रांची : यहां दिन के 12 बजे नहीं बनेगी आपकी परछाई…

NewsCode Jharkhand | 20 June, 2018 5:48 PM
newscode-image

रांची। मुस्कुराइए आप कर्क रेखा से गुजर रहे हैं……. यह साइनबोर्ड रांची से रामगढ़ रोड पर हर आने-जाने वाले लोगों को नजर आती है, पर कम ही लोग होंगे जो इस साइनबोर्ड को देखकर समझते होंगे कि इस बोर्ड के क्या मायने हैं, लेकिन लोगों की जहन में यह बात आती जरुर है कि यहां से कर्क रेखा गुजरती है, जिसका नाम भूगोल की किताबों में कभी पढ़ा था।

रांची से ओरमांझी की ओर जाने के क्रम में इस रेखा की जानकारी मिलती है… इस रेखा के बारे में जब हम भूगर्भशास्त्री डॉ नीतिश प्रियदर्शी से जानना चाहा तो पता चला कि झारखंड में तो काफी कुछ ऐसा है जो आम लोगों को पता ही नहीं है कि आखिर इस रेखा का क्या महत्व है।

विश्व योग दिवस विशेष : 21 जून को ही क्यों ‘विश्व योग दिवस’ मनाते हैं, डालते हैं एक नज़र

रांची : यहां दिन के 12 बजे नहीं बनेगी आपकी परछाई...

उन्होंने बताया कि इस रेखा को नो शैडो जोन के रूप में जाना जाता है, ग्लोब पर पश्चिम से पूर्व की ओर खींची गई कल्पनिक रेखा हैं। यह रेखा पृथ्वी पर उन पांच प्रमुख अक्षांश रेखाओं में से एक हैं जो पृथ्वी के मानचित्र पर परिलक्षित होती हैं। कर्क रेखा पृथ्वी की उत्तरतम अक्षांश रेखा हैं, जिस पर सूर्य दोपहर के समय लम्बवत चमकता हैं। यह घटना जून क्रांति के समय होती है, जब उत्तरी गोलार्ध सूर्य के समकक्ष अत्यधिक झुक जाता है। इस रेखा की स्थिति स्थायी नहीं हैं वरन इसमें समय के अनुसार हेर-फेर होता रहता है।

21 जून को जब सूर्य इस रेखा के एकदम ऊपर होता है, उत्तरी गोलार्ध में वह दिन सबसे लंबा व रात सबसे छोटी होती है। यहां इस दिन सबसे अधिक गर्मी होती है क्योंकि सूर्य की किरणें यहां एकदम लंबवत पड़ती हैं।  

रांची : यहां दिन के 12 बजे नहीं बनेगी आपकी परछाई...

कर्क रेखा के सिवाय उत्तरी गोलार्ध के अन्य उत्तरतर क्षेत्रों में भी किरणें अधिकतम लंबवत होती हैं। इस समय कर्क रेखा पर स्थित क्षेत्रों में परछाईं एकदम नीचे छिप जाती है या कहें कि नहीं बनती है। इस कारण इन क्षेत्रों को अंग्रेज़ी में नो शैडो ज़ोन कहा गया है।

इस रेखा को कर्क रेखा इसलिए कहते हैं क्योंकि जून क्रांति के समय सूर्य की स्थिति कर्क राशि में होती हैं। सूर्य की स्थिति मकर रेखा से कर्क रेखा की ओर बढ़ने को उत्तरायण एवं कर्क रेखा से मकर रेखा को वापसी को दक्षिणायन कहते हैं। इस प्रकार वर्ष 6-6 माह के में दो अयन होते हैं।

ऐसा नहीं है कि इस स्थान का महत्व सरकार ने नहीं दिया है.. सड़क एवं परिवहन विभाग की तरफ से एक शिलापट्ट भी लगाया गया है, जिस पर कर्क रेखा के बारे में लिखा हुआ है।

झारखंड की राज्यपाल द्रोपदी मर्मू ने इसका उद्घाटन किया था। अब इस बात की जरुरत है कि इस रेखा के बारे में आम लोगों को जानकारी दी जाए साथ ही इस जगह को पर्यटन स्थल के रूप में देखा जाए.. तो फिर देर किस बात की.. मुस्कुराइए आप कर्क रेखा से गुजर रहे हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

दुमका : किराना स्टोर में पुलिस ने किया छापेमारी, डुप्लिकेट गुलाब जल बरामद

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 9:43 PM
newscode-image

दुमका। जिले के हंसडीहा में बुधवार की देर शाम एक किराना स्टोर में छापेमारी कर भारी मात्रा में डुप्लीकेट डाबर गुलाब जल जब्त किया गया है। डाबर कंपनी के प्रमुख जांचकर्ता  कुमार दयाशंकर ने हंसडीहा थाना पुलिस के सहयोग से छापेमारी किया था।

दुमका : पुलिस ने चार नामजद आरोपियों को लिया हिरासत में, हो रही है पूछताछ

डाबर के प्रमुख जांचकर्ता कुमार दयाशंकर ने बताया कि सूचना मिली थी कि हंसडीहा के एक किराना दुकान में डुप्लीकेट डाबर गुलाब जल बनाकर बेच रहा है। इस मामले में कुमार दयाशंकर बुधवार को हंसडीहा थाना पहुंच इसकी जानकारी हंसडीहा थाना प्रभारी शेलेन्द्र पांडे को दी।

