रेलवे ग्रुप डी व सी भर्ती 2018: 90,000 पदों के लिए परीक्षा की संभावित तारीखों का ऐलान

NewsCode | 3 July, 2018 3:25 PM
newscode-image

नई दिल्ली। लंबी प्रतीक्षा के बाद आखिरकार रेलवे ने 90 हजार पदों पर भर्ती के लिए पहले चरण की लिखित परीक्षा की तारीख का ऐलान कर दिया है। हालांकि अभी इसे संभावित तारीख बताया जा रहा है, लेकिन इस घोषणा से 2 करोड़ 37 लाख आवेदकों को बड़ी राहत मिली है। रेलवे भर्ती बोर्ड (आरआरबी) ने घोषणा की है कि ग्रुप सी और ग्रुप डी के लिए पहले चरण का कंप्यूटर बेस्ड टेस्ट (सीबीटी) अगस्त/सितंबर, 2018 में आयोजित होगा। इस ऐलान के साथ अब उम्मीदवार अपनी परीक्षा की तैयारी की सटीक रणनीति बना सकते हैं।

अधिसूचना में आरआरबी ने कहा था परीक्षा अप्रैल/मई माह में आयोजित हो सकती है। लेकिन 2.37 करोड़ आवेदनों के आने की वजह से परीक्षा का कार्यक्रम आगे बढ़ाया गया है। रेलवे ने कुछ दिनों पहले नोटिस जारी करते हुए कहा कि आवेदन पत्रों की छंटनी का काम चल रहा है और यह जल्द पूरा होगा। जुलाई के पहले सप्ताह में परीक्षा देने के योग्य व वैध उम्मीदवारों की सूची जारी की जाएगी।

छात्रों ने 29 जून को किया था प्रदर्शन

आपको बता दें कि हजारों युवाओं ने 29 जून को ‘रोजगार मांगे इंडिया’ के बैनर तले देश भर में विरोध प्रदर्शन किया था और रेलवे से परीक्षा की तिथि जारी करने की मांग की थी। प्रदर्शनकारियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने दिल्ली और कोलकाता में रेलवे भर्ती बोर्ड के कुछ अधिकारियों से भी मुलाकात की थी।

रेल भवन के सामने विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों का कहना था कि इंटरनेट पर परीक्षा की तारीखों को लेकर फर्जी खबरें वायरल हो रही हैं। फर्जी खबरों से उम्मीदवारों को काफी परेशानी हो रही है। प्रदर्शनकारियों ने आरआरबी के कार्यकारी निदेशक अमिताभ खरे से भी मुलाकात की थी।

रेलवे भर्ती बोर्ड ने परीक्षा की संभावित तारीख घोषित करते हुए उम्मीदवारों को सलाह दी है कि वह केवल आरआरबी की आधिकारिक वेबसाइट्स पर भरोसा करें और फर्जी खबरों से गुमराह होने से बचें।

रेलवे में निकली एक और भर्ती, 10वीं पास भी कर सकते हैं आवेदन

गौरतलब है कि रेलवे भर्ती बोर्ड ने फरवरी माह में ग्रुप डी के 62000 पद और असिस्टेंट लोको पायलट व टेक्नीशियन के 26000 पदों के लिए भर्तियां निकाली थी। इन भर्तियों के लिए 2 करोड़ 37 लाख आवेदन आए हैं। अब रेलवे इन आवेदनों की जांच में लगा रहा हुआ है।

लेवल-2 के पदों में लोको पायलेट, सहायक स्टेशन मास्टर आदि की लिखित परीक्षा के अलावा मनौवैज्ञानिक परीक्षा ली जाएगी, जबकि लेवल-1 के पदों में गैंगमैन, ट्रैकमैन, प्वांइटमैन आदि की लिखित परीक्षा होने के बाद संबंधित जोन में शारीरिक टेस्ट लिया जाएगा। अधिकारी ने बताया कि लेवल-1 की देशभर में एक दिन ही परीक्षा कराई जाएगी। इसी प्रकार दूसरे चरण में लेवल-2 की परीक्षा देशभर में एक दिन ही आयोजित की जाएगी।

फर्जी वेबसाइट, फर्जी रिजल्ट! रेलवे में नौकरी दिलाने के नाम पर ऐसे लूटे लाखों रुपये

