घाटशिला : सरेंडर नीति पर उठे सवाल, नक्सली रहे चुन्नू मुंडा ने लगाया छलने का आरोप

Prasenjit Mishra | 11 May, 2018 6:39 PM
newscode-image

सरेंडर नीति के तहत नहीं मिली सुविधायें- चुन्नू मुंडा

घाटशिला (पूर्वी सिंहभूम)। डेढ़ साल पहले गुड़ाबांधा में नक्सलियों की तूती बोला करती थी। तोती जियान गांव में आम आदमी तो दूर पुलिस भी नहीं पहुंच पाती थी। आज इलाके में शांति का माहौल है तो इसका कारण है। नक्सलियों के सरेंडर नीति के बाद कई नक्सलियों ने आत्मसमर्पण किया। आज 8 नक्सली जेल में बंद हैं इनके ऊपर केस चल रही है। इसमें से एक नक्सली चुन्नू मुंडा सरकार की सरेंडर नीति से नाराज है और आरोप लगाया कि सरकार छलने का काम कर रही है।

चुन्नू का कहना था कि नक्सली दस्ता की पूरी टीम ने सरेंडर किया। कुछ आशा के साथ कि सरकार सहयोग करेगी तो आम जनजीवन जी सकते हैं। अब चुन्नू मुंडा को लग रहा है कि सरकार ने छलने का काम कर रहा है। नौकरी मिलेगी, पैसा मिलेगा. जिससे कारोबार कर सकेंगे लेकिन आज डेढ़ साल गुजरने के बाद भी चुन्नू मुंडा खुद को छला हुआ महसूस कर रहा है।

ढाई लाख का मिला था आश्वासन- चुन्नू मुंडा

उसने कहा कि सरेंडर के समय 10,000 दिया गया था उसके बाद से सरेंडर नीति के तहत एक पैसा भी नहीं दिया गया। हमें कहा गया था ढाई लाख रूपय दिया जाएगा. लेकिन हमें एसपीओ बनाया गया। एसपीओ के तहत 27,000 यानी कुल 9 महीने का पैसा दिया गया है।

उसने आरोप लगाया कि 1 साल 7 महीना में सरकार ने अनेक कार्यक्रम यहां दिखावे के लिए किए, लेकिन जियान गांव और फोकस एरिया में कुछ नहीं हुआ। पुलिस प्रशासन ने कृषि के लिए प्रयास किया लेकिन पानी के साधन जुटाने में सफल नहीं हो सकी।

धनबाद : “रेवेन्यू प्रोटेक्शन एक्ट” का विरोध, झामुमो ने मुंख्यमंत्री का फूंका पुतला

चुन्नू के पिता आज 20-25 साल से मानसिक रोग से पीड़ित हैं। उनका इलाज का वादा पुलिस प्रशासन ने किया था। लेकिन वह भी नहीं किया गया। रोजी-रोटी के लिए मां को बंगाल जाना पड़ा है। वहां धान काटने गई है जहां प्रतिदिन ढाई सौ रुपए मिलते हैं। सप्ताह में एक बार आती है घर में पैसे देकर जाती है।

“परिवार का खर्चा नहीं उठा पा रहा”

चुन्नू मुंडा ने कहा कि पत्नी को ठीक से खिला नहीं पा रहा हूं और आगे परिवार के लिए सोच पा रहा हूं। सरकार ने सिर्फ 4 कट्ठा जमीन दी है। जिस जगह जमीन दी है वहां घर बना कर ही रहा जा सकता है। कोई धंधा पानी नहीं किया जा सकता।

अब दिन भर पति-पत्नी मट्टी काटते हैं तो अपना पेट भरते हैं। सरकार द्वारा पुलिस के माध्यम से चना जोताई का कार्य किया था लेकिन पानी नहीं होने के कारण वह भी असफल रहा। उज्जवला योजना का लाभ तक नहीं मिला है। ना ही राशन कार्ड मिला है और ना ही पेंशन और न घर।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

