रांची : राज्यपाल से मिलने के बाद शहीद की मां ने खत्‍म किया अनशन

NewsCode Jharkhand | 16 November, 2017 8:53 PM
newscode-image

शहीद सुनील महतो हत्‍याकांड की एनआईए जांच के लिए था अनशन

रांची। शहीद सुनील महतो की मां खांदो देवी के साथ पांच सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल ने राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू से मिलकर शहीद निर्मल महतो एवं शहीद सुनील महतो के हत्याकांड की जांच एनआईए से कराने की बात रखी। राज्यपाल ने उनकी बातों को गंभीरता से सुना और संबंधित मामले से सरकार को अवगत कराने की बातें कही।

प्रतिनिधिमंडल में मां खांदो देवी के साथ परिवार के सदस्य झिंगी हेंब्रम, कंचन देवी, सचिन महतो, बादल महतो शामिल थे। इससे पहले विगत 14 नवंबर से आजसू पार्टी के केंद्रीय सचिव व शहीद सुनील महतो के छोटे भाई सुसेन महतो के साथ पार्टी के केंद्रीय सचिव अनिल महतो राजभवन के समक्ष अमरण अनशन पर थे। धरने पर शहीद सुनील महतो की मां खांदो देवी, बहन कंचन देवी भी उनके साथ बैठीं थीं। 15 नवंबर को खांदो देवी द्वारा पत्र लिखकर माननीय राज्यपाल महोदया से इस मामले में संज्ञान लेने तथा व्यक्तिगत रुप से उनकी बातों को सुनने का अनुरोध किया गया था। जिसे राज्यपाल महोदया द्वारा स्वीकार करते हुए आज दिनांक 16 नवंबर अप0 12.30 बजे मिलने का समय दिया गया।

खांदो देवी ने राज्यपाल को प बंगाल में सरकार के समक्ष आत्मसमर्पण कर चुके कुख्यात नक्सली रंजीत पाल उर्फ राहुल के कथित आत्मसमर्पण पर ध्यान आकृष्ट कराया। उन्होंने राज्यपाल को बाताया कि आज से लगभग 10 वर्ष पूर्व दिनांक 4 मार्च होली के दिन मेरे पुत्र जमशेदपुर संसदीय क्षेत्र के तत्कालीन सांसद स्व0 सुनील महतो के हत्या समेत सिर्फ पूर्वी सिंहभूम में 17 से ज्यादा नक्सली कांडो का वह आरोपी है। ऐसे नक्सली जिसके कारण कितनों की जिंदगी गर्त में चली गयी, कितनो के मांग के सिंदूर उजड़ गए, जिसकी आत्मसमर्पण के बाद झारखण्ड सरकार और न ही सीबीआई के द्वारा विशुद्ध रुप में राजनीतिक हत्या के सूत्रधार तक पहुंचने के लिए अभी तक कोई पुछताछ की गई है।

हत्या से पूर्व मेरे पुत्र ने मुझे जानकारी दी थी कि 2 दिनों बाद उन्हें केंद्र की यूपीए सरकार में कोयला मंत्री बनाया जाएगा। ठीक 2 दिन पहले हत्या इस मामले को संदेहास्पद बनाता है। मेरा मानना है कि मेरे पुत्र की हत्या विशुद्ध रुप से एक राजनीतिक हत्या है।

उनके परिवार के लोगों के साथ-साथ मेरे रिश्तेदार राजभवन के समक्ष मेरे बेटे के हत्या के असली दोषियों को सलाखों में पहुंचाने के लिए अनिश्चितकालीन आमरण अनशन पर हैं और वे भी उनके साथ धरने पर है।

उन्होंने राज्यपाल महोदया से कहा कि इस हत्याकांड के असली सूत्रधारों को सलाखों के पीछे पहुंचाने के लिए एनआईए जांच कराई जाय, रंजीत पाल के आत्मसमर्पण करने के बाद इस हत्याकांड के असली सूत्रधारों तक पहुंचने के लिए झारखण्ड सरकार अब तक क्या कदम उठाई है, उसकी जानकारी मुझे मुहैया कराई जाय, झारखण्ड आंदोलन के नायक शहीद निर्मल महतो की निर्मम हत्या की भी जांच एनआईए से कराई जाय, जिससे इस हत्या के असली सुत्रधारों को कड़ी से कड़ी सजा मिल सके, शहीद सुनील महतो एवं शहीद निर्मल महतो को संवैधानिक रुप से शहीद का दर्जा दिया जाय।

