रांची : रांची विश्वविद्यालय के IMS के नए निदेशक ने संभाला पदभार

NewsCode Jharkhand | 29 April, 2018 8:24 AM
newscode-image

संस्थान की प्रगति के लिए रहेंगे प्रयत्‍नसील

रांची। इंस्‍टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्‍टडीज (रांची विश्वविद्यालय) के नये निदेशक डॉ. सतीश चन्द्र गुप्ता ने शनिवार को पद संभाला। उन्‍होंने प्रभारी निदेशक डॉ. मुकुंद चन्द्र मेहता से चार्ज लिया।

इस अवसर पर कुलसचिव डॉ. एके चौधरी, डॉ. संजय मिश्र, डॉ. उदय कुमार सहित संस्थान के सभी शिक्षक और कर्मचारी मौजूद थे। डॉ.सतीश ने कहा कि शिक्षक, कर्मचारी और विद्यार्थियों के सहयोग से संस्थान की प्रगति एवं उच्च कोटि की शिक्षण व्यवस्था के लिए सतत प्रयत्नशील रहेंगे।

रांची : सीसीएल में मनाया गया ‘वर्ल्ड डे फॉर सेफ्टी एंड हेल्थ एट वर्क

मौके पर संस्थान के समन्वयक डॉ.ज्योति प्रकाश, डॉ. नलिन रंजन त्रिपाठी, चिन्मय कुमार, डॉ.सोनी कुमारी, पूजा कुमार, अमित शेखर तिर्की आदि मौजूद थे।

संस्थान के पांच विद्यार्थियों (प्रियंका सिन्हा, शालूराज सिंह, चन्द्रशेखर पांडा, निशी प्रिया, नजीरुद्दीन) का चयन आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल में हुआ।  संस्थान के प्लेसमेंट सेल की मालविका शर्मा और अलका का योगदान रहा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

डुमरी : घायल होने के बावजूद मैट्रिक में अव्वल आई छात्रा, संस्था ने दिया कंप्यूटर सेट

NewsCode Jharkhand | 22 June, 2018 7:12 PM
newscode-image

सड़क हादसे में हुई थी घायल, नहीं मानी पढ़ाई में हार

डुमरी (गिरिडीह)। गरीबी, शारीरिक पीड़ा को दरकिनार कर एकाग्रता से पढ़ाई कर अव्वल अंक लाने वाली छात्रा बबिता कुमारी को सरिया के श्री रामकृष्ण आश्रम संस्था ने कंप्यूटर सेट देकर सम्मानित किया है। भरखर स्थित पंचायत भवन में इसको लेकर एक कार्यक्रम का आयोजन कर छात्रा की हौसला अफ़जाई की गई।

इस बाबत संस्था के ट्रस्टी रमेश चंद्र डागा ने कहा कि इस गरीब छात्रा ने शारीरिक पीड़ा के बावजूद अच्छा अंक लाकर परिवार, विद्यालय समेत पूरे भरखर का नाम रौशन किया है। संस्था ऐसे गरीब व मेधावी छात्र-छात्राओं की खोज कर उन्हें एजुकेशन मैटेरियल्स मुहैया कराता है। ताकि मेधावी और जरूरत मंद बच्चे आगे बढ़ते रहे। इसी कड़ी में बबिता को कंप्यूटर सेट दिया गया है और बबिता के उज्ज्वल भविष्य की कामना की।

सरिया : कुएं का पानी पीने से चार बीमार, विषैला पदार्थ डालने की आशंका

गौरतलब है कि पिछले 21 जुलाई को बबिता डुमरी मोड़ स्थित कोचिंग सेंटर से पढ़ाई कर अपने साईकल से लौटने के क्रम में जीटी रोड के सिमराडीह में सड़क पास करने के दौरान एक ट्रेलर वाहन की चपेट में आकर बुरी तरह घायल हो गई थी।

जिले में मुसीबत में पड़े लोगों का मददगार माने जाने वाला प्रवासी ग्रुप व अन्य संस्थाओं के माध्यम से उस वक़्त लगभग एक लाख रुपये का सहयोग बबिता के इलाज में की गई थी। लेकिन इलाज़ के बावजूद बबिता चलने फिरने में असमर्थ होगई थी। इसके बाद भी उसके हौसले में कमी नहीं आई और उसने मैट्रिक परीक्षा देने की ठान ली। और बबिता ने कड़ी मेहनत के बल परीक्षा में प्रथम स्थान हासिल किया।

यहां इस कार्यक्रम में  मुखिया दशरथ महतो, प्रवासी ग्रुप एडमिन सिकन्दर अली, शिक्षक कैलाश महतो, हाफ़िज़ अंसारी, यसवंत रजक, गौरव डागा, राम सेवक सिंह, दिनेश सिंह, संदीप सिंह, जितेंद्र साव समेत दर्जनों ग्रामीण मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