चतरा : TPC नक्सलियों की करतूत, ठेकेदार की हत्या, छह को किया घायल

NewsCode Jharkhand | 19 July, 2018 11:06 AM
newscode-image

चतरा । नक्सली संगठन तृतीय प्रस्तुति कमेटी (टीपीसी) के हथियारबंद दस्ते ने बुधवार देर रात चतरा जिले के पत्थलगड्डा थाना क्षेत्र के मेराल गांव में एक ठेकेदार की पीट-पीट कर हत्या कर दी।

नक्सलियों ने मेराल गांव निवासी नागेश्वर गंझू पर पुलिस मुखिबिरी का आरोप लगाते हुए मनरेगा के नागेश्वर गंझू समेत कई लोगों से मारमीट की। इस मारपीट की घटना में छह लोग घायल हो गये। जिसमें नागेश्वर गंझू की इलाज के क्रम में मौत हो गयी। मारपीट से घायल आधा दर्जन लोगों की प्रथमिक उपचार स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र में किया गया। बाद में उन्हें बेहतर इलाज के लिए हजारीबाग सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया है।

बाघमारा :  दो पड़ोसी दुकानदार आपस में भिड़े, सात घायल

मृतक नागेश्वर गंझू के परिजनों ने बताया टीपीसी के उग्रवादी लेवी नहीं देने और पुलिस के लिए मुखबिरी करने का आरोप लगाते हुए उन्हें घर से उठा कर ले गये थे। घर के बाहर कुछ दूरी पर ले जाकर उनके साथ मारपीट की।  जिससे वह मरणासन्न हो गये और बाद में उनकी मौत हो गयी। नागेश्वर गंझू के साथ मारपीट करने के बाद उग्रवादियों ने गांव के दूसरे घरों से भी लोगों को निकाल कर मारपीट की। जिसमें छह लोग गंभीर रुप से घायल हुए हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

चाईबासा : ग्रामीणों ने नौकरी व मुआवजा की मांगों को लेकर एक दिवसीय धरना प्रदर्शन दिया

NewsCode Jharkhand | 19 July, 2018 11:15 AM
newscode-image

चाईबासा ।  टाटा स्टील के नोवामुंडी मेन गेट पर टाटा स्टील से विस्थापित हुए 11 गांवों के भू -दाताओं के परिजनों ने  धरना दिया। गांवों के मानकी मुंडा तथा पूर्व विधायक मंगल सिंह बोबोंगा के नेतृत्व में अधिग्रहित जमीन के एवज में नौकरी व मुआवजा की मांगों को लेकर एक दिवसीय सांकेतिक धरना प्रदर्शन किया।

इस धरना प्रदर्शन में टाटा स्टील खदान से विस्थापित बस्ती नोवामुंड, मसुरीबेडा, बालीझोर, महूदी, कुटिंगता, कोडता, सरबिल ,इटरबालजोडी, डूकासाई, कुचीबेडा व संग्रामसाई के सैकडों लोग शामिल हुए। प्रदर्शनकारियों में महिला पुरूष व बच्चे काफी आक्रोश में घंटों टाटा स्टील के मेन गेट पर प्रदर्शन किया। इस दौरान पूर्व विधायक श्री बोबोंगा ने ग्रामीणों को संबोधित करते हुए कहा कि टाटा स्टील प्रबंधन सिर्फ कोरा आश्वासन देती है।

पहले प्रभावित गांवों मे चिकित्सा शिक्षा, सडक, सिंचाई के क्षेत्रों में काम किया। इन दिनों सभी विकास योजनाओं को बंद कर दिया। कौशल विकास के नाम पर शिक्षित बेरोजगार युवा को ठग रहा है। उनके एनटीटीएफ समेत सभी प्रशिक्षण संस्थान को सरकार से मान्यता प्राप्त नहीं है। करीब 90 युवाओं के भविष्य टाटा स्टील के चलते गर्दिश में हैं।

