रांची : ‘मौका मिले तो छोड़ेंं नहीं, आत्मविश्वास के बल पर ही पा सकते हैं सफलता’

Sanjiv Sinha | 2 May, 2018 5:12 PM
newscode-image

इन टीवी सीरियल में कर चुकी हैं काम

रांची। अनुष्का सेन मायानगरी मुम्बई में अपने डांस और एक्टिंग से सभी को दीवाना बनाई है। हर हर महादेव सीरियल में बाल पार्वती की भूमिका निभाने वाली अनुष्का का झारखंड से गहरा नाता है। हर हर माहादेव के अलावा बाल वीर, यहां मैं घर घर खेली जैसे टीवी सीरियल में भी नजर आ चुकी हैं।

परिवार का रांची से जुड़ाव

अनुष्का के पापा अनिर्वाण सेन रांची में पढ़ाई लिखाई किया और मम्मी राजरूपा सेन जमशेदपुर की है। मुंबई से रांची आई अनुष्का सेन की न्‍यूज़कोड के रिपोर्टर संजीव सिन्हा ने की खास बातचीत।

सवाल : एक्टिंग के क्षेत्र  में रुझान कैसे हुआ?

अनुष्का : बचपन से ही डांस का शौक था और घर पर भी मम्मी का संगीत से जुड़ाव था। मेरे डांस के प्रति शौक को देखते हुए मुझे फेमस कोरियोग्राफर शियामक डावर डांस एकेडमी में डांस सीखने को भेजा गया। इसी दौरान रंग दे बसंती और भाग मिल्खा भाग के डायरेक्टर राकेश ओम प्रकाश मेहरा से मुलाक़ात हुई जो एक म्यूजिक एल्बम बनाने जा रहे थे। उन्होंने मुझे आशा म्यूजिक वीडियो में मौका दिया। मेरा काम सभी को बहुत अच्छा लगा और मुझे फिल्मों में एक्टिंग के लिए प्रोत्साहित किया। धीरे धीरे मुझे पहले कुछ विज्ञापन मिलना शुरू हुआ उसके बाद टीवी सीरियल के लिए भी ऑफर आने लगे।

सवाल : महेंद्र सिंह धौनी के साथ काम करने का मौका कैसे मिला ?

अनुष्का : अनुष्का बताती है कि न्यू ईयर के दिन हम सभी लोग शॉपिंग कर रहे थे तभी मम्मी को फोन आया कि धौनी के साथ ऐड सूट होना है इसके लिए लुक टेस्ट देने है। अनुष्का ने कहा कि पहले तो हमलोगों को विश्वास ही नहीं हुआ और फोन को नजर अंदाज कर दिया लेकिन फिर दोबारा कॉल आया कि आप आए। हमलोग गये हमारा टेस्ट हुआ और फिर मैं सेलेक्ट हो गई।

और पढ़े:- 10 साल बाद बनी सलमान और प्रियंका की जोड़ी, इस फिल्म में आएंगे नज़र

दो तीन दिन बाद सूट शुरू हुआ और जब हम सेट पर पहुंचे तो डायरेक्टर सर ने कहा कि आप जाकर धोनी से मिल लो। पहली बार जब धोनी चाचू से मिली तो बहुत अच्छा लगा क्योंकि  वो मेरे फेवरेट क्रिकेटर हैं।

धोनी के साथ 4 साल में 14 विज्ञापन

अनुष्का ने कहा कि जब माही चाचू को पता चला की मैं भी रांची से हूं वो बहुत खुश हुए और देखते देखते हमलोग सेट पर खूब मस्ती और धमाल करने लगे। माही चाचू के साथ चार साल में चौदह ऐड किया। माही चाचू से हमे सीखना चाहिए कि कितने भी बड़े सेलेब्रिटी होकर भी डाउन टू अर्थ है, मेरी भी कोशिश होगी कि मैं भी उन्हीं की तरह बनू।

सवाल : पढ़ाई के साथ काम कैसे करती मैनेज ?

