नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा पाकिस्तान, क्रॉस बॉर्डर फायरिंग में BSF के दो जवान शहीद

NewsCode | 3 June, 2018 11:44 AM
newscode-image

नई दिल्ली। आतंकवाद का पोषक पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। बीती रात करीब रात 01:15 बजे पाकिस्तान ने अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर एक बार फिर से सीजफायर का उल्लंघन करते हुए गोलीबारी की। पाकिस्तान की इस गोलीबारी में बीएसएफ के ASI एसएन यादव और कांस्टेबल वीके पांडे शहीद हो गए, जबकि 7 स्थानीय लोगों के भी घायल होने की खबर है।

मीडिया खबरों के मुताबिक पाकिस्तानी रेंजर्स की ओर से जम्मू-कश्मीर के अखनूर सेक्टर में फायरिंग की जा रही है। वहीं, भारतीय सुरक्षा बल भी पाकिस्तानी रेंजर्स को मुंहतोड़ जवाब दे रहे हैं। पाकिस्तान द्वारा सीमा पर लगातार मोर्टार दागे जा रहे हैं और वह सीमावर्ती रिहायशी इलाकों को भी निशाना बना रहा है।

बताया जा रहा है कि पाकिस्तान अखनूर सेक्टर के परगवाल बाजार को निशाना बनाकर गोलाबारी कर रहा है। इसमें 25 वर्षीय सुलक्षना देवी, 40 वर्षीय बंसीलाल और 22 वर्षीय बलविंदर सिंह घायल हुए हैं, जिनको PHC परगवाल में भर्ती कराया गया है।

वहीं, पाकिस्तानी गोलाबारी को देखते हुए अखनूर सेक्टर के परगवाल के लोगों को सुरक्षित स्थान पर भेज दिया गया है। साथ ही अरनिया और आरएस पुरा बॉर्डर इलाके के स्थानीय लोगों को भी अलर्ट किया गया है।

गौरतलब है कि भारत और पाकिस्तान के डीजीएमओ के बीच चार दिन पहले ही सीमा पर गोलीबारी रोकने के लिए बातचीत हुई थी। दोनों देश साल 2003 के संघर्ष विराम समझौते को ‘पूरी तरह से लागू करने’ पर सहमत भी हुए थे, लेकिन पाकिस्तान फिर पलट गया और रमजान के पवित्र महीने में बिना उकसावे के गोलाबारी शुरू कर दी।

आतंकियों की घुसपैठ में मदद कर रहा पाकिस्तान

वह सीमा पार से लगातार आतंकियों की घुसपैठ भी करा रहा है। ये आतंकी जम्मू-कश्मीर में सुरक्षा बलों को निशाना बना रहे हैं। शनिवार को श्रीनगर में सुरक्षा बलों पर सिलसिलेवार चार ग्रेनेड हमले हुए, जिसमें चार जवानों सहित पांच लोग घायल हो गए। खूंखार आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इन हमलों की जिम्मेदारी ली है।

पहला हमला श्रीनगर के फतहकदल और दूसरा बुदशाह इलाके में हुआ, जहां सीआरपीएफ वाहनों को निशाना बनाया गया. इसमें चार जवानों सहित पांच लोग घायल हो गए। तीसरा हमला श्रीनगर के जहांगीर चौक में हुआ। यहां 300 मीटर की दूरी से हमले को अंजाम दिया गया।

इसके बाद चौथा ग्रेनेड हमला श्रीनगर के मोमिनाबाद-बातामालू में हुआ. इससे पहले शुक्रवार को कश्मीर में अलग-अलग इलाकों में पांच ग्रेनेड हमले किए गए थे। ग्रेनेड हमले का यह दौर शनिवार को दूसरे दिन भी जारी रहा।

‘जंग-ए-बद्र’ के दिन नापाक मंसूबों को अंजाम देने के लिए कश्मीर में घुसे आतंकी, हाई अलर्ट

रांची : जनता की स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा के प्रति एक गंभीर प्रयास है ‘आयुष्मान भारत योजना’

NewsCode Jharkhand | 22 September, 2018 6:26 PM
newscode-image

रांची। ‘आयुष्मान भारत योजना’ भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक है। इस योजना का शुभारंभ करने के लिए प्रधानमंत्री स्‍वयं ही रविवार, 23 सितंबर को झारखंड की राजधानी रांची आ रहे हैं। इसे रांची और झारखंड का सौभाग्‍य भी कहा जा सकता है कि विश्‍व की सबसे बड़ी स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा योजना का श्रीगणेश करने के लिए प्रधानमंत्री ने रांची को चुना। इसके माध्‍यम से प्रधानमंत्री मोदी ने ये संदेश देने का काम किया है कि देश के सभी राज्‍यों की समान प्रगति और उनके विकास पर उनका पूरा ध्‍यान है।

‘आयुष्मान भारत योजना’ को क्यों कहा जाता है ‘मोदीकेयर’ ?