राज्यपाल से खांदो देवी की सकारात्मक वार्ता के बाद अमरण अनशन समाप्त करने का निर्णय लिया गया। शहीद सुनील महतो की माँ खांदो देवी, आजसू पार्टी के वरीय उपाध्यक्ष उमाकांत रजक, केंद्रीय प्रवक्ता डॉ देवशरण भगत द्वारा आजसू पार्टी के केंद्रीय सचिव व शहीद सुनील महतो के छोटे भाई सुसेन महतो के साथ पार्टी के केंद्रीय सचिव अनिल महतो को जूस पिलाकर अनशन समाप्त कराया गया।

माननीय महोदया से मिलकर लौटने के बाद खांदो देवी ने कहा कि राज्यपाल  को कोटि-कोटि धन्यवाद दिया कि उन्होंने उनकी बातों को गंभीरता से सुना। साथ ही उन सभी को धन्यवाद दिया जिन्होंने उनकी इस लड़ाई में साथ दिया। मीडिया बंधु को धन्यवाद दिया, जिन्होंने उनकी बातों की गंभीरता को समझते हुए जनता तक उनकी बातों को पहुंचाया। इस अवसर पर बनमाली मंडल, छवी महतो, अनिल महतो, ललित ओझा, हरिश कुमार, गौतम सिंह, नितीश सिंह, नित्यानंद महतो, लोबिन महतो, संतोष महतो, प्रभा देवी, मेरी तिर्की, जगदीश महतो, सुशील कुमार महतो, योगेन्द्र महतो, सहित सैकडों लोग उपस्थित थे।

रांची : उग्र भीड़ ने कार को फूंका, पुलिस ने महिला समेत चार को बचाया

NewsCode Jharkhand | 16 August, 2018 11:25 AM
newscode-image

रांची। पतरातु की ओर से रांची आ रही एक कार कांके थाना क्षेत्र में नगड़ी गांव के निकट सड़क क्रॉस कर रहे ग्रामीण को बचाने में पलट गयी। हालांकि इस हादसे में ग्रामीण को भी मामूली रूप चोट लगी। लेकिन मौके पर मौजूद ग्रामीणों ने सड़क पार करने के दौरान ग्रामीण द्वारा बरती गयी असावधानी की अनदेखी करते हुए कार चालक को ही दोषी करार देते हुए हंगामा किया।

इस हादसे में कार में सवार एक महिला और तीन अन्य पुरूष सदस्यों को भी हल्की चोटें आयी। इस बीच मौके पर पहुंची पुलिस की पीसीआर वैन ने कार सवार चारों लोगों को भीड़ से सुरक्षित बचाते हुए अपने कब्जे में लेकर अस्पताल ले गयी। दूसरी तरफ मौके पर मौजूद भीड़ ने दुर्घटनाग्रस्त कार में केरोसिन तेल छिड़क कर उसमें आग लगा दी।

चाईबासा : डकैती मामले का उद्भेदन, एक शख्स चढ़ा पुलिस के हत्थे

इस घटना के कारण काफी देर तक पतरातु-रांची मुख्य मार्ग पर आवागमन बाधित रहा। बाद में अग्निशमन विभाग की टीम ने आग पर काबू पाया और पुलिस-प्रशासनिक अधिकारियों के हस्तक्षेप से सड़क पर आवागमन को सामान्य करा दिया गया। पुलिस की ओर से कहा गया है कि कार में आग लगाने वाले को चिन्हित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

Jio Phone 2 की पहली फ्लैश सेल आज 12 बजे से होगी शुरू, जानें सब कुछ

NewsCode | 16 August, 2018 11:49 AM
newscode-image

नई दिल्ली। जियो फोन 2 (Jio Phone 2) की फ्लैश सेल आज दोपहर 12 बजे से शुरू हो रही है। जो ग्राहक इसे खरीदना चाहते हैं वे इस Jio Phone 2 Flash Sale में हिस्सा ले सकते हैं। हालांकि, माना जा रहा है कि जिओ फोन 2 काफी सीमित संख्या में उपलब्ध होगा।

कंपनी ने इस बार Jio Phone 2 को QWERTY कीपैड में उतारा है। यह फोन KaiOS पर काम करता है। पिछले साल कंपनी ने Jio Phone को लॉन्च किया था। जिओ की आधिकारिक वेबसाइट jio.com की मानें तो जो ग्राहक जिओ फोन को खरीदता है, उसे 5-7 दिनों के भीतर यह फोन मिल जाएगा। वहीं, ग्राहक इसे अपने पास के ऑथराइज्ड रिटेल शॉप से भी ले सकते हैं।

