रांची : भाजपा एसटी मोर्चा की “चले गांव की ओर” कार्यक्रम की समीक्षा

NewsCode Jharkhand | 13 February, 2018 7:39 PM

रांची : भाजपा एसटी मोर्चा की “चले गांव की ओर” कार्यक्रम की समीक्षा

रांचीभारतीय जनता पार्टी अनुसूचित जनजाति मोर्चा झारखण्ड प्रदेश की विशेष बैठक प्रदेश कार्यालय में हुई जिसमे “चलें गाँव की ओर” कार्यक्रम की अध्यक्षता मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष रामकुमार पाहन ने किया। कार्यक्रम में सभी जिला के जिलाध्यक्ष जिला महामंत्री जिला प्रभारी प्रमंडल प्रभारी उपस्थित हुए तथा बैठक को निर्देश देते हुए संगठन महामंत्री धर्मपाल ने बूथ स्तर तक मोर्चा को खड़ा करने के लिए समुचित सुझाव दिए।

रांची : चार्ज लेते ही रेस हुए उपायुक्त महिमापात रे, पदाधिकारियों को दिया टास्क

 

“चलें गाँव की ओर” कार्यक्रम में पंचायत प्रभारी एवं सह प्रभारी बूथ स्तर के कार्यक्रता जनता से संपर्क बनायेंगे। बूथ एवं पंचायत स्तर तक बैठक कैसे संपन्न होगा इसकी तैयारी पंचायत प्रभारी सह प्रभारी जिला प्रभारी बिधानसभा प्रभारी एवं प्रमंडल प्रभारी सभी मिल कर तय करेंगे। आनेवाला नगर निकाय चुनाव में आदिवासी की बहुलता को देखते हुए रणनीति बनाई गयी है। चलें गाओ की ओर के माध्यम से जेएमएम, कांग्रेस, जेवीएम के दोहरे चरित्र जनता को उनके बीच जाकर बताएँगे और उनके द्वारा विधानसभा नहीं चलने दिया गया यह मुद्दा जनता के बीच रखेंगे।

इस बैठक में मुख्यरूप से संगठन महामंत्री धरम पाल, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष आदित्य साहू, भाजपा प्रदेश महामंत्री दीपक प्रकाश एवं दुमका से सुनील सोरेन कालेश्वर मुर्मू मोर्चा के प्रदेश उपाध्यक्ष अशेष बारला महामंत्री बिन्देश्वर उराँव रूप लक्ष्मी मुंडा सुमन कच्छप दुर्गा मरांडी शामिल थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

वित्तीय संकट से जूझ रही कांग्रेस, 2019 में कैसे करेगी मोदी से मुकाबला?

NewsCode | 24 May, 2018 10:49 AM

वित्तीय संकट से जूझ रही कांग्रेस, 2019 में कैसे करेगी मोदी से मुकाबला?

नई दिल्ली। कांग्रेस पार्टी की मुश्किलें कम होती नहीं दिख रही है। एक तरफ भारत की सबसे पुरानी पार्टी लगातार चुनाव हार रही है, तो दूसरी तरफ इस पार्टी को फंड जुटाने में भी काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। पिछले पांच महीने से केंद्रीय नेतृत्व की ओर से पार्टी के क्षेत्रीय कार्यालयों को चलाने के लिये एक भी पैसा नहीं भेजा गया है। ऐसा लग रहा है कि कांग्रेस इस समय बुरे वित्तीय संकट से गुजर रहा है।

ऐसे खस्ता हालात में कांग्रेस के लिए देश की सबसे अमीर पार्टी बीजेपी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से 2019 मुकाबला करना बहुत मुश्किल होगा।

देश के राजनीतिक दलों द्वारा चुनाव आयोग को दी गई रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी की कमाई बीते एक साल के दौरान 81 फीसदी बढ़ी वहीं कांग्रेस की कमाई में 14 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है। बीजेपी की कमाई बढ़ने के लिए जहां देश के कई राज्यों में पार्टी की सरकार बनना जिम्मेदार है। वहीं कांग्रेस को हुए नुकसान की वजह कई राज्यों में उसके राजनीतिक रसूख में गिरावट दर्ज होना है।

कुछ साल पहले तक जिन राज्यों में कांग्रेस की सरकारें थीं वहां बीजेपी का कब्जा हो गया है। बीजेपी ने अब तक 20 राज्यों में अपने सहयोगियों के साथ सरकार बनाए है। उनमें से अधिकांश राज्य बीजेपी ने कांग्रेस से छीने है। 2013 में जहां 15 राज्यों में कांग्रेस की सरकार हुआ करती थी, वो सिमटकर अब केवल दो बड़े राज्यों तक रह गई है। मोदी सबसे लोकप्रिय नेता बने हुए हैं।

बिछड़ी बहनों की तरह मिलीं सोनिया-मायावती, बढ़ेगी बीजेपी की बेचैनी !

राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने के बावजूद उद्योगपतियों से पार्टी को फंड नहीं मिल पा रहा है। पार्टी के पास चंदा नहीं आ रहा है और हालात इतने गंभीर हैं कि उम्मीदवारों को क्राउड फंडिंग की सलाह दी जा रही है।

कोलकाता vs राजस्थान एलिमिनेटर: KKR ने RR को 25 रन से हराकर क्वॉलिफायर 2 में की एंट्री

Read Also

बोकारो : एक मौका दीजिए, गर्व महसूस होगा- डॉ. लंबोदर महतो

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 8:28 PM

बोकारो : एक मौका दीजिए, गर्व महसूस होगा-  डॉ. लंबोदर महतो

दर्जनों लोग हुए आजसू में शामिल

गोमिया(बोकारो)। आजसू पार्टी के प्रत्याशी डॉ. लंबोदर महतो ने कहा है कि वोट की राजनीति करने वालों ने इस इलाके की सिर्फ अनदेखी की है। गोमिया विकास के पैमाने पर तेजी से आगे बढ़े इसकी ब्लूप्रिंट मैंने तैयार कर रखा है। बस एक मौका दें, यहां की जनता अपने क्षेत्र पर गर्व महसूस करेगी। उन्होंने यह बात आज ललपनिया कोदवा टांड़ व टिकाहारा  पंचायत में जनसंपर्क के दौरान लोगों से कहीं।

उन्होंने घर-घर जाकर लोगों से मिलकर चुनाव चिन्ह केला छाप क्रम संख्या तीन पर बटन दबाने की भी अपील की। इस दौरान हजारी बैध टोला में  राजेश विश्‍वकर्मा  के समक्ष गोमिया हजारी  में दर्जनों  महिला,नवयुवकों ने आजसु का दामन थामा। श्री विश्‍वकर्मा  ने पार्टी में शामिल होने वाले नवयुवको को माला पहनाकर स्वागत किया।

राजेश विश्‍वकर्मा ने मिलन समारोह  को संबोधित करते हुए कहा कि आजसु पार्टी गोमिया विधानसभा क्षेत्र के लोगों का मान सम्मान का पूरा ख्याल रखेगी और क्षेत्र में विकास कार्यों का जाल बिछाया जाएगा। उन्होंने कहा कि पिछले 40 वर्षों से इस क्षेत्र के पूर्व के जनप्रतिनिधियों ने जनता को सिर्फ ठगने का काम किया है और लोगों को बुनियादी सुविधाओं से वंचित रखा है।

आजसु प्रत्याशी ड़ा लंबोदर महतो के चुनाव जीतने के  विकास किया जाएगा और डिग्री कॉलेज सहित छात्र छात्राओं के लिए तकनीकी संस्थान की स्थापना की जाएगी।  इससे यहां के छात्र छात्राओं को तकनीकी पढ़ाई के लिए अन्यत्र भटकना नहीं पड़ेगा.वही बेरोजगार युवकों को रोजगार से जोड़ा जाएगा।

सिल्‍ली : सुदेश महतो के लिए वोट मांगने निकलीं नेहा महतो

इस चुनावी दौरा में नवीन महतो, विक्रम साहू, वीरेंद्र महतो, सूरज नाथ तुरी, तपन श्रीवास्तव, नरेश कुमार, विजय कुमार, खालिद अंसारी, नजीर अंसारी ,अजय महतो, किशोर महतो, केसरी कुमार, चंदन कुमार साहू, राजेंद्र साहू, विक्रम कुमार, गोवर्धन मांझी, महावीर किसकु,  बैजू तुरी, चंपा देवी, आशा देवी, साजिदा खातून ,शीला देवी एवं पटवा देवी सहित बड़ी संख्या में बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : कांग्रेस 26 मई को सभी जिला मुख्यालयों में विश्वासघात दिवस मनाएगी

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 8:23 PM

रांची : कांग्रेस 26 मई को सभी जिला मुख्यालयों में विश्वासघात दिवस मनाएगी

रांची।  25 मई को मोदी सरकार के चार वर्ष पूरा होने पर कांग्रेस पार्टी 26 मई को विश्वाघात दिवस के रुप में हर जिला मुख्यालयों पर कार्यक्रम आयोजित करेगी। कांग्रेस का यह मानना है कि मोदी सरकार ने देश की जनता के साथ विश्वासघात है और जनता का विश्वास खो दिया है।

 पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे ने आज कांग्रेस मुख्‍यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि वर्ष 2009-10 में अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमत लगभग एक दशक में सर्वाधिक 140 डॉलर प्रति बैरल थी तब भी देश में तेल इतना महंगा नहीं हुआ था, जितना आज है।

रांची : कांग्रेस ओबीसी विभाग के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष पहुंचे रांची

आज तो कच्चे तेल की कीमत 80 डॉलर प्रति बैरल के आस-पास ही है फिर भी इतना महंगा क्यों हैं? उन्होंने कहा कि मोदी राज में अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में तेल के दाम 26-27 डॉलर प्रति बैरल तक कम हुए है लेकिन जनता को इसका फायदा नहीं दिया गया। 2014 के बाद मोदी सरकार तेल के कीमतों में बढ़ोत्तरी करके मुनाफा खा रही है और जनता पर बोझ लाद रही है।

साथ ही साथ तेल कंपनियों के मुनाफे भी लगातार बढ़ रहे  हैं। तेल कंपनियों के भी अपने मुनाफा में महंगाई के भार को शामिल करना चाहिए। सरकार तेल के दाम कम कराकर अविलम्ब जनता को राहत दें। इस मौके पर प्रदेश प्रवक्ता लाल किशोरनाथ शाहदेव एवं प्रदेश महिला कांग्रेस कमिटी की अध्यक्ष आभा सिन्हा भी उपस्थित थीं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने