रांची : जिंदगी मिलेगी दोबारा फाउंडेशन ने की एक और नई पहल

NewsCode Jharkhand | 12 July, 2018 9:43 AM
newscode-image

रांची । जिंदगी मिलेगी दोबारा फाउंडेशन ने एक और नई पहल की है। इस बार पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए एक नई शुरुआत की गई है। ग्लोबल वार्मिंग के इस दौर में ग्लोबल वार्मिंग से बचने और हरा-भरा पर्यावरण बनाए रखने के उद्देश्य से अब फ्री एम्बुलेंस सेवा के साथ-साथ फ्री में पौधा भी उसी वक़्त दिया जायेगा।

जिंदगी मिलेगी दोबारा फाउंडेशन के द्वारा मुफ्त एंबुलेंस सेवा जरूरतमंद लोगों को दिया जाता है। इस वजह से जब किसी व्यक्ति के शव को घर तक पहुंचाने के बाद उसी परिवार के सदस्य को एक पौधा भी दिया जाएगा ताकि पौधे को वह अपने घर में लगाएं और पर्यावरण हरा भरा बनाये रखने में सहयोग करें।

जिंदगी मिलेगी दोबारा संस्था के सदस्यों ने बताया है कि जिंदगी मिलेगी दोबारा फाउंडेशन एक और नई पहल की जिसमें शव व मरीजों के साथ उन्हें निशुल्क घर पहुंचाने के साथ 1-1 पेड़ दिया जाएगा। जिससे वातावरण व्यवस्था बनी रहे! शुरुआत में संस्था द्वारा सिर्फ एंबुलेंस ही गरीब शवों को पहुंचाने के लिए दिया जाता था।

गिरिडीह : अहियापुर से पुलिस के हत्थे चढ़े दो साइबर अपराधी

मगर संस्था ने अब एक नई पहल करके एक-एक पेड़ देने का फैसला किया है। इसी कड़ी में दिनांक 11 जुलाई को पेड़ देने की प्रक्रिया शुरू की गई। संस्था की सोच है कि जितनी ज्यादा एम्बुलेंस सेवा देंगे उतने लोगों के घरों में पेड़ भी लग जायेगा…फिलहाल इस संस्था ने अभी तक 1300 असहाय शवों व मरीजों को अभी तक निशुल्क सेवा प्रदान की है और आगे चलकर यह संस्था बहुत सारी इसी तरह पहल करेगा।

इस संस्था के सदस्य अध्यक्ष अश्विनी राजगढ़िया, सचिव जेपी सिंघानिया, आलोक अग्रवाल, अरविंद मंगल, हर्षवर्धन बजाज, कुणाल बोरा, निखिल केडिया ,रमन साबू ,साकेत शराफ, सचिन सिंघानिया, सौरभ मोदी ,विक्रम साबु , विपुल अग्रवाल , विनीत अग्रवाल, विवेक बागला इन लोगों के द्वारा इस संस्था की न्यू रखी गई| जिंदगी मिलेगी दोबारा फाउंडेशन के फ्री एंबुलेंस अधिक जानकारी के लिए 9709500007 नंबर में संपर्क करें।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

 पलामू : भू-माफियाओं से परेशान ग्रामीण अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 9:34 PM
newscode-image

पलामू। सरकार द्वारा भूमिहीनों को  जमीन दिया गया था मगर भूमाफियाओं द्वारा गलत तरीके से जमीन को हड़पने का काम किया गया है जिसके विरोध में पाटन प्रखंड के सोले गांव के 20 दलित परिवार पिछले 17 जुलाई से कचहरी परिसर में आमरण अनशन पर हैं। ग्रामीणों की  मांग है कि प्रशासन भूमाफियाओं से उनके जमीन को मुक्त कराएं। दरअसल 1987 में भूमिहीन परिवारों को सरकार ने ही भूदान दिया था जिसका ग्रामीण लगातार लगान भी जमा कर रहे थे।

पाटन प्रखंड के सोले गांव के 20 दलित परिवार को 31 साल पहले 40 एकड़ जमीन सरकार ने भूमिहीन होने के नाते दिया था मगर बाद में सीओ कार्यालय के कर्मियों की मिलीभगत से भूमाफियाओं ने इनकी जमीन को फर्जी कागज बनाकर हड़प लिया, जिसका विरोध में यह ग्रामीणअनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर हैं।

पलामू : लूट का 4 लाख 75 हजार रुपये बरामद

इनके समर्थन में मजदूर संगठन के नेताओं ने भी साथ दिया है।उनका कहना है कि पिछले कई सालों से यहां के दलित परिवार प्रखंड और जिला मुख्यालय का चक्कर काट कर थक चुके हैं मगर इनको न्याय नहीं मिला। इधर धरना पर बैठे पीड़ित ग्रामीणों का भी कहना है कि जान दे देंगे मगर जब तक सरकार व प्रशासन मांग पूरी नहीं करेगी तब तक आमरण अनशन जारी रहेगा ।वहीं इधर आमरण अनशन पर बैठे परिवारों से मिलने आये सदर सीओ शिव शंकर पांडे का कहना है कि जल्द ही इन ग्रामीणों की समस्याएं प्रशासन दूर करेगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