रेलवे स्टेशन पर वेटिंग रूम में इंतजार करना पड़ेगा महंगा, घंटे के हिसाब से लगेगा चार्ज

रांची : प्रधानमंत्री ने रांची से की आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 4:51 PM
newscode-image

रांची। सुगम और सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं मुहैया कराने के लिए भारत ने रविवार को ऐतिहासिक और एक बड़ा कदम उठाया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को झारखंड की राजधानी रांची में दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना आयुष्मान भारत की शुरुआत की।

प्रधानमंत्री ने बिरसा मुंडा की धरती से दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ बीमा योजना, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की शुरुआत पांच परिवारों को गोल्डन कार्ड देकर किया।  साथ ही देश के 26 राज्यों में भी उन राज्यों के मुख्यमंत्री, राज्यपाल इस योजना की शुरुआत की। इसके अलावा 51 केंद्रीय मंत्रियों ने भी अलग-अलग जगहों पर योजना की शुरुआत की।

रांची : प्रधानमंत्री ने रांची से की आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत

प्रधानमंत्री ने कोडरमा, चाईबासा मेडिकल कॉलेज का किया शिलान्यास

प्रधानमंत्री ने रांची से झारखंड मे 10 हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर के अलावा चाईबासा और कोडरमा के मेडिकल कॉलेज का भी शिलान्यास किया। कोडरमा में करीब 328करोड़ और चाईबासा में 272करोड़ की लागत से मेडिकल कॉलेज बनेगा।

राजधानी रांची के प्रभात तारा मैदान में आयुष्मान भारत के उद्घाटन के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि काम कैसे होता है, कितने बड़े पैमाने में होता है, यह झारखण्ड में देखा जा सकता है।

उन्होंने कहा कि इस योजना की शुरुआत उनके लिये दरिद्र नारायण की सेवा करने का अवसर है, छह महीने के भीतर इस योजना का आना बहुत बड़ा अजूबा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि गरीबों के नाम पर राजनीति करने के बजाय गरीबों के विकास पर ध्यान दिया गया होता तो आज देश का स्वरूप कुछ और ही होता।

रांची : प्रधानमंत्री ने रांची से की आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत

धांधली रोकने के लिए पुख्ता व्यवस्था- प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत देश के 10 करोड़ से अधिक परिवारों को सालाना 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा कवर मिलेगा। इसके दायरे में देश की 40 फीसदी आबादी आएगी और करीब 50 करोड़ लोगों को फायदा होगा। ये पूरी तरह से पेपरलेस और कैशलेस होगी।

इस योजना के तहत 1,350 से ज्यादा प्रोसीजर (बीमारी) और 23 गंभीर बीमारियों यानि कैंसर, दिल, हड्डी, दांत, मानसिक बीमारी, लेप्रोसी जैसी बीमारियों का भी मुफ्त इलाज होगा।

अस्पताल में भर्ती होने के 3 दिन पहले और 15 दिन बाद तक मरीज को मुफ्त दवा मिलेगी। किसी भी तरह की धांधली रोकने के लिए पुख्ता व्यवस्था की गई है।

रांची : प्रधानमंत्री ने रांची से की आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत

प्रधानमंत्री ने काफिला रोककर आंगनबाड़ी और सहिया बहनों से की मुलाकात

इससे पहले राजधानी रांची पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बीच रास्ते अपना काफिला रोककर आंगनबाड़ी और सहिया बहनों से मुलाकात की। सहिया बहनों ने प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री का स्थानीय गीत से स्वागत किया।

आंगनबाड़ी दीदी से मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री  ने पोषण माह के बारे में जानकारी ली। साथ ही ये भी पूछा कि किस तरह के पौष्टिक भोजन को लेकर वो जागरुकता फैलाती हैं। प्रधानमंत्री  ने सहिया बहनों के प्रयासों की तारीफ करते हुए उनसे भी संवाद किया।

रांची : प्रधानमंत्री ने रांची से की आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत

