रांची : झारखंड राज्य जल सहिया कर्मचारी संघ की रैली को प्रशासन ने  रोका

NewsCode Jharkhand | 12 July, 2018 5:45 PM
newscode-image

 

 रांची।  झारखंड राज्य जल सहिया कर्मचारी संघ राज्य स्तरीय रैली के साथ रघुवर दास के आवास का घेराव करने हेतु  मोरहाबादी   मैदान में एकत्रित होकर 12:00 बजे  मुख्यमंत्री आवास के लिए प्रस्थान किया।  इस रैली का आयोजन  अशोक कुमार सिंह (प्रदेश महामंत्री झारखंड राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ )कर रहे थे।  सहयोगी के रूप में  रघुनंदन प्रसाद विश्वकर्मा,  महामंत्री गायत्री देवी रिंकू देवी आदि शामिल थे।  मोरहाबादी मैदान से निकलने के साथ ही पुलिस पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री आवास  की ओर जाने से रोक दिया ।

रैली फिर  आमसभा में परिवर्तित हो गयी।  रैली को संबोधित करते हुए अशोक सिंह ने कहा कि महिला कर्मी  के लिए विचित्र स्थिति पैदा हो गई है।  जल सहिया के रूप में राज्य में 50000 महिला कार्यरत हैं,जो मुख्य पेयजल व्यवस्था के तहत चापानल मरम्मत  के साथ-साथ सरकार के अन्य   योजना शौचालय निर्माण स्वच्छता मिशन में कार्य करती हैं।  परंतु 8 सालों से इन्हें एक पैसा का भी भुगतान नहीं किया गया है।  उन्होंने कहा बीजेपी  सरकार महिलाओं को स्वावलंबी बनाना चाहती है, लेकिन रास्ता आर्थिक गुलामी की है।  जलसहिया इसका एक ताजा उदाहरण है।  एक तरफ सरकार न्यूनतम मजदूरी अधिनियम की बात करती है तो   दूसरी ओर 50 हजार जल  सहिया  के साथ अन्याय हो रहा है। सरकार यह  न समझे की यह पहली रैली है  और  इसके बाद जलसहिया चुप हो जाएगी। इन्होने जो रुपरेखा तैयार किया है उसके अन्तर्गत  आगे भी रैलियां निकाली जाएगी और सरकार से हिसाब लिया जायेगा ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 

गिरिडीह : छात्राओं  से छेड़छाड़ के आरोपियों  की गिरफ्तारी की मांग को लेकर सड़क जाम

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 9:13 PM
newscode-image

गांवा (गिरिडीह)।दलित छात्राओं के साथ छेड़छाड़ और बेरहमी से पिटाई के विरोध में भाकपा माले के नेतृत्व में सड़क जाम कर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की गई। बतला दें कि गुरूवार को सेरूआ पंचायत के चेरवा की चार दलित छात्राएंट्यूशन पढ़ कर लौट रही थी। तभी शाम के करीब छह बजे सुनसान इलाका कुरची मोड़ के समीप उनलोगों के साथ कुछ दबंगों ने छेड़छाड़ शुरू कर दी।

विरोध करने पर दबंगों ने छात्राओं को लात-घूंसों से बेरहमी से पिटाई कर दी। इस पिटाई में एक छात्रा गंभीर रूप से घायल हो गई और कई बार बेहोश भी हुईं। फिलहाल उक्त छात्रा का गिरिडीह के सदर अस्पताल में इलाज चल रहा है। बताया जाता है कि छात्रा की हालत अब भी ठीक नहीं हुई है और बार-बार बेहोश हो जा रही है।

पुलिस की कार्यशैली पर उठे सवाल

मामले को लेकर जब छात्राओं के साथ ग्रामीण गांवा थाना पहुंचे तो वहांपुलिस का रवैया सहयोगात्मक नहीं रहा। ग्रामीणों की मानें तो थानेदार रंजीत रौशन ने ग्रामीणों व छात्राओं के अभिभावकों को भी बाहर कर दिया और पीड़ित छात्राओं से जैसे-तैसे आवेदन लिखवाकर एफआईआर दर्ज किया।

गिरिडीह : अफगानिस्तान में फंसे मजदूरों के प्रति सरकार संवेदनहीन- विनोद 

आरोप है कि थानेदार ने जानबुझ कर आवेदन कमजोर लिखवाया ताकि आरोपियों की मदद की जा सके। इसका परिणाम है कि दर्ज एफआईआर में दलित प्रताड़ना का दफा नहीं लग सका है। यहां तक कि लोगों ने रात में आरोपियों के घर में छापामारी कर उनको गिरफ्तार करने की मांग की तो थानेदार ने जांच की बात कह तुरंत एक्शन लेने से इनकार कर दिया। इस कारण आरोपियों को भागने का मौका मिल गया। गिरफ्तारी की मांग पर चार घंटे सड़क जाम घटना से आक्रोशित लोगों ने भाकपा माले के नेतृत्व में गावां-गिरिडीह मुख्य पथ को लगभग चार घंटे तक जाम कर प्रशासन व सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। आंदोलनकारी घटना के विरोध में कड़ी धूप में भी लगभग तीन घंटे तक बीच सड़क पर बैठकर सड़क जाम रखा।

