रांची : झारखंड में रोम, इटली, फ्रांस की संस्कृति नहीं चलेगी- केंद्रीय सरना समिति

NewsCode Jharkhand | 9 July, 2018 3:12 PM
newscode-image

राज्य सरकार से की सरना कोड की मांग

रांचीकेंद्रीय सरना समिति द्वारा मोरहाबादी मैदान स्थित गांधी प्रतिमा के समक्ष एक दिवसीय धरना का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में सरना धर्म के प्रबुद्ध लोग शामिल हुए। इस दौरान सरना धर्म के अधिकारों को लेकर चर्चा हुई।

राज्य सरकार को जल्द से जल्द सरना कोड लागू करना चाहिए। दूसरे धर्म के लोग आदिवासी में शामिल होकर आरक्षण का लाभ उठाने में सफल होते दिख रहे हैं। ऐसे लोगों को चिन्हित करके सरकार को इस पर कार्रवाई करनी चाहिए।

रांची : विश्व जूनियर एथलटिक्स के लिए झारखंड से सपना कुमारी फिनलैंड रवाना

केंद्रीय सरना समिति के अध्यक्ष फूलचंद तिर्की ने कहा सरना धर्म के साथ खिलवाड़ बिल्कुल बर्दास्त नहीं कर सकते है। राज्य सरकार को सरना धर्म का कोड लागू करना चाहिए। केंद्रीय सरना समिति, सरना धर्म की रक्षा के लिए हमेशा तत्पर है, आगे भी इसी तत्परता के साथ खड़ी रहेगी।

सरना धर्म की आड़ में दूसरे धर्म के लोग शामिल होकर आरक्षण का लाभ उठाने में सफल हो रहे हैं और जो यहां के मूलवासी सरना धर्म से  आते हैं। उन्हें उनके अधिकारों से वंचित रहना पड़ता है।

राज्य में जितने भी सरना धर्म के मानने वाले लोग हैं। सभी को एक होकर इसकी रक्षा करनी होगी। यहां पर रोम, इटली, फ्रांस की संस्कृति नहीं चलेगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

चाईबासा : बेरोजगारी से पलायन करने वालों के दर्द को खत्म करने का बीड़ा राज्य सरकार ने उठाया

NewsCode Jharkhand | 17 July, 2018 9:44 AM
newscode-image

चाईबासा (पश्चिमी सिंहभूम) । झारखंड का सबसे बडा दर्द पलायन रहा है। बिचौलिए और दलाल झारखंड के बेरोजगारों का जमकर शोषण करते रहे हैं। लेकिन राज्य सरकार ने पलायन के दर्द को खत्म करने का बीडा उठाया है,और इसके लिए सरकार ने राज्य के एक लाख बेरोजगारों को नौकरी देने के अभियान की शुरूआत कोल्हान की धरती चाईबासा से शुरू की है। प्रथम चरण में एक हजार युवक-युवतियों को नियुक्ति पत्र सौंपा गया है, जिससे राज्य के युवक-युवतियां बेहद खुश हैं।

एक लाख युवक-युवतियों को हुनरमंद बना कर निजी कंपनियो में नौकरी देने की पहल शुरू

बेरोजगारी की बढ़ती समस्या से सरकार ही नहीं युवक-युवतियां और उनके अभिभावक भी परेशान थे। गरीब और कमजोर वर्ग के बेरोजगारों के सामने शोषण होने के आलावा कोई चारा भी नहीं है। लेकिन राज्य सरकार ने इस सबसे बडी चुनौती को स्वीकार कर इस साल एक लाख युवक-युवतियों को हुनरमंद बनाकर निजी कंपनियों में नौकरी देने की पहल शुरू की है। जिसका राज्य के युवाओं ने दिल खोल कर स्वागत किया है। निजी कंपनियों में ही अच्छी सैलरी और सुविधा मिलने से युवाओं में काफी उत्साह है।

