रांची : समस्याओं का हो निदान, तभी होगा व्यवसाय का विकास

NewsCode Jharkhand | 15 March, 2018 11:16 AM
newscode-image

रांची। चैंबर भवन में व्यापारिक समस्याओं के सम्बन्ध में राज्यस्तरीय परिचर्चा का आयोजन किया गया। इसमें जीएसटी के बाद व्यवसाय क्षेत्र में जटिलता, राज्य सरकार की ओर से भी कई समस्याएं, ट्रेड लाइसेंस, बिजली शुल्क में बढ़ोत्तरी, आर्म्‍स लाइसेंस की समस्या मुख्य हैं। उक्त परिचर्चा में लोहरदगा, गुमला, बोकारो, देवघर, चाईबासा, धनबाद, गोड्डा, जैनामोड, रामगढ़ एवं अन्य जिलों के प्रतिनिधि शामि‍ल थे।

संस्था के चैयरमैन प्रमोद श्रीवास्तव ने कहा कि इस राज्यस्तरीय परिचर्चा के माध्यम से बहुत सी समस्याओं को जानने और समस्याओं से रूबरू होने का मौका मिला। उन्होंने बताया कि जेबीवीएनएल द्वारा समस्याओं के समाधान के लिए हर जिला में एक को-ऑर्डिनेशन कमिटी का गठन किया जाएगा। जिसकी हर माह बैठक होगी। हर महीने में एक कैंप लगाने पर विचार विमर्श किया जाएगा।

नगर निगम द्वारा कचरा उठाने के एवज में 360 रुपये की मांग करना, नगर निगम द्वारा मनमाने ढंग से दुकानों का किराया उचित नहीं है। इस दौरान पूरे राज्यों में बिजली शुल्क में बढ़ोत्तरी पर निंदा की गई। सरकार द्वारा इंडस्ट्री के लिए जमीन का आवंटन किया गया, लेकिन अभी तक व्यवसायियों को जमीन मुहैया नहीं करायी गयी है।

परिचर्चा में सदस्यों ने कहा कि चैंबर को मजबूत करने के लिए हरेक प्रमण्डल में इस तरह की बैठक होनी चाहिए। उद्योग को बढ़ावा देने के लिए हर जिले में 10-15 एकड़ का एक जोन बनाकर व्यवसायियों को जमीन उपलब्ध करायी जाए। लॉ एंड ऑर्डर उप समिति के चेयरमैन राम बांगड़ ने कहा कि लॉ एण्ड आर्डर उप समिति में नाम शामिल करने के लिए एक-एक प्रतिनिधि का नाम चैंबर में भेजें, जिसे कमिटी में शामिल किया जा सके।

रांचीः प्रश्नपत्र में सिलेबस से बाहर के दिए गए सवाल को लेकर छात्रों ने काटा बवाल  

बैठक में अध्यक्ष रंजीत कुमार गाड़ोदिया, उपाध्यक्ष दीनदयाल वर्णवाल, महासचिव कुणाल अजमानी, सह सचिव राहुल मारू, संथाल परगना चैंबर ऑफ कॉमर्स, अनुप कुमार, विनय कुमार गुप्ता उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : काया सैलून ने मनाई चौथी वर्षगांठ, राजधानी में काया की है अलग पहचान

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 6:28 PM
newscode-image

रांची। मेन रोड क्लब काम्प्लेक्स में शुक्रवार को ब्रांडेड सैलून काया ने अपनी चौथी वर्षगांठ मनाई। इस अवसर पर मुख्य अतिथि हटिया विधायक नवीन जयसवाल  ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। कार्यक्रम में काया की मुंबई ब्रांच की  मिस अमृथा भी उपस्थित थी।

रांची : 11 लाख शेष बचे परिवारों को भी स्वास्थ्य बीमा का लाभ देने पर विचार- स्वास्थ्य मंत्री

मौके पर नवीन जयसवाल ने बताया कि पूरे देश में काया ब्रांड की अपनी पहचान है। 16 वर्षों में यह झारखंड में अपनी क्रिएटिव सर्विस से सभी ग्राहकों का मन मोह चुका है। एमएस धोनी, रविंद्र जडेजा, सुनील गावस्कर,  कपिल देव,  रवि शास्त्री, वीरेंद्र सहवाग  एवं कई विदेशी अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खिलाड़ी का रांची में हेयर स्टाइल व मेकअप कर अपनी पहचान बना चुका है।

नवीन जयसवाल ने इस एकेडमी से प्रशिक्षित आरती लिंडा को  सर्टिफिकेट प्रदान किया। रांची में इसके ट्रेनिंग सेंटर के माध्यम से झारखंड की महिलाओं को रोजगार मिल रहा है। 16 सालों से काया अपने क्रिएटिव हेयर सर्विसेज और एडवांस स्किन ट्रीटमेंट से अपने ग्राहकों को संतुष्टि और बेहतरीन रिजल्ट दे रहा है। वर्षगांठ के मौके पर काया के सभी सेंटरों में आकर्षक ऑफर भी दिए जा रहे हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

रांची : अन्य राज्यों से झारखंड में सस्ता है डीजल और पेट्रोल- बीजेपी

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 7:42 PM
newscode-image

रांची । पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों पर बीजेपी ने सफाई दी है कहा महत्वपूर्ण योजनाओं के लिए फंड की आवश्यकता होती है जो टैक्स के रूप में है सरकार जनता के लिए कई जनकल्याण योजनाएं चल रही है। पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों के बावजूद झारखंड की जनता सरकार के साथ खड़ी है।

