गोल-गप्पे बेचने वाले खिलाड़ी को सचिन ने गिफ्ट किया अपना बैट, U-19 टीम में हुआ चयन

NewsCode | 10 July, 2018 1:21 PM
newscode-image

नई दिल्ली। क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर ने अपने खेल से करोड़ों लोगों का दिल जीता है। लेकिन रिटायर होने के बाद भी सचिन ऐसे काम कर रहे हैं जो दिल को छू जाते हैं। सचिन तेंदुलकर हाल ही में एक गरीब क्रिकेटर को अपना बैट भेंट कर एक बार फिर तारीफ बटोर रहे हैं। सचिन ने अपने बेटे अर्जुन तेंदुलकर के दोस्त यशस्वी जायसवाल को अपना बैट गिफ्ट में दिया और साथ में उससे अपने डेब्यू मैच में इसी बल्ले से खेलने की गुजारिश की।

आपको बता दें यशस्वी जायसवाल का टीम इंडिया की अंडर 19 टीम में चयन हुआ है। अंडर-19 टीम श्रीलंका दौरे पर दो 4 दिवसीय मैच खेलने वाली है। इस टीम का हिस्सा अर्जुन तेंदुलकर भी हैं और यशस्वी उनके दोस्त हैं। यशस्वी और अर्जुन तेंदुलकर बैंगलोर के एनसीए में लगे कैंप में थे और दोनों एक ही कमरे में रहते थे। यशस्वी जायसवाल एक बार सचिन से मिलना चाहते थे ऐसे में अर्जुन तेंदुलकर उन्हें अपने घर बांद्रा ले गए और अपने पिता सचिन तेंदुलकर से मुलाकात कराई।

गोल-गप्पे बेचने वाले  यशस्वी जायसवाल को सचिन तेंदुलकर ने गिफ्ट किया अपना बैट, अंडर-19 टीम में हुआ चयन Sachin Tendulkar gifts bat to Yashasvi Jaiswal Under -19 cricketer Arjun Tendulkar | NewsCode - Hindi News

सचिन ने यशस्वी से उनके खेल के बारे में बात की और उन्हें कई टिप्स भी दिए। इसके बाद सचिन ने यशस्वी को अपना बल्ला दिया और उसपर एक खास संदेश भी लिखा। सचिन ने यशस्वी से अंडर-19 पदार्पण मैच में इसी बल्ले से खेलने की सलाह भी दी। आपको बता दें यशस्वी जायसवाल ने हाल ही में हुई कूच बेहार ट्रॉफी में 500 से ज्यादा रन बनाए थे।

VIDEO : तेंदुलकर को गली क्रिकेट खेलते देखा क्या ?

यशस्वी जायसवाल की जिंदगी बेहद कठिनाइयों भरी रही है। यशस्वी मुंबई के मुस्लिम यूनाइटेड क्लब के गार्ड के साथ तीन साल तक टेंट में रहे। यशस्वी इससे पहले डेयरी में काम करते थे और वहीं सोते थे, लेकिन वहां से उन्हें भगा दिया गया। यशस्वी उस वक्त सिर्फ 11 साल के होते थे।

जब सचिन के बल्ले से शाहिद अफरीदी ने जमाया था वनडे इतिहास का सबसे तेज़ शतक

बता दें कि दो भाइयों में छोटे यशस्वी उत्तर प्रदेश के भदोही के रहने वाले हैं। उनके पिता वहीं एक छोटी सी दुकान चलाते हैं। यशस्वी, कम उम्र में ही क्रिकेट का सपना लेकर मुंबई पहुंच गये थे। यशस्वी ने रामलीला के समय आजाद मैदान पर गोलगप्पे तक बेचे हैं।

‘सांसद’ सचिन को इस काम के लिए आप भी देंगे शाबाशी

भारतीय टीम के इस पूर्व खिलाड़ी को बनाया गया महिला टीम इंडिया का नया कोच

NewsCode | 16 July, 2018 7:17 PM
newscode-image

नई दिल्ली। भारतीय महिला क्रिकेट टीम के हेड कोच तुषार अरोडे के पद से हट जाने के बाद टीम को नया कोच मिल गया है। भारत के पूर्व ऑफ स्पिन गेंदबाज रमेश पोवार को राष्ट्रीय महिला क्रिकेट टीम का अंतरिम कोच बनाया गया है। खबर है कि बीसीसीआई जब तक तुषार अरोठे का उपयुक्त विकल्प नहीं ढूंढ लेता तब तक वह टीम के साथ जुड़े रहेंगे।

