राजस्थान: आरक्षण के लिए आंदोलन करने उतरेगा जाट समुदाय, 167 गांवों में इंटरनेट बंद

नई दिल्ली। राजस्थान में एक बार फिर 15 मई से बयाना में महापंचायत कर आरक्षण आंदोलन करने की तैयारी में है। इसके चलते सरकार और रेलवे अलर्ट हो गई है। रेलवे ने गुर्जर आंदोलन से निपटने के लिए सुरक्षा बल बुला लिए हैं।

आंदोलन की सुगबुगाहट को देखते हुए रविवार को एसपी चुनाराम जाट ने पुलिस अधिकारियों के साथ गुर्जर नेताओं के साथ बैठक कर चर्चा की। इस दौरान नेताओं ने एसपी को आश्वस्त किया कि प्रदेश में आंदोलन होने पर ही सिकंदरा में अहिंसात्मक आंदोलन होगा।

सरकार के लिए इस बार वार्ता करना थोड़ा मुश्किल हो रहा है, क्योंकि गुर्जर इस बार ओबीसी में वर्गीकरण कर पांच फीसद आरक्षण देने की मांग पर अड़े हुए हैं और यह करना सरकार के लिए इस चुनावी वर्ष में बेहद मुश्किल है। ओबीसी में जाटों सहित 91 जातियां हैं।

ऐसे में ओबीसी में वर्गीकरण करने पर अन्य जाटों सहित ये जातियां सड़क पर उतर सकती हैं, क्योंकि वर्गीकरण करने पर उनका आरक्षण पांच फीसद कम हो जाएगा।

ICSE, ISC Results: आज आएंगे 10वीं-12वीं के नतीजे, इस तरह करें चेक

आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जरों के आंदोलन की खबर सरकार को लग चुकी है और भरतपुर के संभागीय आयुक्त ने 80 पंचायतों के 167 गांवों में इंटरनेट सेवाओं पर 15 मई की शाम तक के लिए प्रतिबंध लगा दिया है।

कर्नाटक चुनाव खत्म होते ही बढ़े पेट्रोल-डीजल के दाम, जानें कितना हुआ महंगा