अविश्वास प्रस्ताव LIVE: पीएम मोदी ने कहा- खड़ा भी हूं, अड़ा भी हूं, विपक्ष का नारेबाजी- ‘वी वांट जस्टिस’

NewsCode | 20 July, 2018 9:39 PM
newscode-image

संसद के मॉनसून सत्र का तीसरा दिन है और आज लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग कराई जाएगी. बुधवार को टीडीपी सांसद की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मंजूर किया था, जिसके बाद उस पर चर्चा के लिए शुक्रवार का दिन तय हुआ था.

संसद के मॉनसून सत्र का तीसरा दिन है और आज लोकसभा में मोदी सरकार के खिलाफ पहले अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग कराई जाएगी. बुधवार को टीडीपी सांसद की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव को लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन ने मंजूर किया था, जिसके बाद उस पर चर्चा के लिए शुक्रवार का दिन तय हुआ था.

अविश्‍वास प्रस्‍ताव पर कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने भी भाषण दिया. राहुल गांधी अपना भाषण खत्‍म करके प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास गए और उनके गले लगकर हाथ मिलाया.

LIVE UPDATES:

पीएम मोदी ने बोलना शुरू किया-

प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान लोकसभा में जमकर हंगामा,  विपक्षी नेताओं लगा रहे वी वांट जस्टिस के नारे

मोदी ने कहा – अविश्‍वास प्रस्‍ताव के बहाने अपने कुनबे को जमाने की कोशिश की गई है.

– राहुल गांधी के गले मिलने पर पीएम मोदी बोले- कुर्सी पर पहुंचने की जल्‍दबाजी है.

– पीएम मोदी ने कहा , संसद में बहुमत नहीं फिर भी अविश्‍वास प्रस्‍ताव लाया गया है.

 तृणमूल कांग्रेस के दिनेश त्रिवेदी ने कहा, “आप राम पर भी अपनी मनॉपली (एकाधिकार) करना चाहते हैं.”

हमें रूस-अमेरिका नहीं, हिन्दू-मुस्लिम के बीच फैल रही नफरत मारेगी : नेशनल कॉन्फ्रेंस के सांसद फारुक अब्दुल्ला

– मॉब लिंचिंग सिर्फ 1984 में नहीं हुई थी, वह 2002 में भी हुई : AIMIM के सांसद असदुद्दीन ओवैसी

दुमका : मामूली विवाद को लेकर शिक्षक ने छात्र को बेहरमी से पीटा

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 9:37 PM
newscode-image

दुमका। शहर के डॉन बास्को स्कूल में एक छात्र का पीटाई करने का मामला नगर थाना पहुंचा। जहां स्कूल के वर्ग-6 में पढ़ाई करने वाले कृष्ण कुमार वर्मा और उसके पिता विजय कुमार वर्मा ने आरोपी शिक्षक के विरूद्ध लिखित शिकायत किया है।

दुमका : सहकारिता सह प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को घूस लेते ACB ने दबोचा

मामले में पीड़ित छात्र के पिता और छात्र ने बताया कि एक सहपाठी से मामूली विवाद को लेकर सहपाठी के शिकायत पर शिक्षक प्रकाश मुर्मू ने बेहरमी से पीटाई कर दिया है। शिक्षक रूल टूटने तक पिटाई करते रहा। जब इसकी जानकारी पिता विजय वर्मा को छात्र के दोस्तों ने दी।

दुमका : हंसडीहा थाना का छत जर्जर होकर गिरा, हवलदार गंभीर रूप से घायल

 

मामले में अभिभावक द्वारा प्राचार्य रोज मेरी हेम्ब्रम ने कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद पीड़ित छात्र घर पहुंचा। जहां स्कूल ड्रेस चेंज करते समय उसकी मां और दादी देख मामले में आरोपी छात्र को सजा दिलाने को लेकर नगर थाना पहुंचे। नगर थाना पुलिस देवव्रत पोद्दार ने अभिभावक के शिकायत पर आरोपी शिक्षक को बुलाने का निर्देश दिया।

समाचार लिखे जानते तक प्राथमिकी दर्ज नहीं हो पायी है। इधर मामले में प्राचार्या रोज मेरी हेम्ब्रम ने सफाई देते हुए कहा कि यह पहली घटना है, शिक्षक के विरूद्ध आवश्यक कार्रवाई की जायेगी। शिक्षक की वैसे कोई मंशा नहीं थी, जिससे छात्र और उसके परिवार को किसी प्रकार की क्षति पहुंचे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

कोडरमा : मुनगा के पत्ते का करें सेवन, ब्लड प्रेशर...

more-story-image

लोहरदगा : भूमि विवाद में वृद्ध को मारी गोली, हालत...