पिछले साल आए जियो फोन के मुकाबले नए जियो फोन 2 की कीमत दोगुनी है। आधिकारिक वेबसाइट के मुताबिक, जियो फोन 2 को फ्लैश में खरीदने पर 5-7 बिजनस दिनों में डिवाइस की डिलीवरी कर दी जाएगी। ग्राहक चाहें तो पास के ऑथराइज्ड रिटेलर से भी फोन को पिक कर सकते हैं।

सैमसंग ने लॉन्च किया Samsung Galaxy Note 9, 512 जीबी स्टोरेज से है लैस

रिलायंस इंडस्‍ट्रीज की 41वीं सालाना आम बैठक में Jio Phone 2 की भारत में कीमत के बार में घोषणा की गई थी। भारत में जियो फोन 2 की कीमत 2,999 रुपये है। जियो फोन 2 को सिर्फ Jio.com से ही खरीदा जा सकेगा। अगर आप भी हैंडसेट खरीदना चाहते हैं तो वेबसाइट को बार-बार रिलोड करते रहें। बुकिंग के दौरान पूरी कीमत का भुगतान करना होगा।

Xiaomi Mi A2 भारत में लॉन्च, कैमरा क्वालिटी iphone से भी बेहतर

पूर्व पीएम अटल बिहारी वाजपेयी की हालत नाजुक, आडवाणी-राजनाथ के बाद विपक्षी नेता भी पहुंचे AIIMS

NewsCode | 16 August, 2018 11:21 AM
newscode-image

नई दिल्ली। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तबीयत बिगड़ने की खबरों के बीच एम्स में उनको देखने पहुंच रहे लोगों का तांता लगा हुआ है। बीजेपी के साथ-साथ विपक्षी नेता भी वाजपेयी की सेहत पर पूरी नजर बनाए हुए हैं। वहीं एम्स मेडिकल बुलेटिन जारी कर बताया कि पिछले 36 घंटों में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की हालत बिगड़ी है।

पूर्व प्रधानमंत्री का हालचाल जानने के लिए आज सुबह उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू AIIMS पहुंचे। इसके अलावा सत्तापक्ष और विपक्ष के तमाम नेता ट्वीट कर वाजपेयी के दीर्घायु होने की कामना कर रहे हैं। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, गृहमंत्री राजनाथ सिंह भी वाजपेयी का हाल जानने एम्स पहुंचे। काफी समय तक वाजपेयी के साथ काम करने वाले बीजेपी के दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी भी उनका हाल जानने एम्स पहुंचे।

सूत्रों के अनुसार कुछ ही देर में अरविंद केजरीवाल, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी भी पूर्व प्रधानमंत्री वाजपेयी का हाल जानने एम्स जाएंगे। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज शाम दिल्ली पहुंचेंगी, वह भी वाजपेयी का हाल जानने एम्स जाएंगी।

बुधवार शाम से मंत्रियों और नेताओं का एम्स में आना-जाना लगा हुआ है जो अब भी जारी है। कल देर शाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, पीयूष गोयल और मीनाक्षी लेखी उन्हें देखने एम्स पहुंचे। पीएम मोदी ने करीब एक घंटे तक एम्स के डॉक्टरों से वाजपेयी के स्वास्थ्य पर चर्चा की।

VIDEO: अमित शाह के रस्सी खींचते ही नीचे गिरा तिरंगा, कांग्रेस ने कसा तंज

अटल बिहारी वाजपेयी को गुर्दा (किडनी) की नली में संक्रमण, छाती में जकड़न, मूत्रनली में संक्रमण आदि के बाद 11 जून को एम्स में भर्ती कराया गया था। मधुमेह पीड़ित 93 वर्षीय भाजपा नेता का एक ही गुर्दा काम करता था। हालांकि, इन सबमें डिमेंशिया से भी अटल बिहारी वाजपेयी सबसे ज्यादा पीड़ित हैं।

हजारीबाग : वाजपेयी के स्वास्थ्य लाभ के लिए सदर विधायक ने ईश्वर से की कामना

More Story

more-story-image

हजारीबाग : वाजपेयी के स्वास्थ्य लाभ के लिए सदर विधायक ने...

more-story-image

चाईबासा : डकैती मामले का उद्भेदन, एक शख्स चढ़ा पुलिस...