अनुष्का : काम के साथ पढ़ाई करने में कोई दिक्कत नहीं होती है। इसके लिए मेरे पेरेंट्स और स्कूल के टीचर ने बखूबी मेरा साथ दिया। मेरे टीचर हर वक्त मुझे समय देने के लिए तैयार रहते थे और पेरेंट्स ने कहा कि पढ़ाई के समय पढ़ाई पर ध्यान और काम से समय काम पर पूरा फोकस करना है, इसलिए कभी कोई परेशानी नहीं आई।

सवाल : झारखंड के कलाकार को क्‍या संदेश देना चाहती हैं?

अनुष्का : सबसे पहले अपने पसंद के अनुसार अपना कैरियर का चुनाव करना और मेहनत, लगन और पूरी तैयारी के साथ ही मुंबई जाना चाहिए क्योंकि मुम्बई बहुत बड़ी है। जो भी मौका मिले उसे मिस नहीं करें। मौका को आत्मविश्वास के साथ पूरी हिम्मत से पूरा करने की कोशिश करनी चाहिए।

फिल्‍म भी होगी रिलीज  

हालांकि सोलह वर्षीय अनुष्का अभी कुछ तमिल और तेलगु प्रादेशिक भाषाओं की फिल्मों के साथ राहत काजमी की हिंदी फिल्म में भी काम कर रही है। जल्द ही अनुष्का की फिल्में रिलीज़ होगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : रांची में बढ़ रही है सीफूड खाने वालों की तदाद

NewsCode Jharkhand | 17 August, 2018 9:00 PM
newscode-image

रांची। जब भी हम सीफूड का नाम लेते हैं तो हमारे दिमाग में सबसे पहले झींगा मछली के नाम सामने आता है, लेकिन सीफूड में इससे ज्यादा और भी कई वैरायटी है, जिनके बारे में काफी लोगों को अब तक जानकारी नहीं है। कई लोग ऐसा मानते हैं कि सीफूड मुंबई, चेन्नई, केरल जैसे जगहों पर ही मिल सकता है, लेकिन ऐसा बिल्कुल नहीं है, भारत विदेशी मछलियों एवं समुद्री खानों से भरा पड़ा है।

 

रांची : रांची प्रेस क्लब में पत्रकारों ने अटल को दी भावभीनी श्रद्धांजलि

मछलियों और अन्य समुद्री खाद्य उत्पादों में काफी वैरायटी भारत के समुद्री तटों पर उपलब्ध है, जो भारत को समुद्री के प्रमुख खाद निर्यातों एवं व्यापारियों में एक बनाता है। आपको बता दें कि अब रांची के लोग भी सीफूड के स्वाद से अछूते नहीं हैं, और शहर में सीफूड खाने वालों की तादाद दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

रांची : रांची में बढ़ रही है सीफूड खाने वालों की तदाद

सीफूड करने वाले व्यवसाइयों की माने तो लोग पहले सिर्फ मटन चिकन या मछली ही खाते थे मगर जब से लोगों को सीफूड के बारे में जानकारी मिली है और लोगों ने इसका स्वाद चखा है, तब से मटन चिकन या फिर मछली से हटकर अब सीफूड खाना ज्यादा पसंद करते हैं, क्योंकि सीफूड में जो मौजूद विटामिन और मिनरल्स होते हैं।

रांची : रांची में बढ़ रही है सीफूड खाने वालों की तदाद

वह मनुष्य के स्वास्थ्य के लिए काफी लाभदायक होते हैं, लोगों को स्वादिष्ट भोजन के साथ-साथ अगर अच्छा पौष्टिक आहार भी सीफूड मिल रहा है, अब रांची वासियों में सीफूड खाने वालों की तादाद दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

बोकारो : भाई-बहन को बंधक बनाए रखने के मामले में चिकित्सक पर मामला दर्ज

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 8:22 AM
newscode-image

बोकारो । को-ऑपरेटिव कॉलोनी के प्लांट संख्या 229 के मालिक दीपू घोष व उनकी बहन मंजूश्री घोष को कैद रखने के मामले में नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. डीके गुप्ता पर पूर्णेन्दू सिंह के बयान पर सिटी पुलिस ने हत्या के प्रयास की धारा में मामला दर्ज किया है। दीपू घोष व उसकी बहन मंजूश्री का इलाज फिलहाल बोकारो जेनरल अस्पताल में चल रहा है। दीपू की हालत में काफी सुधार है जबकि मंजूश्री शारीरिक रूप से स्वस्थ्य होने के बावजूद मानसिक यातना के कारण हालत ठीक नहीं है।

