रांची : सीएम आवास घेराव करने जा रहे सेविका-सहायिकाओं को पुलिस ने रोका

NewsCode Jharkhand | 5 February, 2018 7:56 PM
newscode-image

रांची। अपनी मांगों के समर्थन मे मुख्यमंत्री आवास का घेराव करने सोमवार को पूरे राज्‍य से हजारों की संख्‍या में सेविका-सहायिका रांची पहुंची। नारा लगाते हुए सभी महिलाएं बिरसा चौक से हिनू होते हुए मुख्‍यमंत्री आवास की ओर बढ़ने लगी। पुलिस ने भी इनसे निपटने की पूरी तैयारी कर रखी थी। जगह-जगह पुलिस द्वारा इन्‍हें रोक दिया गया। पुलिस द्वारा रोके जाने से महिलाओं में काफी आक्रोश था। उनका कहना था कि वह शांतिपूर्ण तरीके से अपनी बातों को रखने आई हैं। महिलाओं को भड़कता देख सिटी एसपी अमन कुमार और एडीएम लॉ एन ऑडर गिरजा प्रसाद उन्‍हें समझाने लगे। काफी मशक्‍कत के बाद सभी सेविका-सहायिकाओं को समझा बुझा कर वापस फिर से बिरसा चौक भेजा गया। अब सीएम आवास में वार्ता के बाद आगे की रणनीति तैयार करेंगे रसोईया/ संयोजिका संघ के लोग।

क्या है मामला

राज्य के 38,682 आंगनबाड़ी केंद्रों की करीब 80 हज़ार सेविकाएं और सहायिका अपनी 11 सूत्री मांगों को लेकर बेमियादी हड़ताल पर है। इनकी प्रमुख्‍ मांग है- सेविकाओं को 21 हजार, सहायिकाओं को 15 हज़ार वेतन मिले और पोषण सखी के लिए नियमावली बने, सेविका-सहायिका को सरकारी कर्मचारी घोषित करते हुए वेतनमान निर्धारित किया जाय, आंगनवाड़ी कर्मचारियों को महंगाई भत्ता, चिकित्सा भत्ता, यात्रा भत्ता व मोबाईल भत्ता दिये जायें।

रांची : सीएम आवास घेराव करने जा रहे सेविका-सहायिकाओं को पुलिस ने रोका

चरमराई शहर की ट्रैफिक व्‍यवस्‍था

सेविका-सहायिकाओं के घेराव कार्यक्रम से श‍हर की ट्रैफिक व्‍यवस्‍था पूरी तरह से चरमरा गई। पूरे शहर में जाम की स्थिती हो गई थी। राहगीरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा। कहीं-कहीं तो एंबुलेंस भी जाम में फंस गया था। उसे किसी तरह जाम से निकाला गया। जाम हटवाने में ट्रैफिक पुलिसकर्मियों को काफी मेहनत करनी पड़ी।

सुबोधकांत का मिला समर्थन

पूर्व केन्‍द्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय ने आंगनबाड़ी सेविका सहायिकाओं की सभी मांगों को जायज बताते हुए उनका सम‍र्थन किया है। सुबोधकांत ने कहा कि राज्य में सभी आंगनबाड़ी सहायिका सेविकाओं को सही तरीके से मेहनताना नहीं मिल पाता है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : अपराध पर अंकुश लगाने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 19 November, 2018 1:08 PM
newscode-image

दो दिवसीय राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन

रांची। झारखंड की राजधानी रांची में सोमवार को दो दिवसीय राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन का शुभारंभ हुआ। सम्मेलन का उदघाटन मुख्यमंत्री रघुवर दास ने किया। जबकि समापन समारोह में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू शामिल होंगी।

झारखंड पुलिस और राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के संयुक्त तत्वावधान में रांची के धुर्वा स्थित न्यायिक अकादमी स्थित डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ऑडिरियम में आयोजित 8वीं राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराध पर अंकुश लगाने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज 19नवंबर के दिन इस सम्मेलन का उदघाटन होना और भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि 19नवंबर को ही महिला शक्ति को पूरी दुनिया में स्थापित करने वाली पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और स्वतंत्रता की लड़ाई में अग्रणी भूमिका निभाने वाली रानी लक्ष्मीबाई की जयंती के रूप में मनाया जाता है।

उन्होंने कहा कि महिलाएं कैसे सशक्त बने और अपराध पर अंकुश के लिए चिंतनन-मनन जरूरी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत ही दुनिया में एकमात्र ऐसा देश है, जहां नारी शक्ति की पूजा-अर्चना की जाती है, सबसे खतरनाक जीव सिंह और बाघ को माना जाता है, लेकिन इस पर सवार हो कर मां दुर्गा और मां काली ही आती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी समाज और राष्ट्र में महिला शक्ति को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए करने का काम किया है। झारखंड की बेटी और तीरंदाज दीपिका, पर्वतारोही प्रेमलता समेत अन्य मातृ शक्ति ने झारखंड और भारत का नाम  पूरी दुनिया में रौशन किया है।

प्रधानमंत्री ने भी मातृ शक्ति पर विश्वास करते हुए देश की सुरक्षा और विदेश मामलों का प्रभार महिलाओं के हाथों सौंपा है। रघुवर दास ने कहा कि राज्य सरकार ने भी झारखंड पुलिस में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की है और महिला पुलिस अधिकारियों-कर्मियों के लिए आधारभूत संरचना उपलब्ध कराने के लिए कई कदम उठाये हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार में भी महिलाओं की भूमिका केंद्र बिन्दु में होती है, समाज में भी महिलाओं की भूमिका अहम है,ऐसा नहीं होने पर पूरी व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो जाएगी। उन्होंने वर्तमान परिस्थिति में अपराध का स्वरूप भी बदा है, साइबर अपराध पर अंकुश लगाने के लिए प्रशिक्षण जरूरी है, अन्य अपराध भी चुनौतीपूर्ण है, इसके लिए प्रशिक्षण की जरूरत है।

इस सम्मेलन में देशभर की 149 प्रतिभागी शामिल हो रही है, जिनमें सिपाही से लेकर पुलिस महानिदेशक स्तर की महिला पुलिस पदाधिकारी भी हो रही है। सम्मेलन  में यौन उत्पीड़न, आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल, सेंट्रल पारा मिलिट्री फोर्स में महिलाओं की समस्या सेफ सिटी बनाने में महिला पुलिसकर्मियों की भूमिका और योगदान पर चर्चा की जा रही है।

सम्मेलन का उद्देश्य पुलिस के समक्ष नई चुनौतियों के बीच सशक्त कार्य स्थल तथा अनुकूल कार्य वातावरण, स्मार्ट सिटी, सेफ सिटी और कम्युनिटी पुलिसिंग पर चर्चा हो रही है। प्रथम राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन की सफलता से उत्प्रेरित होकर राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो द्वारा देश के विभिन्न हिस्सों में इससे पहले सात सम्मेलनों का आयोजन सफलतापूर्वक किया जा चुका है।

वक्ताओं ने बताया कि राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा आयेजित राष्ट्रीय स्तर पर एकमात्र ऐसा मंच है, जो वर्दीधारी महिलाओं के मुद्दों से संबद्ध है तथा उनके पेशेवर क्षमता को महत्तम और अनुकूल बनाने के लिए एक सक्रिय वातावरण उपलब्ध कराता है।

सम्मेलन में राजस्थान से 7, एसवीपी अकादमी हैदराबाद से 5, मेघालय से 4, आरपीएफ से 7, नेपा मेघालय से 2, मणिपुर से 2, प. बंगाल से 8, उत्तराखंड से 6, आईटीबीपी से 3, आईटीबीपी अकादमी से 5, सीआईएसएस से 3, केरल से 4, बीएसएफ से 6, एनडीआरएफ से 1, असम से 5, हरियाणा से 3, गुजरात से 5, तेलंगाना से 1, एसएसबी से 4, कर्नाटक से 11, तमिलाडु से 6, उत्तर प्रदेश से 2, त्रिपुरा, अगरतल्ला से 1, एनडीआरएफ से 3, एनएसजी से 1, असम राइफल से 6, महाराष्ट्र से 5, पंजाब से 6, ओड़िशा से 6 प्रतिभागी हिस्सा ले रहे है। जबकि वक्ताओं में अध्यक्ष रेखा शर्मा, न्यायमूर्ति ज्ञान सुधा मिश्रा, महानिदेशक डॉ. एपी महेश्वरी समेत अन्य विशेषज्ञ शामिल है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रिश्ता लेकर आए तीन मानव तस्करों को ग्रामीणों ने पकड़ा