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा द्वारा शुरू किये गए स्वास्थ्य सुरक्षा योजना ‘ओबामाकेयर’ की तर्ज पर भारत की आयुष्मान भारत योजना को ‘मोदीकेयर’ भी कहा जा रहा है। आयुष्मान भारत योजना के तहत, सरकार देश के 10 करोड़ लक्षित परिवारों को सालाना 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध करायेगी।

रांची : जनता की स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा के प्रति एक गंभीर प्रयास है ‘आयुष्मान भारत योजना’

ये हैं आयुष्मान भारत योजना की विशेषताएं

प्रति परिवार हर साल 5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा

इसे ऐसे भी समझा जा सकता है कि एक परिवार में चार सदस्‍य हैं माता, पिता, पुत्र और पुत्री। इस परिवार को आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत प्रतिवर्ष 5 लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा। यहां ध्‍यान देने योग्‍य बात यह है कि यह 5 लाख रू. का बीमा, परिवार के चारों सदस्‍यों को मिलाकर है, न कि परिवार के चारों सदस्‍यों के लिए अलग-अलग। यदि किसी वर्ष पिता की बीमारी में 1 लाख रू. खर्च होते हैं तो उसी वर्ष परिवार के अन्‍य सदस्‍यों के लिए बाकी बचे चार लाख रू. से ही उनका इलाज होगा।

पुरानी बीमारियों को भी इस योजना में शामिल किया गया है

यदि कोई व्‍यक्ति आयुष्मान भारत योजना के अंतर्गत स्‍वास्‍थ्‍य बीमा प्राप्‍त कर लेता है तो वह अपनी पुरानी बीमारियों का इलाज भी करा सकेगा। सामान्‍य तौर पर बीमा कंपनियां बीमा लेने की तिथि से पहले की बीमारियों का इलाज नहीं कराती हैं लेकिन इस योजना में बीमा लेने की तिथि से पहले की बीमारियों का भी इलाज होगा।

किसी बीमारी की स्थिति में अस्पताल में भर्ती होने से पहले और बाद के खर्च भी कवर किये जाएंगे। इसमें अस्‍पताल आने-जाने के दौरान वाहन या एंबुलेंस पर होने वाला खर्च भी शामिल है।

किसी बीमारी की स्थिति में सभी मेडिकल या पैथोलॉजिकल जांच/ऑपरेशन/इलाज आदि इसके तहत कवर होंगे।

नाममात्र की सुविधाएं ही इस स्वास्थ्य बीमा योजना के दायरे से बाहर होंगी और उनकी लिस्ट बहुत छोटी होगी।

रांची : जनता की स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा के प्रति एक गंभीर प्रयास है ‘आयुष्मान भारत योजना’

कौन ले सकता है आयुष्मान भारत योजना (ABY) का लाभ?

देशभर के 10.74 करोड़ परिवार इसका लाभ ले सकेंगे।

इन परिवार की पहचान गरीब और सुविधाओं से वंचित लोगों के तौर पर हुई है।

आयुष्मान भारत योजना का लाभ लेने के लिए सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना के आंकड़ों का इस्तेमाल होगा।

योजना का लाभ लेने के लिए परिवार के आकार या उम्र की कोई सीमा तय नहीं की गई है।

कैसे लें आयुष्मान भारत योजना का लाभ?

स्वास्थ्य बीमा के पैनल में शामिल किसी भी अस्पताल से बिना पैसे दिए (कैशलेस) इलाज होगा।

योजना के तहत कसौटी पर खरे उतरने वाले निजी अस्पताल ऑनलाइन पैनल में रखे जाएंगे।

आयुष्मान भारत योजना के तहत देश के किसी भी अस्पताल में इलाज कराया जा सकता है।

इस योजना के लिए नीति आयोग कैशलेस या पेपरलेस इलाज के लिए आईटी फ्रेमवर्क विकसित करेगा

रांची : जनता की स्‍वास्‍थ्‍य सुरक्षा के प्रति एक गंभीर प्रयास है ‘आयुष्मान भारत योजना’

कैसे होगी आयुष्मान भारत योजना की निगरानी?