बता दें कि सीनियर खिलाड़ियों के साथ मतभेद के बाद अरोठे को इस्तीफा देने को बाध्य होना पड़ा था। सीनियर खिलाड़ी बड़ौदा के इस पूर्व ऑलराउंडर के कोचिंग के तरीकों से खुश नहीं थीं। 40 वर्षीय पोवार महिला टीम के शिविर से जुड़ेंगे जिसकी शुरुआत 25 जुलाई से बेंगलुरु में होगी।

भारतीय टीम के इस पूर्व खिलाड़ी को बनाया गया महिला टीम इंडिया का नया कोच Former Team India spinner Ramesh Powar named as interim coach of Indian Women's cricket team | NewsCode - Hindi News

बीसीसीआई पहले ही पूर्णकालिक कोच के लिए आवेदन आमंत्रित कर चुका है जिसकी अंतिम तारीख 20 जुलाई है। दिशानिर्देशों के अनुसार नए कोच की उम्र 55 बरस से कम होनी चाहिए और उसे अंतर्राष्ट्रीय या प्रथम श्रेणी टीम को कोचिंग देने का अनुभव होना चाहिए।

पोवार ने कहा, ‘मुझे जो जिम्मेदारी की गई उसकी मुझे खुशी है और मैं उन्हें (महिला टीम को) आगे बढ़ाने के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करूंगा।’ पोवार को अपनी अंतरिम नियुक्ति की जानकारी क्रिकेट बोर्ड से रविवार को मिली। पिछले हफ्ते ही पोवार मुंबई की सीनियर रणजी टीम के कोच की दौड़ में मुंबई के पूर्व विकेटकीपर बल्लेबाज विनायक सामंत से पिछड़ गए थे।

इस पद के लिए कथित तौर पर पोवार पहली पसंद थे। लेकिन प्रबंधन समिति का एक प्रस्ताव उनके खिलाफ और सामंत के पक्ष में गया। पोवार ने इस साल फरवरी में बीच में ही एमसीए की क्रिकेट अकादमी के स्पिन गेंदबाजी कोच का पद छोड़ दिया था और युवा स्पिनरों को प्रशिक्षण देने के लिए ऑस्ट्रेलिया चले गए थे। पोवार ने भारत की ओर से दो टेस्ट में छह, जबकि 31 वनडे अंतरराष्ट्रीय मैचों में 34 विकेट हासिल किए। उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 148 मैचों में 470 विकेट चटकाए हैं।

धोनी ने वनडे करियर में छुआ 10 हजार रन का जादुई आंकड़ा, ऐसा करने वाले चौथे भारतीय

फीफा विश्व कप 2018 : क्रोएशिया को 4-2 से हराकर फ्रांस दूसरी बार बना विश्व चैंपियन

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

झरिया : धमाका, फायरिंग और मारपीट से क्षेत्र में दहशत, शादी समारोह घर में भी मचा कोहराम

NewsCode Jharkhand | 17 July, 2018 11:29 AM
newscode-image

झरिया (धनबाद) । भौरा थाना क्षेत्र के भौरा नीचे बाजार व ऊपर बाजार में बीती रात हथियारबंद लोगों ने हमला बोल दिया। दर्जनो राउंड फायरिंग की तथा कई घरों पर देसी व पेट्रोल बम फेंके गए। आधा दर्जन लोग घायल हो गए हैं। इनमें महिलाएं भी शामिल हैं।

झरिया : धमाका, फायरिंग और मारपीट से क्षेत्र में दहशत, शादी समारोह घर में भी मचा कोहराम

आरोपी न्यू क्वार्टर के रहने वाले हैं वह 70 – 80 के संख्या में थे। आरोपियों ने भौरा पुलिस के वाहन पर भी पथराव किया। पुलिस को भाग कर अपनी जान बचानी पड़ी। हमलावर करीब आधे घंटे तक उत्पात मचाते रहे। मामले की गंभीरता को देख भौरा पुलिस ने जोड़ापोखर, पाथरडीह, सुदामडीह, सहित कई थानों की पुलिस को घटनास्थल पर बुलवा लिया और कई अधिकारी भी घटनास्थल पर पहुंच गए।