इस योजना से 50-55 करोड़ आबादी होगी लाभान्वित- जेपी नड्डा

समारोह को संबोधित करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जेपी नड्डा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झारखंड से इसकी आज शुरुआत कर रहे हैं।  आयुष्मान भारत के तहत पूरे देश के 10 करोड़ 74 लाख परिवार को इसका लाभ मिलेगा जिसके तहत लगभग देश की 50 से 55 करोड़ आबादी लाभान्वित होगी। झारखण्ड के 57 लाख परिवार को इसका लाभ मिलेगा। यह पूरी तरह डिजिटल, कैशलेस और पेपरलेस है।

रांची : प्रधानमंत्री ने रांची से की आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत

भ्रष्टाचारियों के लिए मोदी सरकार काल बनकर आयी है- रघुवर दास

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि भ्रष्टाचारियों के लिए मोदी सरकार काल बनकर आयी है। मोदी सरकार ने पिछले चार साल में भारत की जो विकास गाथा लिखी है, उससे विपक्ष घबरा गया है।

विपक्ष को समझ नहीं आ रहा है कि वो कैसे मोदी सरकार के विकास कार्यों का मुकाबला करे। इसलिए पूरा विपक्ष महागठबंधन बनाकर भ्रष्टाचार में डुबे लोग दुष्प्रचार में लगे हैं। लेकिन जनता सब जानती है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गोड्डा : पुलिस ने 59 गाय को किया बरामद, 7 तस्कर गिरफ्तार

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 5:43 PM
newscode-image

गोड्डा। गो वंशीय पशुओं की तस्करी के रोकने के लिए पुलिस जोर शोर से लगी हुई है। गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस अधीक्षक राजीव रंजन के निर्देश पर कार्रवाई करते हुए, पुलिस ने 59 गाय समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया है।

गोड्डा :  बिजली विभाग की लापरवाही, जमीन पर पड़े नंगे तार से महिला झुलसी

सदर एसडीपीओ रवि भूषण ने बताया कि राजाभीठा थाना क्षेत्र में गाय की तस्करी किया जा रही है। शनिवार को सदर बाजार स्थित बंका हॉट से गो वंशीय पशुओं की खरीदारी करके पड़ोसी जिले पाकुड़ के हिरणपुर स्थित हाट में सोमवार को बेचे जाने की योजना थी।

गो वंशीय पशुओं की तस्करी का खेल लगातार चल रहा था और तस्करी में शामिल लोगों को 700 से लेकर 1400 रुपये तक की मजदूरी दिया जाता था। सदर एसडीपीओ ने बताया कि गिरफ्तार तस्करों से सघन पूछताछ की जा रही है, मामले में 6 अभियुक्तों का नाम भी सामने आ चुका है। अधिकांशतः तस्कर पाकुड़ जिले से ताल्लुक रखते हैं तथा कुछ तस्कर पड़ोसी जिले साहेबगंज के हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

देवघर : रसोइया संघ की हुई बैठक, चार अक्‍टूबर को देंगे धरना

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 5:39 PM
newscode-image

देवघर। पुराने सदर अस्पताल परिसर में देवघर जिला रसोइया संघ की बैठक में स्‍कूलों के समायोजन के नाम पर रसोइयों को कार्य से हटाए के खिलाफ आगामी चार अक्‍टूबर को डीएसई कार्यालय के समक्ष धरना देने का निर्णय लिया गया।

बैठक की अध्‍यक्षता करते हुए संघ अध्यक्षा गीता मण्डल ने कहा कि झारखंड सहित देवघर में एक स्‍कूल का दूसरे विद्यालय में समायोजन करने पर रसोइयों के समक्ष भुखमरी की समस्‍या पैदा हो गई है।

देवघर : धूमधाम से मनाया गया पर्यटन पर्व

उन्‍होंने कहा कि समायोजित किए गए स्‍कूलों के शिक्षकों समेत छात्र-छात्राओं को दूसरे विद्यालयों में भेज दिया गया है। उन स्‍कूलों में कार्यरत रसोइयों को काम से हटा दिया गया है। इनलोगों का मानदेय भी बन्द कर दिया गया है। संघ ने सरकार के इस कदम की कड़े शब्‍दों में विरोध किया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

पितृ पक्ष 2018: श्राद्ध क्रिया में इन खास बातों का...

more-story-image

चक्रधरपुर : हावड़ा से मुंबई जा रही गीतांजलि सुपरफास्ट ट्रेन...