रांची : 11 लाख शेष बचे परिवारों को भी स्वास्थ्य बीमा का लाभ देने पर विचार- स्वास्थ्य मंत्री

पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता दीनदयाल बर्णवाल ने शुक्रवार को कहा कि प्रदेश में भले ही पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स के दर में बढ़ोत्तरी हुई हो, लेकिन इसका असर बाजार में बिकने वाले सामान की कीमत पर नहीं पड़ा है। उन्होंने कहा कि विकासशील अर्थव्यवस्था का हिस्सा होने की वजह से राज्य में आधारभूत संरचना विकसित करना जरूरी है। यही वजह है कि टैक्स से राजस्व प्राप्ति भी एक अहम मुद्दा है। उन्होंने कहा कि पिछले साल 3060 करोड़ रुपए टैक्स के रूप में सरकार को पेट्रोलियम से प्राप्त हुआ था।

झारखंड में 22% लिए जाते है टैक्स, बावजूद तेल का रेट नय राज्यों से कम है

बर्णवाल ने कहा कि राज्य में पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स पर पहले एक रुपये सेस लगता है और फिर 22 प्रतिशत वैट के बावजूद इसकी कीमत पड़ोसी राज्यों से कम है। उन्होंने कहा कि विपक्षी दल इस मुद्दे पर भ्रम की स्थिति पैदा कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ओडिशा, बिहार और छत्तीसगढ़ की तुलना में झारखंड में पेट्रोल की कीमत कम है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

गिरिडीह : या अली या हुसैन के नारों से गूंज उठा इलाका, मुहर्रम पर याद किये गए नवासा-ए-रसूल इमाम हुसैन

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 7:41 PM
newscode-image

गिरिडीह। इस्लामिक नए साल की दस तारीख को नवासा-ए-रसूल इमाम हुसैन अपने 72 साथियों और परिवार के साथ मजहब-ए-इस्लाम को बचाने, हक और इंसाफ कोे जिंदा रखने के लिए शहीद हो गए थे।

इमाम हुसैन के शहादत की याद में गिरिडीह में भी मोहर्रम मनाया गया। इस दौरान या अली या हुसैन के नारों से पूरा इलाका गूंज उठा। जिले भर में मुहर्रम पर ताजिया निकाला गया गया और जगह जगह घूम कर गमजदगी का एहतराम किया गया।

गिरिडीह : या अली या हुसैन के नारों से गूंज उठा इलाका, मुहर्रम पर याद किये गए नवासा-ए-रसूल इमाम हुसैन

मौके पर जुलूस  की शक्ल में अखाड़ा खेल का प्रदर्शन भी किया गया। शहरी क्षेत्र के बरवाडीह, भण्डारीडीह, पचम्बा आदि क्षेत्रों में सुबह से लेकर शाम तक कई तरह की गतिविधियां संचालित की गई।

इस क्रम में सभी इमामबाड़ों में नजरोनियाज व दुआ की गई। साथ ही कर्बला में फातिहा  की गई।मुहर्रम को लेकर जिले भर में सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम किया गया था । जगह जगह मजिस्ट्रेट के साथ सुरक्षा बल तैनात किए गए थे।

गिरिडीह : पूर्व चीफ जस्टिस के घर से चुराए गए जेवरात व रूपये बरामद, छह गिरफ्तार

जुलूस  की वजह से यातायात बाधित न हो इसका भी ध्यान रखा गया था। बताया गया कि हजरत इमाम हुसैन को उस वक्त के मुस्लिम शासक यजीद के सैनिकों ने इराक के कर्बला में घेरकर शहीद कर दिया था।

लिहाजा, 10 मोहर्रम को पैगंबर-ए-इस्लाम के नवासे हजरत इमाम हुसैन की शहादत की याद ताजा हो जाती है। दरअसल, कर्बला की जंग में हजरत इमाम हुसैन की शहादत हर धर्म के लोगों के लिए मिसाल है। यह जंग बताती है कि जुल्म के आगे कभी नहीं झुकना चाहिए, चाहे इसके लिए सिर ही क्यों न कट जाए, लेकिन सच्चाई के लिए बड़े से बड़े जालिम शासक के सामने भी खड़ा हो जाना चाहिए।

गिरिडीह : हर्षोल्लास व शांतिपूर्ण माहौल में निकला मुहर्रम का जुलूस

हुसैन हक की आवाज बुलंद करने के लिए ही शहीद हुए थे। बताया गया कि कर्बला के इतिहास को पढ़ने के बाद मालूम होता है कि यह महीना कुर्बानी, गमखारी और भाईचारगी का महीना है, क्योंकि हजरत इमाम हुसैन ने अपनी कुर्बानी देकर पूरी इंसानियत को यह पैगाम दिया है कि अपने हक को माफ करने वाले बनो और दूसरों का हक देने वाले बनो।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

जमशेदपुर : सफाई की बाट जोह रही कचरे से भरी...

more-story-image

सिमडेगा : मुहर्रम का पर्व शांतिपूर्वक संपन्‍न, अखाड़ों ने दिखाए...