दुमका : किराना स्टोर में पुलिस ने किया छापेमारी, डुप्लिकेट गुलाब जल बरामद

थाना प्रभारी ने त्वरित कार्रवाई करते हुए पुलिस के एक टीम बना कर उक्त किराना दुकान में जब छापेमारी किया और दुकान से दो बोरा करीब 100 एमएल के हजारों बोतल डाबर के डुप्लिकेट गुलाब जल बरामद किया गया।

दुमका : मृतक के परिजनों ने अस्पताल में किया हंगामा, तोड़ा ओपीडी का शीशा

छापेमारी दल में एएसआई सुनिल कुमार आजाद, अनिल सिंह  डाबर के कुमार दयाशंकर सहित कई अन्य पुलिस कर्मी मौजूद थे। थाना प्रभारी ने बताया कि डाबर कंपनी के प्रमुख जांच करता कुमार दयाशंकर के द्वारा  लिखित आवेदन दिया गया है। समाचार लिखे जाने तक प्राथमिकी दर्ज करने की प्रक्रिया चल रही थी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

धनबाद : डीसी कार्यालय के सामने दो पक्षों में हुई नोंक-झोंक

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 10:03 PM
newscode-image

धनबाद। डीसी कार्यालय के समक्ष दो पक्षों के बीच बुधवार को जमकर नोंक-झोंक हुई। लड़की से मिलने नहीं देने तथा उन्हें बताये बगैर न्यायालय में लड़की का बयान दर्ज कराए जाने को लेकर लड़की के परिजन हंगामे पर उतारू हो गए।

बीच सड़क पर दो पक्षों के बीच बढ़ते नोक -झोक को लेकर पुलिस को भी उन्हें शांत कराने में भारी मशक्कत करनी पड़ी। लड़की पक्ष के गुस्से को शांत कराकर तोपचांची पुलिस लड़की के साथ लड़का पक्ष को महिला थाने पहुंचाई।

धनबाद : एटीएम गार्डों ने बिना वेतन व नोटिस के काम से हटाने का किया विरोध

तोपचांची थाना क्षेत्र के दुमदुमी निवासी जगन्‍नाथ पांडेय पिछले 8 तारीख को अपने ही गांव के युवक व उसके साथियों पर पुत्री का अपहरण कर लेने की शिकायत तोपचांची थाने में दर्ज कराई थी। दर्ज बयान में उन्‍होंने कहा था कि पुत्री सुबह में शौच के लिए घर से निकली तभी उपरोक्त युवकों ने पुत्री का अपहरण कर फरार हो गया।

पुलिस की छानबीन में परिजनों को जानकारी मिली की उनकी पुत्री को युवक व उसका साथी अपहरण कर दिल्ली ले गया है। बुधवार को तोपचांची पुलिस युवक-युवती को धनबाद न्यायालय लेकर पहुंची।

सूचना पाकर लड़की के परिवार वाले भी कोर्ट पहुंचे। यहां उन्हें पता चला की लड़की का बयान कोर्ट में दर्ज करा दिया गया है। बयान दर्ज कराने से पूर्व लड़की से भेंट नहीं कराये जाने को लेकर गुस्साए परिजन युवक के घरवालों से नोक-झोंक करने लगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

बड़कागांव : जनता दरबार की जानकारी नहीं दिए जाने पर भड़के जनप्रतिनिधि

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 9:54 PM
newscode-image

बड़कागांव(हजारीबाग)। आम लोगों की समस्याओं के समाधान हेतु राज्य सरकार द्वारा प्रखंड स्तर पर लगाए जा रहे जनता दरबार का महत्व उस समय समाप्त हो गया, जब बड़कागांव प्रखंड मुख्यालय में आयोजित जनता दरबार में ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति नगण्य देखी गई। वहीं नियमित रूप से प्रखंड व अंचल में अपने व्यक्तिगत काम को लेकर पहुंचे ग्रामीण व जनप्रतिनिधियों ने जमकर अपनी भड़ास निकाली और इस पर नाराजगी जाहिर की। लगता है जैसे जनता दरबार महज कोरम पूरा करने की चीज बनकर रह गयी है।

जनप्रतिनिधियों के अनुसार उन्‍हें या ग्रामीणों को जनता दरबार के आयोजन के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई ओर गुपचुप तरीके से इसका आयोजन करके खानापूर्ति की जा रही है। लोगों ने कहा कि बड़कागांव की स्थिति दयनीय इसलिए है क्‍योंकि यहां कार्यरत पदाधिकारी, कर्मचारी के साथ-साथ जिले के पदाधिकारियों का भी रवैया उदासीन है। कोई भी कार्य जमीनी स्तर पर नहीं करके महज कागजों तक ही सीमित रखा जा रहा है।

कटकमसांडी : छुरेबाजी की घटना में युवक घायल, गंभीर हालत में रिम्‍स रेफर

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

जमशेदपुर : गौरी सबर की स्मृति में समाधान संस्था ने...

more-story-image

बाघमारा : धूमधाम से मनाया गया करमा पर्व