युवाओं में उत्साह

पतरातू की तबस्सूम नाज को रामगढ में ही माइक्रो कंपनी में जॉब मिला है, जिससे वह  काफी खुश दिखी और अपने माता-पिता के साथ सीएम रघुवर दास के प्रति आभार जताया। इसी तरह खूंटी की ओलिना सांगा को रांची के ही एक कंपनी में 16 हजार के सौलरी पर सिक्यूरिटी गार्ड की नौकरी मिली, वहीं रांची के एक युवा चंदन मिश्रा को रांची में हीं रिलायंस रिटेल में एक लाख 80 हजार का पैकेज मिला। रांची के ही हसन इकबाल ने बताया कि उसने जॉब के लिए काफी प्रयास किया लेकिन सफलता नहीं मिली थी। लेकिन जैसे ही उसने ऑटोमोबाइल में ट्रेनिंग ली, उसे महिन्द्रा में अस्टिेंट सर्विस प्रोवाइडर में 13 हजार की मासिक सैलरी मिल गई। इन सभी युवाओं को शिक्षा मंत्री ने अपने हाथों से नियुक्ति पत्र सौंपा है, जिसे पाकर ये सभी युवा काफी गदगद है और सरकार के पहल की भूरि-भूरि प्रशंसा कर रहे हैं।

अब रुकेगी पलायन

राज्य सरकार ने अगले साल 12 जनवरी 2019 तक राज्य के एक लाख युवाओं को नौकरी देने का लक्ष्य रखा है। इसके लिए झारखंड स्किल डेवलपमेंट मिशन सोसाईटी को 40 हजार का लक्ष्य मिला है। शेष अन्य निजी कंपनियों को लक्ष्य दिया गया है। सरकार इसके लिए एक रोड मैप तैयार किया है। जिसके तहत झारखंड स्किल डेवलपमेंट मिशन सोसाईटी अपने ट्रेनिंग सर्विस सेंटरों में अनट्रेंड युवाओं को कौशल प्रशिक्षण देकर उन्हें तैयार कर रही है। उसके बाद उन्हें विभिन्न निजी कंपनियों में प्लेसमेंट कर देंगी. इस योजना के तहत चाईबासा में एक हजार युवाओं को नौकरी दी गई। सरकार के अब अधिक से अधिक बेरोजगारों को नौकरी देने के लिए राज्य के सभी इंडस्ट्री को अपने साथ जोड़ रही है और इन कंपनियों में सीधे नौकरी दी जाएगी। इससे राज्य के बेरोजगारों को राज्य से बाहर जाने की जरूरत नहीं होगी।

बहरहाल राज्य में बेरोजगारों की बढ़ती फौज को रोकने के लिए मुख्यमंत्री रघुवर दास के इस प्रयास को युवाओं ने दिल खोल कर स्वागत किया है। बेरोजगार नौकरी चाहते हैं, चाहे निजी हो या सरकारी। युवा मानता है कि नौकरी मिलने से उनकी सिर्फ बेरोजगारी हीं नहीं दूर हो रही है बल्कि उनका सपना भी पूरा हो रहा है। इससे परिवार की आर्थिक स्थिति सुधरेगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

झरिया : धमाका, फायरिंग और मारपीट से क्षेत्र में दहशत, शादी समारोह घर में भी मचा कोहराम

NewsCode Jharkhand | 17 July, 2018 11:29 AM
newscode-image

झरिया (धनबाद) । भौरा थाना क्षेत्र के भौरा नीचे बाजार व ऊपर बाजार में बीती रात हथियारबंद लोगों ने हमला बोल दिया। दर्जनो राउंड फायरिंग की तथा कई घरों पर देसी व पेट्रोल बम फेंके गए। आधा दर्जन लोग घायल हो गए हैं। इनमें महिलाएं भी शामिल हैं।

झरिया : धमाका, फायरिंग और मारपीट से क्षेत्र में दहशत, शादी समारोह घर में भी मचा कोहराम

आरोपी न्यू क्वार्टर के रहने वाले हैं वह 70 – 80 के संख्या में थे। आरोपियों ने भौरा पुलिस के वाहन पर भी पथराव किया। पुलिस को भाग कर अपनी जान बचानी पड़ी। हमलावर करीब आधे घंटे तक उत्पात मचाते रहे। मामले की गंभीरता को देख भौरा पुलिस ने जोड़ापोखर, पाथरडीह, सुदामडीह, सहित कई थानों की पुलिस को घटनास्थल पर बुलवा लिया और कई अधिकारी भी घटनास्थल पर पहुंच गए।