 धनबाद : डायरियां से एक व्यक्ति की मौत, दर्जनों लोग बीमार

विदित हो कि पुलिस कप्तान कार्तिक एस ने गुरूवार को स्वयं अस्पताल पहुंचकर भाई-बहन से जानकारी ली थी। मंजू श्री ने एसपी को जो बताया उससे स्पष्ट हुआ कि उसको प्रताड़ित किया गया है। इधर मुकदमा दर्ज होने के बाद डॉ. डीके गुप्ता की मुश्किलें बढ़ गई है। सरकारी चिकित्सक होते हुए किस परिस्थिति में वे बाहर के क्लिनिक में इलाज कर रहे थे ये सवाल उठ रहे हैं। डॉ. गुप्ता चास अनुमंडलीय अस्पताल में पदस्थापित हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

रांची : भारी मात्रा में अवैध शराब बरामद

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 7:59 AM
newscode-image

रांची। आयुक्त उत्पाद को गुप्त सूचना मिली थी कि कतरपा, नगड़ी में भारी मात्रा में अवैध शराब का निर्माण किया जा रहा है। जिसको होटलों और ढाबों में अवैध ढंग से खपाया जा रहा है। अनुमंडल पदाधिकारी, रांची और रांची जिला के सहायक उत्पाद आयुक्त व विभाग के अन्य पदाधिकारियों द्वारा संयुक्त रुप से छापेमारी की गई ।

छापेमारी के क्रम में पाया गया कि कतरपा में एक नया बड़ा सेड बनाकर भारी मात्रा में अवैध शराब का निर्माण किया जा रहा है।  मौके से करीब 200 लीटर स्प्रिट हजारों बोतल खाली और हजारों बोतल शराब भरी हुई मिली । यह जगह मुख्य रूप से  सुंदरा महतो, जटलू महतो और सुनीता महतो द्वारा छोटू  उर्फ देवेंद्र उराव द्वारा  अन्य  कर्मचारियों के साथ मिलकर संचालन किया जा रहा था। वहां पर भारी मात्रा में नकली स्टिकर, नकली होलोग्राम और पैकेजिंग का सामान जब्त किया गया। वहां पर टैंकर और टाटा सफारी गाड़ी के माध्यम से स्प्रिट, पानी और तैयार माल ट्रांसपोर्ट किया जाता है।

कोडरमा : पुलिस दल को देखकर अवैध शराब कारोबार हुए फरार

बताया गया कि इस प्रकार से जानबूझकर  खतरनाक शराब  तैयार कर  बाजार में बेचा जाना  घातक हो सकता है।  क्योंकि  ये सभी लोग बिना किसी विशेषज्ञ और बिना किसी रासायनिक परीक्षण के यह कार्य करते हैं। ऐसी शराब जहरीली भी हो सकती है। इन सभी व्यक्तियों और वाहन मालिकों के खिलाफ नगड़ी थाने में संबंधित उत्पाद अधिनियम और आईपीसी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई।

सूत्रों के मुताबिक नगड़ी बाजार में स्थित कोयल लाइन होटल जो कि राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है यही नकली शराब बेचे जाने की शिकायत मिली थी। वहां पर छापेमारी में भारी मात्रा में शराब की खाली बोतलें, रिसीविंग बिल, शराब बेचने के बिल और शराब बेचे जाने कि सीसीटीवी फुटेज की डीवीआर जब्त की गई।  इस प्रकार के अवैध कार्य संचालित किए जाने के क्रम में होटल को सील कर दिया गया है। होटल के संचालक बालकरन महतो व अन्य के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

रांची : मुख्यमंत्री ने अटलजी के सपनों का झारखंड बनाने...

more-story-image

लोहरदगा : दो नाबालिग के साथ गैंगरेप, आरोपी फरार