रांची  : झारखंड में जेल वार्डर के 622 पदों पर होगी नियुक्ति, इंटरव्‍यू से होगा चयन

NewsCode Jharkhand | 7 March, 2018 11:10 AM

रांची  : झारखंड में जेल वार्डर के 622 पदों पर होगी नियुक्ति, इंटरव्‍यू से होगा चयन

रांची। झारखंड के जेलो में कक्षपाल (जेल वार्डर) के 622 पदों पर नियुक्ति हो रही है। इन पदों पर सीधे इंटरव्‍यू से भरा जाएगा। नियुक्ति कांट्रेक्‍ट के आधार पर एक साल के लिए होगी। जरूरत के अनुसार इसे बढ़ाया जाएगा। नियमित नियुक्ति होने पर कांट्रेक्‍ट पर रखे गए लोगों की सेवा खत्‍म कर दी जाएगी। नियुक्ति की प्रक्रिया राज्‍य के कारा निरीक्षणालय ने शुरू कर दी है।

इंटरव्‍यू पांच और छह अप्रैल को दुमका स्थित केंद्रीय कारा के सामुदायिक भवन में सुबह 8 बजे से शाम 4 बजे तक होगा। इस दौरान स्‍वास्‍थ्‍य एवं शारीरिक जांच परीक्षण विभाग की कमेटी करेगी। आवेदकों को जांच के वक्‍त सभी मूल प्रमाण पत्र लाने होंगे। इसके लिए किसी तरह का यात्रा भत्‍ता नहीं मिलेगा। विज्ञापन आवेदन प्रपत्र या घोषणा पत्र वेबसाईट www.jharkhand.gov.in पर होम डिपार्टमेंट के लिंक से डाउनलोड किया जा सकता है।

प्रति माह 20 हजार वेतन

नियुक्ति लोगों को एकमुश्‍त 20 हजार रुपये प्रति महीने दिया जाएगा। एक साल के बाद इसमें आठ प्रतिशत की बढ़ोत्‍तरी की जाएगी। राज्‍य स्‍तरीय इन पदों पर भूतपूर्व सैनिकों को रखा जाएगा। आवेदकों की उम्र एक जनवरी 2018 को 55 वर्ष से अधिक नहीं होनी चाहिए।

नियुक्ति में कम उम्र वाले भूतपूर्व सैनिकों को प्राथमिकता दी जाएगी। नियुक्ति के बाद उन्‍हें कक्षपाल के काम का एक महीने प्रशिक्षण दिया जाएगा। इसके बाद जरूरत के अनुसार केंद्रीय कारा या मंडल कारा और उप काराओं में पदस्‍थापित किया जा सकता है। बिना सूचना के ड्यूटी से गायब रहने पर प्राथमिकी दर्ज करने की कार्रवाई की जा सकती है।

ये है शर्तें

अनुबंध पर नियुक्ति एक मुश्‍त वेतन के आधार पर की जाएगी। एक साल में केवल 20 दिनों की छुट्टी मिलेगी। यात्रा भत्‍ता और दैनिक भत्‍ता सरकारी ड्यूटी के दौरान नियम के अनुसार दिया जाएगा। ड्यूटी के दौरान मृत्‍यु होने पर राज्‍य के पुलिसकर्मियों की तरह अनुग्रह राशि मिलेगा। हालांकि आश्रितों को सरकारी नौकरी नहीं दी जाएगी।

अनुशासनहीनता, कर्तव्‍यहीनता और कदाचार की शिकायत मिलने पर बिना किसी सूचना के उन्‍हें हटा दिया जाएगा। जांच में पूरी तरह स्‍वास्‍थ्‍य पाए जाने पर ही उन्‍हें रखा जाएगा। इसके लिए भूतपूर्व सैनिकों को व्‍यक्तिगत रूप से अनुबंध पर हस्‍ताक्षर करना होगा। यह नियमित नियुक्ति नहीं है। झारखंड के निवासियों को प्राथमिकता दी जाएगी।

रांची : रांची नगर निगम के कर्मचारी की ऑन ड्यूटी मौत, नाइट ड्यूटी में था कर्मचारी

आवेदन पत्र में यह जरूरी

आवेदन पत्र के साथ इन कागजातों की स्‍वअभिप्रमाणित फोटो कॉपी देना होगा। इसमें डिस्‍चार्ज कार्ड, पहचान पत्र, शैक्षणिक योग्‍यता, जाति प्रमाण पत्र, स्‍वपता लिखा और 45 रुपये का डाक टिकट लगा लिफाफा देना होगा। आवेदन पत्र पर स्‍वअभिप्रमाणित फोटो चिपकाना होगा। साथ ही दो स्‍वअभिप्रमाणित पासपोर्ट साईज का फोटो भी देना होगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : कांग्रेस ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पहुंचे रांची

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 8:00 PM

रांची : कांग्रेस ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पहुंचे रांची

सभी जिलों में घूम कर ओबीसी की स्थिती का लेंगे जायजा

रांची। कांग्रेस के ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष ताम्रध्वज साहू बुधवार को रांची पहुंचे। प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में प्रेस वार्ता में उन्‍होंने बताया कि वह राहुल गांधी के निर्देश पर पूरे देश में घूम कर ओबीसी की क्‍या हालत है। इसका पता लगा रहे हैं।