हमलावर भौरा बाजार निवासी बालेश्वर उर्फ वाले यादव के शादी वाले घर में घुस गए और महिलाओं के साथ मारपीट दुर्व्यवहार तथा लूटपाट की। दूल्हे नीरज कुमार यादव की चेन और अंगूठी भी लूट ली और दूल्हे के साथ भी मारपीट की । इस दौरान एक महिला की कान की बाली भी खिंच डाली। इस घर से मंगलवार को बारात जानी है। नीरज यादव स्वर्गीय रंजीत यादव का पुत्र हैं।

पाकुड़ : लाखों रुपये का गांजा जब्त, 3 गांजा तस्कर चढ़े पुलिस के हत्थे

हॉकी, स्टिक, डंडे से पिटाई में बालेश्वर यादव, चंद्रवती देवी,शांति देवी बबली देवी, रीना देवी आदि घायल हो गए। सभी घायलों को भौरा अस्पताल लाया गया गंभीर स्थिति को देख चिकित्सकों ने उन्हें पीएमसीएच रेफर कर दिया है। घटना के पीछे आपसी रंजिश बताई जाती है।

हमलावरों ने दुकानों पर भी हमला कर दिया और तोड़फोड़ किया। जिसको लेकर दुकानदारों में भारी रोष है और आज बाजार के सारे दुकानदार अपने-अपने दुकान बंद कर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर पुलिस से सुरक्षा की गुहार लगा रहे हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

चाईबासा : जगन्नाथपुर जिला परिषद सदस्य भाजपा छोड़ थामा झामुमों का दामन

NewsCode Jharkhand | 17 July, 2018 11:26 AM
newscode-image

चाईबासा । जैसे जैसे चुनाव नजदीक पहुंच रही है , वैसे वैसे जोड़ तोड़ की राजनीति भी तूल पकड़ने लगी है। जहां कुछ लोग पार्टी की विचार धारा पच नहीं रही है , तो कई पार्टी की वरीय पदाधिकारियों की उपेक्षा। इस राजनीतिक घटना क्रम से साफ पता चलता है कि आने वाली कल की राजनीति में बड़ा उलट फेर होने इंकार नहीं किया जा सकता है।

 पश्चिमी सिंहभूम भाजपा जिला अध्यक्ष शुरु नंदी के कार्यशैली व रैवया से पार्टी के वरीय पदाधिकारी व युवा कार्यकर्ता खुश नहीं है। अब तक कई कार्यकर्ताओं ने पार्टी छोड़ अन्य पार्टी का दामन थाम चुके है ।

चाईबासा : विभागीय लापरवाही में फिर गयी एक ठेका बिजली मिस्त्री की जान

सोमवार को जगन्नाथपुर जिला परिषद सदस्य व भाजपा युवा नेता अभिशेख सिंकु उर्फ मुन्ना के नेतृत्व में दर्जनों भाजपा कार्यकर्ता सहित जभासपा , कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने झामुमो सुप्रीमो शिबु सोरेन के समक्ष उनके आवास में विधिवत रुप से शामिल हो गए।

चाईबासा : जगन्नाथपुर जिला परिषद सदस्य भाजपा छोड़ थामा झामुमों का दामन

जिप सदस्य श्री सिंकु ने बताया कि भाजपा अपनी विचार धारा से भटक गई है।  यह सिर्फ अमित शाह व रघुवर दास की विचार धारा की पार्टी रह गई है । झारखंङ के विकास के नाम पर विनाश करने का काम किया जा रहा है। जो आने वाले समय में भाजपा के लिए खतरे की घंटी है।

ये हुए भाजपा छोड़ झामुमों में शामिल

अभिशेक सिंकु — जिप सदस्य सह भाजपा नेता

संजय बारिक —  उप प्रमुख सह भाजपा नेता

हरिश हेंब्रम – भाजपा नेता

उमेश गोप – करंजिया पंचायत प्रभारी

बलदेव लागुरी – पोखरपी पंचायत अध्यक्ष

जयपाल लागुरी – पंचायत प्रभारी पोखरपी

 जभासपा मार्शल लागुरी

 सिकंदर तिरिया

रमेश सिंकु

विपिन सिंकु

मुखिया कृष्णा लागुरी

 मुखिया दमयंती लागुरी

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

गोरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा को लेकर सुप्रीम...

more-story-image

जमशेदपुर : 4 लैंड माइंस गाड़ियों में 3 विगत 2...