राहुल बोले- संसद में मेरे सामने 15 मिनट भी नहीं टिक पाएंगे मोदी, देश में नकदी संकट को लेकर कही ये बात

नई दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज देश में कैश संकट को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर करारा हमला बोला। राहुल गांधी ने मीडिया से मुखातिब होते हुए कहा कि मोदी जी ने बैंक सिस्टम को नष्ट कर दिया है। अमेठी दौरे के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने अच्छे दिनों का वादा किया था, लेकिन देश एक बार फिर कतारों में खड़ा है। क्या इन्हीं अच्छे दिनों की बात की जा रही थी।

राहुल ने कहा, ‘पीएम संसद में खड़े होने से डरते हैं। हमें  15 मिनट को भाषण मिल जाए संसद में पीएम खड़े नहीं हो पाएंगे। चाहे वह राफेल का मामला हो या, चाहे वो नीरव मोदी का मामला हो, पीएम मोदी खड़े नहीं हो पाएंगे।

राहुल ने कहा कि नीरव और मेहुल चौकसी से पीएम मोदी के अच्छे संबंध हैं। केवल इन्ही लोगों के अच्छे दिन आये हैं। उन्होंने कहा कि पीएम ने बैंकिंग सिस्टम को बर्बाद कर दिया। किसानों और मजदूरों के बुरे दिन आए हैं। लोग दोबारा लाइन में खड़े हैं, क्या यही अच्छे दिन हैं।

नीरव मोदी 30 हजार करोड़ लेकर भाग गया, लेकिन पीएम एक शब्द नहीं बोल पाए। हमारी जेब से 500 और 1000 रुपए के नोट छिनकर नीरव मोदी को दे दिया गया और हम एटीएम की लाइन में खड़े होने को मजबूर हैं।

इससे पहले दो दिवसीय अमेठी दौरे पर पहुंचे कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सोमवार को स्कूली छात्रों के सवाल पर असहज नजर आए।

स्कूल के एक कार्यक्रम में पहुंचे राहुल गांधी से जब एक लड़की ने पूछा कि देश में जो कानून बनते हैं उन्हें ग्रामीण इलाकों में सही से लागू क्यों नहीं किया जाता? इसके जवाब में राहुल ने तुरंत कहा, “यह सवाल तो आप मोदीजी से पूछिए। सरकार मोदीजी चला रहे हैं। मेरी सरकार थोड़ी ही है। जब हमारी सरकार होगी तो हम जवाब देंगे।”

बिहार, मध्य प्रदेश, गुजरात, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और दिल्ली समेत कई राज्यों में कैश की भारी कमी बताई जा रही है। इस दिक्कत का समाधान तो अभी तक नहीं हो पाया। मगर इस मसले पर सियासत तेज हो गई है। जानकारी के मुताबिक कैश की कमी की मार फिलहाल बिहार और मध्य प्रदेश में ज्यादा पड़ी है। लिहाजा यहां के नेताओं की प्रतिक्रिया भी देखी जा सकती है।

शिवराज सिंह ने कैश की कमी को बताया साजिश

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह ने कैश की कमी को साजिश तक करार दिया है। दूर-दराज के जिलों में कैश के संकट कुछ ज्यादा ही देखने को मिल रहा है।

ममता बोलीं खाली एटीएम नोटबंदी के दिनों की याद दिला रहे

कई राज्यों में एटीएम मशीनों में नकदी नहीं होने की खबरों के बीच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मंगलवार को कहा कि यह स्थिति उन्हें नोटबंदी के दिनों की याद दिला रही है।

उन्होंने यह भी कहा कि क्या देश में ‘वित्तीय आपातकाल’ चल रहा है?

बनर्जी ने ट्वीट किया, “कई राज्यों में एटीएम मशीनों में नकदी नहीं होने की रिपोर्ट देख रही हूं। बड़े नोट गायब हैं। यह नोटबंदी के दिनों की याद दिला रहा है। क्या देश में वित्तीय आपातकाल चल रहा है। नकदी की कमी, नकदरहित एटीएम मशीनें।”

बीते कुछ हफ्तों से आंध्र प्रदेश, तेलंगाना व मध्य प्रदेश में मुद्रा की कमी की खबरे आ रही हैं।

महाराष्ट्र, गुजरात व बिहार के हिस्सों से भी सोमवार को मुद्रा की कमी की शिकायतें मिली थीं।

हालांकि, केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को कहा कि सरकार ने स्थिति की समीक्षा की है और पर्याप्त मुद्रा से अधिक नकदी सर्कुलेशन में है।

भारतीय रिजर्व बैंक के डाटा के अनुसार, छह अप्रैल तक 18.17 लाख करोड़ रुपये की मुद्रा सर्कुलेशन में थी।

जेटली बोले पर्याप्त से अधिक नकदी उपलब्ध

देश में मुद्रा की कमी की आशंका को दूर करते हुए वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को कहा कि सरकार ने स्थिति की समीक्षा की है और ‘पर्याप्त से अधिक नकदी उपलब्ध है।’

जेटली ने ट्वीट किया, “देश में मुद्रा की स्थिति की समीक्षा की है। कुल मिलाकर पर्याप्त अधिक मुद्रा प्रचलन में है और बैंकों के पास भी उपलब्ध है। कुछ इलाकों में अचानक व असामान्य वृद्धि की वजह से पैदा हुई अस्थायी कमी से जल्द निपटने की कोशिश की जा रही है।”

देश में फिर नोटबंदी जैसे हालात, यूपी, बिहार, झारखंड समेत 8 राज्यों में छाया कैश संकट

जेटली का यह ट्वीट देश के कुछ हिस्सों में एटीम मशीनों में पैसे नहीं होने की रिपोर्ट के बाद आया है।

बीते कुछ हफ्तों से आंध्र प्रदेश, तेलंगाना व मध्य प्रदेश में मुद्रा की कमी की खबरें आ रही हैं। महाराष्ट्र, गुजरात व बिहार के हिस्सों से भी सोमवार को मुद्रा की कमी की शिकायतें मिली थीं।

भारतीय रिजर्व बैंक के डाटा के अनुसार, छह अप्रैल तक 18.17 लाख करोड़ रुपये की मुद्रा उपलब्ध थी।

उद्योग से जुड़े जानकारों का मानना है कि नकदी की कमी 2000 रुपये के नोटों को जमा करने की वजह से पैदा हुई है।

3 साल बाद बस 12 घंटे में दिल्ली से पहुंचेंगे मुंबई, नितिन गडकरी का ये है ‘मास्टरप्लान’