018 8:04 PM
newscode-image

रांची। गुरुनानक देव जी समाज के पथ प्रदर्शक एवं सच्चे आध्यात्मिक गुरु थे। मुझे सिक्खों के प्रथम गुरु एवं सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व पर आयोजित इस कार्यक्रम में शामिल होकर अपार प्रसन्नता हो रही है। वाहे गुरु की खालसा वाहे गुरु की फतह। माननीया राज्यपाल डॉ द्रोपदी मुरमु ने  रातू रोड रांची कृष्णा नगर काॅलोनी में आयोजित सत्संग में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रही थी।
माननीया राज्यपाल ने कहा कि गुरु नानक जी द्वारा स्थापित सिख धर्म जीवन दर्शन का आधार, मानवता की सेवा, कीर्तन, सत्संग एवं एक सर्वशक्तिमान ईश्वर के प्रति विश्वास है। गुरुनानक देव जी ने हमें जीने की कला सिखाई। एक समाज सुधारक के रुप में गुरु नानक साहब जी ने महिलाओं की स्थिति, गरीबों एवं दलितों की दशा सुधारने के कार्य किये। मैं गुरु जी को नमन करती हंू।
आज के कार्यक्रम में नगर विकास मंत्री श्री सी0पी0 सिंह, पूर्व मुख्यमंत्री श्री अर्जुन मुंडा एवं बड़ी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

More Story

more-story-image

रांची: स्वस्थ बच्चे व स्वस्थ मां सामाजिक अर्थव्यवस्था की बुनियाद-ऋचा...

more-story-image

रांची: ईद मिलादुन्नबी पर समाजसेवियों ने लगाया शिविर

X

अपना जिला चुने