देवघर : श्रावणी मेला की तैयारी को लेकर डीआरएम ने जसीडीह स्टेशन का किया दौरा

NewsCode Jharkhand | 22 June, 2018 9:55 PM
newscode-image

देवघर। विश्‍व प्र‍सिद्ध श्रावणी मेला तैयारी को लेकर आसनसोल रेलवे डिवीजन के डीआरएम पीके मिश्रा सहित अन्‍य अधिकारियों ने जसीडीह स्टेशन का दौरा किया। दौरा के दौरान डीआरएम ने मेला शुरु होने से पहले स्‍टेशन का सौन्‍दर्यीकरण व यात्री सुविधाओं को पूरा कर लेने का आदेश रेलवे अधिकारियों को दिया।

गौरतलब है कि स्‍टेशन सौन्‍दर्यीकरण का काम पहले से चल रहा है तथा मेला आरंभ होने से पहले पूरा कर लिया जाना है। डीआरएम ने पत्रकारों से कहा कि इस दौरा का मकसद मकसद जसीडीह रेलवे स्‍टेशन में श्रावणी मेला को लेकर चल रहे कार्यों का जायजा लेना है।

देवघर : आजसू स्थापना दिवस, सुदेश को मुख्यमंत्री बनाने का लिया संकल्प

उन्‍होंने कहा कि सौन्‍दर्यीकरण का काम मेला शुरु होने से पहले शुरु हुआ था जिसे बहुत जल्‍द पूरा कर लिया जाएगा। जो काम बांकी रह गया है उसे जल्‍द से जल्‍द पूरा करने का निर्देश रेलवे अधिकारियों को दिया गया है। कुछ कार्यों के मेला से पहले पूरा होने पर उन्‍होंने संतोष व्‍यक्‍त किया। डीआरएम ने कहा कि यात्रियों की सुविधा के लिए जसीडीह स्टेशन में एलईडी हाई मास्ट टावर तीन लगाये गए हैं।

फुटओवर ब्रिज रैंप का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है, इससे मेला में आनेवले वयस्‍क लोगों को सुविधा होगी। स्टेशन के बाहरी परिसर का समतलीकरण किया जा रहा है। यह जगह पहले काफी संकरी थी लेकिन समतलीकरण के बादखुला विशाल परिसर यात्रियों को मिलेगा। एक पड़ाव एरिया बनाया जाएगा जिसमें बरसात के समय लगभग 2500 लोग बैठ सकेंगे और आराम कर पाएंगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

कोडरमा : खदान में मजदूर के सिर पर गिरा पत्थर का टुकड़ा, मौके पर मौत

NewsCode Jharkhand | 22 June, 2018 9:22 PM
newscode-image

कोडरमा। जिले के नवलशाही थाना क्षेत्र अन्तर्गत बच्छेडीह पंचायत के जमडीहा मौजा में संचालित पत्थर खदान में कार्यरत मजदूर के सिर पर पत्थर का टुकड़ा धंसकर गिरने से मौके पर उसकी मौत हो गई, जबकि एक अन्य मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गया। मृतक की पहचान पवन दास (24 वर्ष) व घायल की पहचान अनिल कुमार दास (28 वर्ष) के रूप में की गई है। दोनों थानाक्षेत्र के जमडीहा के रहनें वाले हैं।

कोडरमा : विकास योजनाओं की समीक्षा, उपायुक्त ने दिए कई निर्देश

घटना शुक्रवार की सुबह सात बजे की बताई गई है। जानकारी अनुसार दोनों मजदूर सुबह खदान में पहुंच कर ड्रिल किये गये होल में ब्लास्टिंग के लिए मशाला भरने का कार्य कर रहे थे। इसी दौरान ऊपर करीब पैंतीस से चालीस फिट की ऊँचाई से एक बड़ा पत्थर का हिस्सा सीधा पवन के सिर पर गिर गया जिससे सिर पूरी तरह जख्मी हो गया, जिससे पवन ने मौके पर दम तोड़ दिया, जबकि अनिल गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

घटना के बाद नवलशाही थाना प्रभारी मो शाहीद रजा व एसआई राम कृत प्रसाद मौके पर पहुंच कर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए कोडरमा भेज दिया। तत्पश्चात पुलिस मामले की जांच में जुट गयी।

नहीं था सेफटी का इंतजाम

खदान में कार्यरत मजदरों के सुरक्षा और बचाव के उपाय के इंतजाम नहीं थे। अशोक कुमार गुप्ता और सुरेश चन्द्र साव की उक्त खदान में कार्यरत मजदूरों को न तो खदान संचालक द्वारा सेफटी किट दिये गये थे और ना हीं वहां फस्ट एड की व्यवस्था थी। खदान में बेतरतीब तरीके से कार्य करवाये जा रहे थे और सेफटी नियमों का पूरी तरह उल्लंघन किया जा रहा था। अधिकांश संचालित पत्थर खदानों में यही स्थिति है। जब कोई दुर्घटना होती है तो पत्थर खदान के मालिक या संचालक लाश की सौदेबाजी में जुट जाते हैं और पुलिस को मेल में लेकर मामले को रफा दफा करवा देते है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

कोडरमा : विकास योजनाओं की समीक्षा, उपायुक्त ने दिए कई...

more-story-image

चाईबासा : कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता बागुन सुम्ब्रुई का निधन,...