डीएसपी से वार्ता के बाद खत्म हुआ आंदोलन सड़क जाम की सूचना पर खोरीमहुआ डीएसपी प्रभात रंजन बरवार मौके पर पहुंचकर आंदोलनकारियों से वार्ता की। इस दौरान डीएसपी ने घटना के तुरंत बाद गांवा  पुलिस के एक्टिव नहीं होने पर गावां थानेदार से स्पष्टीकरण मांगे जाने की बात कही।

इसके अलावा डीएसपी ने एफआईआर में सभी जरूरी धाराओं को जोड़ने का भी आश्वासन दिया। इसके अलावा 24 घंटे में आरोपियों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। इसके बाद आंदोलनकारियों ने आंदोलन को समाप्त कर दिया। ये थे मौजूद पैदल मार्च व सड़क जाम में झाविमो प्रखंड अध्यक्ष श्रीराम यादव, रंधीरचौधरी, जयराम यादव, पिंटू रविदास, उमेश रविदास, संदीप रविदास, भरत यादव,आनंदी यादव, सदानंद यादव, पंकज दास समेत सैकड़ों की संख्या में महिला व
पुरूष मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

दुमका : मामूली विवाद को लेकर शिक्षक ने छात्र को बेहरमी से पीटा

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 9:37 PM
newscode-image

दुमका। शहर के डॉन बास्को स्कूल में एक छात्र का पीटाई करने का मामला नगर थाना पहुंचा। जहां स्कूल के वर्ग-6 में पढ़ाई करने वाले कृष्ण कुमार वर्मा और उसके पिता विजय कुमार वर्मा ने आरोपी शिक्षक के विरूद्ध लिखित शिकायत किया है।

दुमका : सहकारिता सह प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी को घूस लेते ACB ने दबोचा

मामले में पीड़ित छात्र के पिता और छात्र ने बताया कि एक सहपाठी से मामूली विवाद को लेकर सहपाठी के शिकायत पर शिक्षक प्रकाश मुर्मू ने बेहरमी से पीटाई कर दिया है। शिक्षक रूल टूटने तक पिटाई करते रहा। जब इसकी जानकारी पिता विजय वर्मा को छात्र के दोस्तों ने दी।

दुमका : हंसडीहा थाना का छत जर्जर होकर गिरा, हवलदार गंभीर रूप से घायल

 

मामले में अभिभावक द्वारा प्राचार्य रोज मेरी हेम्ब्रम ने कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसके बाद पीड़ित छात्र घर पहुंचा। जहां स्कूल ड्रेस चेंज करते समय उसकी मां और दादी देख मामले में आरोपी छात्र को सजा दिलाने को लेकर नगर थाना पहुंचे। नगर थाना पुलिस देवव्रत पोद्दार ने अभिभावक के शिकायत पर आरोपी शिक्षक को बुलाने का निर्देश दिया।

समाचार लिखे जानते तक प्राथमिकी दर्ज नहीं हो पायी है। इधर मामले में प्राचार्या रोज मेरी हेम्ब्रम ने सफाई देते हुए कहा कि यह पहली घटना है, शिक्षक के विरूद्ध आवश्यक कार्रवाई की जायेगी। शिक्षक की वैसे कोई मंशा नहीं थी, जिससे छात्र और उसके परिवार को किसी प्रकार की क्षति पहुंचे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

 पलामू : भू-माफियाओं से परेशान ग्रामीण अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 9:34 PM
newscode-image

पलामू। सरकार द्वारा भूमिहीनों को  जमीन दिया गया था मगर भूमाफियाओं द्वारा गलत तरीके से जमीन को हड़पने का काम किया गया है जिसके विरोध में पाटन प्रखंड के सोले गांव के 20 दलित परिवार पिछले 17 जुलाई से कचहरी परिसर में आमरण अनशन पर हैं। ग्रामीणों की  मांग है कि प्रशासन भूमाफियाओं से उनके जमीन को मुक्त कराएं। दरअसल 1987 में भूमिहीन परिवारों को सरकार ने ही भूदान दिया था जिसका ग्रामीण लगातार लगान भी जमा कर रहे थे।

पाटन प्रखंड के सोले गांव के 20 दलित परिवार को 31 साल पहले 40 एकड़ जमीन सरकार ने भूमिहीन होने के नाते दिया था मगर बाद में सीओ कार्यालय के कर्मियों की मिलीभगत से भूमाफियाओं ने इनकी जमीन को फर्जी कागज बनाकर हड़प लिया, जिसका विरोध में यह ग्रामीणअनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर हैं।

पलामू : लूट का 4 लाख 75 हजार रुपये बरामद

इनके समर्थन में मजदूर संगठन के नेताओं ने भी साथ दिया है।उनका कहना है कि पिछले कई सालों से यहां के दलित परिवार प्रखंड और जिला मुख्यालय का चक्कर काट कर थक चुके हैं मगर इनको न्याय नहीं मिला। इधर धरना पर बैठे पीड़ित ग्रामीणों का भी कहना है कि जान दे देंगे मगर जब तक सरकार व प्रशासन मांग पूरी नहीं करेगी तब तक आमरण अनशन जारी रहेगा ।वहीं इधर आमरण अनशन पर बैठे परिवारों से मिलने आये सदर सीओ शिव शंकर पांडे का कहना है कि जल्द ही इन ग्रामीणों की समस्याएं प्रशासन दूर करेगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

कोडरमा : मुनगा के पत्ते का करें सेवन, ब्लड प्रेशर...

more-story-image

लोहरदगा : भूमि विवाद में वृद्ध को मारी गोली, हालत...