हमलावर भौरा बाजार निवासी बालेश्वर उर्फ वाले यादव के शादी वाले घर में घुस गए और महिलाओं के साथ मारपीट दुर्व्यवहार तथा लूटपाट की। दूल्हे नीरज कुमार यादव की चेन और अंगूठी भी लूट ली और दूल्हे के साथ भी मारपीट की । इस दौरान एक महिला की कान की बाली भी खिंच डाली। इस घर से मंगलवार को बारात जानी है। नीरज यादव स्वर्गीय रंजीत यादव का पुत्र हैं।

पाकुड़ : लाखों रुपये का गांजा जब्त, 3 गांजा तस्कर चढ़े पुलिस के हत्थे

हॉकी, स्टिक, डंडे से पिटाई में बालेश्वर यादव, चंद्रवती देवी,शांति देवी बबली देवी, रीना देवी आदि घायल हो गए। सभी घायलों को भौरा अस्पताल लाया गया गंभीर स्थिति को देख चिकित्सकों ने उन्हें पीएमसीएच रेफर कर दिया है। घटना के पीछे आपसी रंजिश बताई जाती है।

हमलावरों ने दुकानों पर भी हमला कर दिया और तोड़फोड़ किया। जिसको लेकर दुकानदारों में भारी रोष है और आज बाजार के सारे दुकानदार अपने-अपने दुकान बंद कर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग कर पुलिस से सुरक्षा की गुहार लगा रहे हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

चाईबासा : जगन्नाथपुर जिला परिषद सदस्य भाजपा छोड़ थामा झामुमों का दामन

NewsCode Jharkhand | 17 July, 2018 11:26 AM
newscode-image

चाईबासा । जैसे जैसे चुनाव नजदीक पहुंच रही है , वैसे वैसे जोड़ तोड़ की राजनीति भी तूल पकड़ने लगी है। जहां कुछ लोग पार्टी की विचार धारा पच नहीं रही है , तो कई पार्टी की वरीय पदाधिकारियों की उपेक्षा। इस राजनीतिक घटना क्रम से साफ पता चलता है कि आने वाली कल की राजनीति में बड़ा उलट फेर होने इंकार नहीं किया जा सकता है।

 पश्चिमी सिंहभूम भाजपा जिला अध्यक्ष शुरु नंदी के कार्यशैली व रैवया से पार्टी के वरीय पदाधिकारी व युवा कार्यकर्ता खुश नहीं है। अब तक कई कार्यकर्ताओं ने पार्टी छोड़ अन्य पार्टी का दामन थाम चुके है ।

चाईबासा : विभागीय लापरवाही में फिर गयी एक ठेका बिजली मिस्त्री की जान

सोमवार को जगन्नाथपुर जिला परिषद सदस्य व भाजपा युवा नेता अभिशेख सिंकु उर्फ मुन्ना के नेतृत्व में दर्जनों भाजपा कार्यकर्ता सहित जभासपा , कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने झामुमो सुप्रीमो शिबु सोरेन के समक्ष उनके आवास में विधिवत रुप से शामिल हो गए।

चाईबासा : जगन्नाथपुर जिला परिषद सदस्य भाजपा छोड़ थामा झामुमों का दामन

जिप सदस्य श्री सिंकु ने बताया कि भाजपा अपनी विचार धारा से भटक गई है।  यह सिर्फ अमित शाह व रघुवर दास की विचार धारा की पार्टी रह गई है । झारखंङ के विकास के नाम पर विनाश करने का काम किया जा रहा है। जो आने वाले समय में भाजपा के लिए खतरे की घंटी है।

ये हुए भाजपा छोड़ झामुमों में शामिल

अभिशेक सिंकु — जिप सदस्य सह भाजपा नेता

संजय बारिक —  उप प्रमुख सह भाजपा नेता

हरिश हेंब्रम – भाजपा नेता

उमेश गोप – करंजिया पंचायत प्रभारी

बलदेव लागुरी – पोखरपी पंचायत अध्यक्ष

जयपाल लागुरी – पंचायत प्रभारी पोखरपी

 जभासपा मार्शल लागुरी

 सिकंदर तिरिया

रमेश सिंकु

विपिन सिंकु

मुखिया कृष्णा लागुरी

 मुखिया दमयंती लागुरी

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

गोरक्षा के नाम पर हो रही हिंसा को लेकर सुप्रीम...

more-story-image

जमशेदपुर : 4 लैंड माइंस गाड़ियों में 3 विगत 2...