40 फीसदी रिटर्न के फेर में चार करोड़ गंवा बैठे राहुल द्रविड़, बेंगलुरु की फर्म के खिलाफ दर्ज कराई शिकायत

NewsCode | 19 March, 2018 1:39 PM
newscode-image

बेंगलुरु। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ने बेंगलुरु एक कंपनी के खिलाफ चार करोड़ रुपये के कथित धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है। विक्रम इंवेस्टमेंट कंपनी नाम की फर्म ने उन्हें चार करोड़ का चूना लगाया है। पुलिस उनकी शिकायत पर जांच कर रही है। पुलिस के अनुसार इस फर्म ने 800 लोगों से धोखाधड़ी कर 500 करोड़ का घोटाला किया है।

सदाशिवनगर के पुलिस निरीक्षक नवीन ने कहा, ‘‘ द्रविड़ ने दो दिन पहले विक्रम इंवेस्टमेंट कंपनी के खिलाफ चार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया है।’’

पुलिस ने बताया कि युवा भारतीय टीम के कोच द्रविड़ ने 2014 में फर्म में 20 करोड़ निवेश किए थे। रिटर्न तो दूर, फर्म ने मूलधन के भी 16 करोड़ ही वापस किए हैं। बेंगलुरू पुलिस ने पिछले दिनों फर्म मालिक राघवेंद्र श्रीनाथ व एजेंट सुतराम सुरेश (पूर्व खेल पत्रकार) समेत पांच को गिरफ्तार किया था।

बेंगलुरु पुलिस ने कंपनी के मालिक राघवेंद्र श्रीनाथ सहित एजेंट सूत्रम सुरेश, नरसिम्हा मूर्ति, केसी नागराज और प्रहलाद को 800 लोगों को धोखा देने के मामले में गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया, ‘इन सभी लोगों को 14 दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया गया है। इस गैंग ने लोगों से करीब 300 करोड़ रुपए छले हैं। हम पूरे दस्तावेजों की जांच कर रहे हैं।’

करोड़ों का यह फर्जीवाड़ा 3 मार्च को सामने आया जब निवेशक पीआर बालाजी ने कंपनी के खिलाफ 11.74 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई थी। इस घोटाले के संबंध में विक्रम इन्वेस्टमेंट के डायरेक्टर राघवेंद्र श्रीनाथ के साथ पांच लोगों को गिरफ्तार किया है।

बिहार: गुस्से में हैवान बनीं मां, जहर देकर 3 बच्चों की कर दी हत्या

सबसे आश्चर्य की बात यह है कि सुरेश सुत्रम बेंगलुरु के बहुत ही मशहूर स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट हैं। पुलिस का कहना है कि सुत्रम ने ही क्रिकेटर राहुल द्रविड़, बेडमिंटन स्टार साइना नेहवाल और पूर्व बेडमिंटन खिलाड़ी प्रकाश पादुकोण जैसे दिग्गज खिलाड़ियों को इस कंपनी की स्कीम में पैसा लगाने के लिए तैयार किया था। उसके झांसे में आकर कई खिलाड़ियों द्वारा विक्रम इन्वेस्टमेंट कंपनी में निवेश करने की आशंका है।

11वें दिन भी नहीं चली संसद, स्पीकर ने नहीं स्वीकारा मोदी सरकार के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव

धनबाद : पत्थर से लदे दो ट्रक को वन विभाग ने किया जब्त

NewsCode Jharkhand | 17 July, 2018 10:58 AM
newscode-image

टुण्डी धनबाद । वन विभाग टुण्डी की टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर दो अलग अलग जगहों से सफेद पत्थर से लदे दो ट्रक को जब्त किया।  हालांकि दोनो ही ट्रक के चालक व खलासी भागने मे सफल रहे। टुण्डी क्षेत्र के रेंजर शशिभूषण गुप्ता ने बताया कि उन्हे सूचना मिल रही थी।

 टुण्डी क्षेत्र से सफेद क्वार्टज पत्थर का अवैध रूप से कारोबार चल रहा है और ट्रक के जरिए इन्हे दूसरे राज्य मे भेजा जाता है। एक ट्रक पत्थर की किमत लाखो में होती है।

धनबाद : दलित समाज ने कांग्रेस नेता ददई दुबे का फूंका पुतला

इसी सूचना के आधार पर मुख्य मार्ग पर जांच अभियान चलाया गया। जिसके तहत इन ट्रक को जब्त किया गया । जब्त ट्रक संख्या जेएच 02 जे 2709  एवं जेएच 11 ई 4161 पर वन अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर परिवहन विभाग से संपर्क कर इसके मालिक का पता लगाया जा रहा है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

जमशेदपुर : 4 लैंड माइंस गाड़ियों में 3 विगत 2 साल से है खराब, पड़ा है गैरेज में

NewsCode Jharkhand | 17 July, 2018 11:00 AM
newscode-image

जमशेदपुर । नक्सल प्रभावित इलाकों में नक्सलियों से लड़ने के लिये सरकार एन्टी लैंड माइंस गाड़ियां देती है। लेकिन जमशेदपुर जिला का हाल ये है कि 4 लैंड माइंस गाड़ियों में 3 विगत 2 साल से खराब है और गैरेज में पड़ा है।

कोडरमा : पानी की किल्लत से लोग परेशान, पम्प हॉउस के कई मोटरपम्प ख़राब

अधिकारी और गैरेज की माने तो सरकार के पास मरम्मती के लिए खर्च का ब्यौरा भेजा गया है लेकिन अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। वहीं मजबूरी में पुलिस बिना एन्टी लैंड माइंस गाड़ी के हीं नक्सल इलाकों में घूम रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

गिरिडीह : बाबूलाल का भाजपा पर हमला, केस फौजदारियों से नहीं लगता डर

NewsCode Jharkhand | 17 July, 2018 10:39 AM
newscode-image

गिरिडीह। भाजपा न ही लोकतंत्र को मानती है और न ही उसे संविधान की मर्यादा का भान है। सिर्फ जोर जबरजस्ती से बस सत्ता में बने रहना चाहती है। यह कहना है जेवीएम सुप्रीमो सह सूबे के प्रथम मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी का। बाबूलाल मरांडी गिरिडीह में पत्रकारों से भाजपा विधायकों की खरीद बिक्री मुद्दे पर बात कर रहे थे।

हजारीबाग ​​: धड़ल्‍ले से चल रहा कोयले का अवैध कारोबार, 40  से अधिक ट्रक जब्‍त

मौके पर उन्होंने कहा कि सूबे के सबसे ऊंचे ओहदे पर बैठे व्यक्ति के पास शिकायत की है। ऐसे में संबंधित विधायक अगर निर्दोष हैं तो उन्हें जांच की मांग करनी चाहिये थी। लेकिन ये लोग सुर्खियों में बने रहने के लिए थाने की दौड़ लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनता सब कुछ देख समझ रही है।  केस फौजदारियों से उन्हें डर नहीं लगता है। इन्होंने कहा कि अब आर पार की लड़ाई छिड़ गई है। यह लड़ाई तब तक जारी रहेगी जब तक वे सभी के असल चाल-चरित्र को बेनकाब नहीं कर देते।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

सरायकेला : बच्चा चोरी अफवाह मामले में 12 दोषियों को...

more-story-image

चाईबासा : बेरोजगारी से पलायन करने वालों के दर्द को...