राष्ट्रीय स्तर पर आयुष्मान भारत योजना को राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन देखेगी।

राज्य स्तर पर योजना की जिम्मेदारी प्रदेश सुरक्षा एजेंसी के पास होगी।

कहां से आएगी आयुष्मान भारत योजना पर खर्च होने वाली रकम?

आयुष्मान भारत योजना पर आने वाली लागत राज्य और केंद्र सरकार मिलकर उठाएंगी

आयुष्मान भारत योजना में राज्य की हिस्सेदारी जरूरी है।

राज्य की स्वास्थ्य एजेंसी को केंद्र सरकार एसक्रो अकाउंट से सीधे पैसे भेजेगी।

आयुष्मान भारत योजना की अनुमानित लागत 12 हजार करोड़ रुपये है।

रांची : प्रधानमंत्री दौरे को लेकर पुलिस अलर्ट पर, सुरक्षा के कड़े इन्तेजाम- एसएसपी

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

जमशेदपुर : टाटा स्‍टील ने किया उषा मार्टिन के स्‍टील व्‍यवसाय का अधिग्रहण

NewsCode Jharkhand | 22 September, 2018 10:03 PM
newscode-image

जमशेदपुर। टाटा स्‍टील की ओर से शनिवार को जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया कि टाटा स्‍टील और उसकी अनुषंगी इकाईयों द्वारा, उषा मार्टिन लिमिटेड के स्‍टील व्‍यवसाय के अधिग्रहण को लेकर एक सुनिश्चित सहमति पत्र पर हस्‍ताक्षर किए गए हैं। दोनों कंपनियों के बीच ये एग्रीमेंट कोलकाता में 22 सितंबर 2018 को किया गया। इस तथ्‍य को सेबी अधिनियम 2015 की धारा 30 के अंतर्गत सार्वजनिक करने के बारे में उल्‍लेख किया गया है। इस प्रेस विज्ञप्ति को टाटा स्‍टील लिमिटेड के मुंबई ऑफिस की ओर से उनके कंपनी सेक्रेटरी ने जारी किया है।    

घाटशिला : जसपाल ढाबा में छापेमारी के दौरान 30 अंग्रेजी शराब की बोतलेें बरामद

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बोकारो : सरकार की नीतियों को जन जन तक पहुंचाएं कार्यकर्ता  – शिवशक्ति

NewsCode Jharkhand | 22 September, 2018 9:51 PM
newscode-image

बेरमो (बोकारो) । कमल संदेश के कार्यकारी संपादक व भारतीय जनता पार्टी की पत्रिकाएं एवं प्रकाशन विभाग के राष्ट्रीय संयोजकडॉ. शिवशक्ति  बक्शी रांची से गिरिडीह जाने के क्रम में गोमिया में रुके। इस दौरान अपनी उपस्तिथि दर्ज कराते हुये उन्होंने अपना पासा फेंक दिया।

गोमिया के सुभाष मार्केट में बक्शी को भाजपा कार्यकर्ताओं ने बुके देकर स्वागत किया। इस दौरान शिवशक्ति बक्शी ने कहा कि इस बार भी केंद्र में नरेंद्र मोदी की सरकार बनेगी और गिरिडीह लोकसभा क्षेत्र में इस चुनाव में भी भाजपा प्रत्याशी की भारी मतों से जीत हासिल होगी।

मैं भी पूरे क्षेत्र में घूम घूम कर भाजपा कार्यकर्ताओं से मिल रहा हूं और पार्टी के प्रति उनके क्रियाकलापों की जानकारी हासिल कर रहा हूं। कार्यकर्ता भाजपा व सरकार की नीतियों को जन जन तक पहुँचाते हुए उसका लाभ भी दिलाने का कार्य करें।

चुनाव लड़ने की बात पर उन्होंने कहा कि मैं पार्टी की नीतियों से बंधा हूं और पार्टी का जो भी निर्देश होगा वह करूंगा। सिटिंग सीट से प्रत्याशी बदलने के सवाल पर कहा कि केंद्रीय नेतृत्व को सारे प्रत्याशी का बायोडाटा पता है।

पार्टी सब पर विचार कर रही है। समय आने पर पता चल जायेगा। मौके पर गोमिया मंडल भाजपा अध्यक्ष प्रवीण कुमार, बीएचपी के जिला उपाध्यक्ष विनय कुमार, दीपक ठाकुर,  बीस सूत्री सदस्य अमित कुमार, अजय तिवारी, दरबारी मांझी, गजेंद्र सिंह, नसीम अंसारी, राजू अंसारी आदि उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

बाघमारा : शराब दुकान में अधिक मूल्य लेने पर बवाल

more-story-image

मसलिया : फरार चल रहा अभियुक्त को पुलिस ने किया...