इस दौरान एक ज्ञापन सीओ के माध्यम से सीएम को प्रेषित किया गया। इसमें प्रथम चरण तथा दूसरे चरण में जिन रैयतों के जमीन अधिग्रहण किया गया। उनके नाम, खाता व प्लोट नंबरों सहित रकवा की विवरणी मांगी गई है। साथ ही किस जमीन के एवज में कब और कहां भू -स्वामियों को नौकरी व मुआवजा दी गई। इसकी विवरणी भी मांगी गई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

चास : नगर विकास समिति की मासिक बैठक में समस्याओं पर चर्चा

NewsCode Jharkhand | 19 July, 2018 10:52 AM
newscode-image

चास(बोकारो)। नगर विकास समिति की मासिक समीक्षा बैठक “बाबु कुंवर सिंह जोन” बुनियादी स्कूल चास अभय कुमार मुन्ना की अध्यक्षता तथा गौरी शंकर सिंह के संचालन में हुई। बैठक में आम लोगों के हित मे सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यो को लेकर वार्ड वार बिस्तार से चर्चा किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए समिति के संरक्षक सदस्य अशोक जगनानी ने कहा कि सरकार की योजनाए आमजनता को केंद्र में रखकर ही बनाई जाती है।

बेरमो : युवक ने घर घुसकर लड़की का गला काटा, हालत नाजुक

 

लेकिन उसको कार्यान्वित करने वाली एजेंसी जबतक ईमानदारी पूर्वक अपने कर्तव्यों का पालन नही करती। तब तक शत प्रतिशत सफलता नहीं मिल पाता है। बिजली विभाग, आपूर्ति विभाग,नगर निगम,प्रखंड-अंचल सहित कई विभाग में विकास का कार्य असंतुलित एवं मनमाने ढंग से हो रहा है। कार्य करने वाली एजेंसियां सबको दरकिनार कर विकास का कार्य कर रही है,जिस कारण भ्रष्टाचार बेलगाम हो गया है। जो अत्यंत दुखद है।

चास : इंजीनियर के घर से 20 हजार नगद समेत लाखों की कीमती सामान चोरी

 

समिति अतीश कुमार सिंह ने कहा कि सरकारी योजनाओं को जोन स्तर पर आम जनता को अधिक से अधिक जागरूक करने के लिए समिति बैठके कर रही है। समिति एक जिम्मेवार संगठन के रूप में मनमानी को  रोकने के लिए कृतसंकल्पित है। समिति के अध्यक्ष अभय कुमार मुन्ना ने कहा कि विगत एक माह में समिति ने आम जनता की समस्याओं को लेकर उपायुक्त, बिजली विभाग,नगर निगम,रेलवे विभाग,खाद्य आपूर्ति विभाग सहित कई विभाग में स्थानीय स्तर पर हो रही समस्याओ से संबंधित मूद्दो से अधिकारियों को अवगत कराया है।

बोकारो : चास नगर निगम क्षेत्र से भारी मात्रा में अवैध पॉलीथिन बरामद

 

 जो आगे भी जारी रहेगा । अपेक्षित सुधार नहीं होने पर समिति आंदोलनात्मक कार्यक्रम भी चलाने का काम करेगी। इस अवसर पर मार्गदर्शक समिति के संरक्षक सदस्य अशोक जगनानी, वरिष्ठ सदस्य अतीश सिंह, गौरी शंकर सिंह,शिव कुमार श्रीवास्तव,रामभजन सिंह,लालमुनी देवी,नरोत्तम झा,बिनोद चौधरी,वार्ड अध्यक्ष राम किंकर माहथा,बिंदा मौजूद रहे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

More Story

more-story-image

रांची : डोरंडा के बेलदार में महावीर मंडल के उपाध्यक्ष...

more-story-image

खूंटी : खेत में काम करने के दौरान करंट लगने...