Om Prakash | 19 November, 2018 1:28 PM
newscode-image

जमशेदपुर.  गालूडीह के बाघुड़िया पंचायत के एक गांव की युवती रविवार को दिल्ली के तस्करों के चंगुल में जाने से बाल-बाल बच गई। दरअसल गांव की एक लड़की से शादी करने पहुंचे युवक के परिजन रुपए के बंटवारे को लेकर आपस में उलझ रहे थे। कुछ ग्रामीणों ने जब यह नजारा देखा तो उन्हें शक हुआ इसके बाद आक्रोशित ग्रामीणों ने युवक व उसके साथ आईं महिलाओं को वापस भेज दिया। वहीं दलाल समेत तीन लोगों को पकड़ कर बंधक बना लिया। तीनों को जूते की माला पहनाकर गांव में घुमाया। इस दौरान तीनों तीन घंटे तक बंधक बने रहे। बार-बार माफी मांगने व जमीन पर नाक रगड़ने के बाद ग्रामीणों ने दलाल के साथ आए लोगों को मुक्त किया।

ग्रामीणों ने बताया कि शनिवार को दिल्ली का एक युवक नारगा के एक दलाल के साथ जोडिसा पंचायत स्थित गांव पहुंचा। युवक नारगा में रहकर व्यवसाय करता है। उसने दलाल को शादी के लिए अच्छी-खासी रकम देने का प्रलोभन भी दिया। गुरुवार को युवक, दलाल व एक महिला ने गांव आकर युवती को देखा। इसके बाद युवक ने शादी के लिए हां कर दी। युवक ने दलाल से कहा कि शादी करने के पूर्व वह एक बार युवती के घर जाकर उससे व उसके परिजनों से मिलना चाहता है। इसी को लेकर युवक सहित तीन दलाल व पांच महिलाओं एक टाटा मैजिक वाहन पर सवार होकर गांव पहुंचे।

दलाल ने लड़की के परिजनों को बताया कि लड़का शादी के बाद लड़की को दिल्ली चे जाएगा। ग्रामीण शादी के लिए तैयार थे, पर पूरी पड़ताल कर लेना चाहते थे। ग्रामीणों ने युवक से आधार कार्ड मांगा तो वह बहाने बनाने लगा। आधार कार्ड को लेकर वार्ता चल ही रही थी कि शादी के लिए साथ आए लोग पैसों के बंटवारे को लेकर आपस में उलझने लगे। कुछ ग्रामीणों ने इसे देख लिया। इसकी सूचना अन्य ग्रामीणों व लड़की के परिजनों को दी गई। ग्रामीण समझ गए कि युवक शादी के लिए नहीं बल्कि मानव तस्करी के लिए आया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

गिरिडीह : सड़क हादसे में मुखिया पुत्र की मौत

NewsCode Jharkhand | 19 November, 2018 1:25 PM
newscode-image

गिरिडीह। गिरिडीह-रांची मुख्य मार्ग स्थित मधुबन थाना इलाके के लटकट्टो जंगल में रविवार देर शाम को हुए सङक दुर्घटना में एक युवक की मौत हो गयी। मृतक युवक पीरटांङ प्रखंड के नावाडीह की मुखिया विमला देवी का बङा पुत्र 32 वर्षीय विकास सिंह है।

बताया जाता है कि विकास अपने छोटे भाई राकेश कुमार को ट्रेन पर चढाने के लिये अपने एक मित्र इमरान को लेकर बाइक से पारसनाथ रेलवे स्टेशन गया था। रेलवे स्टेशन में भाई को उतारने के बाद विकास व इमरान वापस अपने गांव लौट रहा था। रास्ते में सीमेंट लदे एक ट्रक वाहन ने पीछे से विकास की बाइक को धक्का मार दिया।

इस घटना में विकास की मौत हो गयी। हालांकि इमरान को चोट नहीं आयी। दुर्घटना की सूचना पर मधुबन थाना प्रभारी भैयाराम उरांव दलबल के साथ पहुंचे और शव को कब्जे में लेकर मधुबन थाना लाया गया।

थाना प्रभारी ने बताया कि घटना के बाद ट्रक को खङाकर चालक फरार हो गया।वाहन को जब्त कर थाना लाया गया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

लाठी डंडे और भय दिखा कर सत्ता पर बने रहना...

more-story-image

झारखण्ड प्रदेश चुनाव कमिटी की सदस्य गुंजन सिंह

X

अपना जिला चुने