कांग्रेस पार्टी से उनकी क्या आशा है। वे कांग्रेस से किस प्रकार जुड़े। उनकी भागीदारी पार्टी में किस प्रकार हो। इस पर विचार विमर्श होगा। श्री साहू ने पत्रकारों को बताया कि झारखंड में ओबीसी की संख्‍या कितनी है और किस-किस क्षेत्र मे है। इसकी पूरी जानकारी लेने के बाद उन्‍हें पार्टी से कैसे जोड़ा जाए इस पर विचार किया जाएगा।

रांची : पीएम झारखंड को 25 मई को 28 हजार करोड़ की योजनाओं की देंगे सौगात

वह राज्‍य के सभी जिलों में जाएंगे। पूरी रिपोर्ट तैयार कर लेने के बाद पार्टी के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष राहुज गांधी को इससे अवगत कराया जाएगा।

पत्रकार वार्ता में आलोक दूबे, अभिलाष साहू सहित अन्‍य लोग उपस्थित थें।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

बोकारो : डीडीसी ने की समीक्षा बैठक, तीन पंचायत सेवकों का रोका वेतन

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 7:55 PM

बोकारो : डीडीसी ने की समीक्षा बैठक, तीन पंचायत सेवकों का रोका वेतन

रोजगार सेवकों  को शो कॉज

चंदनकियारी(बोकारो)। प्रखंड स्थित सभागार में बोकारों जिला के उपविकास आयुक्त रवि रंजन मिश्रा के अध्यक्षता में प्रखंड में चल रहीं विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं का समीक्षात्मक बैठक किया। जहां उपविकास आयुक्त ने बैठक के दौरान कर्मियों द्वारा उनके सवालों का सकारात्मक जवाव नहीं दिए जाने पर कई कर्मियो को फटकार लगाई।

मौके पर डीडीसी श्री मिश्रा ने कहा कि जनकल्याणकारी योजनाओं में लापरवाही किसी भी हाल में बर्दास्त नहीं की जाएगी। बरसात के पहले सभी कच्चा कार्य को समय रहते हुए 15 दिनों के अंदर पूर्ण करें। उन्होंने एक एक पंचायत का मासिक प्रगति प्रतिवेदन का जांच किया।

इस अवसर पर अद्रकुड़ी, महाल पूर्वी व बोरियाडीह में योजनाओ का संतुष्ट जवाव नहीं मिलने पर उक्त तीनों पंचायत के पंचायतों के सचिव का वेतन अगले आदेश तक के लिए रोक लगाने का बीडीओ ने दिया आदेश।

वहीं उक्त पंचायत के रोजगार सेवकों को शो कॉज किया। साथ ही रूर्बन मिशन के तहत आबंटन प्राप्त 107 करोड़ रुपया के अनुसार रूप रेखा तैयार करने को भी कहा गया।

बोकारो : सरकार खेल एवं खिलाड़ियों के सर्वांगीण विकास के लिए संकल्पित- अमर बाउरी

इस अवसर पर प्रधानमंत्री आवास, स्वच्छ भारत मिशन, मनरेगा, विभिन्न प्रकार के पेंशन समेत कल्याणकारी योजनाओं की समीक्षा किया गया। मौके पर बीडीओ चंदनकियारी रविन्द्र प्रसाद गुप्ता समेत सभी पंचायत के पंचायत सेवक कान रोजगार सेवक मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

टुंडी : प्‍यास बुझाने के लिए जूझती हैं महिलाएं, जंगल पार कर के करती हैं व्‍यवस्‍था

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 7:32 PM

टुंडी : प्‍यास बुझाने के लिए जूझती हैं महिलाएं, जंगल पार कर के करती हैं व्‍यवस्‍था

विकास के नाम पर सिर्फ बिजली पहुंची

टुंडी (धनबाद)। टुंडी प्रखंड के नक्‍सल प्रभावित क्षेत्र रूपन पंचायत अंतर्गत धनारंगी गांव में लोगों को पेयजल की समस्या से जुझना पड़ रहा है। आलम यह है कि गांव की महिलाओं और बच्चियों को जंगलों के बीच जोरिया एवं डाड़ी से पानी की व्यवस्था करनी पड़ती है।

बुधवार को न्यूज़कोड के सहयोगी जब गांव पहुंचे तो ग्रामीण श्रीलाल मुर्मू ने बताया कि गांव में पेयजल की बहुत समस्या है। दो टोलों में बंटा यह गांव पहाड़ की तराई में बसा हुआ है। जिसमें से एक टोले में कुआं और चापानल है जबकि पहाड़ की तराई में सटे टोले में मात्र एक चापानल है। जिससे ग्रामीणों की प्यास नहीं बुझती है।

धनबाद : कोचिंग सेंटर पर पैसे ऐंठने का आरोप, छात्र मोर्चा ने किया प्रदर्शन

इस कारण ग्रामीणों को अपनी प्यास बुझाने के लिए गांव से लगभग एक किलोमीटर दूर जंगलों के रास्ते होते हुए सोनापानी जोरिया में बहने वाली पानी लाते हैं। गर्मी के दिनों में यह जोरिया भी सूख जाता है। ग्रामीणों की मदद से खेतों में बने एक डाड़ी चुआं से पानी लाकर अपनी प्यास बुझाते हैं। विकास के नाम पर गांव में सिर्फ बिजली पहुंची है और कुछ पीसीसी बनी है, परंतु गांव जाने वाली मुख्य सड़क बिल्कुल जर्जर हालत में है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

X

अपना जिला चुने